ससुरजी का प्यार – कंचन part 3

“लेकिन सासु मां के साथ ससुर जी ने ऐसा धोखा क्यों किया?”

“बहु रानी जब औरत अपने पति की प्यास नहीं बुझा पाती है तो उसे मजबूर हो कर दूसरी औरतों की ओर देखना पड़ता है। आपकी सासु मां धार्मिक स्वभाव की है। उसे चुदाई में कोई दिलचस्पी नहीं है। बेचारे बाबू जी क्या करते?”

“धार्मिक स्वभाव का ये मतलब थोड़े ही होता है की अपने पति की ज़रूरत का ध्यान ना रखा जाए।”

“वोही तो मैं भी कह रही हूं बहु रानी। मर्द लोग तो उसी औरत के गुलाम हो जाते हैं जो बिस्तर में बिल्कुल रंडी बन जाए।”

कमला अब कन्चन की चूत और उसके चारों ओर के घने बालों की मालिश कर रही थी। कन्चन की चूत बुरी तरह गीली हो गयी थी। थोड़ी देर इस तरह मालिश करने के बाद बोली, “चलो बहु रानी अब सीधी हो के पीठ पे लेट जाओ।”

कन्चन सीधी हो कर पीठ पे लेट गयी। उसके बदन पे एक भी कपड़ा नहीं था। बिल्कुल नंगी थी, लेकिन अब वो इतनी उत्तेजित हो चुकी थी की उसे किसी बात की परवाह नहीं थी। जैसे ही कन्चन पीठ पे लेटी कमला तो उसके बदन को देखती ही रह गयी। क्या गदराया हुआ बदन था। बड़ी बड़ी चूचिआं छाती के दोनों ओर झूल रही थी। कन्चन की झांटें देख कर तो कमला चौंक गयी। नाभी से थोड़ा नीचे से ही घने काले काले बाल शुरु हो जाते थे। कमला ने आज तक कभी इतनी घनी और लम्बी झांटें नहीं देखी थी। चूत तो पूरी तरह से ढकी हुई थी।

“हाय राम! बहु रानी ये क्या जंगल उगा रखा है? आप क्यों अपनी चूत ढकने की कोशिश कर रही थी? इन घने बालों में से तो कुछ भी नज़र नहीं आता है।” ये कहते हुए कमला ने ढेर सारा तेल कन्चन की झांटों पे डाल दिया और दोनों हाथों से झांटों की मालिश करने लगी।

“आह…..आआहहह ऊऊइइइइइ इइइस्स्स्स्स्स्स।”

“बहु रानी आप अपनी झांटों में कभी तेल नहीं लगाती?”

“हट पागल, वहां भी कोई तेल लगाता है क्या…. आइइइई ?”

“बहु रानी जैसे सिर के बाल औरत की खूबसूरती बढ़ाते हैं, वैसे ही झांटें औरत की चूत की खूबसूरती पे चार चान्द लगा देती हैं। चूत के ऊपर सूखे सूखे बाल तो किसी मर्द को नहीं रिझा सकते। जितना ध्यान आप अपने बालों का रखती हो उतना ही ध्यान अपनी झांटों का भी रखना चाहिये। अब तो कन्चन ने टांगें खूब चौड़ी कर रखी थी मानो चुदवाने के लिये लेटी हो। कमला, कन्चन की चूत को ज़ोर ज़ोर से मसल के मालिश कर रही थी। कन्चन की चूत के रस से उसकी झांटें गीली हो रही थी।

“सच कमला तू तो बहुत अच्छी मालिश करती है। आआआह…. बहुत मज़ा आ रहा है। लेकिन एक बात बता, मर्दों को औरत की झांटें क्यों इतनी अच्छी लगती हैं?”

“बहु रानी औरत की चूत के बाल ही उसकी चूत की खुश्बू को समेते रहते हैं। आपने देखा नहीं कुत्ता कैसे कुतिआ की चूत की गन्ध सून्घ कर उसके पीछे पीछे घूमता रहता है? लेकिन आपकी चूत पे बाल इतने घने और लम्बे हैं की आपकी चूत तो नज़र आती ही नहीं”।
“कमला, तू मेरी चूत देख कर क्या करेगी?” कन्चन हंसती हुई बोली।

“अरे बहु रानी मैं तो नहीं लेकिन आपके पति देव तो देखेंगे। मर्द को औरत की झांटें तो अच्छी लगती हैं लेकिन उसे चूत की फांके, उसके बीच का कताव और चूत का छेद तो नज़र आना चाहिये। मर्द को औरत की चूत के अन्दर बाहर होता हुआ अपना लंड देखने में बहुत मज़ा आता है। लाओ मैं आपकी झांटें इस तरह से काट देती हूं की आपकी चूत नज़र आने लगे। फिर देखना आपके पति आप पे कैसे फिदा रहते हैं।”

“हाय राम ! कमला तू मेरे साथ क्या क्या कर रही है?” कमला ने पास पड़ी कैंची उठा ली और कन्चन की टांगें चौड़ी करके उसकी चूत के बाल काटने लगी। अब कन्चन की चूत की दोनों फांके, चूत का कटाव और उसके बीच का गुलाबी छेद साफ़ नज़र आने लगा। कमला उसकी फूली हुई चूत देख कर दंग रह गयी। उसने और ढेर सारा तेल कन्चन की चूत पे डाल दिया और उसकी मालिश करने लगी।

“उइइइइइआआह…. इइइइइस्स्स्स…. कमलाआआ क्यों तंग कर रही है ?”

“सच बहु रानी आपकी चूत पे तो मेरा ही दिल आ गया है। सोचिये आपके पति का क्या हाल होग? एक बात पूछूं? बुरा तो नहीं मानोगी?”

“पूछ कमला तेरी बात का का बुरा मैं कभी नहीं मान सकती। इस्स्स….आआअह”

“आपके पति तो आपको रोज़ कम से कम तीन चार बार चोदते होंगे?”

“क्यों तू ये कैसे कह सकती है?”

“आप का बदन है ही इतना गदराया हुआ की कोई भी मर्द रोज़ चोदे बिना नहीं रह सकता।”

“मैं तुझे क्यों बताऊं? पहले तू बता की तूने ससुर जी के लंड की मालिश कैसे शुरु कर दी? और अगर लंड की मालिश करती है तो तुझे उन्होनें चोदा भी ज़रूर होगा?”

“अरे बहु रानी बाबू जी की मालिश तो एक इत्तेफ़ाक है। मैने आपको बताया था ना की मैं बाबुजी के लिये लड़कियां पटा के लाती थी। अक्सर बाबू जी एक दिन में तीन तीन लड़किओं को चोदते थे। ज़रा सोचो, हर लड़की को सिर्फ़ दो बार भी चोदें तब भी उन्हें छः बार चुदाई करानी पड़ती थी। इतनी चुदाई के बाद आदमी थक तो जाता ही है। बाबू जी जानते थे की मैं बहुत अच्छी मालिश करती हूं इसलिये मुझे मालिश के लिये बोल देते थे। एक दिन बाबु जी बोले ’कमला बुरा ना मानो तो वहां भी मालिश कर दो। उस लड़की की बहुत टाईट थी, लंड में दर्द हो रहा है।’। मेरे तो मन की मुराद पूरी हो गयी। मैं चुदने के बाद कई औरतों की हालत देख चुकी थी और उनसे बाबू जी के लंड के बारे में सुन चुकी थी। जब मैनें मालिश करने के लिये उनकी धोती खोली तो बेहोश होते होते बची। सिकुड़ा हुआ लंड भी इतना मोटा और भयंकर लग रहा था। जब मैनें मालिश शुरु की तो लंड धीरे धीरे खड़ा होने लगा। पूरा तन जाने के बाद तो मुझे दोनों हाथों से मालिश करनी पड़ रही थी। बाप रे! मोटा काला, कितना विशाल लंड था। मेरी मालिश से बाबू जी बहुत खुश हुए और उसके बाद से किसी को भी चोदने से पहले मैं उनके लंड की मालिश करके उसे चुदाई के लिये तैयार करने लगी। काश भगवान ने मुझे अच्छा बदन दिया होता और मैं भी बाबू जी को रिझा पाती। दिल तो बहुत करता था की वो गधे जैसा लंड मेरी चूत में भी जाए पर औरत जात हूं ना, बाबू जी ने कभी मुझे चोदने की इच्छा नहीं जताई और मैं उनसे कैसे कहती की मुझे चोदो।”

“बात तो तेरी ठीक है। एक रंडी भी ये नहीं कहती की मुझे चोदो। लेकिन ये बता तूने ससुर जी को चोदते हुए तो ज़रूर देखा होगा।?”

“हां बहु रानी देखा तो है। इसी कमरे के बगल में जो कमरा है वहां से इस कमरे में झांक सकते हैं। जिस चारपायी पे आप लेटी हो उसी चारपायी पे बाबू जी ने अपनी साली को ना जाने कितनी बार चोदा है।”

“सच कमला! कुछ बता ना कैसा लगता था?” अब तो कन्चन की चूत बुरी तरह से गीली हो चुकी थी। ससुर जी के गधे जैसे मोटे काले लंड की कल्पना से ही कन्चन के बदन में आग लग गयी थी।

कमला इस बात को अच्छी तरह जानती थी। आखिर वो भी मंझी हुइ खिलाड़ी थी। कन्चन की चूत को मसलते हुए बोली, “हाय बहु रानी क्या बताऊं। बेचारी १७ साल की कमसिन लड़की थी जब बाबुजी के मूसल ने उसकी कुंवारी चूत को रौंदा था। बिल्कुल नाज़ुक सी चूत थी उसकी जैसे किसी बच्ची की हो। लेकिन चार साल चुदने के बाद क्या फूल गयी थी और चौड़ी हो गयी थी। अब तो जब भी चुदवाने के लिये टांगें चौड़ी करती थी, उसकी चूत का खुला हुआ छेद नज़र आने लगता था मानो चूत मुंह फाड़े लंड को खाने का इन्तज़ार कर रही हो। बहुत ही मज़े ले कर चुदवाती थी। पहली बार तो मुझे विश्वास ही नहीं हुआ की बाबु जी का इतना लम्बा लंड उसकी चूत में जा भी पाएगा। सच बहु रानी साली की चूत में पूरा लंड जाते मैनें इन आखों से देखा है। जब पूरा लंड घुस जाता था तो बाबू जी के सांड के माफ़िक बड़े बड़े टट्टे साली के चूतड़ों से चिपक जाते थे।

“टट्टे क्या होते हैं?”

“अरे मर्द के लंड के नीचे जो लटकते हैं? वहीं तो सड़का बनता है।”

“ओह! समझी।”

“क्या फच.. फच.. फच.. की आवाजें आती थी। हर धक्के के साथ बाबुजी के झूलते हुए टट्टे मानो साली के चूतड़ों पर मार लगाते थे। जब बाबुजी झड़े तो ढेर सारा वीर्य साली की चूत में से बह कर बाहर चारपायी पे गिरने लगा। ऊफ क्या जानलेवा नज़ारा था।”

“हाय! कमला कितनी बार तूने साली की चुदाई देखी?”

“सिर्फ़ दो बार। उसके बाद बाबुजी को पता चल गया। फिर उन्होनें साली को पम्प हाउस में चोदना शुरु कर दिया।”

आज की मालिश ने और कमला की बातों ने कन्चन के बदन में एक अजीब सी आग लगा दी थी। कन्चन की चुदाई हुए अब एक महीने से भी ज़्यादा हो चुका था।
कुछ दिनों बाद कन्चन के पति का फोन आया। ससुर जी ने कन्चन को बताया की राकेश का फोन है। कन्चन ने अपने कमरे में जा कर फोन का रिसीवर उठा लिया। उधर रामलाल ने भी अपने कमरे का रिसीवर नीचे नहीं रखा और बहु और बेटे की बातें सुनने लगा।

राकेश बोल रहा था, “कन्चन मेरी जान ससुराल जा कर तो तुम हमें भूल ही गयी हो। अब तो एक महीना बीत गया है और कितना तड़पाओगी? बहुत याद आ रही है तुम्हारी।”

“अच्छा जी! बड़ी याद आ रही है आपको मेरी। अचानक इतनी याद क्यों आ रही है?”

“खूबसूरत बीवी से एक महीना अलग रहना तो बहुत मुश्किल होता है मेरी जान। सच, सारा दिन खड़ा रहता है तुम्हारी याद में।”

“आपका वो तो पागल है। उसे कहिये एक महीना और इन्तज़ार करे।”

“ऐसे ना कहो मेरी जान एक महीना और इन्तज़ार करना तो बहुत मुश्किल है।”

“तो फिर अभी कैसे काम चल रहा है?”

“अभी तो मैं तुम्हारी पैंटी से ही काम चला रहा हूं।”

“हाय…! आपने फिर मेरी पैंटी ले ली। जिस दिन वहां से चली थी उस दिन सुबह नहाने से पहले पैंटी उतारी थी। सोचा था गावं में जा के धो लूंगी। गंदी ही सुटकेस में रख ली थी। यहां आ के देखा तो पैंटी गायब थी।”

“बड़ी मादक खुश्बू है तुम्हारी पैंटी की। याद है रात को उतावलेपन में जब पहली बार तुम्हें चोदा था तो पैंटी उतारने की भी फुर्सत नहीं थी, बस चूत के ऊपर से पैंटी को साईड में करके ही पेल दिया था तुम्हारी फूली हुई चूत में”

“अच्छी तरह याद है मेरे राजा। अब आप इस पैंटी को भी फाड़ दोगे? अब तक दो पैंटी तो पहले ही फाड़ चुके हो।”

“कन्चन मेरी जान इस बार आओगी तो पैंटी नहीं तुम्हारी चूत ही चोद चोद के फाड़ दुंगा।”

“सच! मैं भी तो यही चाहती हूं।”

“क्या चाहती हो मेरी जान?”

“कि आप मेरी….. हटिये भी! आप बहुत चालाक हैं।”

“बोलो ना मेरी जान फोन पर भी शर्मा रही हो।”

“आप तो बस मेरे मुंह से गन्दी गन्दी बातें सुनना चाहते हैं।”

“हाय! जब चुदवाने में कोई शरम नहीं तो बोलने में कैसी शरम? तुम्हारे मुंह से सुन के शायद मेरे लंड को कुछ शान्ति मिले। बोलो ना मेरी जान तुम भी क्या चाहती हो?”

“ऊफ! आप भी बस। मैं भी तो चाहती हूं की आप मुझे इतना चोदें की मेरी…. मेरी चूत फट जाए। मैं… मेरी चूत अब आपके उसके लिये बहुत तड़प रही है।”

“किसके लिये मेरी जान।”

“आपके ल्ल..लंड के लिये, और किसके लिये।” कन्चन मुस्कुराते हुए बोली।

“सच कन्चन अब और नहीं सहा जाता। मालूम है इस वक्त भी तुम्हारी पैंटी मेरे खड़े हुए लंड पे लटक रही है।”

“हाय राम, मेरी पैंटी की किस्मत भी मेरी चूत की किस्मत से अच्छी है। अगर आपने मुझे पहले ही बुला लिया होता तो इस वक्त आपके लंड पे पैंटी नहीं मेरी चूत होती।”

“कोई बात नहीं, इस बार जब आओगी तो इतना चोदुंगा की तंग आ जाओगी। बोलो मेरी जान जी भर के दोगी ना?”

“हां मेरे राजा आप लेंगे तो क्यों नहीं दूंगी। मैनें तो सिर्फ़ टांगें चौड़ी करनी हैं, बाकी सारा काम तो आप ही ने करना है।”

“ऐसा ना कहो मेरी जान। चूत देने की कला तो कोई तुमसे सीखे।

“अच्छा जी! तो अपनी बीवी को चोदना इतना अच्छा लगता है? वैसे यहां एक औरत कमला है जो मालिश बहुत अच्छी करती है। मेरे पूरे बदन की मालिश करती है। यहां तक की मेरी चूत की भी मालिश कर दी। कहती है ’बहु रानी आपकी चूत की मालिश करके मैं इसे ऐसा बना दूंगी की आपके पति हमेशा आपकी चूत से ही चिपके रहेंगे।’ तो मैंने उससे कहा की मैं भी तो यही चाहती हूं। वर्ना हमारे पति देव को तो हमारी चूत की याद महीने में एक दो बार ही आती है। ठीक कहा ना जी? उसने चूत के बालों पे भी कुछ किया है।”

“क्या किया है मेरी जान बताओ ना।”

“मैं क्यों बताऊं? खुद ही देख लीजियेगा। लेकिन चूत पे से पैंटी साईड में करके पेलने से नहीं पता चलेगा। ये देखने के लिये तो पूरी नंगी करके ही चोदना पड़ेगा।”

“एक बार आ तो जाओ मेरी जान, अब कपड़ों की ज़रूरत नहीं पड़ेगी। हमेशा नंगी ही रखुंगा।”

“हाय! ऐसी बातें ना करिये। मेरी चूत बिल्कुल गीली हो गयी है। आपके पास तो मेरी पैंटी है, मेरे पास तो कुछ भी नहीं है।”

“वहां गावं में किसी को ढूंढ लो।” राजेश मज़ाक करता हुआ बोला।

“छी कैसी बातें करते हैं? वैसे आपके गावं में आदमी कम गधे ज़्यादा नज़र आते हैं। एक दिन तो हद ही हो गयी। मैं खेत में जा अही थी। मेरे आगे आगे एक गधा और गधी चल रहे थे। गधे का लंड खड़ा हुआ था। बाप रे! तीन फ़ूट से भी लम्बा होगा। बिल्कुल ज़मीन पे लगने को हो रहा था। अचानक वो आगे चल रही गधी पे चढ़ गया और पूरा तीन फ़ूट का लंड उसकी चूत में पेल दिया। सच मेरी तो चीख ही निकल गयी। ज़िन्दगी में पहली बार इतना लम्बा लंड किसी के अन्दर जाता देखा।”

“तुम अपना ध्यान रखना मेरी जान। खेतों में अकेली मत जाना। तुम्हारे कातिलाना चूतड़ों को देख के कोई गधा तुम पे ना चढ़ जाए। कहीं तुम्हारी चूत में तीन फ़ुट का लंड पेल दिया तो?” राजेश हंसता हुआ बोला।

“हटिये, आप तो बड़े वो हैं! आपको तो शरम भी नहीं आती। जिस दिन सचमुच किसी गधे ने मेरे अन्दर तीन फ़ुट का लंड पेल दिया ना उस दिन के बाद मेरी चूत इतनी चौड़ी हो जाएगी की आपके काबिल नहीं रह जाएगी। बोलिये मंज़ूर है?”

“अगर तुम्हारी चूत की प्यास गधे के लंड से बुझ जाती है तो मुझे मंज़ूर है। मैं तो तुम्हें खुश और तुम्हारी चूत को तृप्त देखना चाहता हूं।”

“जाईये भी हम आपसे नहीं बोलते।”

“नाराज़ मत हो मेरी जान मैं तो मज़ाक कर रहा था।”

“अच्छा अब फोन रखिये मुझे खाना भी बनना है।”

“ठीक है मेरी जान, दो तीन दिन बाद फिर फोन करुंगा। बाय।”

राजेश ने फोन रख दिया।

राजेश की बातें सुन कर कन्चन की चूत गीली हो गयी थी। वो रिसीवर रखने ही वाली थी की उसे एक और क्लिक की आवाज़ सुनई दी। ज़रूर कोई और भी उनकी बातें सुन रहा था। कन्चन के घर तो एक्सटेन्शन था नहीं। फोन का एक्सटेन्शन तो यहीं ससुराल में था। वो भी ससुर जी के कमरे में। तो क्या ससुर जी उनकी बातें सुन रहे थे? बाप रे, अगर ससुर जी ने उनकी बातें सुन ली तो क्या सोच रहे होंगे? उधर रामलाल बहु के मुंह से ऐसी सैक्सी बातें सुन कर हैरान रह गया। आखिर बहु उतनी भी भोली नहीं थी जितनी शक्ल से लगती थी।

अब रामलाल बहु को छुप छुप के देखने के चक्कर में रहता था। एक रात कन्चन देर तक जाग रही थी। शायद नोवेल पढ़ रही थी। सब लोग सो गये थे। रामलाल की आंखों में नींद कहां? वो बिस्तर पर लेटा करवटें बदल रहा था। तभी उसे बहु के कमरे में हरकत सुनाई दी। रामलाल ध्यान से देखने लगा। बहु के कमरे का दरवाज़ा खुला और वो रामलाल के कमरे के बगल वाले बाथरूम की ओर जा रही थी। बहु के हाथ में कोई सफ़ेद सी चीज़ थी। ऐसा लग रहा था जैसे उसकी कच्छी हो। बहु ने बाथरूम में घुस के दरवाज़ा बन्द कर लिया। रामलाल जल्दी से दबे पांव उठा और बाथरूम के दरवाज़े से कान लगा कर सुनने लगा। इतने में स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स की आवाज़ आने लगी। बहु पेशाब कर रही थी। बहु के पेशाब के लिये पैर फैला कर बैठने और उसकी चूत के खुले हुए होंठों के बीच से निकलती हुई पेशाब की धार की कल्पना से ही रामलाल का लौड़ा तन गया। जैसे ही बहु के मूतने की आवाज़ बन्द हुई रामलाल जल्दी से अपने कमरे में जा कर लेट गया। इतने में बहु बाथरूम से बाहर आई ओर अपने कमरे की ओर जाने लगी। उसके हाथ में वो सफ़ेद चीज़ अब नहीं थी।

अपने कमरे में जा कर बहु ने दरवाज़ा बन्द कर लिया और लाईट भी बन्द कर दी। शायद सोने जा रही थी। रामलाल फिर से उठा और बाथरूम में गया। उसका अन्दाजा सही निकला। एक कोने में धोने के कपड़ों में बहु की सफ़ेद कच्छी पड़ी हुई थी। रामलाल ने बाथरूम का दरवाज़ा अन्दर से बन्द किया और बहु की कच्छी को उठा लिया। अभी तक उस कच्छी में गर्माहट थी। शायद अभी अभी उतारी थी। रामलाल ध्यान से कच्छी को देखने लगा। कच्छी में दो लम्बे काले बाल फंसे हुए थे। कम से कम चार इन्च लम्बे तो थे ही। ये देख कर रामलाल का लंड हरकत करने लगा। बाप रे ये तो बहु की चूत के बाल थे। इसका मतलब बहु की चूत पे खूब लम्बे और घने बाल हैं। कच्छी का जो हिस्सा बहु की चूत पे रगड़ता था वहां गहरे पीले रंग का दाग सा था। शायद बहु की पेशाब और चूत के रस का दाग था। रामलाल ने दोनों बाल निकाल लिये और कच्छी को सूंघने लगा। उफ क्या जानलेवा गन्ध थी। ये तो बहु की चूत की खुश्बू थी। रामलाल औरत की चूत की गन्ध अच्छी तरह पहचानता था। रामलाल ने जी भर के बहु की कच्छी को सून्घा और फिर उस जगह को अपने लौड़े के सुपाड़े पे टिका दिया जहां कुछ देर पहले बहु की चूत थी। रामलाल ने कच्छी को अपने लंड पे खूब रगड़ा। उसे ऐसा महसूस हो रहा था मानो बहु की चूत पे अपना लंड रगड़ रहा हो। कच्छी इतने नाज़ुक थी की रामलाल को डर था कहीं उसका मोटा फौलादी लौड़ा बहु की कच्छी ना फाड़ दे। कुछ देर कच्छी को लंड पे रगड़ने और बहु की चूत की कल्पना करके रामलाल अपने को कन्ट्रोल ना कर सका और उसने ढेर सारा वीर्य कच्छी में उड़ेल दिया। फिर उसने कच्छी धोने में डाल दी और वापस अपने कमरे में चला गया।

अगले दिन जब कन्चन अपने कपड़े धोने लगी तो उसे अपनी पैंटी पे दाग नज़र आया। ऐसा दाग तो मर्द के वीर्य का होता है। कन्चन सोच में पड़ गयी कि ये दाग उसकी पैंटी में कैसे आया। घर में तो सिर्फ़ एक ही मर्द था और वो थे ससुर जी। कहीं ससुर जी तो नहीं लेकिन वो उसकी पैंटी के साथ क्या कर रहे थे? कहीं ये उसका वहम तो नहीं था? लेकिन कन्चन को शक होता जा रहा था की ससुर जी उस पर फिदा होते जा रहे हैं। कन्चन के बदन को ऐसे देखते थे जैसे आंखों से ही चोद रहे हों। अब तो बात बात पे कन्चन की पीठ और चूतड़ों पे हाथ फेरने लगे थे। कभी कन्चन की पीठ पे हाथ रख के उसकी ब्रा को फ़ील करते हुए कहते “हमारी बहु रानी बहुत अच्छी है”, कभी उसकी पतली कमर में हाथ डाल के कहते “हम बहु के बिना ना जाने क्या करेंगे”, कभी कन्चन के चूतड़ों पे हाथ रख कर कहते “जाओ बहु अब आराम कर लो”।

जब से कन्चन ने कमला से ससुर जी के कारनामे सुने थे तुब से वो भी ससुर जी को एक औरत की नज़र से देखने लगी थी। ससुर जी के विशाल लंड के वर्णन ने तो उसकी नींद ही हराम कर दी थी। कन्चन को समझ नहीं आ रहा था की वो क्या करे। ससुर जी तो पिता के समान थे। लेकिन कन्चन के बदन को ललचायी नज़रों से देखना, बात बात पे उसके चूतड़ों पे हाथ फेरना, फोन पे चुपके से उसकी बातें सुनना, और अक्सर ऐसी बातें करना जो कोई ससुर अपनी बहु के साथ नहीं करता, और फिर उसकी पैंटी पे वीर्य का वो दाग, इस बात को साफ़ करता था की ससुर जी का दिल उसपे आ गया है। कन्चन के मन में ये बातें चल रही थी की एक रोज़ जब कन्चन सवेरे जल्दी सो के उठ गयी और उसने खिड़की के बाहर झांका तो देखा की ससुर जी आन्गन में खुली हवा में कसरत कर रहे हैं। कन्चन उत्सुक्तावश पर्दे के पीछे से उन्हें देखने लगी। ससुर जी ने सिर्फ़ एक लंगोट पहन रखा था। कन्चन उनका बदन देख कर हैरान रह गयी। ससुर जी लम्बे चौड़े थे। उनका बदन काला और बिल्कुल गठा हुआ था। लेकिन सबसे ज़्यादा हैरान हुई ससुर जी के लंगोट का उभार देख कर। ऐसा लगता था की जो कुछ भी लंगोट के अन्दर कैद था वो खासा बड़ा था।

कन्चन को कमला की बातें याद आने लगी। उसके बदन में चीटियां रेंगने लगी। कन्चन को विश्वास होने लगा की ससुर जी का लंड ज़रूर ही काफ़ी बड़ा होगा क्युंकि उसके पति राकेश का लंड भी ८ इन्च का था और देवर रामु का लंड तो १० इन्च का था। बाप का लंड बड़ा होगा इसिलिये तो बच्चों का भी इतना बड़ा है। और अगर साली पहली चुदाई में बेहोश हो गयी थी तुब तो ज़रूर ही बहुत बड़ा होगा। पहली बार कन्चन के मन में इच्छा जागी की काश वो ससुर जी का लंड देख सकती। कन्चन को ससुराल आए एक महीने से ज़्यादा हो चला था। अब वो रोज़ सुबह जल्दी उठ जाती और पर्दे के पीछे से ससुर जी को कसरत करते देखती। कन्चन मन ही मन कल्पना करती कि ससुर जी का लंड भी गधे के लंड जैसा खासा लम्बा, मोटा और काला होगा। लेकिन क्या देवर रामु के लंड से भी बड़ा होग? आखिर एक मर्द का लंड कितना बड़ा हो सकता है? कन्चन का विचार पक्का होता जा रहा था कि किसी ना किसी दिन तो वो ससुर जी के लंड के दर्शन ज़रूर करेगी।

हालांकी अब कन्चन को विश्वास हो गया था की ससुर जी अपनी जवान बहु पर फ़िदा हो चुके हैं लेकिन फिर भी वो उनकी परीक्षा लेना चाहती थी। पर्दा तो अब भी करती थी लेकिन अब वो ससुर जी के सामने जाने से पहले अपनी चुन्नी से सिर इस प्रकार से ढ़कती की उसकी छाती पूरी तरह खुली रहे। ससुरजी के लिये दूध का ग्लास टेबल पे रखने के लिये इस तरह से झुकती की ससुर जी को उसके ब्लाउज के अन्दर झांकने का पूरा मौका मिल जाए। वो अक्सर चूड़ीदार पहनती थी क्युंकि ससुरजी ने एक दिन उसको कहा था ’बहु चूड़ीदार में तुम बहुत सन्दर लगती हो। सच तुम्हारा ये चूड़ीदार और कुर्ता तो तुम्हारी जवानी में चार चांद लगा देता है।’ ससुर जी के सामने अपने चूतड़ों को कुछ ज़्यादा ही मटका के चलती थी। पर्दा करने का कन्चन को बहुत फायदा था, क्युंकि वो तो चुन्नी के अन्दर से ससुरजी पे क्या बीत रही है देख सकती थी लेकिन ससुर जी उसका चेहरा ठीक से नहीं देख पाते थे।

loading...

Leave a Reply