निशा का नशा

मेरी उम्र 32 साल है, काम के चक्कर में काफी घूमना फिरना और लोगों से मिलना जुलना पड़ता है।

यह बात लगभग डेढ़ साल पुरानी है, मैं अपने दोस्त पवन के साथ घूमने के लिए महाबलेश्वर गया हुआ था, साथ में उसकी पत्नी निशा और उनकी 8 साल की बेटी पूजा भी थी।

काफी खुश परिवार था वैसे तो, मैं पवन को बचपन से जानता था काफी अच्छा इंसान था वह !

पर निशा के बारे में बिल्कुल अंजान था स्वाभाव से निशा बड़ी सरल और पारिवारिक थी, बहुत सुन्दर, हमेशा साड़ी में रहती थी, उसका वो रूप देख कर मैं भी उसके करीब जाने की कोशिश में रहता था !

मेरी यह बात वो जान चुकी थी आखिर वो एक औरत जो थी।

मेरी आँखें उसकी साड़ी को चीर कर उसके नंगे बदन को हमेशा देखती रहती थी इस बात पर उसे जरा भी ऐतराज नहीं था।

निशा उफ़ !

जैसा नाम उससे भी कही ज्यादा नशा था उसमें ! गहरी काली आँखें, लम्बे घने बाल, लम्बी पतली, उसके कूल्हों के तो क्या कहने, जैसे किसी ने दिल की शेप को उल्टा लटकाया हो ! नीचे से ऊपर की तरफ गोल और कमर की तरफ पतली होते चलते ! उसके कूल्हे देख कर ही उसे चाटने का मन करता था।

एक दिन पवन को उसके ऑफिस से फोन आया, उसे कुछ जरूरी काम से मुंबई बुलाया था,पर वह अपनी बीवी और बेटी की छुट्टियाँ ख़राब नहीं करना चाहता था !

उसने मुझे वहीं रुकने और उसकी बीवी और बेटी को घुमाने के लिए कहा। शायद उसने निशा से इस बारे में पहले ही बात कर ली थी।

पवन को गये दो दिन बीत चुके थे, इन दो दिनों में मैं और निशा काफी नजदीक आ चुके थे।

एक दिन बातें करते करते ही निशा ने मुझे अचानक एक सवाल पूछा- क्यों संजू, सेक्स के बारे में तुम्हारी क्या राय है? मतलब तुम्हें क्या करना ज्यादा पसंद है?

अचानक किये उसके इस सवाल से मैं थोड़ा बौखला गया, फिर थोड़ा संभल कर मैं उसकी बातों का जवाब देने लगा।

मेरी झिझक को देखते हुए बातें करते करते उसने होटल के रिसेप्शन पर कॉल की और एक बोतल रम और दो प्लेट चिकन टिक्का मंगवाया।

जैसे ही उसने दोनों के लिए पेग बनाये, मैंने हड़बड़ी में घटाक से वो पेग खींच लिया और फिर एक और !

तभी उसने मुझे कहा- रात अभी बाकी है मेरे दोस्त, इतनी जल्दी भी क्या है?

उतने में उसकी बेटी पूजा जो नीचे गेम जोन में खेल रही थी, वो कमरे में आ गई। रात के गयारह बज चुके थे, काफी थकी हुई थी वो !

मुझे और निशा को गुड नाईट कह कर वो दूसरे कमरे में जाकर लुढ़क गई।

उसके सो जाने से मेरी चिंता अब दूर हो चुकी थी ! और अब मैं नशे की वजह से थोड़ा खुल के बात करने लगा था तभी निशा ने पूजा के कमरे को बाहर से बंद कर दिया और मेरे सामने आकर बैठ गई। इतने में वो भी दो पेग गटक चुकी थी।

अब थोड़ी ही देर में उसकी असलियत मेरे सामने सामने आने वाली थी, उसके अन्दर की वासना खुल के मेरे सामने प्रकट होने वाली थी।

तभी वो मेरे सामने से उठी और टॉयलेट में गई मैं सोफे पर बैठ के उसको देख रहा था। चमकीली लाल साड़ी में वो किसी परी सी लग रही थी।

उसने टॉयलेट का दरवाजा खुला ही छोड़ दिया और मेरे सामने ही मूतने बैठ गई दरअसल वो मूतने के बहाने मुझे अपनी गांड दिखाकर मेरे अन्दर के जानवर को जगा रही थी, पर मैं भी पक्का कमीना था, मुझे उसे चोदना तो था पर उसके अन्दर की वासना को जितना हो सके उतना भड़का कर ही मैं उसे चोदने वाला था।

टॉयलेट से आकर वो मेरे बाजू सट कर बैठ गई और बिना कुछ कहे मेरे मुँह में मुँह डाल कर मुझे चूमने लगी।

तभी मैं अपने एक हाथ से उसकी साड़ी को ऊपर करके उसकी गोरी गोरी जांघों पर फिराने लगा। उसके बदन की गर्मी से मैं और गर्म होने लगा था।

इसी बीच मैं उसकी साड़ी उसके जिस्म से अलग कर चुका था, उसने अन्दर सिर्फ एक चड्डी और बिना ब्रा के ब्लाउज पहना हुआ था।

जिस कारण उसके गोल गोल दूध उछल कर बाहर आने की कोशिश कर रहे थे।

और फिर थोड़ी देर बाद वह मुझसे अलग होकर सोफे पर जा बैठी, मैं समझ चुका था कि अब वह एक सीधी साधी औरत से छिनाल बनने की कगार पर है।

तभी उसने अपनी लम्बी टांगें फैला कर मुझसे कहा- क्यूँ रे भड़वे ! कभी किसी औरत की खुजली मिटाई है क्या तूने? आज मैं देखना चाहती हूँ तेरे लंड में कितना दम है, अगर आज तूने मुझे हरा दिया तो समझ मैं हमेशा के लिए तेरी हुई और अगर तू नाकामयाब रहा तो कभी अपनी शक्ल मत दिखाना।

उसकी इन बातों से मेरा दिमाग ही सटक गया, मैंने कहा- रंडी, तुझे सिर्फ आज नहीं पूरी जिंदगी भर कुत्ते की तरह चोदूँगा।

मैं तुरंत अपने कपड़े उतार कर उसके सामने पूरा का पूरा नंगा खड़ा हो गया, मेरा कसा हुआ शरीर और मेरा खड़ा लंड देखकर उसकी आँखें चमक उठी, वहीं सोफे पर लेटे लेटे उसने मुझे इशारा किया, मैं समझ गया, मैंने एक टांग सोफे पर और एक टांग जमीन पर रखते हुए अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया जो उसके गले से जा टकराया।

अभी तो मेरा आधा लंड ही उसके मुँह में गया था, कि उसने मेरा आधा लंड जो उसके मुँह के बाहर था, उसे पकड़ लिया, मेरे लंड को जोर से चूसने लगी, अन्दर-बाहर करने लगी।

दस मिनट बाद मैं उसके सर के पीछे खड़ा हो गया और मेरे दो बड़े बड़े अखरोट उसके मुँह में दे दिए, उन्हें वो कभी चाटती, कभी पूरे के पूरे ही मुँह में लेती !

तभी उसने मुझे कुत्ते की तरह घुटने के बल खड़े होने को कहा जिस कारण वो मेरे अखरोट चूसते चूसते मेरी गांड को भी चाट रही थी।

थोड़ी देर बाद वो सोफे पर सीधी बैठ गई और मैं सोफे के नीचे घुटनों के बल दोनों हाथों से उसकी जांघें और चूतड़ों को चौड़ा करते हुए उसकी चूत को चाटने लगा।

चूत चाटते चाटते मेरी जीभ अपने आप उसकी गांड के छेद में लपलपा रही थी।

उतने में उस रंडी ने मेरे सर को अपने हाथों से हल्का धकेलते हुए पीछे किया, मैं कुछ समझता, उसके पहले ही वह अपनी चूत से मेरे चेहरे पर जोरदार तरीके से मूतने लगी जैसे किसी ने शैम्पेन की बोतल खोल दी हो।

मूतते मूतते ही वो मुझे गाली देकर बोल रही थी- पी मादरचोद पी !

उसकी इस हरकत से मैं भी गुस्से से पागल हो गया, मैं भी अपने लंड को हिलाते हुए खड़ा हो गया और दोनों हाथों से उसके बाल पकड़ कर मेरा लंड सीधे उसके मुँह में ठूँस दिया।

कुछ देर उसे ऐसे ही चोदने के बाद मैंने उसे अपना पूरा मुँह खोलने को कहा, बायें हाथ से मैंने उसके बाल पकडे और दायें हाथ से मेरा लंड पकड़ा, आधा लंड उसके मुँह में उतार कर मैंने सीधे उसके मुँह में मूतना चालू कर दिया।

कभी मैं लौड़ा बाहर निकाल कर उसके मुँह पर मूतता, कभी मेरी तेज धार उसके गले तक छोड़ता, जिस कारण आधे से ज्यादा मूत उसके पेट में उतर चुका था। तभी उसने रम का गिलास उठाया मेरे लंड पर डालते हुए वो रम गटकने लगी और मैंने उसकी दोनों टांगें पकड़ कर उसे सोफे पर खींच लिया और अपने लंड को उसकी चूत के दाने से रगड़ने लगा जिस कारण वह जल बिन मछली की तरह तड़पने लगी थी।

जब उसकी तड़प वो सह नहीं पाई तभी उसने तुरंत ही मुझे जोर से पूरी ताकत लगाते हुए अपने दोनों हाथों से सामने के सोफे पर धकेल दिया जिस कारण मैं सोफे पर पीठ के बल गिर गया। अब मैं सोफे पर गिरा था और वो मेरे सामने चुदने के लिए पूरी तरह से तैयार थी।

मैं समझ गया कि अब वो अपनी चूत में मेरा लंड लेना चाहती थी, मैं सोफे पर लेटे लेटे ही अपने लंड को ऊपर नीचे करने लगा। तभी वो मेरे दोनों कंधो को पकड़ कर मेरे लंड पर बैठने लगी जिस कारण उसके बड़े बड़े दूध मेरे मुँह के सामने लटकने लगे जिनको मैं बारी बारी चाटने-चूसने और काटने लगा था।

निशा मेरे लंड पर बैठ तो गई थी पर अपने अन्दर ले नहीं पा रही थी वो जान चुकी थी कि मेरा लंड उसकी चूत की गहराई से काफी बड़ा और तगड़ा था। उसकी कोशिश के बावजूद अभी तक तो सिर्फ मेरे लंड का बड़ सा सुपारा ही उसकी चूत में गया था।

उसकी उस हार को देख मैंने कहा- क्यों छिनाल/ घुस गई अकड़ तेरी चूत में? रंडी सोच मेरा लंड अब तक तेरी चूत में भी नहीं गया और जब मेरा यय लौड़ा तेरी गांड फाड़ेगा तब तेरा क्या हाल होगा?

यह सुन कर जोर से उसने अपनी गांड को उछाल कर मेरे लंड पर बैठ गई जिससे मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया। मैं उसके इस वार से हैरान था पर अब वो रूकने वाली नहीं थी, करीब दस मिनट वो मुझे उसी अवस्था में चोदती रही और फिर उसने एक बार फिर से मूतना शुरू किया इस बार मेरा लंड उसकी चूत में ही था और वो मूते जा रही थी, उसी हालत में उसने मेरे लंड को अपनी चूत से अलग कर लिया और मूतते-मूतते मेरे मुँह पर आकर बैठ गई।

इस बार मैंने उसकी चूत को चाटना और चूसना चालू किया, वो मेरे मुँह पर मूत रही थी और मैं उसे पिए जा रहा था।

इस दौरान वो दो बार झड़ चुकी थी, अब बारी उसकी गांड की थी, उसने अपने पर्स से एक तेल निकाला और मेरे लंड पर जोर से मलने लगी। थोड़ा सा तेल अपनी गांड में भर कर वो कुतिया की तरह मेरे सामने घुटनों के बल खड़ी हो गई पर मैंने मेरा लंड उसकी चूत में पेल दिया। मैं दोनों हाथों से उसकी गांड पकड़ ली और जोर से उसे चोदने लगा।

चोदते चोदते ही मैंने अपने दाहिने हाथ का अंगूठा उसकी गांड के छेद में डाल दिया जिससे वह और जोर से गांड हिला हिला कर चुदवा रही थी।थोड़ी देर बाद मैं अपना लंड उसकी गांड में घुसाने लगा, थोड़ी कोशिश के बाद एक दो तीन झटके में पूरा का पूरा लौड़ा उसकी गांड में घुसा दिया। इस बार उसके मुँह से चीख निकल गई और गांड से खून बहने लगा। यह देख कर मैं और जोश में आकर चोदने लगा, मेरी जीत जो हो रही थी। मैं उसके बाल पकड़ कर उसकी गांड फाड़ रहा था और वो दर्द भरे मीठे आनन्द में मस्त हो चुकी थी।\

करीब पंद्रह मिनट बाद मैंने अपने लंड को उसकी गांड से बाहर निकाला और निशा के मुँह में घुसेड़ दिया। मेरे लंड को निशा ने अच्छी तरह चाट चाट कर साफ़ कर दिया। अब उसने मेरे लौड़े को अपने दोनों हाठों से पकड़ कर जोर जोर से हिलाना शुरू कर दिया, कभी वो मेरे लंड के सुपारे पर थूकती, कभी उसे चाटती।

अब मेरी बारी थी झड़ने की और उसने मेरे लौड़े को हिलाने की स्पीड बढ़ा दी थी, मेरे मुंह से अब ‘आह कम ओन निशा ! डू ईट फास्ट बेबी डु ईट फास्ट ओह ! बेबी ! निकल रहा था।

तभी उसने मेरा लंड अपने मुँह में लिया और जोर जोर से चूसने लगी। जब उसे पता चला मेरा माल निकलने वाला है, उसने मेरे लंड के सुपारे पर अपनी जीभ रगड़ने लगी। कितना सुखद अनुभव था वो ! दो मिनट जोर से रगड़ने के बाद मेरा ढेर सारा माल उसके मुँह में जा गिरा।

मेरे माल के गिरने के बावजूद वो मेरे लंड को जोर जोर से हिला रही थी, जिस कारण मेरा लंड मेरे माल को पिचकारी की तरह कभी उसके चेहरे पर कभी उसके बालों में गिराए जा रहा था और निशा मेरे लंड को जोर से हिलाए जा रही थी।

करीब पांच मिनट बाद उसने मेरे लंड को फिर मुँह में लिया और चाटने लगी, चाट चाट के उसने मेरे लंड को अच्छी तरह साफ़ कर दिया और मेरी बाहों आकर मुझसे प्यार करने लगी।

और तभी उसने मुझे बताया कि आज वो किसी असली मर्द से चुदी है, पवन तो बस पैसे के पीछे पागल है, वर्ना अपनी बीवी और बेटी को इस तरह छोड़ कर नहीं जाता।

उस दिन से लेकर आज तक न जाने कितनी बार मैंने उसे चोदा है, निशा का नशा किसी और लड़की या औरत में कहाँ !!!!!

यह बात पवन को भी पता चल चुकी है पर उसे कोई ऐतराज नहीं क्योंकि वह जानता है इस बात की वजह से निशा बहुत खुश रहने लगी है।

loading...

Leave a Reply