मैं कुंवारी पापा की प्यारी, चुद गयी सारी की सारी part 2

न करो जिद्द मेरे सजना
मेरी गांड पे ना जाओ
ये चूत तुम्हारी है
चूत से ही दिल बहलाओ
तुम्हारे लंड की आशिक है
तुम्हारे लंड पे फिदा है
तुम्हारे लंड की मलाई पर
अब तलक जिन्दा है
इसे न मरहूम करो
अपने लंड के धक्कों से
गूंजता रहे घर हरदम
चूत की दर्दनाक चीखों से
जब घुसेड़ते हो अन्दर तक
दर्द की लहर दौड़ जाती है
असर जरा सा ही सही
गांड में भी छोड़ जाती है
एक सनसनाहट से उठती है
गांड चुन्चुनाने लगती है
तुम सोचो भला क्या होगा
जब तुब गांड मारोगे
अपना हलब्बी लंड
छोटे से छेद में डालोगे
चूत की चुदाई में
इतना परेशां करती है
जब direct डालोगे गांड में
तो मार ही डालेगी
अर्ज है जानेमन
चूत से जितना जी चाहे खेलो
जीभ, लंड या अंगुली
जो मन कारे डालो
मोटे से मोटा घुसेड दो
चाहे तो दोस्तों से चुदवा दो
तुम्हारी हर बात मानेगी
जैसे चोदोगे चुद्वालेगी
सिर्फ गांड पर रहम खाओ
इस कंवारी को कंवारी रहने दो
कली से फूल मत बनाओ

कल रात मैं सोई थी
सपनो में खोई थी
आँख खुली तो पाया मैंने
बिन कपड़ो के बिलकुल नंगी थी.
मैं चौंकी हक्की बक्की
किसने मुझे नग्न किया
भरी नींद में किसने मुझको
यूँ बिलकुल बेपर्द किया.
चद्दर से ढंकने बदन जो अपना
मैंने हाथ बढ़ाये
पाया हाथ बंधे थे मेरे
पांव भी न हिल पाए.
पलंग के पायों से बंधी
मैं बिलकुल मजबूर थी
कौन था जिसने बाँधा मुझको
मैं चिन्खू पर भयभीत थी.
अँधेरे कमरे में इतने में
किसी ने मुझको ढांप लिया
एक मर्दानी नग्न देह ने
मुझको जैसे छाप लिया.
होठों ने होठो को जकड लिया
चूचियां हाथों में कैद हुई
लोहे सा मोटा लंड हाय
लो चूत मेरी बस फट ही गयी.
मदन रस भीगी चूत बेचारी
रोक न पाई धक्के को
जड़ तक लौंडा धंस गया
चीर के दोनों पुत्ती को |
भूल गयी मैं कैदी हूँ
हाथ पांव बंधे हैं मेरे
चूतड उछाल उचक उचक
थे लंड के चालू फेरे.
हर फेरे में आग जगाता था
चूत से रस सरसाता था
पिस्टन सा जालिम मेरी गाडी
फुल स्पीड में दौड़ाता था.
दौड़ दौड़ हैरान हुआ
चोद चोद परेशान हुआ
अब न रोक सका खूद को
चूत में ही बेजान हुआ.

इस भरी गर्मी में यारों
बारिस सी चूत में बरस गयी
लौंडे ने मारी धार जो अन्दर
मैं प्यारे बस सरस गयी.
जब थमी चुदाई की घड़ियाँ
चोदू मुझ पर लेट गया
बोला प्यार से “रानी बिटिया’
आज तो मन बस हरस गया.
बरसो से छुपी तमन्ना थी
अपनी बिटिया का रेप करूँ
बांध जूड पलंग से तुमको
बिना बताये रेड करूँ.
आज ये सुन्दर मौका देखा
जबरन तुझको चोद दिया
मुझे माफ करना मेरी रानी
मैंने तुझ पर जोर किया.
चूम होठ पापा के बोली
पापा तुम सा कोई नहीं
ये चूत तुम्हारी चेरी है
मैं भी कोई गैर नहीं.
मेरी भी एक इच्छा पापा
वो भी आज पूरी कर दो
मुझे बनाकर कुतिया तुम
लंड चूत में ठेल ही दो.
महीने से ऊपर आज हुए
उस रात जब तुमने चोदा था
मेरी चूत को रगड़ रगड़
अपने लंड से खोदा था.
तब से मैं हूँ तरस रही
क्यों इतने दिन बाद सुध ली मेरी
क्यों न रेप किया मेरा
क्यों भूली चूत तुम्हे मेरी.
चूत चोद मुह में डाला
गांड में भी माल निकाला
चूस चास कर साफ किया
फिर भी न माना चूत-स्नान किया.

मेरे एक नए नए आशिक की पेशकश मेरे मेल्बोक्स में थी… सॉरी lover , इतना खुबसूरत लिखा तुमने की अपने दुसरे प्रेमियों से शेयर करना चाहती हूँ..
jaan aapki choot ke phaile hai charche bahut
ek mauka hame bhi dijiye, ye kahte hue darte hain bahut

samjh lo ki landeshwar ka dil is chuteswari par aaya hai
humne apna lund tumhari chut ke liye ragister karwaya hai

abhi tak is kunware lund ko bahut chuton bachaya hai
par is lund ka dil ab tumhari chut par aaya hai

waise to hum chut ke liye marte nahi
chut ko yaad karke is lund ko ragadte nahi
itefaak hai ki is lund ka dil tumhari chut par aaya hai
sayad khuda ne tumhari chut ke liye hi ise banaya hai

mauka dogi to to tumhe khush kar denge
tumhari chut ko apne lund ke ras se bhar denge

aapke jabab ka lovlesh ko intjaar rahega
haa hogi aapki taraf se to ye lund aapki chut se kusti ke liye taiyaar rahega

harek lund ke niche chut ko bhichane se kya hoga
jab bhi chudwaogi pal bhar me wo jhad jayega
are do boond is lund ki bhi aajma kar dekho
is lund ka surur chut ko nashila bana jayega.

lund aur chut ki ye duniya hai badi nirali
sab chuton se pyari hai ye chut tumhari
manjur hain aansu bhi is lund ko aie jaan
agar aa jaye muskan chut par tumhari

is lund ko bhi bahut chahti hai aur humko bhi aie soni
par khud ko aur lund ko buri najron se bachaya hai
lekin aaj ye is lund ko kya hua kah nahi sakte
sayad chut ki jawani dekh ise bukhar aaya hai

apni rasili chut ko meri sham bana do
pyar chalkata lund ke liye jaam bana do
kasm khate hai ise kas kas ke chodenge
apni chut ko mere lund ki jaan bana do

अभी अभी एक फोन आया है
पापा ने अपने ऑफिस बुलाया है
उन्होंने एक नया सोफा ख़रीदा है
उनके चेम्बर में रखा – कहते थे
बड़ा सुन्दर लगता है |
सोफे को टेस्ट करना चाहते हैं
मेरी चूत के टपकते रस से
सोफा के लेदर की पोलिश चाहते हैं
कितना आरामदेह है
मुझे लिटा कर देखेंगे
मेरी चूत पे सवारी गान्ठेंगे
स्प्रिंग कितने मजबूत हैं
चढ़ के देखेंगे
कहते थे इस सोफे पे
चुदवाने के बहुत मजा आएगा
मुझे चुतड नहीं उचकाने पड़ेंगे
सोफा खुद ही मुझे उछालेगा
और लौंडा चूत में सीधे जाएगा
बोले – तुरंत चली आओ
लौंडा हाथो में लिए बैठा हूँ
तुम्हे सोफे पर बिछा कर
चोदने के लिए ऐंठा हूँ
सुनते ही मेरी चूत ने
पानी छोड़ दिया
पैंटी जैसे नहा गयी
रस्ते भर अंगुली से खोद लिया
पापा के लंड की याद
उनसे चुदवाने की आस
उनके हर धक्के पे चिहुन्कती
प्यासी चूत का अहसास
मैं गाड़ी से उतर
दौड़ गयी
सीधे चेम्बर में घुसी
और सोफे पर लेट गयी
आँखे बंद थी और चूत खुली
अगले ही क्षण पापा मुझ पर थे
लौंडा चूत में और होठ
उनके होठों से सिले थे
चुचियों पे उनकी पकड़
बेमिशाल थी
हर धक्के पे सोनी
पापा के शब्दों में
मस्त माल थी
चूत में गिरा कर
छातियों पे चढ़ बैठे
मुह में घुसेड
हलक तक पेल बैठे
चूस कर सारा रस साफ किया
पापा के सोफा पर
बिटिया की चूत ने
रस की धारा बहा दी
और पापा के सोफे के साथ
बिलकुल सही इंसाफ किया |

चुम्बन आपका
हमारी चूत को
निहाल कर गया
दबे पाँव आया
हौले से चूमा
बेकरार कर गया |
सुरमई बगिया में
हरियाली छा जाती
बहार मचलती
लाली उफन आती
जो चुम्बन के साथ साथ
जीभ डाल कर चोद जाते
चूत की गहराई से
रस की गागर पी आते |
इस बार जब आओ
कुछ वक्त ठहर जाना
चूमना, चूसना, चुभलाना
मेरी चूत के सुस्वाद रस को
जी भर के पी जाना |

लंड चूसना भी एक कला है
होठों के बीच दबा कर
जीभ से दुल्रारना
या हौले से दांत गडाने में
बड़ा मजा आता है |
या वेक्यूम क्लीनर की तरह
पूरा का पूरा लंड मुह में लपेट
गले की गहराई में उतार
मलाईदार दूध चखने से
जवानी में एक अलग उभार आता है |

जब यह सब बात मुझे पता चली
तुमने गांड चुदाने के लिए मना करी ..
मेरा लंड मुझ से रूठ चला …
यहाँ तक की मुझ को ही भूल चला …
बड़ी जिद्दी है तुम्हारी गांड सोनी
एक बात तो मेरी मान होती
फिर यह मुसीबत कभी नहीं होती
चुत लंड की यह भिडंत नहीं होती …..
—————————————————————————-
रहने दो अब नहीं होगा तुमसे
बहुत विनीति कर लिया प्यार से तुमसे …….
गांड मार दूंगा चुत फाड़ दूंगा ….
मुह में लंड देके मुह चोद दूंगा ……..
कुछ भी हो जाए अब तुम्हारी गांड फाड़ दूंगा …..
प्यार से नहीं जबरदस्ती मार दूंगा ……
बस बस गांड गांड गांड मार दूंगा ….

दोस्तों, मेरे प्यारे चोदू भाइयों
जापान की घटना से परेशां न हों
अपना अपना प्लुटोनियम Rod तैयार रखें
कितना ही गर्म क्यों न हो
मेरे reactor में ठांस दें
आपके Rod को ठंडा करने के
वहां हर तरह के साधन हैं
थोड़ी थोड़ी देर में बौछारें नह्लाएंगी
जब आपका Rod फटने के कगार पर होगा
सारी nuclear उर्जा पचा जाएगी
Atomic विष्फोट हो या Hydrogen
चिंता ना करें – पेल दें
जब विष्फोट होगा, जोर से कम्पन भी होगा
मेरी समुच देह इस Earthquake के झटकों को
झेल जाएगी, चूत से Tsunami उठेगी
मगर आपका लंड उसे रोक लेगा
खुद समंदर में नहाएगा
और चादर बच जाएगी.

कोई आये
मुझे चोद जाए
उठा के टांग
पूरा का पूरा
घुसा दे बिन पूछे
मैं लाख चीख़ों
पर न छोड़े
जब तक न झडे
लौंडा ये जालिम

loading...

Leave a Reply