मुन्नार का सफर part 4

हमारी हँसी सुन के माँ कमरे में आईं और मुझे पिताजी का फोन देते हुए बोलीं;

माँ: बेटा बच्चों को हँसता-खेलता देख के दिल खुश हो गया है| अब बहु को भी हँसा दे?

मैं: मैंने पिक्चर जाने को कहा तो उन्होंने मना कर दिया| आप उन्हें तैयार करो बाकी मुझ पे छोड़ दो, I Promise वो हँसती हुई वापस आएँगी|

माँ: मैं अभी बात करती हूँ|

माँ चली गईं और बच्चों को मैंने homework करने में लगा दिया| और मैं खुद laptop चालु कर के project reports बनाने लगा|

कमरे से आ रही इनकी और बच्चों की हँसने की आवाज से मैं मन्त्र मुग्ध हो गई थी| आज 24 घंटों बाद मुझे घर में हँसी सुनाई दी थी| मन ही मन मैं सोच रही थी की काश मैं भी वहाँ होती…. पर उस समां मैंने ये सोच के संतोष कर लिया की मैं नहीं तो क्या…मेरे बची…मेरे वो …तो खुश हैं! मैं डाइनिंग टेबल पे बैठी मटर छील ने के काम में फिर से जुट गई, की तभी माँ आके बैठीं और बोलीं; “बहु…देख बाहर जा थोड़ी हवाबयार लगेगी….मन बदलेगा…तेरा भी और मानु का भी|” अब मैं भला उनकी बात कैसे टाल सकती थी| हालाँकि उनका कहना था की मैं खुश रहूँ पर मैं तो सिर्फ इनकी और बच्चों की ख़ुशी चाहती थी| तो मैं उठी और अंदर कमरे में गई, ये पलंग पे बैठे लैपटॉप पे कुछ काम कर रहे थे| “क्या मैं Laptop use कर सकती हूँ?” इन्होने कुछ कहना चाहा पर मैं Laptop ले के बाहर आ गई| पता नहीं क्यों मैं इनका सामना करने से डर रही थी| मई वापस डाइनिंग टेबल पे बैठ गई और माँ के सामने BOOK MY SHOW साइट खोली और PK मूवी की टिकट्स बुक करने लगी| पर कोई भी recent show खाली नहीं था| मैंने माँ से ही पूछा; “माँ….सारे show booked हैं, सिर्फ रात के show ही खाली हैं?” माँ बोलीं; “तो बेटी रात को चले जाना! इसमें पूछने की बात क्या है? बच्चों की भी तो छुट्टियां चल रही हैं| बस उसे कहना की गाडी संभाल के चलाये!” “जी माँ” मैंने इतना कहा और चार tickets बुक कर दीं और लैपटॉप उठा के इन्हें देने कमरे में आ गई| मैंने booking page change नहीं किया और as it is इन्हें laptop दे के जाने लगी…तभी पीछे से इन्होने पूछा; “खाना बाहर ही खाएं?” मैंने मुड़ के इन्हें देखा पर हिम्मत नहीं हुई की इनसे बात करूँ| पर किसी तरह जवाब दिया; “जी”और मैं वापस आके अपने काम में लग गई और माँ को बता दिया की हम सात बजे निकलेंगे और ग्यारह बजे तक लौट आएंगे| मुझे उनके सामने जाने से डर रही थी क्यों की मुझे पता था की मैं उनके सामने अपना प्यार जो उनके प्रति था उसे व्यक्त नहीं कर सकती थी……और मुझे बहुत बुरा लगता था की वो मुझसे अपने प्यार का इजहार कर रहे हैं और मैं जानते-बुझते हुए चुप रहती हूँ …कोई प्रतिक्रिया नहीं देती| जो मेरे हिसाब से गलत भी है| और अगर मैं इनके ज्यादा पास रहती तो ये मेरा मन अवश्य पढ़ लेते और टूट जाते!

मुझे जो मौका चाहिए था वो मुझे मिल चूका था| अब बारी थी इनका दिल जीतने की! Wait a minute दिल जीतने की? पर वो तो मुझसे प्यार करती हैं? तो दिल जीतने की बात कहाँ से आई? Anyways …… मुझे थोड़ा बुरा लग रहा था की आखिर वो क्यों खुद को express नहीं कर रहीं? मैं उनका पति हूँ कोई गैर नहीं? तो मुझसे छुपाना कैसा? खेर हम तैयार हो के सात बजे निकले| संगीता ने माँ और पिताजी को खाना खिलाया तभी वो निकलीं….she’s so concerned about them!!! पिताजी और माँ ने आशीर्वाद दिया तब हम घर से निकले| अब बारी थी खाने की तो मैं इनको लेके सीधा YO CHINA आया| ये एक चीज थी जो उन्होंने और बच्चों ने taste नहीं की थी| Chinese food …Yummmmmmmm! हम बैठे और मैंने Menu कार्ड उठाया| अब मैंने भी आज तक authentic chinese खाना कभी नहीं खाया था| ऊपर से वहां जो लोग बैठे तो वो chop sticks से खा रहे थे| अब हम में से कोई भी chop stick पकड़ना नहीं जानता था, खाना तो दूर की बात है| मैंने जब संगीता का चेहरा देखा तो वो इस माहोल को देख के थोड़ा परेशान लगीं;

मैं: बाबू don’t worry …मैं ऐसा कुछ order नहीं करूँगा जो आपको chop stick के साथ खाना पड़े| मैं नार्मल खाना आर्डर करूँगा| Okay?

संगीता: हम्म्म….

मैं: नेहा …आप को spicy खाना पसंद है ना? तो आप के लिए म्म्म्म्म्म…… Schezwan Fried Rice okay?

नेहा: हम्म्म्म…..

आयुष: पापा मैं spicy नहीं खाऊँगा!

संगीता: क्या सब के लिए आग-अलग माँगा रहे हो| एक ही डिश मंगा लो?

मैं: यार बच्चों को भी enjoy कराना चाहिए ना?

संगीता मेरे सामने बैठी थी, आयुष मेरी बगल में और नेहा संगीता के बगल में बैठी थी| मैंने सब के लिए अलग-अलग fried rice की variety आर्डर की और साथ में Gravy Item भी! अब खाना जब आया तो उसमें Fork था ….spoon नहीं था! मैं चाहता तो Spoon माँगा सकता था पर मैंने नहीं मंगाया क्योंकि मैं सब को एक नया experience देना चाहता था| अब सब प्लेट को देख रहे थे की भला fork से चावल कैसे खाएं? मैंने पहल की और उन्हें दिखाते हुए fork से चावल उठाये और सब से संगीता को खिलाया| पर वो जिझक रहीं थीं????

मैं: Hey? खाओ?

मेरे force करने पर उन्होंने मुँह खोला| मैं हैरान था की वो ऐसा क्यों कर रहीं हैं? ये first time तो नहीं है की मैं उन्हें अपने हाथ से खिला रहा हूँ| पर मैंने अपने जज्बातों को control किया और react नहीं किया| फिर अगली बारी नेहा की थी …जब मैंने उसे खिालय तो उसने फ़ट से मुँह खोला और मैंने उसे खिलाया| Last but not the least आयुष …वो मेरी बगल में बैठा था और उसने भी बड़े चाव से खाया| हम ऐसे ही बारी-बारी एक दूसरे को खिला रहे थे और बच्चे इस माहोल में बहुत खुश थे| पर संगीता, उनके मुख पे अब भी वो ख़ुशी नहीं थी जो होनी चाहिए थी! Dinner के बाद हम बाहर निकले और Movie के लिए आगये| अंदर जा के हम अपनी-अपनी seats पे बैठ गए| मैं और संगीता साथ बैठे थे और बच्चे मेरी बायीं तरफ बैठे थे| पिक्चर शुरू हुई और मुझे लगा की अब वो मेरा हाथ पकड़ लेंगी….अब वो मेरे कंधे पे अपना सर रखेंगी….पर नहीं| ऐसा कुछ भी नहीं हुआ….मैंने सोचा की चलो मैं ही पहल करूँ, तो मैंने ही उनके कन्धों पे अपना हाथ रखा की वो शायद मेरी ओर झुक जाएं और मुझसे लिपट जाएं पर नहीं| वो normal बैठी हुई थीं और मैं हताश हो के अपना हाथ हटा लिया और चुप-चाप बैठ गया|

उनके साथ इस तरह पिक्चर के लिए बैठे हुए पुरानी यादें ताजा होने लगीं| पुरानी यादों से मेरा मतलब ये नहीं की बहुत साल बाद हम पिक्चर देखने आये थे…पर वो एहसास याद आया जब मैं इनके साथ पिक्चर देखने आया करती थी और हमेशा इनके कन्धों पे सर रख के पिक्चर enjoy किया करती थी| आज जब मैं इनसे दूर बैठ रही हूँ तो मुझे बहुत बुरा लग रहा था| इनका मेरे कंधे पे हाथ रखना इशारा था की मैं इनमें सिमट जाऊँ पर ……दर रही थी की कहीं ये मेरा मन पढ़ लेंगे तो depressed हो जायेंगे| इसलिए मैं इनसे दूर रही! और believe me when I say it was not easy! इनके लिए मेरे मन में प्यार कम नहीं हुआ था पर मैं उसे जतानहीं पा रही थी| बिना किसी गलती के उनको सजा दे रही थी!

हमने पिक्चर देखि…. पता नहीं बच्चों के समझ में आई या नहीं पर वो खुश लग रहे थे| चलो कोई तो खुश था! पिक्चर के बाद हम घर पहुँचे पर पूरे रास्ते वो चुप बैठी रही| मेरे पास extra चाभी थी, जब हम अंदर पहुँचे तो माँ और पिताजी दोनों जाग रहे थे और टी.वी. देख रहे थे|

मैं: आप सोये नहीं?

पिताजी: नहीं बेटा… तेरी माँ को CID देखना था तो मैंने सोचा की आज मैं भी देखूं की ACP प्रदुमन “कुछ तो गड़बड़ है” कैसे बोलता है? पर देखो सीरियल खत्म होने को आया पर अभी तक इसने कुछ भी नहीं किया!

बच्चे हँसने लगे पर हम दोनों के चेहरों पर कोई भाव नहीं था|

मैं: चलिए अब सो जाते हैं|

आयुष: पापा मैं आपके पास सोऊँगा|

मैं: हम्म्म्म…

पिताजी: क्यों भई आज दादा की कहानी सुननी नहीं?

आयुष: कल सुनूंगा…वो भी दो!

पिताजी: पर बेटा जगह कम पड़ेगी?

मैं: कोई बात नहीं पिताजी manage हो जायेगा|

पिताजी: कल carpenter को बुला के तुम्हारा Bed बड़ा करवा देते हैं..हा..हा..हा…हा…

मैं: जी यही ठीक होगा|

हमने बारी-बारी से कपडे बदले और रजाई में घुस गए|आयुष और नेहा बीच में सोये थे| आयुष मेरी तरफ था और नेहा संगीता की तरफ| पर दोनों बच्चों ने करवाय मेरी तरफ ले रखी थी| और मेरी करवट भी उनकी तरफ थी| संगीता ने नजाने क्यों दूसरी तरफ करवट ले रखी थी| बच्चे कहानी सुनते-सुनते सो गए पर मेरी नींद उड़ चुकी थी| सारी रात बस बच्चों की पीठ सहलाता रहा ताकि वो इत्मीनान से सोते रहे|हालाँकि संगीता मेरे हाथ की पहुँच से दूर थी पर मैं मन ही मन कह रहा था की वो चैन से सो जाये| एक गाना याद आता है;

“राम करे ऐसा हो जाये …
मेरी नींदिया तोहे मिल जाये
मैं जागूँ तू सो जाए….
मैं जागूँ तू सो जाये!!!

शायद मेरी इस दुआ का असर भी हुआ| करीब दो घंटे बाद मैं उठा ये देखने के लिए की संगीता सो रही है या जाग रही है? देख के इत्मीनान हुआ की वो सो रही है| मैं दिवार का सहारा ले के खड़ा-खड़ा उसे निहारता रहा| एक बार को मन किया की उसे चूम लूँ| पर फिर खुद को रोक लिया की कहीं वो जाग ना जाये| सोये हुए उनके मस्तक पे जो सुकून था ….बस यही सुकून में उनके चेहरे पे हमेशा देखना चाहता था|” ऐ खुद मैंने कुछ ज्यादा तो नहीं माँगा था तुझ से?”
तभी आयुष की नींद कच्ची हो गई, वो अपना हाथ फेर के मुझे बिस्तर पे ढूंढने लगा| तो मैं भी जाके वापस लेट गया और उसके सर पे हाथ फेरने लगा| आधे घंटे में वो भी चैन की नींद सो गया और मैं जागता रहा| नींद तो उडी हुई थी …मन यही सोच रहा था की कैसे उनके मन का डर दूर करूँ? दिल में बस यही बात चुभ रही थी की तू अपनी पत्नी का ख्याल नहीं रख सकता! धिक्कार है तुझ पे! बस इसी सोच ने मुझे खुद को दंड देने के लिए मजबूर कर दिया| मैंने टी-शर्ट और पजामा पहना था और मैं उन्हीं कपड़ों में छत पे आ गया| सर्दी की रात वो भी almost नंगे बदन …क्या हालत होगी….? ठंडी-ठंडी हवा जब शरीर को छूती तो ऐसा लगता मानो किसी ने गाल पे तमाचा मारा हो| हवा के थपेड़े झेलते हुए मैं हाथ बांधे खड़ा रहा, मुंह से धुआँ लगातार निकल रहा था| खुद को सजा देने का ये तरीका सही था…और मैं deserving था इस सजा को! कोहरा घाना था और अब मेरी कंप-कंपी छूटने लगी थी| बस दस मिनट और मेरी हालत ख़राब होने लगी| तभी मुझे किसी के क़दमों की आहट आई, मैंने पलट के देखा तो कोई नहीं था मैं सीढ़ियों की तरफ बढ़ा, मुझे लगा कोई चोर छत पार कर हमारे घर तो नहीं घुस गया| इसलिए मैं दबे पाँव नीचे आया और सारा घर छान मारा पर कोई नहीं मिला! मुझे लगा की मेरा वहम् होगा| इसलिए मैं वापस कमरे में आ गया और इधर से उधर चक्कर मारने लगा, तभी आयुष भी बिस्तर पे मेरी मौजूदगी टटोलने लगा| तो मैं फिर से उसके पास लेट गया और उसकी पीठ सहलाने लगा ताकि वो उठे ना| पर वो उठा और बोला;

आयुष: पापा …बाथरूम जाना है!

मैं ने उसे गोद में उठाया और बाथरूम ले गया| फिर जब वो बाथरूम से निकला तो उसे वापस बिस्तर में लिटा दिया और तभी नेहा जाग गई उसे भी बाथरूम जाना था, तो उसे भी गोद में उठा के बाथरूम ले गया| वापस आया तो आयुष भी जाग रहा था! मैंने नेहा को लिटाया और खुद भी लेट गया| पर ये क्या आयुष आके मेरी छाती पे सर रख के लेट गया और नेहा आके मुझसे लिपट गई| दोनों बच्चों ने मुझे “जकड” रखा था की मैं फिर कहीं न चला जाऊँ| जैसे की वो जानते थे की मैं खुद को सजा दे रहा हूँ| मुझे संगीता की भी चूड़ियों की खनक सुनाई दी लगा की वो भी जाग रही है|

मैं: सोये नहीं आप?

संगीता: आप भी तो सोये नहीं?

मैंने कोई जवाब नहीं दिया और उम्मीद करने लगा की वो नजदीक आके हमारे साथ सो जाएँगी पर वो तो आयुष को ही समझने लगीं;

संगीता: आयुष …बेटा पापा को सोने दो! क्यों तंग करते हो?

आयुष: नहीं मम्मी मैं यहीं सोऊँगा|

मैं: रहने दो ना….आप तो नजदीक आते नहीं और बच्चे को भी नजदीक आने नहीं देते?

मैंने बात घुमा फिरा के कही पर वो समझ गईं की मेरा मतलब क्या है और मैं एक बार फिर उम्मीद करने लगा की वो आके मुझसे लिपट जाएँगी पर ऐसा नहीं हुआ| उन्होंने फिर से दूसरी तरफ करवट की और सो गईं| अब तो मैं हिल भी नहीं सकता था की जाके उन्हें check करूँ की वो सो रही हैं या नहीं? खेर इसी तरह जागते-जागते सुबह हो गई| आज 4 तरीक थी और जो Contract हमने हाथ में लिया था आज वो पूरा हो चूका था| मैं Bed-पोस्ट का सहारा ले के बैठा था और चाय पि रहा था| ठण्ड ज्यादा थी तो पिताजी की हिदायत थी की अपने कमरे में ही रहा जाए क्योंकि बाहर hall में बहुत ठण्ड थी| संगीता कपडे iron कर रही थी|

तभी फोन की घंटी बजी, फ़ोन संतोष का था;

मैं: हाँ संतोष बोल?

संतोष: Good Morning भैया, वो party आज काम देखने आ रही है| मालिक ने पर्सनल गारंटी पे ये काम कराया था तो अगर आप आ जाते तो अच्छा होता और check भी ले लेते?

मैं: Sorry यार नहीं आ पाउँगा| काम तो बढ़िया हो चूका है, तू ही मिल ले और check ले के अकाउंट में डाल दे|

संतोष: जी ठीक है|

मैंने फोन काटा, संगीता ने बिना मेरी तरफ देखे ही कहा;

संगीता: कब तक मेरी वजह से रोज़ी से मुंह मोड़ के बैठे रहोगे?

वो बात बहुत चुभी मुझे…. क्योंकि वो ऐसी बात मुझे प्यार से भी कह सकती थीं और तब मुझे बुरा नहीं लगता पर वो लहजा बहुत गलत था| मैं ये भी सह गया और कुछ नहीं बोला बस फटाफट उठा और कपडे बदल के तैयार हुआ और संतोष से कह दिया की मैं आ रहा हूँ| सुबह के दस बज चुके थे और कोहरा छत रहा था| पिताजी डाइनिंग टेबल पे आचुके थे और नाश्ते की तैयारी हो रही थी;

मैं: पिताजी मैं जा रहा हूँ| वो party से check collect करना है|

पिताजी: अच्छा ये ले मेरा मोबाइल, वो builder का फ़ोन आया था की आज check ले लेना| अब तू जा रहा है तो लेता आईओ|

मैं: ठीक है पर मैं आपके मोबाइल का क्या करूँ?

पिताजी: अरे तुझे तो पता है उस बिल्डर का, उसके पास तेरा नंबर है नहीं! अब वो मुझे फोन करेगा की check ले जाओ और फिर मैं तुझे फोन करूँगा? वैसे भी मेरी तबियत थोड़ी ठीक नहीं है तो मैं तो दवाई खा के सोने जा रहा हूँ|

मैं: ठीक है मैं check ले लूँगा|

पिताजी: पर नाश्ता ओ कर ले?

मैं: late हो जाऊँगा| Gurgaon जाना है!

पिताजी: ठीक है, पर गाडी संभाल के चलाना|

मैं: जी!

मैं साइट पे आ गया और party को काम दिखाया तो वो खुश हुई| दरअसल वो एक बाहर की कंपनी थी और हमारे within time में काम कम्पलीट करने पे खुश हुई और extra 5०००/- भी दिए| मैं संगीता के बारे में इतना सोच रहा था की उनके extra पैसे देने पे react ही नहीं कर पाया|

Mr.John: Manu are you not happy?

मैं: I’m sorry sir….actually I was thinking something! Sorry!

Mr.John: What were you thinking?

मैं: That when’s the next time we’ll get a contract from you? (मैंने किसी तरह बात संभाल ली थी| और अंग्रेज ने भी हंस के बात टाल दी थी|)

उस समय मैं बस यही सोच रहा था की मुझे हार नहीं माननी चाहिए थी और HELL मैं हार नहीं मानने वाला| I’m gonna confront her! HELL YEAH !!! TEAM MANU GO FOR IT !!!!

मेरा दिमाग खराब हो चूका था…..काम ही नहीं कर रहा था| बिना किसी गलती के उनको सजा दिए जा रही थी| खुद से घिन्न आ रही थी….. एक ऐसा इंसान जो मुझे इतना चाहता है…..मैं उसके साथ ऐसा पेश आ रही थी की जैसे वो कोई ……stranger हो….. अरे कोई ऐसे Stranger से भी पेश नहीं आता…एक इंसान जो आपको प्यार करता हो….आपको हँसाने के लिए….आपके दिल को खुश करने के लिए…..और सिर्फ इसलिए नहीं की मैं प्रेग्नेंट हूँ बल्कि इसलिए क्योंकि वो मुझे प्यार करते हैं| सीधे शब्दों में कहें तो “मुझे उनकी कदर ही नहीं थी|” पर वाकई में क्या मैं ऐसी ही हूँ? या हालात ने मुझे ऐसा बना दिया? मैं अपनी सफाई में कुछ नहीं कहूँगी क्योंकि मैं खुद को GUILTY मानती हूँ| आठ साल पीला का मेरा इनसे दूर रहने का फैसला और पिछले 48 घंटों से जो मैं इनके साथ कर रही थी ये….इससब के लिए मैं खुद को कभी माफ़ नहीं कर सकती| मेरे इस बर्ताव के कारन ये बिना नाश्ता खाए घर से चले गए और अभी दो बजने को आ रहे थे पर इनका कोई पता नहीं था.और जहाँ तक मैं जानती हूँ इन्होने मेरी वजह से दोपहाक का lunch भी नहीं खाया होगा| कल रात भी ये छत पे cigarette पीने गए थे और ठण्ड में खड़े रह कर खुद को सजा दे रहे थे| सबकुछ जानते हुए भी मैं पत्थर की तरह कड़ी उन्हें ठण्ड में ठिठुरता देख रही थी…बेबस और लाचार……मेरे कारन इन्हें cigarette की लत पद चुकी थी और ये सब मेरी वजह से …सिर्फ और सिर्फ मेरी वजह से! मैंने फोन उठाया और इनको मिलाया की कम से कम SORRY बोल दूँ और उन्हें कुछ खाने को बोल दूँ| पर लगातार 5 बार फ़ोन मिलाने पर भी इन्होने फोन नहीं उठाया! मन घबराने लगा की कहीं कुछ गलत तो नहीं होगया?

दोनों पार्टियों से check collect करने के बाद मैं बैंक में check डाल रहा था की तभी पिताजी के फ़ोन पे एक call आई| आवाज भारी थी और जानी-पहचानी थी| ये बड़के दादा थे;

मैं: पांयलागी दादा!

उन्होंने कुछ भी जवाब नहीं दिया और सीधा मुद्दे की बात की|

बड़के दादा: तेरे पिताजी कहाँ हैं?

मैं: जी घर पे हैं …मैं bank आया था|

बड़के दादा: कल पंचायत बुलाई है मैंने| तुम दोनों को आना है|

बस इतना कहा और फ़ोन काट दिया| मैं समझ गया की पंचायत क्यों और किस लिए बुलाई गई है| मैं शाम को 5 बजे घर पहुंचा पर मैंने पंचायत वाली बात किसी को नहीं बताई| बल्कि एक बहाना मार दिया;

मैं: पिताजी मुझे कल कानपुर जाना है|

पिताजी: कानपुर? किस लिए?

मैं: जी वो एक contract के सिलसिले में| मेरा एक दोस्त है उसने बताया है|

पिताजी: दोस्त? पर बेटा बहु को इस हालत में? ऐसा कर तुम दोनों चले जाओ| बच्चे यहीं रुक जायेंगे|

मैं: नहीं पिताजी….बच्चे नहीं मानेंगे और वैसे भी संगीता नहीं मनेगी| मुझे बस एक दिन का काम है| कल रात तक मैं वापस आ जाऊँगा|

पिताजी: जैसा तुझे ठीक लगे| आर अगर बहु को साथ ले जाता तो उसका मन बहल जाता|

मैं: फिर कभी पिताजी|

ये सब मेरी वजह से हो रहा था….मेरी वजह से वो दूर जा रहे थे| मेरी बात को इन्होने इतना serious ले लिया? मुझे इनसे माफ़ी मांगनी ही होगी पर पहले इन्हें कुछ खिला तो दूँ| मैंने फटाफट परांठे सेंके और कमरे में ले आई| मैंने प्लेट टेबल पे रखी, ये उस समय अपने कपडे change कर रहे थे| मन तो किया की जाके इनके गले लग जाऊं पर नजाने वो क्या चीज थी जो मुझे इनके पास जाने से रोक रही थी| इससे पहले की मैं कुछ बोलती या हिम्मत जूता पाती इन्होने मेरी आँखों में देखा और मुझे लगा की अब ये कुछ न कुछ कहेंगे? मैंने सोच लिया की मैं इन्हें और LOW feel नहीं करवाउंगी और आज कैसे भी माफ़ी जरूर माँग लूँगी|

मैं: बैठो…

संगीता: आप पहले कुछ खा लो…सुबह से कुछ नहीं खाया आपने?

मैं: वो सब बाद में…. पहले आप बैठो मुझे आपसे कुछ बात करनी है|

मैंने जबरदस्ती उन्हें अपने सामने बिठाया और मैं उनके सामने chair लेके बैठ गया|मैं उन्हें ये सब कहना चाहता था;
“Jaan, what’s wrong with you? Why are you acting like you don’t love me? I knw you’re scare and I know you’re concerned about Aayush but if you stop expressing your love to me, I promise….I promise I’m gonna kill that Asshole! I swear to you.I’m gonna kill him! I never asked you for anything but today I’m gonna ask something from you. I don’t know how you’ll do it or whatever it takes for you….but I need my OLD SANGEETA BACK! At any cost……I don’t care about anyone now except for you! And If I didn’t get what I need …you’re gonna loose me….forever!”

मनाएं ये सब उन्हें कहना चाहता था पर रूक गया क्योंकि आज उन्हें मेरे ना खाने से तकलीफ हुई थी? ये कोई नई बात नहीं थी पर पिछले 48 घंटों में ये मेरे लिए एक नई उपलब्धि थी| मन को लगा की जब इन्हें मेरी इतनी फ़िक्र होने लगी है तो जल्द ही मेरी पुरानी संगीता वापस आ जाएगी| बेकार में अगर मैंने ज्यादा PUSH किया तो कहीं बात बिगड़ ना जाये| मैं बिलकुल एक नई शुरुआत करने को तैयार था इसलिए चुप रहा!

(09-30-2016 10:17 PM)  Le Lee 0
मेरे अंदर जो दबी हुई संगीता थी…वो संगीता जो उन्हें प्यार करती थी….आज उसने फिर से साँस ली| मेरे मन में उनके लिए जो चिंता थी वो आज बाहर आई पर मुझे लगा था की ये कुछ कहेंगे …पर ये तो चुप हो गए? मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ तो मैंने ही पूछा; “क्या हुआ? क्या बात करनी है?” तो ये कुछ नहीं बोले …अब तो मन और कचोटने लगा की मेरी वजह से ये इतना upset हैं! मैंने फिर से हिम्मत की और सबसे पहले परांठे वाली प्लेट उठाई और इन्हें एक कौर खिलाया और इन्होने भी बिना किसी हिचकिचाट के खा लिया और तब मैंने बात आगे बढ़ाई; “मैं भी चलूँ कानपुर?” इन्होने मुस्कुराते हुए कहा; “जान….मैं बस एक दिन के लिए जा रहा हूँ| एक दिन में वहाँ कुछ नहीं देख पाओगी| मैं जल्दी कोई घूमने का प्लान बनाउँगा और फिर हम एक साथ जायेंगे| okay?” बहुत ताकत लगी मुझे “मुस्कुराने में” और मैंने; “हम्म……” कहा|

मैंने बात तो टाल दी पर जानता था की उन्हें बुरा लगा होगा| पर उन्हें साथ भी तो नहीं ले जा सकता था ना? पर एक बात की ख़ुशी थी की वो प्यार जिसे मैं इतना MISS कर रहा था वो बाहर आने लगा था! उनके हाथ से परांठे खाने का मजा अलग था| ऐसा की क्या बताऊँ? खेर मैंने चुपके से Internet पे लखनऊ की टिकट बुक करा दी और मैंने ये बात सबसे राज रखी थी| दोस्तों आप लोगों को याद होगा की संगीता ने आपको बताया होगा की मैं कानपुर गया हूँ, दरसल आप लोगों को भी मैंने नहीं बताया की मैं कहाँ जा रहा हूँ| वरना Xossip के जरिये संगीता को भी पता लग जाता| अगले दिन निकलने से पहले मैं संगीता को हिदायत दे गया था की वो आराम करें पर आप देखो उस पागल को, उसने मेरे निकलते ही वो XOSSIP पे log in हुई और मेरे दूसरे थ्रेड पे कमेंट पढ़ के आग बबूला हो गई| I think you all know how she felt and why she reacted so LOUD !!!

लखनऊ से गाँव पहुँचते-पहुँचते मुझे दोपहर के दो बज गए| मैं जानता था की मेरा वहाँ कोई Grand Welcome नहीं होगा और ऐसा ही हुआ| पंचायत 5 बजे बठिनी थी और मैं दो बजे पहुँच गया था| ना तो मेरे बड़के दादा और ना ही मंझिले दादा के घर में बैठ सकता था| मैं सड़क के किनारे एक पेड़ के नीचे बैठा था| कोई पानी पूछने वाला भी नहीं, बस घरवाले एक-एक कर घर से निकल के मुझे देख रहे थे और खुसर-फुसर कर रहे थे| वरुण (अजय भैया का लड़का) भी मुझे देख रहा था पर नजदीक नहीं आया| मैंने जेब में हाथ डाला और उसके लिए एक चॉकलेट निकाली और उसकी तरफ बधाई पर वो अपनी माँ (रसिका भाभी) को देखने लगा जो मुझे छप्पर के नीचे से देख रही थी| उन्होंने उसकी पीठ पे हाथ रख के मेरी तरफ आने को बोला| वरुण धीरे-धीरे मेरे पास आया और मेरे पाँव छूने लगा| मैंने उसे रोक और प्यार से उसके सर पे हाथ फेरा|

वरुण: चाचू आपको मैं याद हूँ?

मैं: हाँ….और ये भी की आपको चॉकलेट पसंद है| ये लो!

वरुण: थैंक्यू चाचू! चाची कैसी हैं?

मैं: अच्छी हैं…और आपको याद करती हैं|

इतने में बड़के दादा और बड़की अम्मा आ गए और वरुण को डांटने लगे| मैंने उसे इशारा किया की वो चॉकलेट छुपा ले, और उसने वैसा ही किया| वो अंदर घर में भाग गया पर बड़के दादा और बड़की अम्मा कुछ नहीं बोले| मैं उठा और बड़के दादा के पाँव छूने लगा तो वो बिना कुछ बोले हट गए| बड़की अम्मा कड़ी रहीं और वो कुछ बोलना चाहती थीं पर बोल नहं पाईं| मैंने उनके पाँव छुए और उन्होंने अपना हाथ मेरे सर पे रख दिया|

बड़के दादा: तेरे पिताजी कहाँ हैं?

मैं: जी मैं ने उन्हें इस पंचायत के बारे में नहीं बताया|

बड़के दादा: क्यों?

मैं: शिकायत आपको मुझ से है उनसे नहीं| तो मेरा आना जर्रुरी था उनका नहीं| (मैंने तपाक से जवाब दिया)

बड़के दादा: (गरजते हुए) अजय! जाओ जाके पंचों से कहो की अभी आ जाएं| जितनी जल्दी बात हो उतना अच्छा है|

अजय भैया पंचों को बुलाने के लिए निकल गए| शुक्र है की मेरे पास पानी था तो मैंने वो पीने लगा| अगले एक घंटे में पंच आ गए| चार चारपाइयाँ बिछाई गईं, दो पे पंच बैठे एक पे बड़के दादा और चन्दर और दूसरी पे सिर्फ मैं|

पंच: पहले तुम (बड़के दादा) बताओ की तुम्हारा क्या कहना है फिर इस लड़के की बात सुनते हैं|

बड़के दादा: इस लड़के ने मेरे बेटे को बुरी तरह पीटा है| इसका हाथ तोड़ दिया इसने? पूछो क्यों किया इसने? कौन सी दुश्मनी निकाल रहा है ये हम से? क्या बिगाड़ा है हमने इसका?

पंच: बोलो (मैं)?

मैं: मेरी अपने बड़के दादा से कोई दुश्मनी नहीं है…ना ही कभी रही है| मैं तब भी इनका आदर करता था और अब भी इनका आदर करता हूँ| पर ये (चन्दर) ये शक्स 2 जनवरी को मेरे घर में घुस आया और मेरी पत्नी का गाला दबाने लगा और ये ही नहीं मेरे बेटे आयुष को अपने साथ ले जाने की कोशिश करने लगा| मैं उस वक़्त घर पर ही था और जब मैंने चीखने की आवाज सुनी तो मैं बाहर आया और मैंने वही किया जो मुझे ठीक लगा| बड़की अम्मा का ख़याल न होता तो मैं इसे जिन्दा नहीं छोड़ता|

बड़के दादा: ये जूठ बोल रहा है! मेरे दोनों बेटे दिल्ली गए थे पर बात करने के लिए की आयुष को हमारे हवाले कर दिया जाए| बस पर इसने चन्दर की पिटाई कर दी और अजय इस बात का गवाह है!

मैं: अच्छा? अजय भैया यही हुआ था? आप आये थे मेरे घर बात करने?

अजय भैया का सर झुका हुआ था| भले ही हालात कैसे हों पर अजय भैया और मेरे बीच सगे भाइयों जैसा प्यार था| ना तो उन्होंने और ना ही मैंने कभी उनसे जूठ बोला था| मेरे सवालों का उनके पास जवाब नहीं था और यहीं से मैंने अपनी बात आगे बढ़ाई;

मैं: देख लीजिये पंचों…..ये मेरे अजय भैया कभी मुझसे जूठ नहीं बोलते| आप खुद इनसे पूछिये की क्या ये और चन्दर भैया आये थे मेरे घर बात करने के लिए?

पंच: अजय बोलो? क्या मानु जो कह रहा है वो सच है?

अजय भैया: जी! मैं नहीं गया था चन्दर भैया के साथ| इन्होने मुझे हमारे रिश्तेदार के घर रूकने को कहा था और कहा की मैं आयुष को लेने जा रहा हूँ और जब मैं हॉस्पिटल पहुँचा तो इन्होने कहा की मैं जूठ बोल दूँ|

चन्दर का सर झुक गया था|

बड़के दादा: चलो ठीक है अगर इसने जूठ भी बोला तो भी ये लड़का जूठ बोल रहा है| चन्दर ने ऐसा कछ भी नहीं किया?

मैं: मैं जूठ बोल रहा हूँ? ह्म्म्म्म्म…..ठीक है! मेरे पास कोई गवाह नहीं है कहिये इसे की ये भवानी माँ की कसम खाए और कहे की इसने ऐसा कुछ नहीं किया? और याद रहे चन्दर अगर जूठ बोला तो तू भी जानता है की भवानी माँ तुझे नहीं छोड़ेंगी! और इससे पहले की आप लोग मुझे कसम खाने को कहें मैं अभी मंदिर चलके कसम खाने को तैयार हूँ|

बड़के दादा: चल चन्दर|

पर वो नहीं हिला, हिलता भी कैसे मन में चोर जो था!

मैं: देख लो दादा! आपका अपना खून आपसे जूठ बोलता है|

बड़के दादा का सर शर्म से झुक गया और मुझे इस बात का बहुत बुरा लगा| पर वो अपनी एक बात पे अड़े रहे;

बड़के दादा: ठीक है पंचों मैं मानता हूँ की मेरा ही सिक्का खोता है| पर अब ये (मैं) यहाँ आ ही चूका है तो इससे कहिये की ये आयुष को हमें सौंप दे| आखिर वो चन्दर का खून है|

मैं: बिलकुल नहीं! ये देखिये तलाक के कागज़| (मैंने पंचों को कागज़ दिखाए)

पंच: हम्म्म्म इसमें लिखा है की की बच्चे की हिरासत तुम मानु को दे रहे हो और तुम्हारा अब इस बच्चे पे कोई हक़ नहीं है|

बड़के दादा: नहीं ये नहीं हो सकता! ये जूठ है…इसने हमें धोका दिया है! इसने ये बात हमसे छुपाई है?

मैं: मैंने आप से कोई बात नहीं छुपाई| उस दिन जब मैं तलाक के कागज़ लाया था तब मैंने कागज चन्दर को दिए थे उसने पढ़ा नहीं तो इसमें मेरा क्या कसूर और वैसे भी आयुष मेरा खून है ….इसका नहीं!

बड़के दादा: लड़के…तू जूठ पे जूठ बोलता जा रहा है| ईश्वर से डर!

मैं: मैंने कुछ भी जूठ नहीं कहा चाहे तो आप लोग मेरा और आयुष का DNA टेस्ट करा लो| (मैंने पूरे आत्मविश्वास से कहा था|)

बड़के दादा: हे भगवान! इसका मतलब की तू और…………………छी…छी…..छी….

अब ये सुनके मेरे अंदर आग भड़क उठी और मैं गुस्से से चिलाते हुआ बोला;

मैं: बस! अब और नहीं सुनूँगा मैं… आयुष मेरे बेटा है और इसे कोई नहीं जुठला सकता| गलती आपकी है दादा …आपने सब कुछ जानते हुए इस (चन्दर) की शादी संगीता से की| आपको पता था की शादी से पहले आपका बेटा क्या गुल खिलता है और शादी के बाद भी इसने क्या गुल खिलाये वो भी आप जानते हो| आपने एक ऐसी लड़की की जिंदगी बर्बाद कर दी जिसने आपका कुछ नहीं बिगाड़ा| कह दीजिये की ये मामा जी के घर बार-बार क्यों जाता है आपको नहीं पता? वहाँ जाके ये क्या-क्या करता है? कह दीजिये? शादी की रात ही संगीता को इसके चरित्र का पता लग चूका था इसलिए उसने इसे खुद को छूने नहीं दिया| अब ऐसे में अगर संगीता को मुझसे प्यार हो गया तो क्या गलत किया हमने? शादी की ना कोई गलत रिश्ते तो नहीं बनाये हमने? पूरे रीती रिवाजों से शादी की है कोई पाप नहीं किया!

चन्दर गुस्से में उठ खड़ा हुआ और चिल्लाते हुए बोला;

चन्दर: ओये? बहुत सुन लिया तेरा? बकवास ना कर ….

मैं तो पहले ही गुस्से में जल रहा था और उसकी हरकत ने आग में घी का काम किया और मन भी गुस्से में उठ खड़ा हुआ और चिल्लाते हुए बोला;

मैं: Oyeeeee! भूल गया उस दिन कैसे ठुकाई की थी तेरी? दुबारा करूँ…यहीं पे सब के सामने? साले तुझे भागा-भगा के मारूंगा और यहाँ तो कोई police station भी नहीं है कोई complaint करेगा? उस दिन तो तुझे जिन्दा छोड़ दिया था पर इस बार नहीं छोड़ूंगा!

मेरी गर्जन सुन के उसकी फ़ट गई और वो चुप बैठ गया| उसका डर उसके चेहरे से झलक रहा था और किसी हद्द तक बड़के दादा भी डर चुके थे!

पंच: शांत हो जाओ तुम दोनों! लड़ाई-झगडे से कभी कोई हल नहीं निकला|

मैं: आप बस इससे कह दीजिये की अगर आज के बाद ये मेरे परिवार के आस-पास भी भटका तो मैं इसे जिन्दा नहीं छोड़ूंगा|

बड़के दादा: (आँखें चुराते हुए कहा) बेटा! मैं तुम्हें वचन देता हूँ आज के बाद ये हम आयुष के लिए कभी भी कोई ………

उन्होंने बात छोड़ दी पर पंचों ने जोर दे के बात पूरी कराई|

बड़के दादा: बेटा आज के बाद हम या हमारे परिवार का कोई भी इंसान तुम या तुम्हारे परिवार के रास्ते में नहीं आयगी| हम आयुष को भूल जायेंगे और कभी उसकी हिरासत के लिए कोई दावा नहीं करेंगे!

पंच: तो ये तय रहा की तुम्हारे बड़के दादा की तरफ से कभी भी कोई दावा नहीं किया जायेगा| भविष्य में ऐसी कोई हरकत दुबारा नहीं होगी और भगवान न चाहे ऐसा कुछ हुआ तो हम तुम्हारा (बड़के दादा का) भी हुक्का-पानी बंद कर देंगे और मानु तुम्हें पूरा हक़ है पुलिस में FIR दर्ज करने का और अगर तुमने नहीं की तो हम कर देंगे!

और ये फैसला सुना के पंच उठ खड़े हुए पर मैं उनसे एक बात करना चाहता था;

मैं: पंचों मैं आप सब से कुछ पूछना चाहता हूँ?

पंच: हाँ पूछो?

मैं: मैंने देखा है की माँ-बाप के किये की सजा बच्चों को मिलती है| पर ये कभी नहीं देखा की बच्चों के किये की गलती माँ-बाप को दी जाती हो! तो मेरे किये की गलती आप मेरे माँ-बाप को क्यों दे रहे हो? मेरे अनुसार मैंने कोई गलती नहीं की …प्यार किया है और अगर आप लोगों को ये गलती लगती है तो गलती सही पर इसके लिए आप मेरे माता-पिता का हुक्का-पानी क्यों बंद कर रहे हैं? करना है तो मेरा करिये …मैं आपसे वादा करता हूँ की ना मैं, न मेरी पत्नी और ना मेरे बच्चे…कोई भी इस गाँव में कदम नहीं रखेगा| पर मेरे पिता वो तो इसी गाँव में पैदा हुए हैं…ये उनकी जन्म भूमि है और उन्हें गर्व है की वो इस मिटटी में जन्में और इसी में मिलना चाहेंगे पर आपका एक फैसला उनके लिए कितना दुखदाई है ये आप शायद नहीं समझते| यहाँ उनके पिता सामान भाई हैं, माँ सामान भाभी हैं …कृपया उन्हें अपने ही परिवार से दूर न रखें! मेरी बस आपसे एक ही गुजारिश है की आप उन्हें यहाँ रहने की इज्जाजत दें, और ये उनकी तरफ से नहीं है बल्कि मेरी तरफ से गुजारिश है| (मैंने उनके आगे अपने हाथ जोड़े)

पंच: देखो मानु ….तुम्हारे बड़के दादा ही उनसे कोई सरोकार नहीं रखना चाहते! चलो हम तुम्हारी बात मान भी ले तो…. वो यहाँ रह सकते हैं पर उन्हें तुम से अपने सारे रिश्ते-नाते तोड़ने होंगे?

मैं: कोई माँ-बाप अपने ही खून से रिश्ता कैसे तोड़ सकते हैं? आपने अभी खुद देखा ना की बड़के दादा अपने बेटे के गलत होने पर भी उसका साथ दे रहे थे और मैं तो बिलकुल सही था तो भला मेरे माँ-पिताजी मेरा पक्ष क्यों नहीं लेंगे? रही बात बड़के दादा के गुस्से की तो किसी भी इंसान का गुस्सा उसकी उम्र से लम्बा नहीं होता|

पंच: हम इसमें कुछ नहीं कर सकते|

और वो चले गए! अब मेरा यहाँ रुकने का point नहीं बचा था तो मैं ने अपना बैग उठाया और जाने लगा| चौराहे पे मुझे अजय भैया और रसिका भाभी मिले और वरुण भी उनके साथ था|

loading...

Leave a Reply