मौसी की चूत चूस-चूस कर दनादन चोदने लगा

मैं सोया हुआ था तो मुझे लगा की कोई मेरे लंड*के साथ छेड़-छाड़ कर रहा है वो कभी मेरे लंड को सहलाता तो कभी उसको चूस*लेती थी मैं समझ गया था की वो कोई और नहीं मेरी मौसी है*।लाईट *की *से परे कमरे में रौशनी थी,मैंने देखा की मौसी की चुंचियां ब्लाउज के बाहर थी और तभी मौसी ने घप से मेरा लंड अपने मुंह में भर लिया और चूसने लगी।मज़ा आने के कारण मेरे मुंह से आवाज़ निकल गई,मेरी आवाज़ सुनते ही मौसी बोली-अब उठ तो गए हो,सही से मज़ा लो और दो न।अब मौसी मस्त होकर मेरा लंड चूस रही थी,मेरा लंड तन कर सख्त हो गया था।लंड मुंह से निकाल कर मौसी मेरे *आ गई और अपनी चुन्ची मेरे मुंह में डालने लगी।मुझे भी मज़ा आ रहा था मैंने मौसी की चुन्ची को मुंह में लेकर चूसने लगा ।मौसी मस्त होकर अपनी चुन्ची चुसवा रही थी और मेरे खड़े लंड को सहला रही थी।

कुछ देर बाद मौसी ने कहा-बेटा अब जल्दी से मेरी चूत में अपना लंड डाल कर छोड़ डालो ,मुझे बर्दाश्त करना मुश्किल हो रहा है।मैंने कहा -अभी तो तुम पापा के कमरे से आई हो,क्या हुआ पापा ने तुम्हें चोदा नहीं।मौसी बोली-तेरे पापा ने मुझे गर्म करके मेरे पुरे बदन में आग तो लगा दी पर*बुझाया नहीं ।मैंने कहा-पापा ने ऐसा क्यों किया वो तो तुम्हें बहुत चाहते हैं ,मौसी बोली तेरी माँ ने आज मुझे चुदने ही नहीं दिया,तुम्हारे पापा का लंड दो बार *हुआ पर वो एक बार वो अपनी चूत चुदवा ली और दूसरी बार उसने अपनी गांड मरवा ली,तुम्हारे पापा दो बार की चुदाई के बाद *कर सो गए और मेरी आग जलती*ही रह गई ।मैं बोला-मौसी तुम टेंशन मत लो आज मैं तुम्हारी सारी गर्मी को *कर दूंगा ।मौसी ने अपने सारे कपडे उतार दिया,मौसी की चूत फूली हुई और लंड खाने के लिए पानी बहा रही थी।मौसी मेरा लंड मसलते हुए चूस रही थी और मैं उसकी चूत चूस रहा था मौसी बोली अब मत तडपा डाल दे मेरी चूत *में।

मैंने मौसी को पीठ के बल लेटा कर चूत के छेद पर लंड रख कर धक्का मारा और लंड चूत में जड़ तक घुसा दिया।मौसी के मुंह से आवाज़ निकल गई,वो बोल पड़ी चोद,बेटा फाड़ दे अपनी मौसी की चूत को ।मैं *जोर-जोर*से धक्का लगा कर उसकी चूत को चोदने लगा,मौसी भी अपनी गांड उछाल-उछाल कर मस्ती में अपनी चूत चुदवा रही थी।कुछ ही देर में मौसी झड गई पर मैं अभी नहीं झडा था ।अब मैंने मौसी को घोड़ी बनने को कहा-वो घोड़ी बन गई,मैंने उसकी गांड की छेद पर थूक दिया और गांड में लंड घुसा कर चोदने लगा ।मौसी मस्ती में आकर सिसकियाँ निकाल रही थी।मैं काफी देर तक उसकी गांड मारता रहा ,इसी बीच वो फिर झड गई।मैंने उसकी गांड से लंड निकाल कर फिर से उसकी चूत में डाल दिया और दनादन चोदने लगा।कुछ देर की चुदाई के बाद मैं झड़ने वाला था तो मैंने मौसी से पूछा कहा डालूं अपना पानी,मौसी बोली-चूत में तो बहुत पानी लिया है आज मेरे मुंह में डाल दे ,फिर मैंने उसकी चूत से लंड निकाल कर सीधा उसके मुंह में डाल दिया और ढेर सारा पानी छोड़ दिया।मौसी सारा का सारा पानी पी गई और मेरे लंड को चूस-चूस कर साफ कर दिया।फिर मौसी मेरे से नंगी ही लिपट कर सो गई ।

loading...

Leave a Reply