बीवी को चुदवा कर खोया

मेरा नाम राजू है मेरी शादी को 7 साल हो गये हैं, मेरे 3 बच्चे हैं, मेरी बीवी अभी ऐसी लगती है मानो 19 साल की हो।

उसका कसा हुआ बदन 36-28-38 की फिगर किसी को भी आकर्षित करने की क्षमता रखता है।

मेरी बीवी को 18-20 का लड़का भी देख ले तो वो यही सोचेगा कि इसकी चूत कब मिले !
मुझे सम्भोग बहुत अच्छा लगता है, पर मेरी बीवी घरेलू है। जाने कितने दिन बीत जाने के बाद में आज मुझे मौका मिला तो मैंने उसको फोन लगाया और कामुक बातें शुरू कीं और उसका बहाना शुरू हो गया।
बीवी- मेरा पूरा बदन दुख रहा है, तुम घर आओ बच्चों को संभालो।
मैं- अभी ऑफिस में काम है।
बीवी- तुम जल्दी काम खत्म करके आना, हम लोग हॉस्पिटल चलेंगे।
मैं- ओके !
मैं समय पर ऑफिस खत्म होने के बाद घर पहुँचा।
बीवी- चलो ना !
मैं- रूको यार, अभी आया हूँ।
बीवी- मुझे बहुत दर्द हो रहा है।
मैं सोचने लगा कि साली को आज इतना चुदवा देता हूँ कि इसकी सारी झिझक खत्म हो जाए और फिर ये मुझसे खुल कर चुदे।
मैं- हॉस्पिटल क्यों, किसी मसाज-सेंटर में चलते हैं
बीवी- नहीं सुना है कि वहाँ तो बुरे काम होते हैं।
मैं- कौन बोला? सब कहने की बात है। वो लोग अच्छी मालिश करते हैं, दर्द तुरन्त गायब हो जाएगा।
बीवी- ठीक है, तो चलो !
मैं- खाना बनाया?
बीवी- बाद में !
मैं सोच रहा था मादरचोदी चुदने को कैसे मचल रही है उसे पता नहीं था कि वहाँ क्या होता है.

हम मसाज-सेंटर पहुँचे।
मैनेजर- वैलकम सर, प्लीज़ अन्दर आइए, आपका स्वागत है।
हम अंदर गए मैं, मेरी बीवी और बच्चे।
मैनेजर- सर मैं आपकी क्या सेवा कर सकता हूँ?
मैं- आप बहुत कुछ सेवा कर सकते हैं।
मैनेजर- जी सर !
मैं- मेरी बीवी की मसाज करवानी है।
मैनेजर- सर आपकी बीवी तैयार है मेरा मतलब सर उसे सब पता है?
मैं (आँख मार कर) बोला- हाँ मालूम है।
मैनेजर- सर एक दिक्कत है।
मैं- क्या?
मैनेजर- सर हमारे यहाँ आदमी ही मसाज करते हैं।
मैं- तो क्या हुआ? हमें तो मसाज करानी है मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता।
मैनेजर- अंदर आइए।
वो हमें एक एसी रूम में ले गया, जहाँ चारों तरफ से बंद था।
बीवी- मुझे नहीं करानी मसाज !
मैं- अरे यार मैंने पैसे भर दिए हैं।
बीवी- कितने पैसे भरे आपने?
मैं- 1200 रुपये लिए हैं।
बीवी- क्या तुम्हारा दिमाग़ खराब है? अपने बाजू वाले डॉक्टर से दवा ले लेते तो 250 रुपये में काम हो जाता। तुम्हारे पास क्या पैसे ज़्यादा हैं।
मैं- नहीं यार ये लोग तुम्हारे चेहरे पर ब्लीच भी करेंगे।
बीवी- इसकी क्या ज़रूरत थी?
मैंने उसकी अनसुनी कर दी।
मैनेजर- सर अपनी बीवी को इधर लेटा दो। सर आपको मालूम है ना!
मैं- क्या !
मैनेजर- देखो मसाज करते वक्त आपकी बीवी के शरीर पर इधर-उधर हाथ लग सकता है.
मैं- कोई बात नहीं !
वो लोग मेरी बीवी के पीठ मल रहे थे। मैंने सोचा कब ये मेरी बीवी को चोदेंगे !
मैनेजर- सर, यह लड़का आप का है?
मैं- हाँ।
मैनेजर- सर यहाँ डिस्टर्ब हो रहा है इसे ऊपर वाले कमरे में ले जाइए।
मैं- यह अपनी माँ के बिना रह नहीं सकता।
मैनेजर- सर आप इस ऊपर आंटी के पास ले जाओ मेरा नाम बताना।
मैं- ओके !
और मैं उसे ऊपर वाले कमरे में ले गया। मैं उधर कुछ कहता इसके पहले ही आंटी बोल पड़ी, “लाओ मुझे दे दो इसे।”
मैं उसे देकर वापस आया तब !
मैनेजर- सर आपकी बीवी की कैसी मसाज करना है?
उसने मुझे एक डायरी दी, जिसमें ‘एक्स’ मसाज था।
मैं- इसमें क्या होता है?
मैनेजर- सर पूरी बॉडी पर तेल लगा कर मालिश करते हैं।
मैं- ओके ! ये वाली ही करवाना है।
मैनेजर ने मेरी बीवी को सीधे लिटाया और उससे कहने लगा।
मैनेजर- कपड़े थोड़े ऊपर करो।
बीवी- लो।
मैनेजर- सर आप की बीवी को बोलो कि अंदर जा कर चोली निकाल कर लेटे।
बीवी- नहीं इसे क्यों निकालोगे ?
मैनेजर- हमें आप के पूरे शरीर पर तेल लगाना है
वो जाने लगी, तब मैनेजर ने नाईटी दी, “लो सब उतार दो, इसे पहन लो।”
मेरी बीवी चौंक गई, “ये क्या राजू ! आप ने तो कहा था कि मालिश कर के ब्लीच करेंगे?
मैं- अरे यार तुम्हें कुछ मालूम ही नहीं। तुम जाओ तो सही !
और वो चली गई। कुछ देर बाद में वो आई, तब वहाँ तीन लोग थे। उन सब ने मेरी बीवी को ऊपर से नीचे तक देखा और एक ने बोला- यार क्या माल है काश मुझे मिल जाए !
मैनेजर- यहाँ लेटिए।
और वो सीधे लेट गई। मैनेजर ने उसे ही बुलाया जो मेरी बीवी की बात कर रहे थे। उधर आयल और मालिश का सारा सामान लाकर मेरी बीवी के पास रख दिया।

वो धीरे-धीरे मेरी बीवी के मुँह पर हाथ फेरते रहे फिर नीचे और नीचे। गले के नीचे पहुँचते ही मेरी बीवी ने उसका हाथ पकड़ लिया।
“यह क्या कर रहे हो?”
“मालिश,” वो बोला।
तब मेरी बीवी बोली- मुझे नहीं करवानी मालिश।
मैं- कैसे नहीं कराएगी !
“तुम यहाँ क्या करवाने लाए हो। सच बताओ?”
मैं डर के बोला- मालिश यार और क्या !
वो बोली- नहीं तुम और कुछ करवाने लाए हो।
मैं (गुस्से से)- हाँ तुम्हें चुदवाने लाया हूँ।
वो बोली- ठीक है अब देखो मैं क्या करती हूँ।
वो सिर्फ नाईटी में थी।
मैनेजर- इसे उतारना होगा।
बीवी- मैं नहीं, आप उतारोगे। पैसे मैंने लिए हैं या आपने !
वो नाईटी के बटन खोलने लगा। मेरी बीवी ने कोई विरोध नहीं किया। वो बस मुझको घूर रही थी। वे लोग मेरी बीवी के मम्मे दबाए जा रहे थे। फिर मेरी बीवी ने पैर फैला दिए।
वो तेल लेकर मेरी बीवी की चूत पर रगड़ रहे थे। मेरी बीवी गरम होने लगी। उनमें से एक मेरी बीवी के चूत में ऊँगली डाल कर सहला रहा था।

मेरी बीवी मुझे देख-देख कर उनका हाथ अपने मम्मों पर रखवा रही थी। वो मुझे जलाना चाहती थी, पर मैं खुद यही चाहता था कि कोई मेरी बीवी को मेरे सामने चोदे।
मैनेजर- सर आप बाहर बैठें।
मैं- ओके!

बाहर आकर मैं बैठ गया, पर मेरे मन शान्त ना रहाँ मैंने देखा कि वहाँ कांच की खिड़की थी। मैंने उस में से झाँकना शुरू कर दिया।

मैंने देखा कि मेरी बीवी बेड पर लेटी थी और वे लोग मेरी बीवी को राण्ड समझ रहे थे। कभी मम्मों को दाँत से काटते तो कभी उसकी चूत को। वो परेशान थी, क्या करे क्या न करे !
उसमें से एक ने मेरी बीवी के हाथ पकड़ रखे थे और दूसरा मेरी बीवी के ऊपर चढ़ा था। वो मेरी बीवी की चूत में अपनी जीभ डाल कर हिलने लगा।

मेरी बीवी गरम होने लगी और सिसकारियां भरने लगी, “आ माआआआअ उूुुुउऊः उफफफ्फ़ आआआआआआ नईईए।”
ये आवाजें सुन कर मेरा लण्ड खड़ा हो गया !
एक ने अपने पैन्ट में हाथ डाल कर अपना लण्ड बाहर निकाला तो मैं डर गया। मेरे मुँह से चीख निकल पड़ी, “अरे बाप रे इतना बड़ा !!
उन लोगों ने मुझे अंदर बुलाया। मैं अंदर गया।
“क्या देख रहे थे?”
मैं- इतना बड़ा लण्ड !!
आप यकीन नहीं मानेंगे करीब 11 इंच लंबा 4 इंच मोटा !
“क्यों तुम्हारे पास कितना बड़ा लण्ड है, खोल कर दिखाओ।”
मैं- नहीं शर्म आती है.
“खोलो तो।”
मैं- खोलता हूँ !
जैसे ही मैंने अपना लंड निकाला वे दोनों हँसने लगे।
“क्या तुम इसी लण्ड से चोदते हो अपनी बीवी को ? देखो मैं कैसे तुम्हारी बीवी को चोदता हूँ।” कह कर उसने मेरी बीवी की नाईटी फाड़ दी। अब मेरी बीवी नंगी पड़ी थी।
मैं- अरे यार आराम से करो।
“नहीं हम यहाँ आराम से नहीं करते। हम औरतों को पानी पिला देते हैं” इतना कह कर मेरी बीवी की चूत के छेद पर रख कर इतनी ज़ोर से धक्का दिया कि मेरी बीवी बहुत ज़ोर से चिल्लाई, “मर गई अममाआआ अयाया ओईई मार गई रे राजू फाड़ दीईई मेरी चूत… इन लोगों ने हाययई ओो माआआआ रे बाआआआअप रे बचाना रे राजू अबे भड़वे मादरचोद राजू बचा मर जाऊँगी मैं।”
मैंने नीचे देखा तो मेरी बीवी की चूत से खून की धार बहने लगी।
उनमें से एक ने कहा- यार इसे दारू पिला जब ये नशे में हो जाएगी, तब इसे दर्द नहीं होगा।
उसने एक इशारा किया मैनेजर ने एक दारु की बोतल मेरी बीवी के मुँह से लगा दी और दूसरे हाथ से उसकी नाक बन्द कर दी मेरी बीवी को मजबूरी में दारू पीनी पड़ी।

फिर उसने वो बोतल मुझे पकड़ा दी मैंने भी दारु पी ली। वो एक बहुत तेज किस्म की शराब थी, मुझे दो मिनट में ही उसका असर दिखने लगा।
मेरी बीवी बहुत जोर से छटपटा रही थी, “बचाओ मुझे कोई बचाओ।”
पर कोई नहीं सुनने वाला था।
“राजू बचा लो मर गई रे अम्म्म्ममा !”
इतने में मेरी बीवी को पलट कर अपने पेट पर ले लिया और दूसरे ने उसकी गाण्ड के छेद पर अपना लण्ड रख कर ज़ोर से धक्का दिया। अब वो दो-दो लण्ड का सामना कर रही थी। दोनों ज़ोर-ज़ोर से धक्का दे रहे थे और गंदी बातें कर रहे थे। अब मेरी बीवी अपना नियन्त्रण खो दिया था। उसको शराब का असर हो चुका था और वो चुदाई का दर्द नशे में भूलने लगी थी।
वो भी कह रही थी, “और ज़ोर से हाँ हाँ और अंदर जाने दो हाँ तुम मम्मों को दबाओ और तुम मुझे चोदो।”
दोनों ने अपनी स्पीड बढ़ा दी। एक ने मेरी बीवी के मुँह में पानी उढ़ेल दिया और दूसरे ने जो अपना लण्ड निकालना चाहता था, मेरी बीवी ने रोक दिया, “नहीं तुम मेरी चूत में ही पानी छोड़ो, में तुम्हारे बच्चे की माँ बनना चाहती हूँ।
और वो छूटने ही वाला था, “उफ़फ्फ़ आ ऊवू आआ” कह कर उसने मेरी बीवी की चूत में पानी छोड़ दिया।

कुछ देर बाद मैंने अपनी बीवी से कहा- चलो घर चलें।
नशे में टुन्न मेरी बीवी ने मुझसे कहा- कौन सा घर.. कैसा घर ! अब मैं इन लोगों की रखैल हूँ। अब तुम्हारा मेरे ऊपर कोई हक नहीं है अब मैं राण्ड बन कर दिखाऊँगी। कितने ही लोग मुझे चोदेंगे। मैं कितनों की रखैल बनूँगी। अब तुम देखो सिर्फ़….!!”

loading...

Leave a Reply