dilwale incest sex story

Zindagi ke khel bhi bade hi nirale hote hai kabhi hasati hai kabhi rulati hai kuch log kehte hai ki khoobsurat hoti hai zindagi kuch kehte hai ki badi hi acchi hoti hai par kuch abhage log bhi hote hai meri tarah ke jo jeena chahte hai bada hi khul ke par jee nahi pate hai hamesha koi na koi adchan rah rok leti hai jab lagta hai manjil paa li tabhi wo hath se fisal jati hai kuch aisi hi kahani is hare huve insaan ki hai jo udna chahta tha us khule aasman me jo jeena chahta tha par har insaan ko kaha khushiya mila karti hai kai baar wo uparvala apni aankhe is tarah se fer leta hai ki fir use yaad hi nahi aati kisi ki

Kuch aisi hi kahani hai meri jise zindagi ne har kadam par chala har kadam par bus wo thagti hi rahi, dil bhar gaya hai upar tak to socha ki is bojh ko aap sabhi se share kardu kya pata thoda halka ho jaye

Ye sab shuru huva us din jab dopahar me mai apne kapde sukhane chat par gaya kapde sukha hi raha tha ki meri najar pados ke aangan me pad gayi aur jo kuch maine dekha aisa pehle kabhi nahi dekha tha padosan bimla din duniya se bekhabar aangan me naha rahi thi uski peeth meri taraf thi par najara bahut hi aacha tha aaj se pehle maine kabhi kisi aurat ko nanga nahi dekha tha to najar tahar si gayi uska vo kala badan dhoop me chamak sa raha tha

Kayde ki baat to thi ki mujhe turant hi udhar se hat jana chahiye tha par mai hat na sakta munder pe chipke mai usko nahati huvi dekhne laga jabki vo bekhabar puri masti se nahaye ja rahi thi kuch der baad wo kahdi huvi abki baar uska chehra meri taraf tha uske khule huve baal jo kamar tak aa rahe the acche lage uski choochiya jyada moti nahi thi to patli bhi nahi thi, medium se thoda jyada size ki gehri naabhi aur jangho ke beech kale balo me chipi huvi vo laal laal si yoni jiski bus ek jhalak hi dekh paya tha

Usne apne ek pair ko halka sa upar kiya aur sabun lagane lagi kasam se us se jyada majedar najara aur kya hota javani ki dehleej par khade mujh ko to kuch hosh hi na raha jab vo apni gol sudol chuchiyo par sabun laga rahi thi to lagta tha ki jaise do gendo se khel rahi ho vo karib dus minute tak mai usko dekhta raha par tabhi usne meri taraf dekha to mai turant hi udhar se bhaag liya kya uski najar mujh par pad gayi thi ye sochte hi meri gand fat gayi kahi wo ghar par shikayat to nahi kar degi ki mai usko dekh raha tha nahate dimag me saikdo saval ghumne lage

Shaam tak apne kamre se bahar nahi nikla mai bar bar dekhta ki kahi aa to nahi gayi shikayat lekar par aisa kuch nahi tha tab jake thodi shanti mili par uske nange badan ne mujhe aakarshit kar diya dil me kahi na kahi aa hi gaya ki yaar agar bimla pat jaye to chodne me maja aayega ab is umar me har ladke ko choot ki hasrat to hoti hi hai na aur fir kya gori kya kali kya farak padta hai bus mil jaye bus

Shaam ko mai bimla ke ghar gaya to uski saas baith kar sabzi kaat rahi thi to mai unse bate karne laga bimla pass me hi bakri ko ghass khila rahi thi jab vo jhuki to uske blause se bahr ko aate huve chooche meri najro me aa gaye to meri jeebh lap lapa gayi par uska dhyaan nahi tha aur fir thoda bahut to dikh hi jata hai kuch der idhar udhar ki bate karne kee baad mai ghar aane hi vala tha ki bimla boli
Bimla- suno kya tum kal mere liye medical se badan dard ki goli ka patta la doge
Main- ha kyo nahi le aaunga
Bimla-ruko mai paise lekar aayi
Mai- are bhabhi baad me de dena
Ghar aate hi khana khaya aur fir kuch der kitabe lekar baith gaya par dil nahi lag raha tha to bimla ke bare me soch kar land ko hila dala tab jake chain mila agli subha ghar valo ki dant khakar meri neend khuli jaldi se taiyar huva aur school chala gaya ganv ka sarkari school jaha padhai bus dhakke dekar hi hoti thi par sahar door tha to udhar hi padhna padta tha par mai khush tha

Apni zindagi bhi koi lambi chodi nahi thi, college se aate hi padhna fir shaam ko jungle me ya nahar par ghumne chale jana ghar ka kaam karna bhainso ke kaam me madad karna chara katna unko nehlana bus kheto par nahi jata tha mai bahut huva to cycle utha kar shahar ka chakkar laga liya jo karib dus kilometer door padta tha us raat bahut garmi lag rahi thi bijli bhi nahi aa rahi thi mere kamre me khidki bhi nahi thi bahut baar bol chuka tha gharvalo ko par kabhi kisi ne dhyaan nahi diya tha to apni dari utha kar mai chat par aa gaya

Par idhar bhi garam hava hi chal rahi thi to haal mushkil huva mera radio chalaya to vo sahi se station nahi pakad raha tha to uske taar ko adjust karne laga

Tabhi saath vali chat se bimla ne pukara- kya baat hai neend nahi aa rahi hai kya
Main- haa bhabhi aaj garmi bahut hai
Bimla- ha vo to hai aur bijli bhi nahi aa rahi hai upar sone ka socha to macchar kaat rahe hai

Mai- bhabhi thodi hava chal jaye to theek rahe

Wo meri muder ke pass akar khadi ho gayi aur baate karne lagi
Maine pucha- bhabhi bhai nahi dikh raha bimla- unhone koi naya kaam liya hai to kuch din udhar hi rahenge

Bimla- aur tum batao kya chal rha hai
Mai-bus bhabhi kat rahi hai college se ghar , ghar se college yahi chal raha hai apna shaam ko mai aaya tha aap the hi nahi ghar par
Bimla- ab tumhari tarah fursat to hoti nahi hai kaam karne padte hai khet me gayi thi ghass lane ko
Mai-bhabhi bahut kaam karti ho aap kabhi maji ko bhi kaha karo to vo boli – tum hi keh do mera to sun ne se rahi ho

Bimla- meri goli ka patta nahi laye tum
Mai-maaf karna bhabhi aaj dhyan nahi raha mai kal pakka la dunga

Chandni raat me bimla ke blause se jante unke bobe mera haal bura kar rahe the niche meri nikaar me land pareshaan karne laga tha kuch der bate karne ke baad vo jakar so gayi aur mai bhi apne bed par let gaya ek naye savere ki ummid me.

-filme dekhte the koi koi filam dekh kar aisa lagta tha ki girlfriend to honi hi chahiye par kaha hona tha apne liye aise halat me class me do teen ladkiya hoti thi jo badi hi acchi laga karti thi sundar thi par apan kabhi koshish kar nahi pate the class ke ek ladke sumit ne ek ladki manju se friendship kar li thi puri class me pata chal gaya tha to dar bhi laga karta tha din kat rahe the bina kisi baat ke aur mai apne jhoothe sacche armano ke saath jiye ja raha tha

college se aate time bimla ke liye goliya le li thi dopahar ka samay tha uske ghar dene gaya to darvaja khula tha par koi dikha nahi mai andar ki taraf chala gaya to maine paya ki bimla apne kamre me soyi padi thi ghehri neend me sote time badi pyari si lagi mujhe wo uski chatiya sans lene se upar niche ko ho rahi thi patli kamar aur sutva pet gehri nabhi hoto par laal lipistic kisi ka bhi man bhatka de uski dhonki ki tarah upar ko uthti choochiya jaise mujhe apne pass bula rahi ho

Thoda sa uske pass gaya to uske badan se aati bheeni bheeni si khushboo mujhe pagal banane lagi tabhi usne ek karvat si li aur apni tango ko seedha kar liya ghagra uski tango par buri tarah se chipka pada tha aur jangho ke jod vale hisse par v shape bana raha tha jis se uski yoni vale hisse ka accha deedar ho raha tha par mai jyada der tak nahi ruk sakta tha to maine thodi si shararat karne ka to socha aur uske bobee ko hath se halka sa daba diya usne koi react nahi kiya

To do teen baar aisee hi karne ke baad maine use jaga diya aur goli dekar ghar aa gaya apne kamre me pada pada mai soch raha tha ki kuch bhi karke koi bhi trick lagake bimla ki to leni hi hai par kaise ye na pata , shaam ko mai bahar ja hi raha tha ki chachi boli aa jara plot tak chal mere saath ghass kaat diyo aur thodi safai bhi karni hai
Mai- chachi, mujhe cricket khelne jana hai aake kar dunga
Chachi- apni aankhe dikhate huve to sahib ab sachin banenge raat ko doodh to gap gap pee leta hai aur kaam na karvao is se

Kabhi kabhi chachi ki teekhi bato se bada dukh hota tha par she leta tha to fir kapde change karke plot me chal diya unke saat meri chachi ka naam sunita tha umar hogi 30-31 ki do baache the rang gehuna sa tha height thodi kam thi par moti acchi khasi thi vo aur svabhab bhi kuch teekha sa tha unka ghamandi type ka jate hi fatafat maine ghass kati aur fir safai karne laga chachi bhainso ko nehla rahi thi unhone apni saadi ko ghuto tak kar liya tha taki pani se geeli na ho to unke sudoul pair dekh kar pata nahi kyo fir se mera haal bigadne laga

Apni gandi najar se mai unko bhi dekhne laga moti thi par lagti kamal ki thi unke kulhe to bade hi mast the par chachi thi to fir jyada najre nahi ki unki taraf kaam karte karte andhera ho gaya tha ghar ja raha tha to bimla ke pati ne raste me hi rok liya mujhe aur kaha yaar tujhse thoda sa kaam hai maine kaha ha bhai batao kya baat hai to usne kaha ki mujhe ek bada kaam mil gaya hai to mai ek saal k liye bahar desh ja raha hu maine kaha bhai ye to bahut hi acchi baat hai par itne dino ke liye vo bola bhai kya karu ab paise acche de rahe hai to mai taal na saka

To usne kaha ki piche se ghar ka dhyaan rakh liyo bhai , kuch chota mota kaam ho to kar diye maine kaha aap chinta na karo to vo bola ek kaam aur aaj raat ki train hai delhi ke liye to station tak chod aaiyo maine kaha bhai ab raat ko itna door cycle na chalegi mujhse to usne kaha scootar se chalenge fir tu aajana maine kaha theek hai bhai jab chalna ho avaj de diyo maine socha ki theek hi huva ye ja raha hai ab mai bimla ke saath aur time dunga aur line marunga

Jab usko chodne ja rahe the to bimla bhi saath aa gayi bhai scooter chala raha tha mai beeech me tha aur vo piche upar se do bag bhi to adjust karna mushkil ho raha tha par thodi der ki hi to baat thi train time par hi thi usko ravana karne ke baad maine scooter start kiya aur kaha bhabhi baitho to vo boli jara dhire hi chalana kahi gira na dena mujhe maine kaha aap chinta na karo rrasta bada hi ubad-khabad sa tha to bhabhi ka bojh baar baar mere upar aa raha tha mujhe bada hi accha lag raha tha fir usne meri kamar me hath daal ke pakad liya to badi hi mast feeling aayi mujhe

Agle din college me lagatar test the to bus unpe hi dhyaan raha mera , jab chutti huvi to mujhe thoda time lag gaya apna saman sametne me takriban log ja chuke the bag ko kandhe par latkaye apne balo me hath ferte huve mai bahar nikla to dekha ki meri hi class mee padhne vali ladki neenu apni cycle liye gate ke pass hi khadi thi main use dekh ka ruk gaya aur pucha
Mai-are neenu kya huva gayi nahi
Neenu- dekho na meri cycle puncture ho gayi hai ab pareshani ho gayi mere liye
Mai are to cycle yahi chod jati na aur apne ganv ki ladkiyo ke saath chali jati
Neenu- aur ko chura lee jata tha
Mai- aaja pass m hi ek cycle ki dukan hai udhar lagva le

Hum bate karte chal pade thodi doori par dukan thi par aaj dekho wo band padi thi
Neenu dukhi hote huve boli ab kya karu ghar kaise jaungi

Mai- pareshaan na ho kuch karta hu chal ek kam kar mai chalta hu tere saath tere ganv tak ab paidal tujhse to cycle ghasiti jayegi nahi
]

Neenu- rehne do tum, mai chali jaungi maine kaha are kya baat karti hai tu pareshan hogi aur tera ganv bhi thoda door hai kabhi mujhe madad pade to tu kar dena usme kya hai neenu ne apni gol aankho se mujhe dekha aur bus muskura padi

Us se pehle neenu se maine kabhi itna khul ke baat nahi ki thi balki yu kahu ki dekha hi nahi tha uski taraf bus kabhi kuch padhayi kee chakkar me kuch huva ho to dhyaan hi nahi tha vaise bhi mera man class me kaha laga kar ta tha halanki kayada ye kehta tha ki mujhe uske saath jana nahi chahiye tha par apna dil nahi mana laga ki najane kab tak pareshan hogi ye to koi na uska ganv mere ganv se karib 1.5 km door tha hamare ganv me se hi college ke liye kacche rasete se hoka shortcut jata tha to aas pass ke ganvo ke kai students udhar hi aate the

Jaldi hi kaccha rasta shuru ho gaya usne apne sar par chunni odh li thi dhoop se bachne ko maine us se baat karna shuru kar diya to pata chala ki wo ganv se thodi door kheto me ghar bana kar rehte hai mainee kaha jaha le chalna hai chal to vo muskura padi us se khul k baat karne par pata chala ki yaar ye to badi hi shaif aur acchi ladki hai bato bato me uska ghar bhi aa gaya tha uski ma ne dekha ki kis ladke ke saath aayi to kuch sochne lagi par neenu ne bataya ki cycle ki dastan to unhonee mujhe shukriya kaha aur chai ke liye pucha par maine mana kar diya aur lout aaya thodi door ane par dekha ki neenu mujhe hi dekh rahi thi

Apne ghar aane ke baad mai khana khakar so gaya to fir jab utha to halka halka sa andhera ho raha tha gali se nikal hi raha tha ki bimla ne rok liya boli chai bana rahi hu pioge kya maine socha chal isi bahane thoda time pass bhi kar lunga to haa keh di maine kaha bhabhi ghar par koi dikh nahi raha to vo boli ma ji baccho ko lekar tumhare plat me gayi hai dadi ke pass aati hongi bato bato me maine jikar kar diya ki kal chutti hai to sahar jaunga
Bimla-are wah mai bhi kal bajar ja rahi hu tum kitne baje jaoge saath hi chalenge
Mai- to theek hai subha dus ke karib chalenge
Bimla ha tum rahoge to meri madad bhi ho jayegi

Bimla mera khali cup lene ko thoda sa jhuki to uske ubharo ki ghati me meeri najar chali gayi usne bhi notice kar liya par kuch kaha nahii aur fir itna to ek aam baat thi apan ne cycle ko dho kar chamka liya tha subha subha hi vo boli ispe kaise jayenge maine kaha bhabhi tum baitho to sahi apn to us par hi jate hai to vo baith gayi aur chale sahar ki or jo karib 8-10 kos tha to cycle se badhiya aur kya ho sakta tha tempo bhare jab chale to kon intzaar kare darasal mujhee sexy kahani vali kitabo aur jasusi upanyas padne ka souk sa laga pada tha

To har etvar mai sahar ko ho liya karta tha sahar pahuch kar maine bhabhi ko unke saman ki dukan par choda aur kaha ki aap saman kharido mai aata hu aur bus adde par ho liya jaldi se do char kitabe li chupane ke liye unko kuch aur kitabo ki kali thaili me chupa liya taki bimla kahi dekh na le varna apni kya ijjat rehti usne fir chota mota saman liya par kai der laga di fir baccho ke liye joote aur kapdee fir vo ek ladies saman ki dukan me ghus gayi aur saman lene lagi mai udahr baith gaya

To maine dekha ki lipistic, powder ke baad usne kuch jodi bra-panty bhi li to mera land dukan me hi angdai lene laga to pant me pareshani hone lagi ab aaye the cycle par aur ab saman ko thaila bhi bhari ho gaya tha to maine kaha bhabhi thaile ko laga piche aur tu aage dande par baith ja to bimla boli na ji na mujhe sharam aayegi maine kaha abhi to baith jao jab ganv aayega to piche baith jana to vo maan gayi aur hum ganv ke liyee chal pade

Raste me maine bada maja liya jab jab mai paidal marta to uske kulho see mere ghutne touch karte to wo aah si bharti aur mujhe maaj aata uski peeth par mai baar baar apni chati ka bojh de raha tha bimla baithi to thi par asahaj ho rahi thi mujhee pata tha ki cycle ka danda uski gand me chubh raha hai ab wo danda uski mast gand ko sambhalta bhi to kaise pure raste maine uska bharpoor maja liya jab ganv aane laga to wo piche baith gayi

Ghar aate hi maine apni panni nikali uske jholee se aur ghar aate hi almari me chupa diya bus ab intzaar tha raat ka ki kab nayi kitab padu aur mutthi maru thodi der tv dekhne ke baad idhar udhar ghumne ke baad ab mai aaya apne kamree me aur almari se vo panni nikal kar khola aur tabhiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii

jaise hi maine wo packet khola meri aankhe khuli ki khuli reh gayi , usme se bra –panty nikle matlab ki mera vala packet bimla ke pass reh gaya tha ab tak to usne khol bhi liya hoga aur un kitabo ko dekh bhi liya hoga yaar ye to badi mushkil huvi ab kaise us se najre mila paunga mai kya sochegi vo mere bare me kahi ghar valo se na keh de sari raat isi bare me sochte huve aankho aankho me kati apni ab kare kya kuch samajh na aaya to fir so gaye.

Agli subha jab mai college ke liye nikal raha tha to bimla bahar chulhe par rotiya paka rahi thi usne jhalak bhar mujhe dekha aur halka sa muskura di par mai jaldi se nikal gaya ,college l wale mod par hi mujhe neenu mil gayi mujhe dekh kar apni cycle se utar gayi aur mere saath chalne lagi vo usne bato bato me mera dhanyavad kiya maine kaha uski kya jarurat bhala to vo boli – tum mere saath ghar tak gaye shukriya tumhara aur bate karte huve hum log college ki taraf badhne lage

Ye mere liye pehli baar tha jab koi ladki aage se mujhse baat kar rahi thi varna apni taraf koi dekhta bhi to kyo class me abhi students aane shuru nahi huve the jo do-char aa gaye the vo bahar the, maine kaha lagta hai aaj mai jaldi aa gaya neenu boli- ha shayad mai bhi baat ko aage badhate huve maine pucha- tumko dar nahi lagta kya itne sunsan raste se akele aate jate huve ,
Neenu- dar kyo lagega aur fir mai apni saheliyo ke saath aati jati hu vo to kal hi rukna pada
Mai- accha accha unka to mujhe dhyaan hi nahi raha
Ab aur bhi students aane lage the to neenu bahar chali gayi apan bhi kuch der baad bahar chale gaye us din pata nahi kyo baar baar meri najre neenu ki or hi ja rahi thi chori chipe bus mai usko hi dekhe ja raha tha mere dosto ne toka bhi mujhe ki kya baat hai aaj dhyaan kaha hai tera ab unko kya bata ta mai ki mera dhyaan kaha par hai mujhe khud nahi pata tha chutti hone ke baad mai ghar ko aaya sham ko mai bahar jar aha tha to bimla se takra gya
Wo boli- kaha ja rahe ho
Mai- bus ghar hi ja raha hu
Bimla- jara mere saath aana
Mai thoda sa ghabrate huve- abhi mujhe kam hai baad me aa jaunga
Bimla ne mera hath pakda aur kheechte huve apne saath le gayi aur kamre me le jakar boli – wo kal jab hum bajar gaye the to shayad mera ek packet tumhare pass reh gaya hai to vo vapis kar dena
Mai- jee mai dekh lunga
Bimla- koi pareshani hai kya kuch soone sone se lag rahe ho
Mai- nahi, bus aise hi
Bimla- chalo koi baat nahi mai raat ko chat pa aaungi tab mera packet de dena
Maine socha ki mai bhi apni kitab mang leta hu par fir himmat hi na huvi aur na hi usne koi jikar kiya to fir mai ghar par aa gaya
Raat roshan ho rahi thi dhire dhire bimla abhi chat par nahi aayi thi maine apan bistar bichaya , pani ka jug rakha side me aur let gaya upar aasman me chand chamak raha tha, apni chandni ko bikherte huve hava chal rahi thi garami ki sada ko liye apne saath beshak raaat thi par umas din jaisi hi thi karib dus baje bimla chat par aayi to mai bhi uth kar munder par chala gaya . mujhe dekh kar vo meri side aayi aur boli- soye nahi kya abhi tak
Mai-garmi bahut hai to neend nahi aa rahi

Bimla- ha vo to hai
Mai- ye lo aapka packet
Bimla- khol ke to nahi dekha na
Mai- khol liya tha par tabhi rakh diya tha
Bimla- bade shaitan ho gaye ho tum, mai to tumhe bada sharif samajhti thi par tum to pakke vale badmash ho gaye ho
Mai chup hi raha
Bimla- koi dost hai tumhari
Mai- kuch nahi bola
Bimla- ab sharmao mat , vaise bhi mujhse sharmane ki koi jarurat hai nahi tumko batao koi dost hai tumhari
Mai- nahi, nahi hai ab meri taraf kon dekhega
Bimla- bhala aisa kyo
Mai- bus aise hi
Bimla- hummmmmmmmm
Mai- aap ye sab kyo puch rahi ho
Bimla- bus aise hi karo try kisi se dosti karne ki koi na koi to pat hi jayegi
Mai- nahi mai aise hi theek hu
Bimla- kyo bhala, ab tum bhi javan ho gaye ho koi to aachi lagti hogi tumko bhi mujhse kya sharmana batao mujhe
Mai- mujhe to bus aaaaaaaaaaaaaaaaaaa nahi kuch nahi
Bimla- oh ho to ab sharam aa rahi hai jab aisi kartute karte ho tab sharam nahi aati hai tumko ab dekho kaisa bhola pan tapak raha hai chehre se
Mai kuch nahi bola
Bimla- ab itne bhole bhi na bano aur batao

Mai- kya batau , dil to karta hai par dar bhi lagta hai aur fir meri taraf koi dekhti bhi nahi

Bimla-iska ye matlab to nahi ki kisi se dosti na kar sakoge

Mai-ab koi nahi karte dosti to isme mai kya kar sakta hu
Bimla- kabhi keh ke to dekho kisi ko fir batana
Mai- aaaap jab itna hi keh rahi ho to fir aap hi karlo na friendship akhir mere muh se apne man ki baat nikal hi gayi
Bimla- meri aur aankhe ferte huve bade badmash ho gaye ho sidha mujh par hi line maar rahe ho apni umar dekho meri umar dekho sharam nahi aayi tumhe
Mai- ab dekhlo jab aap ne hi mana kar diya to fir aur koi hoti wo bhi mana kar deti
Bimla- aisa nahi hai bhondu
Mai- fir karlo dosti

बिमला- अरे नहीं कर सकती तुमसे दोस्ती
मैं- पर क्यों नहीं कर सकती
बिमला- देखो समझने की कोशिश करो, मेरी और तुम्हारी उम्र में काफी फासला है और फिर पड़ोस का मामला है ऐसी बाते देर सवेर खुल ही जाया करती है तो फिर तुम्हे तो कुछ नहीं , पर मुझे बहुत फरक पड़ेगा, और फिर बच्चे भी अब बड़े हो रहे है और मैं नहीं चाहती की कल को कोई ऐसी बात हो जिसका मेरी गृहस्ती पर कुछ प्रभाव पड़े अभी तुम मेरी इस बात को नहीं समझोगे पर जब तुम थोड़े और बड़े हो जाओगे तो शायद समझ पाओगे
वैसे भी रात बहुत हो गयी है जाओ सो जाओ मुझे भी नींद आ रही है काफी थक जाती हु पूरा दिन
मैं- पर भाभी मुझे आपके जवाब का इंतज़ार रहेगा आपकी हां का इंतज़ार करूँगा मैं कभी न कभी तो आप मुझसे दोस्ती करो ही गी
बिमला ने एक भरपूर नजर मेरी और डाली और अपनी गांड को मटकाते हुवे चली गयी और मैं रह गया अपने अधूरेपन के साथ उस आसमान के चाँद की तरह जो चांदनी के साथ होते हुवे भी अधुरा सा था
पता नहीं मेरे साथ ऐसा क्यों था की ज्यादा लोगो से मैं घुल मिल नहीं पाता था बस अपने आप से ही झूझता था मैं अगली सुबह मैं तैयार होकर रसोई में गया तो चाची रोटिया बनाने के लिए आता लगा रही थी निचे फर्श पर बैठ कर उनकी गोल मटोल छातिया ब्लाउस के बंधन को तोड़ कर बहार आने को मचल रही थी जैसे की सुबह सुबह ऐसा सीन देख कर मजा ही आ गया पर उनका मिजाज थोडा कसैला था तो वहा रुका नहीं और फिर कॉलेज चला गया

ख़ामोशी से बैठा मैं कुछ सोच रहा था की नीनू मेरे पास आई और बोली- मुझे तुमसे एक काम है
मैं- हा बोलो क्या बात है
नीनू- वो बात दरअसल ये है की, तुम्हे तो पता ही है की मैं मैथ में कितनी कमजोर हु क्लास के बाद तुम इधर ही रुक कर पढ़ते हो तो अगर तुम मुझे भी थोडा पढ़ा दो तो मेरी परेशानी भी दूर हो जाएगी
मैं-नीनू देखो, तुम तो मुझसे बेहतर ही हो पढाई में, और फिर थोड़े दिनों में सब क्लास वाले मास्टर जी से कोचिंग लेने ही वाले है तो तुम भी उधर ही पढ़ लेना वो अच्छे से समझा सकेंगे तुमको
नीनू- वो तो मैं करुँगी ही पर अगर तुम भी मेरी हेल्प कर देते तो …….. ……
मैं- ठीक है पर तुम ऐसे छुट्टी के बाद रुकोगी तो कोई कुछ कहेगा मेरा मतलब तुम समझ रही हो न
नीनू- तुम उसकी चिंता मत करो बस किसी तरह से मेरा मैथ सही करवादो
मैं- ठीक है हम कल से तयारी शुरू करेंगे
नीनू- पर आज से क्यों नहीं
मैं- आज मुझे कुछ जरुरी काम निपटाने है पर कल से पक्का
नीनू मुस्कुराई और अपनी सहेलियों के पास चली गयी मैं अपने पीरियड के लिए बढ़ गया
जब मैं घर आया तो घर पर कोई नहीं था लाइट आ रही थी तो मैंने मोके का फ़ायदा उठाने की सोची और डीवीडी पर बी अफ लगा कर देखने लगा वैसे मुझे ऐसा मोका कभी कभी ही मिलता था मेरे कमरे में ब्लैक एंड वाइट टीवी था और हमारी बैठक में कलर वाला था तो मैंने सोचा की आज रंगीन पर ही देखता हु तो मैंने सब सेटिंग की और अपनी आँखे सेकने लगा धीरे धीरे मुझ पर गर्मी छाने लगी अब घर पर कोई नहीं तो मैं ही राजा था

ऊपर से टीवी पर चलता गरमा गरम सीन मेरा लंड अपनी औकात पर आ गया और मैंने भी बिना देर किये अपने कच्चे को निचे सरकाया और अपने लंड को हिलाने लगा मस्ती में डूबने लगा पर ये मस्ती जल्दी ही हवा हो गयी वो हुवा कुछ यु की मैं हमारा मेन दरवाजा बंद करना भूल गया था था और पता नहीं किस काम से बिमला आ गयी और उसने भी कोई आवाज नहीं की सीधा ही अन्दर आ गयी अब सिचुएशन ऐसी हुई की टीवी पर फिलम चल रही और मैं अपने हाथ मी लंड लिए खड़ा था

वो सब दो मिनट की ही बात होगी बिमला की आँखे फटी की फटी रह गयी और मेरी गांड तो वैसे ही फतनी थी जल्दबाजी में मैं कुछ कर ही नहीं पाया उसको भी लगा की शायद वो गलत टाइम पर आ गयी है तो वो तो फ़ौरन ही रफू चक्कर हो गयी और रह गया मैं इस अजीबो गरीब हालत में तो जल्दी से कपड़ो को सही किया और फिर डीवीडी को हटाया दो तीन गिलास पानी पी चूका था पर सांसे अभी भी बहुत तेज चल रही थी बिमला के सामने तो अपना पोपट हो गया था कहा सोच रहा था की उस से हां करवा कर रहूँगा पर अपनी तो अब कोई इज़त ही न रही उसके सामने न जाने क्या सोच रही होगी वो मेरे बारे में

बाद में बता चला की पड़ोस में किसी के यहाँ ब्याह देने आये है तो सब घरवाले उधर ही गए थे मैंने सोचा ये सही है कई दिन हुए बारात नहीं गए इसी बहाने थोडा मजा आएगा रात हुई और अपन तो फिर पहुच गए अपनी दरी उठा कर चाट पर बिमला ने अपना फोल्डिंग आज बिलकुल मुंडेर की बाजु में ही लगाया था तो मैंने भी अपनी दरी बिलकुल पास में ही बिछा दी मुझे हर गुजरते दिन के साथ बिमला को पटाने की इच्छा बढती ही जा रही थी पर वो थी की बस हाथ आ ही नहीं रही थी वैसे इतनी सुन्दर भी नहीं थी वो पर उसके बदन में एक अलग ही मादकता थी जो मुझे बहुत तद्पाया करती थी

 

दिल करता था की बस उसको अपनी बहो में दबोच लू और उसकी मस्त गांड को बुरी तरह से मसल दू उसकी चूत मारने को बड़ा ही उतावला हुए जा रहा था मैं पर कैसे कैसे …….

पर वो कहते हैं न की उसके घर में देर है पर अंधेर नहीं तो अपने को भी एक मोका ऐसा ही मिल गया बिमला के ससुर करीब महीने भर बाद ही रिटायर होने वाले थे तो उनको वो एक महिना उसी सहर में ड्यूटी करनी थी जहा पर से वो भरती हुवे थे उनकी उम्र भी काफी थी बस कर रहे थे नोकरी किसी तरह से तो तय हुवा की बिमला की सास भी उनके साथ जाएगी अब बिमला का पति भी बहार कमाने गया हुवा था तो अब बिमला और बच्चो को कैसे अकेले छोड़ा जाये तो उन्होंने पिताजी से बात की और पिताजी ने बोल दिया मेरे बारे में की ये रात को आपके घर सो जाया करेगा और घर के काम भी करेगा तो आप लोग यहाँ की चिंता न करो और फिर बस महीने भर की ही तो बात है

पर उन्हें ये कहा पता था की इस एक महीने में मैं पूरी कोशिश करूँगा बिमला को पटाने की अगले दिन मैं और बिमला उसके सास ससुर को छोड़ने के लिए चंडीगढ़ चले गए बच्चो के कुछ टेस्ट वगैरा थे तो वो हमारे घर पर ही रह गए ताऊ जी को ऑफिस की तरफ से ही कमरा मिल गया था तो उसकी थोड़ी साफ़ सफाई की और सेटिंग कर दी रहने की , अब मैं पहली बार चंडीगढ़ आया था थो घूमना फिरना तो बनता ही था मैंने बिमला से कहा पर वो शायद अपनी सास से थोडा बच रही थी पर ताऊ जी ने खुद ही कह दिया की फिर कब आना होगा तुम देवर भाभी सिटी देख आओ

शाम को हम लोग निकल पड़े घुमने को बिमला हलके आसमानी रंग की साडी में कहर ढा रही थी थोडा बहुत घुमने फिरने के बाद हम लोग एक पार्क में जाके बैठ गए अँधेरा भी होने लगा था पार्क में कई जोड़े और भी मस्ती कर रहे थे अब बड़े सहर की बड़ी बाते गाँव की बिमला भाभी को हैरानी हो रही थी की कैसे खुलम खुला लोग एक दुसरे को चूमा छाती कैसे रहे है पर यहाँ तो ओपन ही था भाभी के गाल शर्म से लाल होने लगे थे पर उन्होंने एक बार भी यहाँ से चलने के लिए नहीं कहा

तो मोका देख कर मैंने उनका हाथ पकड़ लिया और उनसे बाते करते हुवे बोला- भाभी आपने मेरी बात का अभी तक जवाब नहीं दिया है
बिमला- कोण सी बात का
मैं- वो ही दोस्ती वाली बात का
बिमला- अब कैसे समझाऊ मैं तुम्हे, नहीं हो सकता
मैं- पर क्यों भाभी मैं आपको विश्वास दिलाता हु की मेरी वजह से आपको कोई भी तकलीफ नहीं होगी आप मुझे सच में बहुत अच्छी लगती हो, जी करता हैं की बस आपको ही देखता रहूँ आपसे ही बाते करू और ……………….
और क्या पूछा उन्होंने
और आपसे प्यार करना चाहता हूँ,
पर मुझमे ऐसा क्या देख लिया तुमने , अपनी उम्र की कोई लड़की देखो न तुम, मेरे पीछे क्यों पड़े हो मैं न तो गोरी चिट्टी हूँ , ऊपर से दो बच्चो की माँ तुम्हारा मेरा कोई मेल नहीं
मैं- भाभी, मैं कुछ नहीं जनता बस कह देता हु आपको मेरी दोस्ती कबूल करनी ही होगी
पार्क में एक जोड़ा एक ही कप से कुछ पी रहे थे बारी बारी से भाभी उन्हें ही देख रही थी मैं उनके हाथ को अपने हाथ से मसलने लगा अँधेरा हो रहा था तो उन्होंने कहा चलो बहुत देर हो गयी अब घर चलते है और हम वहा से निकल लिए.

मैंने ऑटो लेने को कहा पर उन्होंने कहा सिटी बस से ही चलते है, पर शाम का समय होने के कारण भीड़ बहुत ही ज्यादा थी जैसे तैसे करके चढ़ गए, अब सहर में कौन किसको सीट देता है तो हम खड़े हो गए, मैंने जान के बिमला को अपने आगे खड़ा कर लिया भीड़ से बचाने को या यूँ कह लो की तक़दीर में थोड़ी मस्ती करनी लिखी थी एक दो स्टॉप पर भीड़ और बढ़ गयी तो बिमला और मैं एक दुसरे से बिलकुल सत कर खड़े हुए थे

उसकी गांड का पूरा बोझ मेरे ऊपर आ रहा था अब लंड तो ठहरा गुस्ताख तो लगा शरारत करने और बिमला की गांड में फुल सेट हो गया बिमला बेचारी हिल भी नहीं सकती थी भीड़ जो इतनी थी तो बस चुप चाप खड़ी रही बस के हिचकोलो से उसके चुतड जब जब हिलते कसम से अपनी तो फुल मजे थे पर हमारा सफ़र जल्दी ही ख़तम हो गया था घर आने के बाद खाना-वना खाया और आई बारी सोने की पर समस्या ये हुई की वहा पर बस दो हो फोल्डिंग थी जिनपर ताऊ और ताई को सोना था तो मैंने और भाभी ने अपना बिस्तर हॉल गैलरी में निचे बिछा लिया

और सोने की तैयारी करने लगे, पर तभी लाइट चली गयी अँधेरा हो गया मैंने कहा मोमबती जला देता हूँ तो बिमला ने मना करते हुए कहा की क्या जरुरत हैं सोना ही तो हैं रहने दो और वो सो गयी पर मुझे कहा नींद आने वाली थी वो भी जब, जब वो मेरे पास ही सो रही हो ऊपर से मेरा खड़ा लंड जो न जाने आज क्या गुल खिलाने वाला था मैंने बहुत कण्ट्रोल किया पर ये साली जिस्म की आग जब लगती हैं तो फिर सब बेकार

मैं सरक कर बिमला के और पास हो गया और अपना हाथ उसकी छाती पर रख दिया अहिस्ता से

मुझे डर भी बहुत लग रहा था पर क्या करता लंड के हाथो मजबूर था साँस लेने से उसकी चूचिया लगातार ऊपर निचे हो रही थी धीरे धीरे मैं उन्हें दबाने लगा सच कहूँ बहुत ही मजा आ रहा था वो नींद में बेसुध होकर सोयी हुई थी जिस बात का फायदा मैं उठा रहा था मैं थोडा सा और उसकी तरफ सरक गया उसके बदन की खुशबु मुझे मदहोश कर रही थी, कुछ देर बोबो को दबाने के बाद मैंने अपना हाथ साडी के ऊपर से ही उसकी चूत वाली जगह पर रख दिया और उसको सहलाने लगा तभी उसका बदन थोडा सा हिला तो मैंने अपना हाथ हटा लिया

उसने करवट बदली और मेरी तरफ पीठ करली कुछ देर का इंतज़ार करने के बाद मैंने फिर से अपनी कार्यवाही शुरू की और अपने लंड को बाहर निकल कर उसके चुत्तदो पर रगड़ने लगा मुझे बहुत मजा आ रहा था मन तो कर रहा था की बस चोद ही दूँ पर अपनी भी मजबूरियां थी तो ऐसे ही छेड़खानी करते हुए थोड़ी देर में मेरा पानी निकल गया जो उनकी साडी पर ही गिर गया सुबह मेरी आँख जब खुली जब बिमला ने मुझे चाय पिने की लिए जगाया चाय का कप लेते हुवे मैंने उसके हाथ को थोडा सा दबा दिया तो उसने शरारती मुस्कान से देखा मुझे और चली गयी,

मुझे भी लगने लगा था की बिमला भी मेरी तरफ थोडा थोडा सा झुक रही हैं जबकि मेरी बेकरारी बढती ही जा रही थी,आज शाम को हमे वापिस गाँव के लिए निकलना था तो पूरा दिन बस घर में ऐसे ही निकल गया छोटे मोटे कामो में तो हम लोग बस स्टैंड आये रात की बस थी हमारी सुबह तक ही पहुचना होता , तो पकड़ ली अपनी अपनी सीट दिन में तो धुप खिली पड़ी थी पर रात को पता नहीं तापमान कैसे गिर गया शायद कही पर बारिश हुयी होगी तो अचानक से ठण्ड सी बढ़ गयी

और ऊपर से चलती बस में हवा भी कुछ ज्यादा लग रही थी बिमला को थोड़ी प्रोब्लम थी इसलिए खिड़की बंद भी नहीं कर सकते थे पर उसने एक चादर निकाल ली और हम दोनों को धक् लिया बस अपनी रफ़्तार से चल रही थी ज्यादातर सवारिया लम्बे रूट की थी और फिर रात का सफ़र धीरे धीरे सब लोग सोने लगे बिमला की भी शयद झपकी लग गयी थी ,हरयाणा रोडवेज की बसों का तो आपको पता ही हैं, बार बार मेरी कोहनी बिमला के बोबो से रगड़ खा रही थी जिस से मैं फिर से शरारती होने लगा था
किस्मत भी कुछ होती हैं तब पता चला था मुझे उसने अपना सर मेरे काँधे पर रख दिया जिस से मैं आसानी से अपना हाथ उसकी चूची तक पंहुचा सकता था और बिना देर किये मैंने उसकी चूची को दबाना शुरू कर दिया उफ्फ्फ्फफ्फ्फ़ कितनी गरम और नरम थी वो मैंने अपनी पेंट की चेन खोली और लंड को बहार किया और बिमला का हाथ उस पर रख दिया उस पल मैंने जरा भी नहीं सोचा की अगर बिमला जाग गयी तो क्या होगा उसकी हाथो की गर्मी लंड पर पड़ते ही वो और भी कामुक होने लगा

बड़ी सावधानी से मैं उसके बोबो के साथ खेल रहा था की मुझे लगा की उसकी मुट्ठी लंड पर कस गयी हो जैसे उसने उसको दबाया हो क्या बिमला जाग रही थी और मेरी हरकतों का मजा ले रही थी वैसे भी कभी न कभी तो उसको बताना ही था की उसकी चूत चाहिए मुझे तो आज ही क्यों न , सोचा मैंने और उसके ब्लाउस के दो हुको को खोल कर अपना पूरा हाथ अन्दर सरका दिया और ब्रा की ऊपर से चूचियो को रगड़ने लगा इधर मेरा दवाब उसकी चूचियो पर बढ़ ता जा रहा था दूसरी और उसकी पकड़ मेरे लंड पर और फिर मेरे मजे का ठिकाना न रहा जब उसने मेरे लंड को हिलाना शुरू कर दिया ये उसकी तरफ से सिग्नल था
मैंने इधर उधर नजर दोडाई और देखा सब लोग सो रहे थे तो अब मैंने सीधा अपने होठ उसके लाल लिपिस्टिक लगे होतो पर रख दिए और उसको किस करने लगा दो मिनट में ही उसका मुह भी खुल गया और वो भी मेरा साथ देने लगी जुल्म की बात ये थी की हम बस में थे अगर घर पर होते तो चुदना पक्का था उसका पर खुशी ये थी की बस जल्दी ही वो मेरी बाँहों में होने वाली थी थोड़ी देर किस करने के बाद उसने अपना चेहरा अलग किया और धीमे से बोली चलो अब सो जाओ

पर मैं कहा मानने वाला था मैंने फिर से उसका हाथ अपने लंड पर रख दिया और दबा दिया वो धीरे धीरे फिर स उसको हिलाने लगी अब मैंने भी अपने हाथ को उसकी जांघो पर रखा और सहलाने लगा उसकी टाँगे अब खुलने लगी थी और बिना देर किये साड़ी को घुटनों तक उठा कर मैं उसकी कच्ची के ऊपर से ही चूत को मसलने लगा बिमला का खुद पर काबू रखना मुश्किल हो गया तो वो थोडा गुस्से से बोली पागल हो गए हो क्या बस में बेइज्जती करवानी हैं क्या चलो अब चुप चाप सो जाओ तो उसके बाद अपनी आँख सीधा अपने सहर ही खुली

सुबह के ५ बजे हम लोग अपने घर पहचे भाभी ने गेट खोला मैं तो सीधा पड़ते ही सो गया बस में वैसे भी परेशां होना था और क्या …………. ……………………………. ………….

फिर मेरी नींद सीधा दोपहर को ही खुली, अंगडाई लेते हुवे मैं बाहर आया तो देखा बिमला आँगन में अपने बाल सुखा रही थी उसने एक ढीली सी मैक्सी पहनी हुई थी, शायद थोड़ी देर पहले ही नाहा कर ई थी, उसने मेरी और देखा और कहा की उठ गए मैंने कहा हां बस अभी उठा बाल सुखाने को थोडा सा वो झुकी और उसके बोबे बहार को लटक आये अन्दर ब्रा नहीं डाली थी उसने अपना लंड तो पल भर में ही तन गया और मैंने उसी पल कुछ करने का सोचा
मैं बिमला के पास गया और उसको अपनी बाहों में भर लिया और उसको किस करने लगा बिमला बोली- क्या कर रहे हो छोड़ो मुझे
मैं- नहीं भाभी अब नहीं अब आपको अपना बनाके ही रहूँगा अभी मुझे मत रोको
मैंने उसको अपनी बाहों में कस लिया और चूमने लगा ताजा पानी की सोंधी सोंधी सी खुशबू बिमला के बदन से आ रही थी मैं पागलो की तरह उसकी माथे, गालो और होटो को चूम रहा था धीरे धीरे वो भी मेरा साथ देने लगी थी अब मैंने उसको अपनी गोदी में उठाया और अन्दर कमरे में ले आया और उस पर टूट पड़ा उसकी मैक्सी पल भर में ही उसके बदन से जुदा हो गयी थी ब्रा तो वैसे भी नहीं थी बड़ी सेक्सी लग रही थी बिमला उस टाइम पर इस से पहले की मैं कुछ कर पता बहार से किसी ने गेट खडकाया तो हम अलग हो गए उसने जल्दी से मैक्सी डाली और बाहर चली गयी

उसके बच्चे स्कूल से लोट आये थे, मैंने माथे पर हाथ पीटा और अपने घर पर आ गया , अब कल से मुझे भी पढाई फिर से शुरू करनी थी तो बस्ता सेट किया वैसे भी रात को बिमला के घर पर ही सोना था तो फिर रात अपनी ही थी, इसी उधेड़बुन में बाकि का टाइम कटा जैसे तैसे करके खाना वाना खाके बस जाने ही वाला था बिमला के घर पर की चाची मेरे कमरे में आई और बोली – एक काम कर आज तू खेत पर चला जा सोने को आवारा गाय बहुत घुमती हैं उधर कई दिनों से अपनी फसल का नुक्सान हो रहा हैं जरा देख ले उधर जाके ये सुनते ही मेरा दिमाग बहुत तेजी से ख़राब हो गया

घर में चाची का राज चलता था तो फिर क्या था अपनी साइकिल उठाई और चल दिया मन में हजार गालिया बकती हुए, इस घर में गुलामो सी ज़िन्दगी थी अपनी कोई कुछ समझता ही नहीं था खेत वैसे ज्यादा दूर नहीं था बस्ती से करीब कोस भर ही दूर था , मैंने वहा जाकर कुवे पर बना कमरा खोला और साइकिल अन्दर खड़ी की, चारपाई को बहार निकला और उस पर बैठ कर सोचने लगा सारे प्लान का तो बिस्तर गोल हो गया था अपने रेडियो को लगाया और सोच विचार करने लगा

करीब घंटे भर बाद मुझे कुछ आहट सुनाई दी तो मैं भी खड़ा हुआ और देखने लगा कही कोई पशु तो नहीं आ निकला पर खेत के परले तरफ मुझे कोई लालटेन लिए दिखा तो मैंने अपना लट्ठ संभाला और उस तरफ चल निकला तो पता चला की ये तो हमारे मोहल्ले की ही पिस्ता हैं, मेरा इस से कभी ज्यादा वास्ता नहीं पड़ा था क्योंकि उसकी छवि थोड़ी ठीक नहीं थी गाँव में उसके कांड की कई किस्से मशहूर थे और उनका घर भी बस्ती के परली तरफ था तो बस कभी राह में आते जाते देख लिया इस से ज्यादा कभी कुछ था नहीं

वैसे तो पिस्ता अपने खेत में खड़ी थी फिर भी मैंने उस से पूछ ही लिया की वो रात को इधर क्या कर रही हैं , उसने मुझे ऐसे देखा की जैसे मैं कोई विचित्र गृह का प्राणी होंवु , अपनी बड़ी बड़ी गोल आँखों को घुमाते हुए उसने कहा की अपने खेत में रखवाली कर रही हूँ और क्या ,

मैं- अरे वो तो ठीक हैं पर घर से और कोई नहीं आ सकता था क्या तुम रात में अकेली
पिस्ता- और कोण करेगा, भाई तो नोकरी पर रहता हैं साल में दो बार ही आता हैं , माँ सारा दिन घर का काम करके परेशां हो जाती हैं तो मैं ही कर लेती हूँ वैसे मैं आती नहीं पर वो क्या हैं न की सब्जियों में पानी देना था तो इसलिए आना ही पड़ा
मैं-पर आज तो लाइट आ ही नहीं रही
पिस्ता- आज का सारा तो था पर पता नहीं क्यों कट कर दी वैसे तुम सवाल बहुत पूछते हो पिछले जनम में वकील थे क्या
मैं- अरे नहीं, वो तो तुम्हे ऐसे देखा तो बस पूछ लिया अच्छा तो मैं चलता हूँ
पिस्ता- रुको मैं भी चलती हूँ तुम्हारे साथ,
मैं- पर क्यों रहो अपने खेत में
पिस्ता- अब लाइट तो हैं नहीं तो थोड़ी देर तुमसे ही बाते करके टाइमपास कर लुंगी,
मैंने सोचा ठीक ही हैं मेरा भी टाइम कट जायेगा तो वो मेरे साथ कुए पर आ गयी और मेरी खाट पर बैठ गयी मैं जमीं पर बैठ गया तो उसने कहा अरे तुम भी ऊपर ही बैठ जाओ
मैं- नहीं मैं ठीक ही हु उधर

अरे शरमाओ मत तुम्हारी अपनी खाट हैं, बोली वो
तो मैं भी उसके पास ही बैठ गया, रात दूर दूर तक खामोश थी रह रह कर कभी कभी कुछ देर के लिए हवा चल जाती थी आसमान में तारे खिले हुए थे उसने बातो का सिलसिला शुरू करते हुए कहा
“मैंने कभी सोचा नहीं था की तुमसे ऐसे खेत में मुलाकात होंगी ”
मैं- क्यों मैं खेत में नहीं आ सकता क्या
पिस्ता- आ क्यों नहीं सकते तुम्हारा खेत है जब मर्ज़ी आओ मैं कोण होती हु रोकने वाली वो तो बस ऐसे ही पूछ लि

अच्छा तो मैं चलता हूँ
पिस्ता- रुको मैं भी चलती हूँ तुम्हारे साथ,
मैं- पर क्यों रहो अपने खेत में
पिस्ता- अब लाइट तो हैं नहीं तो थोड़ी देर तुमसे ही बाते करके टाइमपास कर लुंगी,
मैंने सोचा ठीक ही हैं मेरा भी टाइम कट जायेगा तो वो मेरे साथ कुए पर आ गयी और मेरी खाट पर बैठ गयी मैं जमीं पर बैठ गया तो उसने कहा अरे तुम भी ऊपर ही बैठ जाओ
मैं- नहीं मैं ठीक ही हु उधर

अरे शरमाओ मत तुम्हारी अपनी खाट हैं, बोली वो
तो मैं भी उसके पास ही बैठ गया, रात दूर दूर तक खामोश थी रह रह कर कभी कभी कुछ देर के लिए हवा चल जाती थी आसमान में तारे खिले हुए थे उसने बातो का सिलसिला शुरू करते हुए कहा
“मैंने कभी सोचा नहीं था की तुमसे ऐसे खेत में मुलाकात होंगी ”
मैं- क्यों मैं खेत में नहीं आ सकता क्या
पिस्ता- आ क्यों नहीं सकते तुम्हारा खेत है जब मर्ज़ी आओ मैं कोण होती हु रोकने वाली वो तो बस ऐसे ही पूछ लिया वो क्या हैं न की तुम्हे पहले देखा नहीं कभी तो

मैं- हां वो दरअसल मैं घर से बहुत कम ही निकलता हूँ फुर्सत ही नहीं मिलती पढाई से और फिर क्रिकेट खेलने चला जाता हूँ शायद इसलिए ही
पिस्ता- तभी
मैं- तुम बताओ अपने बारे में
पिस्ता- मैं क्या बताऊ, गाँव में मेरे बारे में सुना तो होगा ही तुमने अक्सर लड़के मेरी ही चर्चा करते रहते हैं
मैं- तो वो बाते सच हैं क्या पर अगले ही पल मुझे अहसास हुआ की गलत बात करदी हैं मैंने तो मैंने कहा माफ़ करना मेरा वो मतलब नहीं था

 

loading...

Leave a Reply