ठाकुर का बच्चा part 3

“ठकुराइन विश्वास कीजिए, मेरी गांद को तो आपने खुद देखी है, बल्कि खोद खोद के भी देखा है. मेरे मना करते रहने पर भी यह नही मना और मेरी गांद की दुर्गति कर के ही छोड़ी.”रणबीर जो सुन रहा था उसे अपने कानो पर विश्वास नही हो रहा था. ये दोनो औरतें किस तरह खुले शब्दों का इस्तामाल कर बात कर रहे थी और मालती चाची क्या ठकुराइन से इतनी खुली हुई हो सकती है.उनकी बातें सुन कर रणबीर का भी लंड खड़ा होने लग गया था और सोचा जब ओखली मे सर दे ही दिया है तो मूसलों से क्या डरना. उसे वही करना है जैसे कहा जाता है. अपनी तरफ से कोई उत्तावलापन नही दीखाना है. बड़े लोगों का मामला है. बड़े बुड्ढे ठीक ही कहते है की बिना सोचे समझे बड़े लोगों की गंद मे नही बढ़ाना चाहिए. उनका क्या कब गंद भींच ले और बाहर निकलना मुश्किल हो जाए.”ठीक है पहले हम अपनी आँखो से सब देखेंगे फिर फ़ैसला करेंगे. मालती उठो और तुम दोनो वह सब मेरी आँखों के सामने करो. इसे भी ठीक से समझा देना. जैसे उस दिन हुआ था वैसे ही होना चाहिए नही तो भोसड़ी की गंद मे भूस भरवा देंगे. मैं भी ठकुराइन हूँ कोई कोठे पर बैठी रंडी नही की कोई मा का लॉडा आए और चोद्के लंड समेटता हुआ चला जाए.मालती ने एक एक करके अपने कपड़े उतारने शुरू किए और देखते ही देखते पूरी नंगी हो गयी. रणबीर भोंचका सा वैसे ही बैठा रहा.”चल तू भी उतार और शुरू हो जा.” ठकुराइन की आवाज़ गूँजी.रणबीर भी मालती की तरह नंगा हो गया. उसका लंड खड़ा तो था पर पूरी तरह से तना नही था. तब रजनी ने मालती को पलंग पर चोपाया कर दिया और रणबीर को कहा की उसकी गंद पहले ठीक से चाट कर तय्यार करे.रणबीर को इन दो औरतों की हरकतें कुछ अटपटी लग रही थी पर यह सारा खेल और महॉल उत्तेजना पैदा करने वाला था.रणबीर ने अपना मुँह मालती की हवा मे उँची उठी हुई गांद पर झुकाया और गांद के छेद पर जीभ फिराने लगा. अभी उसका मुँह सूखा हुआ था. वह बीच मे रजनी के चेहरे की तरफ भी देख रहा था और रजनी एक उंगल उठा देती की लगे रहो अपने काम पर. रणबीर काफ़ी देर तक मालती की गांद चाटता रहा मालती ओह्ह्ह हाआँ करती उससे अपनी गांद चटवाती रही.तभी रजनी ने कहा, “मालती तू तो कहती थी की इसका लंड लोहे की सलाख की तरह कड़ा है, पर मुझे तो ढीला ढाला सा ही लग रहा है.”मालती अब बैठ गयी और रणबीर के लंड को मुठियाने लगी और बोली, “ठकुराइन आपको देख कर शर्मा रहा है.””अक्चा तो ये बात है, चल रे हां क्या कहते हैं इसको,, हां अपना लॉडा मेरे हाथ मे दे. तो ये मुझे देख कर मुरझाया हुआ है, तब तो मुझे ही पूरा खड़ा करना पड़ेगा. रणबीर ने रजनी के आगे अपना लंड कर दिया ज्सिका रजनी बहोत ही बारीकी से निरक्षण करने लगी.वो लंड की चॅम्डी को उपर नीचे करने लगी. पूरी चमड़ी छील सूपदे पर अंगूठे का दबाव दे रही थी.

तभी रजनी ने रणबीर के लंड को अपने मुँह मे ले लिया. कई देर तक वो लंड पर अपनी जीब फेरती रही फिर मुँह मे पूरा लंड ले मुँह आगे पीछे करते हुए चूसने लगी.कुछ देर तक लंड चूसने के बाद रजनी ने लंड को मुँह से निकाला और बोली, “हां अब पूरा तय्यार है, वाह क्या मस्ताना और सख़्त लंड है, चल मालती अब तू भी तय्यार हो जा अपने पीचवाड़े मे लंड लेने के लिए. हूँ अब मज़ा आएगा.” रजनी ने एक भूकि बिल्ली जैसे चूहे से खेलती है वैसे ही रणबीर के लंड से खेल रही थी. उसकी आँखों मे चमक थी. वासना से उसका चेहरा सुर्ख लाल हो कमरे की दूधिया रोशनी मे चमक रहा था.मालती फिर पलंग पर घोड़ी बन गयी. रजनी का इशारा पाते ही रणबीर उसके पीछे आ गया और अपना लंड मल्टी की गांद के छेद पर रख दिया. रजनी ने थूक से साना लंड थोड़ा सा दबाव देते ही अंदर जाने लगा. मालती के शरीर ने एक बार झटका खाया. पर अब रणबीर के बस की बात नही थी. फिर ठकुराइन ने उसकी गैरत को ललकार दिया था. तो उसने दाँत भींचते एक तगड़ा धक्का मालती की गांद मे दिया और मालती की चीख उस हवेली के सन्नाटे मे गूँज गयी.”है रे मार डाला रे… में मर गयी रे… बाहर निकालो ये लोहा मेरी गाअंड से.” मालती छटपटा रही थीपर रणबीर ने एक ना सुनी और अपने लंड को थोड़ा बाहर निकालते हुए फिर एक धक्का मार पूरा लंड अंदर पेल दिया.रजनी को मज़ा आ रहा था और वो रणबीर को उकसा रही थी.”वा रे मेरे ठाकुर के शेर, हां मार साली की और ज़ोर से मार. देख साली की कितनी फूली गांद है. मार मार मार के हवेली का गेट बना दे साली की गंद को. इसका जेठ तो सला बुद्धा रंडुआ है और भोसड़ी का वह भतीजा साला लुंडों का लंड चूस्ता है और उनसे खुद गांद मरवाता है.”रजनी ने अपनी नाइटी मे हाथ डाल दिया था और हाथ से अपनी चूत को रगड़ते हुए रणबीर को उकसाए जा रही थी.”ठकुराइन ये आपके सामने ही मेरी गांद का भुर्ता बनाए जा रहा है और आप मज़े ले रही है. है लंड है या मूसल गांद….छील्ल….. के रख….दी….मरी जा रही हूँ.” मालती हाय तोबा मचाती रही और रणबीर तब तक उसकी गांद मरता रहा जब तक की उसके रस से मालती की गांद पूरी ना भर गयी हो और उसकी गांद से रणबीर का रस चुने ना लग गया हो.रणबीर हांफता हुआ धीरे धीरे सुस्त पड़ गया.”ला तेरी गांद इधर कर, मुझे देखने दे उस दिन जैसे मारी या नहीं.” ये कहकर रजनी मालती की गांद पर झूक गयी और दोनो हाथो से जितना फैला सकती थी उतनी उसकी गांद फैला दी. मालती की गांद मे अंदर तक देखा जा सकता था. तभी रजनी ने आधी से अधिक जीब उसकी गांद मे दे दी और जीभ अंदर की गंद के अंदर की दीवारों पर चलाने लगी. वह कई बार मालती की अच्छी तरह से मारी हुई गांद चाटती रही.फिर मालती उठी और सीधी बाथरूम की और भागी.कुछ देर बाद वापस बन संवर के निकली. तभी रजनी ने इशारा किया और मालती ने एक बादाम घुटे हुए दूध का ग्लास टेबल पर से उठा रणबीर क्को पकड़ा दिया. रणबीर ने एक घूँट मे ग्लास खाली कर फिर मालती को थमा दिया.”जाओ तुम भी बाथरूम मे चले जाओ वहाँ सब कुछ मौजूद है.” ठकुराइन ने कहा.रणबीर उठा और बाथरूम मे चला गया. फुवरे के नीचे ठंडे पानी से स्नान कर, क्रीम सेंट लगाएक मखमली तौलिए को लपेट जब वो बाहर आया तो मालती और रजनी दोनो पलंग पर नंगी थी.रजनी पीछे एक बड़े तकिये का सहारा लिए टाँगे चौड़ी कर के बैठी थी, उसकी झांते भरी चूत रणबीर को सॉफ दीख रही थी जिससे मालती चाची खेल रही थी, बीच बीच मे उसके अंदर जीब डाल रही थी, उसको चाट रही थी और रजनी मालती का सिर अपनी चूत पर दबा रही थी.रणबीर पास पड़ी टेबल से अपने चूतड़ टीका कर ये लुभावना दृश्या देख रहा था. धीरे धीरे तौलिए मे लिपटा उसका लंड खड़ा होने लगा. कमरे की दूधिया रोशनी मे रजनी का गोरा बदन चमक रहा था. ठकुराइन रणबीर की कल्पना से कहीं ज़्यादा सुंदर थी. ठकुराइन की जगह और कोई होती तो ये सब देख रणबीर उस पर चढ़ बैठता पर यहाँ बिना ठकुराइन की आग्या के वो हिलने की भी नही सोच सकता था.

तभी रजनी पलंग से उठी और रणबीर के सामने आई और उसके तौलिए को एक झटके मे खींच पलंग पर फैंक दिया. रणबीर का लंड खड़ा था. तभी रजनी घुटनो के बल उसके सामने ज़मीन पर नीचे बैठ गयी और उसके लंड पर जीब फैरने लगी. फिर लंड को मुँह मे लेने लगी.वह जीब थूक से तर कर लंड पर फेर रही थी. कुछ ही देर मे लंड लसीला हो चला और रजनी मुँह आगे कर उसे मज़े से चूसने लगी. वा उसकी गोलियों को खींच रही थी जिससे लंड पूरा उसके मुँह मे अंदर बाहर हो रहा था.तभी वो लंड को मुँह से निकाल खड़ी हो गयी और बोली, तो तेरे कंधों मे बहोत ताक़त है, देखती हूँ ठकुराइन का बोझ संभाल पाते है की नही,” रजनी रणबीर की बाहों को अपने हाथों मे लेते हुए बोली,” फिर उसने रणबीर के गले मे बाहें डाल दी और उसके होठों को अपने होठों ले चूसने लगी.रणबीर टेबल से अपने चूतड़ लगा वैसे ही खड़ा रहा. जो कुछ कर रही थी ठकुराइन ही कर रही थी. तभी रजनी ने उचक कर रणबीर के कमर मे अपनी टाँगे लपेट ली. गले के पीछे उसने उंगलियों के एक दूसरे मे फँसाया और ठकुराइन का सारा बोझ रणबीर पर आ गया.रजनी की इस अचानक हुई हरकत से रणबीर कुछ चौंक पड़ा और उसने फुर्ती दीखाते हुए रजनी के भारी चूतड़ पर अपने दोनो हथेलियों जमा दी. अब रणबीर का लंड और ठकुराइन की चूत आमने सामने थी और दोनो मिलने के लिए उत्तावले हो रहे थे.तभी रजनी मालती से कहा, “मालती तू चल मेरी गांद के पीछे बैठ जा और तीर निशाने पर लगा”मालती रजनी की गांद के नीचे आके बैठ गयी. उसने अपने सर को सहारा भी ठकुराइन की गांद का दिया जिससे गांद कुछ और उपर उठ गयी. फिर उसने रणबीर के लंड पर थूक भरी जीब फेरी और लंड ठकुराइन के चूत के मुख पर लगा दिया.जैसे ही रणबीर के लंड ने ठकुराइन की चूत के खुले होठों को छुआ उसमे एक सनसनाहट की लहर दौड़ गयी और उसके हाथ अपने आप ठकुराइन की गंद लंड पर दबाने लगे.अब रजनी ने अपने पैर टेबल पर आगे फैला दिया और मालती को पलंग पर बैठ देखने के लिए कह गंद रणबीर के लंड की तरफ चलाने लगी. अब रणबीर रजनी की इस अदा से पूरा मस्त हो चुका था. उसने ठकुराइन की पतली कमर मे बाजू कस लिए और ठकुराइन की गांद हाथो मे ले अपने खड़े लंड पर दबाने लगा. जब दबाता तो उसका लंड जड़ तक चूत मे चला जाता, फिर वह ढीला छोड़ देता तो लंड वापस कुछ बाहर निकल आता और इस तरह से वह चुदाई करने लगे.”ओह… रणबीर तुम्हारा लंड वाकई में बहोत ताकतवर है… मेरी चूत को भाले की तरह चीर रहा है.. ओह हां…ओह और दबा दबा के चोदो.. तुम्हे इसी काम के लिए तो मेने ठाकुर साहेब से कह हवेली मे रखवाया है.. ओह हाआँ आज से तुम्हारा असली काम यही है… हां और ज़ोर से हां फाड़ डाल रे आज तेरे सारे खून माफ़.. ” रजनी कई देर तक ऐसे ही बड़बड़ाते हुए चुदति रही. अब उसने एक चुचि रणबीर के मुँह मे दे दी.रणबीर ने भी ठकुराइन की भारी चुचि अपने मुँह मे ले ली. जिस प्रकार ठकुराइन उसके गले से लटके हुए थी उसे उसकी चुचि के अलावा कुछ दीखाई भी नही दे रहा था.ठकुराइन काफ़ी देर इसी अवस्था मे उससे चुदवाती रही, चूचियाँ मुँह मे बदलती रही. फिर वह खड़ी हो गयी और इस उसने एक पैर ज़मीन पर रखा और दूसरा पैर टेबल पर लंबा रखा और रणबीर के लंड से इस प्रकार पूरी तरह चोदि हुई चूत सटा दी और एक झटका दे फिर चूत मे ले ली. अब दोनो एक दूसरे की कमर मे हाथ डाल चुदाई कर रहे थे.ओह… रणबीर खूब ज़ोर से मारो मेरी…. श… ऐसे ही …रणबीर खूब ज़ोर से मारो मेरी… हाआँ ओह मे तो जाने वाली हूँ.. आज जी भर कर पानी छोड़ूँगी…..बहोत दिन से जमा हो रखा है.. वो सला जंगल मे शिकार का दीवाना है… घर का शिकार उसे कहाँ दिखता है… ये शिकार अब तेरा है रे…खूब मज़ा ले ले कर शिकार कर इसका… ओह मालती देख मेरा गिर रहा है.. ” और ठकुराइन ख़ालास हो गयी.

ठीक उसकी समय रणबीर के भी लंड ने ठकुराइन की चूत को अपने वीर्या से भर दिया.कुछ देर बाद मालती रणबीर को पहले वाले कमरे मे ले गयी, वहाँ रणबीर ने अपने कपड़े पहने और अपनी बदूक और गोलियों का पट्टा उठा अपने कमरे मे चला गया.दूसरी रात रणबीर आधीर हो उठा. उसकी नज़रें बार बार हवेली की तरफ उठ जाती की कहीं मालती चाची आते हुए दीखाई दे जाए.आख़िर वो करीब 10.30 के करीब आई. आज कोई बात नही हुई और रणबीर अपने आप उसके पीछे चल पड़ा.आज मालती सीधे उसे उस कमरे मे ले गयी जो मधुलिका के लिए तय्यार हुआ था. रजनी पलंग पर एक नाइटी मे बैठी थी.”आओ ठाकुर, मेरा मतलब ठाकुर के ख़ासमखास. क्यों हमारी याद ने कुछ बैचैन किया या नही?” ठकुराइन ने कहा.”ठकुराइन में तो दो घंटे से हवेली की तरफ ही देख रहा था की कब मालती चाची आए और …..फिर इस जगह पर ले कर आए.” रणबीर ने ठकुराइन के सामने झुकते हुए कहा.”अगर ऐसी बात है तो हम तुम्हे ज़रूर इसका इनाम देंगे. पहले तुम यह सब वर्दी, बंदूक, उतार कर आराम से बैठो.” ठकुराइन ने कहा.रणबीर ने अपनी ड्यूटी का सब साजो सामान उतार कर एक खाली पड़ी कुर्सी पर रख दिया. अब वह बनियान और पॅंट मे था.”अब इसे भी उतार दो. क्यों आज भी हमारी शरम आ रही है, अंदर कुछ तो पहना होगा? यदि नही पहना है तो भी चलेगा.’ ठकुराइन हंसते हुए बोली.”रजनिज़ी मेरा मतलब है ठकुराइन में लंगोट का साथ कभी नही छोड़ता.” फिर रणबीर ने पॅंट भी उतार कर बाकी के कपड़ों के ढेर पर फेंक दिया. कमर मे लंगोट बहोत ही कस के बँधी हुई थी. उसके लंड का उभार लंगोट से सॉफ दीखाई पड़ रहा था.ठाकुरानी ने एक हल्की सी सिसकी से होंठ काटे और कहा, “रजनिज़ी या फिर तुम चाहो तो केवल रजनी कह के भी बुला सकता हो, हम लंगोट का भी साथ छुड़वा देंगे. रजनी मल्टी की तरफ देख के हँसी और मालती ने भी मुस्कुरकर साथ दिया.”रजनिज़ी आप मालिकिन हो. में तो आपका हुकुम का गुलाम हूँ.””ऐसे ही हुकुम का गुलाम बने रहोगे तो इनाम भी पाओगे.” रजनी ने इनाम शब्द पर ज़ोर देकर रणबीर की आँखों मे झँकते हुए कहा.तभी रजनी पलंग से ये कहते हुए उठ खड़ी हुई की पहले हम स्नान करेंगे.”चलो तुम दोनो भी मेरे साथ स्नान घर मे चलो.”

फिर तीनो बाथरूम मे आ गये. एक बड़े कमरे जितना बड़ा होगा वह बाथरूम. दो बड़े लंबे टब थे, काई नल लगे थे. उपर दो शवर थे और दो ही हॅंड शवर थे.एक ओर दीवार पर बड़ा आईना लगा हुआ था. दोनो बाथ टब के बीच एक आलीशान छोटी आल्मिराह बनी हुई थी जो तरह तरह के बॉटल से भरी हुई थी.बाथरूम मे स्टील और पीतल के कई रोड लगी हुई थी. कपड़े टाँगने के लिए. वहीं कई हॅंगर भी झूल रहे थे, काई तोलिये टँगे थे उन पर. तभी रजनी ने मालती की सारी के पल्लू का एक छोर थाम लिया और उसे खींचने लगी. जैसे जैसे रजनी खींचती चली जा रही थी वैसे वैसे ही मालती घूमने लगी और रजनी ने सारी एक रोड पर टाँग दी.रणबीर पास ही खड़ा मौन हुए सब कुछ देख रहा था. पेटिकोट मे मालती के बड़े छूतदों का वह जयका ले रहा था. फिर रजनी मालती का ब्लाउस के हुक खोल उसे भी उसके शरीर से अलग कर दिया. मालती के पिंजरे मे क़ैद कबूतर फाड़ फाड़ने लगे.रजनी कुछ देर मालती की ब्रा मे कसी चुचियों ब्रा पर से ही दबाती रही.”आओ तुम भी अपनी चाची के इन पर हाथ लगा के देखो.” ठाकुरानी मालती की चुचियों को दबाते हुए बोली.रणबीर मंतरा मुग्ध सा मालती की छातियों पर हल्के हल्के हाथ फेरने लगा. तभी रजनी ने नीचे अपना एक हाथ रणबीर की लंगोट के उभार पर रख दिया और जैसे वह मालती की चुचियों पर हाथ चला रही थी वैसे ही लंगोट के आगे के उस उभार पर हाथ चलाने लगी.”है रजनिज़ी वहाँ हाथ मत लगाइए, कैसा कैसा लग रहा है.” रणबीर ने मालती की दोनो चूंचियों को ब्रा के उपर से जाकड़ पीछे हटते कहा.फिर रजनी की पहुँच से उस हिस्से को दूर करते हुए वह मालती के पीछे सॅट गया और मालती की गांद पर उत्तेजना से दबाव देने लगा.”हूँ तो तुम अपनी चाची की गांद के दीवाने हो गये हो, साली मालती तेरी गांद ने इस पर क्या जादू कर दिया है रे?” ये कह के रजनी ने मालती का पेटिकोट का नाडा खींच दिया और वह मालती के पैरों मे गीर पड़ा. मालती ने रोज़ की तरह कोई पॅंटी नही पहनी थी और वो कमर के नीचे नंगी हो गयी.रजनी ने मालती की चूत पर हथेली जमा दी और वो ज़ोर से उसकी झाँते घिसने लगी.

तभी रणबीर ने भी थोड़ा पीछे हटते हुए मालती की ब्रा का हुक खोल दिया और उसे मदजात नंगा कर दिया. मालती भी अब कहाँ पीछे रहने वाली थी उसने भी रणबीर की बनियान उत्तर दी और फिर देखते देखते लंगोट की भी गाँठ खोल उसे हवा मे झूलते रोड पर टाँग दी.अब रणबीर भी मालती की तरह पूरा नंगा था. फिर मालती ने रजनी की नाइटी की डोर खोल पहले उसकी नाइटी उतारी और वह भी रजनी की गांद पर अपनी चूत रगड़ते हुए ठकुराइन के दोनो माममे ब्रा पर से सहलाने लगी.”ले साली अब में तेरी गांद अपनी चूत के दाने से मारूँगी, ले मेरा धक्का.” ये कह कर मालती रजनी की चुचियों दोनो हाथों मे भर मसालने लगी.”अरे भोसड़ी वाली पहले इन कपड़ों को तो उतार मेरे, चुभ रहे हैं. तब मालती ने रजनी को भी ब्रा और पॅंटी से छुटकारा दिला नंगी कर दिया. रणबीर अभी भी ठकुराइन की कुछ शरम कर रहा था और चुप चाप खड़ा उन्हे देखता रहा.तभी रजनी ने दोनो शवर चालू कर दिए. उपर लगे दोनो फुवरों से बड़ी वेग से पानी निकला और ऐसा लगा की एका एक मूसला धार बारिश शुरू हो गयी हो. रजनी ने मालती और रणबीर दोनो को शवर के नीचे खींच लिया और तीनों एक दूसरे के गले मे बाहें डाले काफ़ी देर तक वैसे ही उछल उछल कर शवर के पानी का आनंद लेते रहे. एक दूसरे के अंगों को छूते रहे सहलाते रहे पकड़ कर खींचते रहे.फिर रजनी ने शवर बंद कर दिया. अब रजनी और मालती रणबीर के नंगे जिस्म पर टूट पड़ी और उसके पानी छूटे जिस्म को ज़ोर ज़ोर से रगड़ने लगी. पीठ, पेट, नाभि चूतड़ पाँव जंघे सब जगह वो दोनो रगड़ रही थी और इस प्रकार रगड़ रगड़ कर ही रणबीर के बदन को सूखा दियारणबीर का लंड उत्तेजना के मारे रोड की तरह तन गया था. रजनी ने रणबीर का लंड मुती मे जाकड़ लिया और पास ही खड़ी मालती की गांद मे एक उंगल देते हुए कहा, “दे दूं इसे?””नही रजनी नही.. देख ना कैसे भाले की तरह तन गया है फिर फॅडवायानी है क्या मेरी.” मालती ने रजनी से दूर हटते हुए कहा.तभी रणबीर बाथरूम के बीच मे एक पारटिशन दीवार की तरफ जाने के लिए मुड़ा, रजनी ने फ़ौरन उसका हाथ पकड़ के खींचा तो रणबीर ने एक उंगल उपर उठा दी.”अभी नही अभी नही, हुकुम का गुलाम है ना तू तो बिना इजाज़त कुछ भी नही.”रणबीर असचर्या से खड़ा रहा, तभी रजनी रणबीर के सामने घुटनो के बल बैठ गयी और उसके लंड को सहलाने लगी. वो गोटियों को नीचे की और खींचती तो लंड और अकड़ जाता. तभी उसने मालती को इशारा किया और मालती भी रजनी के पास बैठ धीरे धीरे लंड को मुँह मे भरने लगी

मालती की मुँह मे लंड का सूपड़ा था और रजनी बे भी लंड के जड़ पर अपनी जीभ चलानी शुरू कर दी. रजनी उसके आंडों से भी खेल रही थी. जब मालती लंड को बाहर निकालती तब झट रजनी उसे मुँह मे ले चूसने लगती और जब रजनी मुँह से बाहर निकालती तब मालती उसे मुँह ले लेती. दोनो लंड के भूकी औरतें एक दूसरे से छीना झपटी करते हुए लंड चूस रही थी.रणबीर भी पूरी तरह उत्तेजित था पर उसे बहोत ज़ोर से पेशाब की हज़्जत भी हो रही थी. उसका बस चलता तो दोनो रंडियों के मुँह मे पेशाब कर देता.”ठकुराइन एक बार छोड़ दो,” रणबीर ने फिर एक अंगुल उपर कर गिड़गिदते हुए कहा.”अब डूबरा कहा तो इसे काट कर फैंक दूँगी. रजनी ने रणबीर के लंड को हिलाते हुए कुछ उँचे स्वर मे कहा.”रजनी बेचारे को जाने दो ना, देखो कितना फूल गया है.” मालती ने रणबीर के लंड को पकड़ कर कहा.”हूँ तो ये बात है, देख साली को दो दिन के भतीजे पर कितना रहम आया है. रणबीर दे इसके मुँह मे, भले ही इसके मुँह मे कर दें पर याद रहे लंड बाहर नही निकलना चाहिए.” रजनी ने रणबीर का लंड मालती के मुँह मे ठूनसते हुए कहा.रजनी की बात सुनकर और उस कलपाना मात्रा से रनबेर काफ़ी उत्तेजित हो गया और वह मालती के मुँह मे लंड अंदर बाहर करते हुए चूसने लगा. एक तो उसे पेशाब बहोत ज़ोर की लगी हुई थी, साथ ही पूरा जोश भी भरा हुआ था, पर जब तक वह पेशाब करके हल्का ना हो लेता तब तक वह कुछ कर पाने मे अपने आपको असमर्थ पा रहा था. उसनेमन बनाया की वह अब और नही रूकेगा और इस साली मालती चाची की मुँह मे ही कर देगा.उसका यह मन बनना था की वह धार जड़ से आगे बढ़ी, पर लंड पूरा तना हुआ था इसलिए मुत्रा का एक क़तरा पीचकारी के रूप मे मल्टी के मुँह छूटा. फ़ौरन मल्टी के मुँह का स्वाद नमकीन हुआ और उसने एक झटके से सर पीछे खींचा पर रणबीर को ठकुराइन की चेतावनी याद थी और उसने मालती के बॉल पकड़ उसके मुँह को अपने लंड पर दबा दिया. मालती की मुँहसे गों गों की आवाज़ीएँ निकालने लगी और वो रजनी की तरफ देखने लगी.मालती के मुँह के कोर से मुत्रा बहने लगा और रजनी समझ गयी की क्या हुआ है. उसने फ़ौरन मालती को एक तरफ धक्का देकर रणबीर का लंड अपने मुँह मे ले लिया.तभी रणबीर के लंड ने मुत्रा का दूसरा कतरा छोड़ा आरू रजनी लंड चूस्ते हुए गटक गयी.अब रजनी ने लंड मुँह से निकाल दिया पर अपने खुले मुँह से सिर्फ़ आधे इंच ही दूर रखा और रणबीर को इशारा केया. इशारा मिलने की देर थी की रणबीर के लंड से बड़े वेग से मुत्रा धार निकली.

रजनी उस मुत्रा धार को अपने मुँह मे ले गटाकने लगी. तभी उसने मालती को पकड़ अपने पास खींचा और उस मुत्रा धार का रुख़ मल्टी के चेहरे की तरफ कर दिया. मुत्रा की धार बड़े वेग से मालती के गालों और फिर होठों से टकराई.साली मुँह खोल, एक बूँद भी नीचे नही गिरनी चाहिए.” रजनीचिल्लाई.मालती ने मुँह खोल दिया. रणबीर पूरा उत्तेजित हो गया. उसने मालती का चेहरा अपने लंड पर दबा दिया और उसके हलाक मे मुत्रा धार उंड़ेलने लगा. फिर उसके क्या मन मे आया की उसने एक झटके से लंड मालती के मुँह से निकाल उसका रुख़ रजनी के चेहरे की तरफ कर दिया और उस मालकिन ठकुराइन के गालों पर , सर पर, चुचियों पर मुत्रा की धार छोड़ने लगा.रजनी को इसमे मज़ा आने आ रहा था, उसने अब लंड खुद पकड़ लिया और जहाँ चाहती उधर रुख़ कर देती. कभी अपनी तरफ तो कभी मल्टी की तरफ. ढेरे धीरे मुत्रा कुछ रुक रुक के आया और फिर बंद हो गया.रजनी और मालती दोनो फर्श पर बैठी हुई थी. रजनी ने एक हॅंड शवर उठाया और उसे चालू कर दिया. अब थोड़ी देर पहले वह जिस तरह मूत्र स्नान कर रही थी अब उसी तरह स्नान करने लगी. कभी शवर का रुख़ अपनी तरफ करती तो कभी मालती की तरफ. तभी उसने रणबीर को खींच कर नीचे बिठा लिया और तीनो उस हॅंड शवर का फुआराओं का मज़ा लेने लगे.रणबीर ने मालती को गोद मे खींच के उसका सर अपनी छाती पर रख लिया और अपनी दोनो पैर उसकी जांघों के उपर से ले मालती की टाँगे पूरी फैला दी. अब वह शवर का घोल मुँह ठीक मालती की चूत पर टीका दिया. पानी के फुवरे बड़ी वेग से मालती की चूत के अंदर छूटे.यह सीन देख रजनी पूरी गरम हो गयी और वह उठी और अपनी दोनो टाँगे छोड़ी कर मल्टी के मुँह मे अपनी झांतो भारी चूत तूसने लगी. मालती ने भी अपनी जीभ प्यारी सहेली ठकुराइन की चूत मे दे दी.

तभी रजनी ने दोनो हाथ की उंगलियाँ अपनी चूत के उपरी भाग यानी मूट छेद के बाजू बाजू रखी और चुर्र्रर छुउर्र्र कर के मालती के मुँह मे मूतने लगी. मालती ने मुँह वैसे ही खुला रखा और ठकुराइन के मूत को गटाकने लगी. फिर रजनी वैसे ही मूतते मूतते आगे बढ़ी और उसकी चूत रणबीर के मुँह पर मुत्रा धार छोड़ रही थी. रंजनी ने रणबीर के मुँह को अपनी चूत पर दबाया और ठकुराइन की इक्चा समझ रणबीर ने मुँह खोल दिया और अब वह ऱाज्नि का मुत्रा पान कर रहा था.दो दो जवान नंगी औरतें, एक गोद मे पड़ी हुई और दूसरी चूत चौड़ी कर के उसके मुँह मे चुर्र चुर्र करके मूत रही थी. रणबीर का लंड लोहे के जैसे सख़्त हो गया. रजनी की धार अब बंद हो गयी. उसकी चूत से आखरी के कुछ वेग से मूत्र के छींटे निकले और वह चूत को रणबीर के मुँह पर बेतहाशा रगड़ने लगी. उसने वहीं से बैठना चालू किया और मालती रणबीर की गोद से उठ गयी.अब रजनी रणबीर की तरफ मुँह कर अपना होडा उसकी गोद की तरफ बढ़ा रही थी, रजनी का विशाल होडा सीधा रणबीर की गोद मे इस तरह आया की ठकुराइन की चूत सीधे खड़े लंड पर आ गयी.ठकुराइन जैसे ही पूरी बैठी, उसकी चूत मे रणबीर का लंड खच से अंदर घुस गया. लंड को वैसे ही चूत मे रखे रजनी ने रणबीर की कमर बाहों मे जाकड़ ली और थोड़ा आगे बढ़ते वह घुटने मोड़ लंड पर उपर नीचे होने लगी. रजनी ने रणबीर के होंठ अपने मुँह मे ले लिए और उन्हे खूब ज़ोर से चूसने लगी, काटने लगी.रणबीर की बालों भारी छाती पर वह अपनी चुचियों रगड़ रही ती.बीच बीच मे वह थोड़ी उपर उठ पानी चुचि रणबीर के मुँह मे भी दे देती थी. नीचे एक दम खड़े लंड से उसकी चूत चुद रही थी.”मालती मेरी जान आ रे!! मेरे मुँह मे अपनी चूत दे ना, हे जब तक तेरी चूत का स्वाद ना लूँ मज़ा ही नही आता. “मालित उठी और टाँगे फैला दोनो के बीच इस तरह खड़ी हो गयी की उसकी गांद का छेद रणबीर के मुँह के सामने था और चूत का छेद रजनी के मुँह के सामने था. नीचे चूत की चुदाई बदस्तूर जारी थी. मालती के दोनो छेदों पर दो जीभों ने लगभग एक ही समय मे धावा बोल दिया. रजनी की जीब चूत को चाटते हुए चूत मे घुस रही थी जबकि रणबीर की जीभ पहले उसकी गंद का गोला चाटा फिर गंद के अंदर घुसने लगी.”चल री तू भी शुरू हो जा, देखें तेरी चुरर्र चुरर्र की आवाज़ कैसीए लगती है. एक बार मालती का शरीर ज़ोर से आकड़ा और दूसरे ही पल उसकी चूत से बड़े वेग से मुत्रा धार रजनी के खुले मुँह मे गिरने लगी. मालती की चूत सिटी बजाने की आवाज़ के साथ मुत्रा धार छूटते रही.रजनी ने अपना मुँह मालती की चूत पर कस के दबा दिया और अपनी उस काम करने वाली का मूत बिना उँछ नीच का विचार किए वह कामतूर ठकुराइन गटक गटक के पीने लगी.तभी रजनी ने मालती को फुर्ती दीखाते हुए घूमा दिया जिससे की मालती की गांद रजनी के स्सामने आ गई और चूत ठीक रणबीर के मुँह के सामने. मालती की चूत से पेशाब की धारा वैसे ही निकल रही थी. रणबीर ने भी पूरा मुँह खोल के मालती चाची की चूत पर रख दिया और वह मुत्रा धार रणबीर के तालू से टकराते हुए गले के नीचे गिरने लगी.उधर रजनी मालती की गांद कस कर चाट रही थी. चूत को मूत छेद को चित्राते हुए अपनी सहेली को रणबीर के मुँह मे मुता रही थी.”है है में जा रही हूँ ….. रणबीर मेरे राजा……..” रजनी अब बहोत ज़ोर से हाँप रही थी. उसने मालती की गंद कस के अपने मुँह मे दबा ली थी. वह थोड़ी उपर होकर शरीर को झटके से ढीला छोड़ रही थी जिसके फल स्वरूप रणबीर का लंड उसकी चूत मे जड़ तक धँस जाता.श ठकुराइन ज़रा धीरे… ऑश रजनिज़ी… रजनी ज़रा धीरे… ओह मैं . भी झाड़ रहा हूँ….. ओह रजनी मेरी रानी.. मेरी जान.. ” रणबीर ने एकि झटके से मालती चाची को अपने और ठकुराइन के बीच से हटा दिया. अब उसने रजनी को ज़ोर से अपनी छाती से चिपका लिया, उसके चूतड़ अपने हाथों मे कस लिए और उसके छूतदों को अपने लंड पर ज़ोर ज़ोर से पटाकने लगा और धीरे धीरे रफ़्तार कम पड़ती गयी और दोनो बिल्कुल शांत हो एक दूसरे को जाकड़ फर्श पर कई देर तक वैसे ही बैठे रहे.

फिर रजनी उठी और आदम कद बाथ टब मे जा लेट गयी. उसने गरम पानी और ठंडे पानी का नाल चालू कर दिया. फिर एक हाथ बढ़ा उस आल्मिराह से दो बॉटल निकली और बारी बारी से दोनो बोतलों से कुछ द्रव उस पानी मे डाला. धीरे धीरे पानी का लेवल बाथ टब मे उँचा उठ रहा था. रजनी पानी को दोनो हाथों से छपका रही थी और देखते देखते झाग उमड़ने लगे और रजनी गले तक झागों से धक गयी.रजनी ने मालती को इशारा किया और वह भी एक फोम लेके बाथ टब मे घुस गयी और वह फोम ठकुराइन के शरीर पर रगड़ने लगी. बीच बीच मे रजनी वह फोम ले लेती और वह भी मालती के शरीर के हर भाग पर वह फोम रगड़ती. रणबीर भी बात टब के साइड मे आके बैठ गया और ठकुराइन की चुचियों हाथों से रगड़ने लगा. तभीरजनी बात टब मे पलट गयी और मालती ने ठकुराइन की गंद पर ज़ोर ज़ोर से फोम रगाड़ना चालू कर दिया.रजनी काई देर फोम रगद्वति रही. फिर उसने मालती को बाहर कर रणबीर को अंदर खींच लिया.अब फोम रजनी ने ले लिया और उसने रणबीर की पीठ, हाथ, पाँव गांद लंड सब उस फोम से आक्ची तरह रगड़ रगड़ सॉफ किया. फिर रणबीर भी काई देर कभी हाथों से कभी उस फोम से अपनी प्यारी ठकुराइन को नहलाता रहा.फिर दोनो फर्श पर आ गये. तीनों का शरीर झगों से धड़ा हुआ था, बाहर भी काफ़ी देर तक तीनो एक दूसरे के शरीर के हर भाग को कभी हथेलियों से तो कभी झाग से रगड़ रहे थे.फिर रजनी ने दोनो उपर के फवारे भी चालू भी कर दिया और दोनो हॅंड शवर भी चालू कर दिए. तीनों एक दूसरे पर हॅंड शवर के धार छोड़ते हुए काफ़ी देर नहाते रहे.फिर शवर बंद कर तीनो उठे और फुर के मुलायम टवल से एक दूसरे के बदन पौंचने कर सुखाने लगे. तब रजनी ने आल्मिराह से एक खास बॉट्टेल निकली और ढेर सारा तेल पहले रणबीर के सिर पर फिर मालती के सिर पर और खुद अपने सिर पर अंडर वह बॉटल वापस रख दी. वह बहोट ही सुगंधित और चिकना तेल था. फिर तीनो एक दूसरे के शरीर मल मल के शरीर का हर भाग पर उस तेल की मालिश करने लगे. वह तेल बहोत ही चिकना और मालिस करते वक्त शरीर पर एक जगह हाथ टिक नही रहे थे.”साली तेरी गांद का तो तेरे भतीजे ने कबाड़ा कर दिया है,” रजनी ने तेल से मालती के चूतड़ के मालिश कर हुए खच से एक उंगल गांद के अंदर धकेलते हुए कहा.”और तहकुराइन आप तो कहते है की ठाकुर साहेब का ठीक से खड़ा भी नही होता, फिर या क्या है?” इस बार रणबीर ने ठकुराइन की गांद मे उंगल देते हुए पूछा.ये उस चिकने तेल का कमाल था की गंद के पर उंगल रख थोड़ा दबाते ही उंगल खच से अंदर चली जाती थी.तीनो इस तरह के देर खुल के मज़ाक करते रहे और मज़ा लेते रहे.

loading...

Leave a Reply