Kirayedar Chod Gaye Biwi

मेरी शादी 25 वर्ष की उम्र में एक सीधे-सादे व्यक्ति के साथ हुई।
मैं शुरू से ही पुरुषों से ज्यादा मेल-मिलाप नहीं रखती थी, क्योंकि मैं जानती थी कि मौका मिलते ही ये चुदाई करने से बाज नहीं आने वाले हैं। इनकी नजर हमेशा औरत के चूत और चूचियों पर ही रहती है।
शादी से पहले मैं ये सब नहीं करना चाहती थी, लेकिन शादी के बाद स्थिति ऐसी बदल जाएगी, ये मैंने पहले कभी नहीं सोचा था।
सुहागरात के दिन मेरे पति ने मुझसे सिर्फ थोड़ी सी बात की, लेकिन कोई भी शारीरिक स्पर्श या सम्भोग आदि कुछ नहीं किया।
अगले दो दिन भी कुछ नहीं।
ऐसी स्थिति में मेरी चिंता बढ़नी स्वाभाविक थी।
शादी से पहले तो कुछ भी नहीं किया, अपनी चूत को बचा के रखा, लेकिन अब! क्या अब भी ऐसे ही जिंदगी चलती रही?
तो इतनी सुन्दर काया और तनी हुई चूचियों, उभरे हुए नितम्ब तथा मस्तानी चूत जिसकी अभी तक सील भी नहीं टूटी थी, का क्या अर्थ रह जायेगा?
यह सोच कर मैं बहुत परेशान रह रही थी।
मेरी परेशानी को देख कर मेरी भाभी ने मुझसे जब इसके बारे में पूछा तो मैंने सब कुछ खुलकर बता दिया।
इसके समाधान में उन्होंने मुझे समझाया- तुम स्वयं ही इसकी कोशिश करो, हो सकता है कि शर्मीले स्वभाव के वजह से वो ऐसे नहीं करना चाहते हों।
अगली रात मैंने ऐसा ही किया और अर्धनग्न अवस्था में उनके पास गई ताकि मुझे देख कर उनको जोश जगे तथा सम्भोग आदि की स्थिति बने, वरना बिना चुदाई के ही जीवन न गुजारना पड़े।
मेरे पति ने मेरी तनी हुई चूचियों एवं सेक्सी अंदाज को देखकर बस थोड़ी ही प्रतिक्रिया दी।
मैं समझ गई कि अब सारी स्थिति मुझे ही संभालनी पड़ेगी।
यह सोचकर मैंने लाइट बुझाकर उनके पास लेट गई और उनके कच्छे को ऊपर से ही सहलाने लगी जिससे मुझे उनके लिंग के उभार का पता चला।
काफी देर बाद मैंने कच्छे के अन्दर हिम्मत कर के अपना हाथ डाला तो पाया कि उनका लिंग पतला तथा औसत लम्बाई का था।
काफी मशक्कत के बाद उनका लिंग खड़ा हुआ जिससे मेरी उम्मीदें बढ़ चलीं कि मेरी चुदाई का रास्ता अब साफ़ हो चला था। इसके बाद मैंने उन्हें उत्तेजित किया जिससे उन्होंने मेरी चूचियों को सहलाना और मसलना शुरू किया।
यह मेरा पहला अनुभव था जोकि मुझे मदहोश किये जा रहा था। अब उन्होंने मेरी चूत की तरफ अपना हाथ फेरना चालू किया जिससे मेरी चूत धीरे-धीरे गीली होने लगी।
अब मैं समझ गई कि अब मेरी चुदाई में ज्यादा देर नहीं है। मैंने भी उनका साथ देना चालू रखा।
कच्छे को सरका कर उन्होंने मेरी चूत पर अपने लण्ड को रख कर धक्का मारा, जिससे वो थोड़ा अंदर की ओर सरकने लगे।
मुझे थोड़ी सी पीड़ा होने लगी लेकिन मैं भविष्य का रास्ता साफ़ करना चाहती थी, सो मैंने इसकी परवाह न करते हुए उनका मनोबल ऊँचा रखा।
मैंने भी अपनी तरफ से भी नितम्ब उठा कर पूरा लेने किए लिए धक्का लगाना शुरू किया, जिससे लण्ड अंदर की ओर चीरता हुआ मेरी चूत में समा गया।
इसके साथ ही खून भी निकालने लगा, जो मेरी सील टूटने का संकेत था।
उस औसत दर्जे के लण्ड से भी मेरी सील टूट गई थी।
करीब 10 मिनट में ही धक्कम पेल के बाद मेरे पति का वीर्य छूट गया और वो लण्ड बाहर निकाल कर सो गए।
मैं अभी ठीक से चुद भी नहीं पाई थी। आगे भी कुछ इसी तरह से चलता रहा।
मैंने अपने इस दर्द को फिर से भाभी को बताया जिसे उन्होंने समझते हुए सब्र से काम लेने की बात कही, लेकिन अधूरी चुदाई का दर्द मुझे परेशान कर रहा था।
एक दिन मैं भाभी के कमरे में गई, उस समय वहाँ और कोई नहीं था। वहाँ पर एक बेहद अश्लील किताब पड़ी हुई थी जिसमें चुदाई के बहुत से चित्र थे, चूत, लण्ड, चूचियों के चित्र दिखाई दे रहे थे। यह देख कर मेरे अन्दर आग सी लगने लगी, मैं यह भी भूल गई कि यहाँ पर कोई आ सकता है।
मैंने एक-एक पन्ना पलट कर काफी बारीकी से सारे चित्रों को देखा। मेरा हाथ अपने आप ही मेरी चूत पर चला गया और मैं उसे सहलाने लगी जैसे कि चुदाई की तैयारी चल रही हो।
तभी मेरी भाभी आई और मुझे रंगे हाथों पकड़ लिया।
मेरी सारी बातें जानने के वजह से उन्होंने मुझे ज्यादा कुछ नहीं कहा, बस इतना बताया कि तुम्हारे जेठ इस तरह की किताबें पढ़ते हैं और हर रात तुम्हारी भाभी को अलग-अलग आसनों से चोदते हैं।
यह सब सुनकर मेरी चूत गीली होने लगी।

मैं अपने रूम में चली आई और सोचने लगी कि कितनी धन्य होंगी वो औरतें जिन्हें बढ़िया से चोदने वाले पति मिले होंगे।
कुछ दिनों के बाद मेरे यहाँ दो लोग किराये पर रहने के लिए आए जो कि स्टूडेंट थे।
एक का नाम यश और दूसरे का राज। दोनों ही शरीर से स्वस्थ और मांसल थे।
दोनों ही स्वभाव से अच्छे थे। धीर-धीरे हमसे मेल-जोल बढ़ने लगी तथा हम लोग खुल कर बातें करने लगे।
मेरे अन्दर की आग शांत होने का नाम ही नहीं ले रही थी।
मेरी नजरें बातें करते हुए अक्सर उनके लण्ड को ऊपर से ही पढ़ने की कोशिशें करने लगतीं।
मेरा बातों-बातों में अक्सर मुस्कुराना, मेरी पहाड़ की तरह उठी हुई चूचियों और पीछे की तरफ उठे हुए नितम्ब की तरफ धीरे-धीरे उनका भी ध्यान होने लगा तथा मेरी ओर उनकी रूचि बढ़ने लगी।
एक दिन जब मैं किसी काम से उनके रूम में गई तो देखा कि जय सिर्फ कच्छे में ही सोया था और बीच वाले कटे हुए जगह से उसका मोटा और लम्बा लण्ड बाहर की तरफ निकला हुआ था और वो नींद में था।
मैं शरमाकर जल्दी ही बाहर चली आई, लेकिन उसका लम्बा और मोटा लण्ड मुझे भूल नहीं रहा था। मैं सोचने लगी, काश मेरे पति के पास भी ऐसा ही होता तो मेरी जवानी कितनी तृप्त होती।
अब जब भी वो मिलता मैं उसे चाह भरी नज़रों से देखने लगी, वह भी मेरी नज़रों को पहचान गया था।
एक दिन जब घर में कोई नहीं था और लाइट चली गई। वो कुछ माँगने के बहाने मेरे रूम में आया। मैं उस समय सिर्फ साये और ब्रा में थी।
उसने मुझे देखा तो उसका लण्ड खड़ा हो गया, फिर भी उसने बाहर जाने की कोशिश कि तो मैंने सही समय समझकर उसे टोका, “यहाँ आओ अपना काम तो बताओ।”
यह कहकर जैसे ही मैं उसकी और बढ़ी उसकी नजरें मेरी बड़ी-बड़ी चूचियों पर जाकर टिक गईं।
मैं उसके पैंट के अन्दर से उफान मार रहे लण्ड की तरफ देखने लगी।
हम दोनों एक दूसरे में खोने लगे।
शादी न होने के वजह से उसकी भूख भी साफ़ दिखाई दे रही थी।
उसने मेरी चूचियों को पीछे से आकर पकड़ लिया।
मैंने भी छुड़ाने की कोई कोशिश नहीं कि उसका लिंग अभी भी मुझे याद था, इसलिए चूत के घायल होने की चिंता भी थी।
लेकिन चुदाई की इच्छा सब पर भारी पड़ रही थी। एक हाथ उसका मेरी चूचियों पर तथा एक मेरी चूत की तरफ था।
मैंने भी साहस कर के उसका तम्बू की तरह उभरा लिंग पकड़ किया।
अब सब कुछ साफ़ था, वह भी अब समझ चुका था कि अब मेरी तरफ से कोई बाधा नहीं है।
मेरी चूत गीली होने लगी।
उसने मेरा साया ऊपर की तरफ उठा दिया जिससे मेरी चूत जो कि काले झांटों से ढकी हुई थी, उसके सामने आ गई।
अब उसने आव देखा न ताव, झट से मुझे अपनी और खींचते हुए अपने पैंट के ऊपर ही मुझे बैठा लिया।
उसका उभरा हुआ लण्ड मुझे नीचे से स्पष्ट अनुभव हो रहा था।
मैंने भी यह सोच लिया था कि आज सारी शर्म छोड़ कर जम कर चुदूँगी, मैंने उससे कहा- मेरी चूत तो तुमने देख ली, अब अपना तो दिखाओ।
यह सुनकर उसने अपनी पैंट का जिप खोलकर अपना मूसल जैसा लण्ड बाहर निकाला, जो कि मेरी चूत को फाड़ने के लिए एकदम उतावला था।
उसने मुझे एक मंजे हुए आदमी की तरह से घोड़ी बनाया और पीछे से मेरी चूत को सहलाते हुए अपना लिंग लाकर उस पर टिका दिया।
मेरी चूत पहले से ही गीली होने के वजह से उसके सामने तैयार थी, उसको अपने अन्दर लेने के लिए।
जब उसने सटाकर जोरदार धक्का लगाया तो मेरी तो ‘आह’ निकल गई।
मैंने उससे कहा- धीरे से डालो न ! यह तुम्हारे लण्ड को झेलने में अभी नाकाबिल है, धीरे-धीरे ही करना, कोई जल्दी नहीं है। जब तक मेरे यहाँ हो, मेरी चूत हमेशा तुमसे चुदाने के लिए तैयार मिलेगी।
उसने मेरी चूत में धीरे-धीरे अपना पूरा लण्ड सरका दिया।
पहले से चुदने के लिए मानसिक रूप से इसके लिए पूरी तरह से तैयार थी। अब अंदर-बाहर कर के उसने मुझे चोदना शुरू कर दिया।
मैं भी उसका साथ देने लगी।
आज मुझे असली लण्ड की मार का पता चला।
मेरी चूचियाँ भी उससे हो रही चुदाई को उछल-उछल कर सलाम कर रही थीं।
लगभग 20 मिनट तक उसने मुझे कुतिया बना कर हचक कर चोदा। मेरी चूचियों को वो अपने हाथों से ऐसे मसल रहा था जैसे वे रसीले आम हों।
उससे चुद कर मुझे वास्तव में चुदाई के आनन्द का अनुभव हुआ। मैं उससे चुदते समय एक बार झड़ चुकी थी पर उस के लंड को तो मानो कोई फर्क ही नहीं पड़ रहा था।
अचानक उसने मुझसे चिपकते हुए जोर-जोर से धक्के मारने शुरू कर दिए।
उसके मुँह से बड़बड़ाने की आवाजें निकलने लगीं, “हा हा आई मैं जा जा रहा हूँ भाभी ई ई ले मेरा पूरा माल पी ले।”
और वो झड़ गया। मेरी पीठ से चिपक कर उसने अपने वीर्य की आखिरी बूँद तक मेरी चूत में छोड़ दी।
फिर हम दोनों अलग हुए।
मेरे जीवन में अब बहार आ चुकी है। इसके बाद कई मर्तबा उसने और उसके दोस्त ने मुझे चोदा। अब मेरी चूत ने शर्म करना छोड़ दिया है। मैं अब खुश हूँ।

loading...

Leave a Reply