जानते है उन्हें क्या चाहिए – सेक्स

आप सबके लनद और चूत उमीद के मुतबिक मेरि 2नो कहानिया अब्बु और भै परत 1 और 2 दोनो को आप सबने बहुत पसनद किया तो दोसतोन आप सबकि खिदमत मे एक बार फ़िर से आरज़ू हाज़िर है और इस बार मैन आप सबको बताति हून कि अब्बु और भै ने मुजसे जो वादा किया था वो कैसे पूरा किया मतलब मुझे 4 आदमियोन से चुदवाने का उसे कैसे पूरा किया हान तो अब अपने अपने लनद और चूत थाम ले कयून कि उस दिन मुझे जब अब्बु और भै ने साथ साथ चोदा था तब से मेरि चूत बहुत दरद कर रहि थि मगर मैने फ़िर भि हिम्मत नहि हारि और आखिर 4 दिन बाद हि अब्बु अपने साथ 2 आदमि लेकर आय और मुझे बुला कर कहा बेति आज जलदि से खाना वगेरा खा लो और फ़िर भै को लेकर मेरे रूम मे आओ मैन समझ गयि थि कि साला आज मेरि ननहि सि बुर को फ़दवकर मानेगा और मैन मन हि मन खुस हो रहि थि कि आज आखिर मैन 4 जन से एक साथ चुदवाउनगि कयूनकि जब से मैने ब/फ़ मे एक अपने से भि कम अगे कि लदकि को 4 लोगोन से चुदाते देखा था तब से हि मेरे मन मे भि ये खवाइश हो गयि थि और रात का खाना खाने के बाद अब्बु ने उन दोनो से कहा कि आज तुम लोग मेरि बेति कि चूत का मज़ा लेना और अब अपने कपदे उतार दो वो लोग अब्बु के खने पर अपने सारे कपदे उतार कर सिरफ़ कछि मे रह गये मैन उन लोगोन के लनद के उभार को कपदे के उपर से साफ़ महसूस कर रहि थि और फ़िर मैन भि रूम मे आयि तब अब्बु ने कहा अर्रे मेरि चुद्दो रानि चुदवाने भि आयि हो और कपदे भि नहि उतारे तब मैन बोलि कि यार चुदाने का मज़ा तभि आता है जब चोदने वाला अपने हाथ से कपदे उतारे और फ़िर अब्बु ने मेरि समीज़ उतार दि मैन सिरफ़ बरा और सलवार मे रह गयि

अपने अबू से चुदाई की

आप सबके लनद और चूत उमीद के मुतबिक मेरि 2नो कहानिया अब्बु और भै परत 1 और 2 दोनो को आप सबने बहुत पसनद किया तो दोसतोन आप सबकि खिदमत मे एक बार फ़िर से आरज़ू हाज़िर है और इस बार मैन आप सबको बताति हून कि अब्बु और भै ने मुजसे जो वादा किया था वो कैसे पूरा किया मतलब मुझे 4 आदमियोन से चुदवाने का उसे कैसे पूरा किया हान तो अब अपने अपने लनद और चूत थाम ले कयून कि उस दिन मुझे जब अब्बु और भै ने साथ साथ चोदा था तब से मेरि चूत बहुत दरद कर रहि थि मगर मैने फ़िर भि हिम्मत नहि हारि और आखिर 4 दिन बाद हि अब्बु अपने साथ 2 आदमि लेकर आय और मुझे बुला कर कहा बेति आज जलदि से खाना वगेरा खा लो और फ़िर भै को लेकर मेरे रूम मे आओ मैन समझ गयि थि कि साला आज मेरि ननहि सि बुर को फ़दवकर मानेगा

और मैन मन हि मन खुस हो रहि थि कि आज आखिर मैन 4 जन से एक साथ चुदवाउनगि कयूनकि जब से मैने ब/फ़ मे एक अपने से भि कम अगे कि लदकि को 4 लोगोन से चुदाते देखा था तब से हि मेरे मन मे भि ये खवाइश हो गयि थि और रात का खाना खाने के बाद अब्बु ने उन दोनो से कहा कि आज तुम लोग मेरि बेति कि चूत का मज़ा लेना और अब अपने कपदे उतार दो वो लोग अब्बु के खने पर अपने सारे कपदे उतार कर सिरफ़ कछि मे रह गये मैन उन लोगोन के लनद के उभार को कपदे के उपर से साफ़ महसूस कर रहि थि और फ़िर मैन भि रूम मे आयि तब अब्बु ने कहा अर्रे मेरि चुद्दो रानि चुदवाने भि आयि हो और कपदे भि नहि उतारे तब मैन बोलि कि यार चुदाने का मज़ा तभि आता है जब चोदने वाला अपने हाथ से कपदे उतारे और फ़िर अब्बु ने मेरि समीज़ उतार दि मैन सिरफ़ बरा

और सलवार मे रह गयि तब मैने कहा कि अब्बु भै कहान है अभि तक आया नहि अब्बु ने कहा अभि अ जायेगा साला मूतने गया है और फ़िर उन दोनो अज़नबियोन ने मेरे बरा के उपर से हाथ लगा कर मेरि चूचि को दबाने लगे अब्बु पीचे से मेरि गानद पर अपना लौदा रगद रहे थे हलाकि अभि हुम लोग अपने कपदोन मे हि थे तब हि मैने देखा कि भै मूतने के बाद अपना ननगा लनद हाथ मे पकद कर हिलाता हुअ चला आ रहा है और आते हि मेरे हाथ मे देकर बोला रानि इसे शलाओ ज़रा तब अब्बु ने कहा अब सब लोग फले अपने कपदे उतारो और फ़िर सब जने पूरि तराह से बिलकुल ननगेय हो गये तब भै ने सबसे फले अपना लनद मेरे हाथ मे पकदाते हुए कहा सालि इसे शला फले और फ़िर देकते हि देखते 4रो जन मेरे सामने अपने ।।।

अपने खदे लनद को ले आय और अब मैन ज़मीन पर घुतनोन के बल बैथि 4रो के लनद से खेल रहि थि कभि अब्बु और भै का लनद थाम रहि थि तो कभि उन 2नो अज़नबि का और फ़िर उन दोनो ने कहा अब हुम 2नो एक साथ इसके मुह मे अपना लनद दालेनगे तब अब्बु ने कहा हान हान कयून नहि और अब्बु कि इस बात पर मैन गुस्सा हो गयि मैने कहा कया बाप का माल है

जो एक साथ 2 लोग दालोगे मेरे मुह मे ये मेरा मुह है कोइ तुम लोगोन कि अम्मा का भोसदा नहि जो एक साथ मेरे मुह मे दालोगे तब अब्बु ने कहा बेति तुने हि तो कहा था कि 4 जन से एक साथ चुदाना है अब किसलिये घबरा रहि है तब मैने कहा मगर अब्बु मेरा मुह तो चोता सा है तब अब्बु ने कहा बेति तेरि तो चूत भि बहुत चोति थि मगर याद है ना किस तराह से मैने और तेरे भै ने अपने अपने लनद एक साथ हि तेरि तनग चूत मे दाले थे और तुझे कितना मज़ा आया था

चल अब मुह खोल और घुसवा ले मुह मे दोनो के लनद को और फ़िर वो दोनो मेरे मुह के पास लनद लकर अनदर दालने लगे और मैन अराम।।।अराम से अनदर लेने कि कोसिस कर रहि थि तब हि अब्बु ने पीचेय से गानद मे उनगलि कर दि तब मैन चीखने के लिये जैसे हि मुह खोलि कि उन दोनो के लनद घप्प से मुह मे घुस्स गये और अब अब्बु मेरि गानद मे उनगलि कर रहे थे और उन दोनो का लनद मेरे मुह मे पूरा पूरा चला गया था और मेरा भै अपना एक हाथ मेरि चूचि पर रख कर दूसरे हाथ से मेरि चूत को शला रहा था इस तराह से मुझे चारो तरफ़ से मज़ा हि मज़ा मिल रहा था और मेरे मुह से गूऊन गून कि अवाज़ निकल रहि थि तब हि उन दोनो ने धक्कोन कि रफ़तार को बदा दिया और आगेय से भै ने भि अपनि उनगलि खचाक से मेरि चूत मे घुसेद दि और अब्बु तो फले से हि गानद मे उनगलि दाले बैथे थे तब हि मेरि चूत ने पानि फ़ेका जिसे मेरा बुर चत्ता भै अपनि जबान निकाल कर चतने लगा और यहि वो वकत था जब उन 2नो का लनद एक साथ मेरे मुह मे झद गया और मैन उन दोनो के नीचेय लतकते हुए अनदू को शलाते हुए लनद का एक एक कत्रा चूस रहि थि उनका माल बहुत गादा था और खुसबूदार भि था पता नहि साले कया लगाय हुए थे लनद पर और फ़िर वो 2नो अलग हो गये और भै भि मेरि चूत चात कर एक तरफ़ हत गया मगर अब्बु अभि भि लगे हुए थे ऐर फ़िर अब मैन भि अपनि गानद को आगेय पीचेय करते हुए उनकि उनगलि का मज़ा लेने लगि और कुच देर बाद हि अब्बु उनगलि करते हुए थक गये और

एक तरफ़ हो गये कुच देर हुम लोग वैसे हि लेते रहे फ़िर अब्बु ने कहा अब भै चुदायि कि जाय बहुत खेल हो गया और फ़िर से सब लोग तययर हो गये तब अब्बु से मैने कहा अब्बु जि 4 लोग एक साथ कैसे चोदेनगे कुओनकि 2 लनद तो मेरि चूत झेल लेति है पर 4 एक साथ तो मेरा अम्मा भि नहि झेल पायेगि तो मेरि कया औकात? तब अब्बु हसने लगे और बोले बेति तेरि अम्मा तो नहि पर हान मैने तेरि ननि को ज़रूर 4 लनद एक साथ खिलाय है तब मैने कहा कया मतलब आपने अपनि सास को चोदा है? उनहोने कहा हान कै बार चोदा है सालि तेरि अम्मि से जयादा मज़ा देति है खैर उसकि बात कभि फ़िर बताउगा अभि तो तेरि चूत कि खाज़ मितानि है और ये ख कर भै से कहा तुम सेहत मे सबसे अछे हो तुम हि नीचेय लेतो कयूनकि 4 जन का वज़न तुमहारे उपर हि आयेगा तब भै ने कहा अब्बु मेरि गानद कययन फ़दवाने पर तुले हो एक एक करके हि चोद लेते है ना तब अब्बु ने कहा साले बहन चोद खालि चोदने के लिये लनद हाथ मे लेकर आ गया था अब गानद फ़ति जा रहि है चल

जैसा खता हून कर नहि तो अभि तेरि गानद अपना लनद दालकर फ़ाद दालुनगा और फ़िर भै ज़मीन पर लेत गये तब अब्बु ने कहा बेति अब अपने भै के लनद पर इस तरह से झुक्क कर लेतो कि पीचे से एक आदमि का लनद दालने कि गुनजाइश और रहे और मैन भै का लमबा लनद अपनि चूत के मुहाने पर रख कर बैथ गयि अभि भै का लनद अनदर नहि गया था तब हि एक अज़नबि और आया और मेरे पेरेचेय से भै कि जानघोन पे बैथते हुए मेरे चूत के मुहाने से लनद तिका कर बोला कि अब तैयार हो जाओ हुम लोग धक्का मारने जा रहे है और फ़िर एक घाअप कि अवाज़ के साथ हि उन दोनो के मोते लनद मेरि चूत को एक साथ फ़ादते हुए पूरा का पूरा अनदर घुस्स गया मुझे बहुत दरद हो रहा था मैन आआआआआआअह्हह्हह्हह्हह्हह्हह आआआआआआआअह्हह्हह आआआआआआअह्हह्हह्हह्हह्हह अम्मीईईईईईईईइ मर गयीईईईई बचाओ आआआआआअह्हह्हह्हह्ह कर रहि थि कि तभि आगेय से एक अज़नभि और आया और मेरे भै के सीने पर बैथता हुअ मेरे होथोन को अपने होथ मे रख कर चूसने लगा और मेरि चूचि को भि मसलने लगा इस तराह से मुझे कुच राहत हुइ और अब मैने भि अपने 2नो हाथ उसकि गरदन मे दाल कर उसके होथ चूसने लगि और अब तो मुझे बहुत हि मज़ा आने लगा मैने अब्बु से कहा आआआआआआआआह्हह्हह्हह्हह आआआआआआआआआआअह्हह्हह्हह हाआआआआआआआअययययययययी आबूऊऊऊऊऊऊउ बहुत मज़ा आ रहा है पलज़्ज़ज़्ज़ज़्ज़ज़्ज़ आप भि कुच किजिये खालि किसलिये खदे है तब अब्बु ने कहा सालि 2।।।2 लनद चूत मे लिये है और तेरे होथ भि खालि नहि है ये साला भदवा तेरे होथ भि चूस रहा है और चूचि भि दबा रहा हैमैन कया करून तब मैन उस्से अपने होथ चुदाते हुए बोलि कि आओ और मेरे मुह मे दाल दो अपना लनद और फ़िर अब्बु ने अपना लनद मेरे मुह मे दाल दिया और कुच देर बाद हि मेरि बुर मे और मुह मे एक साथ हि उन सबके लनद का रस गिरा और मैन बुरि तराह से थगक चुकि थि उसके बाद अब्बु जो जयादा मज़ा नहि ले पाय थे उनहोने अकेले हि मेरि गानद मारि और उन 3नो के बरबर का मज़ा अकेले हि दिया तो दोसतोन कैसे लगि इस बार कि कहानि मैल करना मत भूलियेगा और हान अब्बु और उनकि सानस कि कहानि भि मैन आप सबको बताउनगि कययोनकि इतस मी सतयलीईईईईईई

यदि घर में एक अदद भाभी हो तो मन लगा रहता है। उसकी अदायें, उसके द्विअर्थी डॉयलोग बोलना, कभी कभी ब्लाऊज या गाऊन में से अपने सुडौल मम्मे दिखाना… दिल को घायल कर देती है। तिस पर वो हाथ तक नहीं धरने देती है। भाभी की इन्हीं अदाओं का मैं कायल था। मेरी भाभी तो बस भाभी ही थी… बला की खूबसूरत… सांवला रंग… लम्बाई आम गोवा की युवतियों से काफ़ी अधिक… होगी लगभग पांच फ़ुट और छ: इन्च… भरे हुये मांसल उरोज… भारी से चूतड़… मन करता था बस एक बार मौका मिल जाये तो उसे तबियत से चोद दूँ… पर लिहाज भी तो कोई चीज होती है। बस मन मार कर बद मुठ्ठ मार लेता था। भैया भी अधिकतर कनाडा ही रहते थे। जाने भाभी बिना लण्ड खाये इतने महीनों तक कैसे रह पाती थी।

बहुत दिनों से भाभी पापा का पुराना मकान देखना चाहती थी… पर आज तो उन्होंने जिद ही पकड़ ली थी। सालों से वो हवेली सुनसान पड़ी हुई थी। मैंने नौकरों से कह कर उसे आज साफ़ करने को कह दिया था। टूटे फ़ूटे फ़रनीचर को एक कमरे में रखने को कह दिया था। लाईटें वगैरह को ठीक करवाने को इलेक्ट्रीशियन भेज दिया था। दिन को वहाँ से फोन आ गया था कि सब कुछ ठीक कर दिया गया है। वैसे भी वहां चौकीदार था वो घर का ख्याल तो रखता ही था। उन्होंने बताया बाहर चौकीदार मिल ही जायेगा, चाबी उससे ले लेना।

loading...

Leave a Reply