छोटी बहन के साथ चुदाई part 8

विडियो बंग्ला में था, पर हम दोनों बंगाली समझते हैं। किशनगंज बंगाल के पास हीं है और यहाँ बहुत सारे बंगाली परिवार हैं। फ़िल्म में गाँव-देहात से छः जवान कमसीन लडकियों को कुछ लोग लाए थे और कोठे पर उनका सौदा कर रहे थे। दो लडकियाँ साड़ी में थीं, तीन सलवार कुर्ते में और एक फ़्राक पहने हुए थी। लड़कियाँ अलग कमरे में थीं। जब वो लोग अपना पैसा ले कर चले गए तब, एक आदमी, जो उम्र में ४२-४३ तो कम से कम जरुर था, लडकियों वाले कमरे में आ कर उनको बताया कि उनके साथ के लोग चले गए हैं और अब उन सब को यहीं रहना होगा और मर्दों के साथ धंधा करना होगा। चार तो चुप रही, पर दो लडकियों ने हंगामा शुरु कर दिया। दोनों बहनें थे, और उनकी बात-चीत से पता चला कि उनका नाम नसरीन (साडी वाली) और जुबैदा (फ़्राक वाली) है। उस मर्द ने उन दोनों को समझाया कि उनको कोई परेशानी नहीं होगी, और फ़िर बाकी लड़कियों का उदाहरण भी दिया कि वो सब कैसे शान्त है, पर वो दोनों बहन तो पूरा नाटक कर रही थी। हल्ला सुन कर उस कमरे में दो और मर्द आ गए। वो दोनों भी उम्र में ३६-३८ के दिख रहे थे। उनके साथ मासीमा अर्थात मौसी (कोठे की मालकिन) भी थी। उस औरत ने भी उन्हें खुब समझाया। उन दोनों को उनके मामा ने वहाँ ला कर बेचा था। उस औरत ने उनको समझाया कि उनका मामा उन दोनों के बदले जो रुपया ले कर गया है और उस रुपये से उसके घर में खुशहाली आएगी। वो दोनों भी समय-समय पर अपने घर रुपये भेज सकती है। पर जब वो दोनों किसी हाल में कुछ सुनने को तैयार नहीं हुई तो उसने अपना हुक्म जारी किया कि उन दोनों बहनों को तब तक चोदा जाए जब तक वो यह सब मान न लें और फ़िर वो वही कुर्सी लगा कर बैठ गई और आवाज दे कर सब के लिए चाय लाने को कहा। तीनों आदमी अब उन लड़कियों की तरफ़ बढ़े। तभी हिम्मत करके नसरीन जो बड़ी थी, करीब १९-२० की, उसने पास आते एक मर्द तो एक चांटा लगा दिया और उसके बाद तो उस मर्द ने गन्दी-गन्दी गालियाँ देते हुए ताबड़-तोड तीन-चार चाँटे नसरीन की गाल पर जड दिए और उसका गाल लाल कर दिया। नसरीन को अब दो मर्द पकडे थे और एक जुबैदा को अपने बाँहों में जकड़े हुए था। उन दोनों बहनों को बाकी की लड़कियों से अलग घसीट कर वो ले गए।

दोनों बहनें उनके चंगुल से छुटने के लिए तड़-फ़ड़ा रही थी। नसरीन बडी थी, और जब वो उनके हाथ से फ़िसली तो उसकी साड़ी उनके हाथों में ही रह गई और एक क्षण में हीं साडी उसके बदन से गायब हो गई थी। वो बगैर साड़ी के ही कमरे के दरवाजे की तरफ़ भागी। छोटी बहन जुबैदा ने जब अपनी बहन को चाँटे खाते देखा तो थोडा शान्त हो गई थी। उसको जो मर्द पकड़े था उसने उसकी छोटी-छोटी गोलाईयों को सहलाया, उसको लगा कि अब जुबैदा मान जाएगी सो उसने अपनी पकड़ ढ़ीली कर दी थी। जुबैदा ने मौके का फ़ायदा उठाया और उसके बाँहों से छूट कर कमरे के दरवाजे की तरफ़ भागी। दोनों बहने अब दरवाजा को खोलने की कोशिश में थी जो बाहर मासीमा ने बन्द कर दिया था। घबडाहट से दोनों से उसकी सिटकीनी खुल नहीं रही थी। तीनों मर्द अब मुस्कुराते हुए उन दोनों की तरफ़ बढे और फ़िर एक जो पहले नसरीन को चाँटा लगाया था, उसने पीछे से जुबैदा की फ़्राक पकड़ी और उसको अपने ताकत से फ़ाड़ दिया। जुबैदा की पीठ नंगी हो गई और वो अपने हाथों से अपनी छाती हो ढ़कते हुए कैमरे की तरफ़ घुमी। उसका फ़टा हुआ फ़्राक उसके बदन से फ़िसल कर नीचे गिर गया था और वो सिर्फ़ एक भूरे जँघिया मे अब खडी थी। गरीब घर की लड़की को ब्रा कहाँ से नसीब होता। वो अब अपनी बेबसी पर रोने लगी थी। नसरीन अब भी गाली दिये जा रही थी उन सब को। तीनों मर्दों ने अब जुबैदा की फ़िक्र छोड़ दी और उसकी बड़ी बहन नसरीन पर भिर गए। दो ने उसको खुब अच्छे से दबोच लिया और तीसरे ने उसके ब्लाऊज के बटन खोलने शुरु कर दिए। वो छ्टपटा रही थी, पर वो प्यार से खुब समय लेते हुए एक-एक कर उसके ब्लाऊज का बटन खोल रहा था। उसने अब बोला भी कि शान्त रहो नहीं तो तुम्हारा कपडा भी फ़ाड़ देंगे। उसने उसका ब्लाऊज अब उतार दिया था और नसरीन की पुरानी सफ़ेद ब्रा में से उसकी चुचियाँ चमकने लगी थी। तभी जब तक नसरीन समझे उसको पीछे से पकड़े हुए मर्द ने उसके ब्रा का हुक खोल दिया और जब वो पीछे मुड़ी तब तक उसका ब्रा निकल चुका था। वो खुब जोर से माँ की गाली बोली, और उसकी बात से सब हँस दिए और फ़िर से दो लोग उसको पकड कर अब उसकी चुचियों को जोर-जोर से दबाने लगे और वो दर्द से चीखने लगी थी।

पहले वाले मर्द ने, जो सबमें उम्र-दराज और शायद लीडर था, आगे बढ़ कर दीवार की तरफ़ मुँह करके खडी हुई जुबैदा को बालों से पकड़ कर अपनी तरफ़ खींचा। बेचारी को उम्मीद नहीं थी कि ऐसा कुछ होगा, सो वो दर्द से चीखी और अपने हाथों को अपनी चुचियों से हटा कर अपने बालों पर ले गई और फ़िर दर्द से बचने के लिए लडखडाते हुए उसके छाती से लग गई। मादरचोद कैमरा वाला, अब घुम कर उसके सामने आ गया था और उसकी छोटी-छोटी चुची के क्लोज-अप लेने लगा था। जुबैदा सांवली लड़की थी और उसकी छाती पर गहरे बूरे रंग का निप्पल था। बिल्कुल सपाट पेट और एक छोटी सी नाभी। फ़ीगर के नाम पर होगा करीब ३२-२२-३२ जैसा कुछ, पाँच फ़ीट दो ईंच के करीब लम्बी थी। उसके काँख के घुंघराले काले बाल अब खुब साफ़ दिख रहे थे, जब उसका हाथ उसके सर पर उसकी चोटी को संभालने में लगा हुआ था। उस मर्द ने उसको लगभग घसीटते हुए बिस्तर पर लाया और फ़िर एक जोर के धक्के से उसको बिस्तर पर गिरा कर उसकी टांगों को पकड़ कर उसको सीधा पलट दिया। जुबैदा अपने टांगों को झटक रही थी, जिससे की वो उसकी गिरफ़्त से छूट सके। पर वो सब मर्द तो ऐसी कई कलियों को रंडी बना चुके थे, सो वो बेचारी कहाँ से छूट पाती। उसको बिस्तर पर तड़फ़डाते हुए देख कर अब उन दोनों ने भी उसकी बहन नसरीन को उठा कर वहीं उसी बिस्तर पर पटक दिया। वो दोनों बहने अब पूरी तरह से घबडा गई थी और अब चुप हो कर दोनों एक दुसरे से चिपक गई। उन मर्दों ने उन दोनों को खुब गालियाँ दी और फ़िर सब एक तरफ़ हो कर अपने कपडे उतारने लगे। दोनों बहन सब समझ कर चुप-चाप उनको देख रही थी। अब वो दोनों उनसे गिड़गिडाने लगी थी कि वो सब उन दोनों को जाने दें। वो दोंनो अब उनको कभी अपना भाई कहती तो कभी अपना बाप।

उनकी बातों को सुन कर उस लीडर ने कहा, “इस सब से कुछ नहीं होगा, हमलोग तो जमाने से यही सब करते आए हैं। निकाह करके तो मैं ही अपनी बीवी को धंधे में लाया, जो इस कोठे की पहली रंडी बनी। फ़िर तो उसने कई को इधर-ऊधर से ला कर धंधे में लगाया।” जुबैदा ने अब एक अंतिम बार अलग हट कर उसके पैर पकड़ कर बोली, “आप तो मेरे अब्बू जैसे हैं, प्लीज आप मुझे जाने दीजिए”। उसने उसको दूर ठेलते हुए कहा, “हट साली, तुम्हारा अब्बू तो तुमको बेच कर कही दारू पी रहा होगा, और मुझे कह रही है कि छोड़ दूँ। जो पैसा तुम लोग के बाप को मिला है, वो तुम्हारे छेद से हीं तो अब हमलोग निकालेंगे। ज्यादा हल्ला की तो सड़क पर ले जाकर कुत्ता से चुदा देंगे, खैर चाहती है तो चुपचाप खड़ी हो कर खुद से अपना पैन्ट खोल नहीं तो मादरचोद, तुम्हारे फ़्राक की तरह तुम्हारा पैन्ट भी फ़ाड़ देंगे और जब तक तू कमाएगी नहीं कुछ पहनने को नहीं रहेगा तुम्हारे पास, नंगी हीं पड़े रहना यहाँ कुतिया के जैसे।” बाकी दोनों मर्दों ने भी कुछ ऐसी ही बात नसरीन से कही जो अब अपने बदन पर के बचे हुए कपड़े को खुब जोर से पकड़ कर सिमट कर बिस्तर पर बैठी थी। तीनों अब नंगे हो कर अपना-अपना लन्ड हिला-हिला कर कड़ा कर रहे थे जिससे की वो भीतर घुस सके। उन दोनों को शान्त बैठे देख कर उस लीडर ने फ़िर से धमकी दी कि वो दोनों अपने हाथ से नंगी हो जाए, वर्ना फ़िर हमेशा के लिए नंगा रहना होगा। इस बार की धमकी के बाद जुबैदा चुपचाप उठी और बिस्तर से उतर कर खड़ी हो कर अपना जंघिया नीचे सरार दी। उसकी बूर पर करीब आधा-पौना ईन्च के कोमल मुलायम काले-काले सबाल थे, जो अभी घुंघराले झाँट बनने शुरु हुए थे। वो लीडर खुश हो कर नसरीन से बोला, “देखो, तुम्हारी बहन कितना समझदार है… तुम भी आराम से हम लोग से सहयोग करके चुदा लो, नहीं तो समझ लेना… मार-मार कर चोदेंगे लगातार हरामजादी।”

मैंने अब विभा को देखा जो टकटकी लगाए फ़िल्म देख रही थी। मैंनें कहा, “विभा, देख लो…. अगर तुम भी हमसे आराम से नहीं चुदवाई तो जैसे यह लड़की चुदेगी वैसे हीं तुमको भी किसी दिन पटक कर हम चोद देंगे। जमाने से मेरे “खड़े लन्ड पर धोखा” दे रही हो तुम।” विभा मेरी तरफ़ एक नजर देखी और फ़िर वो बोली, जिसको सुनने की आस मैं जमाने स एपाले हुए था, “ठीक है, इस बार जब पीरियड खत्म होगा तो एक बार कर लीजिएगा, पर उसके बाद नहीं…”। मैं यह सुन कर उछल पडा और उसको बाहों में भर कर बोल पडा, ’जिओ मेरी जान…. आज तुम कहो तो तुम्हारा रेड सिग्नल तोड़ कर अपना लन्ड तुम्हारी बूर के भीतर पार्क कर दुँगा।” विभा ने शर्माते हुए धत्त… किया और फ़िर मुझे अपने से दूर करते हुए फ़िल्म देखने लगी। जुबैदा ने आत्मसमर्पण कर दिया था और अब उस लीडर के कहे अनुसार, उसका लन्ड चूसने लगी थी। तभी दरवाजा खटखटाया गया और मासीमा के खोलने पर एक २२-२४ साल लडका सबके लिए चाय ले कर आया। सब चाय पीने लगे, पर मासीमा में उन दोनों लड़कियों को चाय देने से मना कर दिया, कि जब तक वो दोनों अब चुदेगी नहीं तब तक कुछ नहीं मिलेगा। जुबैदा को अब बारी-बारी से तीनों के लन्ड चुसने का आदेश हुआ था और वो बेचारी नंगी जमीन पर घुटनों के बल बैठ कर एक-एक कर तीनों के लन्ड चूस रही थी जो अब खुब फ़नफ़ना गया था। मासीमा चाय खत्म करके उठी और जुबैदा के चेहरे को सहलाते हुए प्यार से बोली, “यह तो बहुत अच्छी है रे… सब बात मानती है, इसको प्यार से चोदना तुम सब हरामी लोग”, फ़िर उसने उस छोकरे से जो चाय ले कर आया था बोली, ’तू खोल उसकी चूत अब्दुल…. तेरे साथ इसकी जोड़ी ठीक रहेगी, इस सब हरामियों की बेटी की उम्र की यह यह सब, औए देखो साले लोग कैसे अपना खडा किए हुए हैं इस बेचारी के भीतर घुसाने के लिए”, और उन तीनों को बोली कि जल्दी से उस वाली को जोर से पेलो और फ़िर बाद में इन बाकी चार का भी सील खोलना है तुम सब को। अब्दुल ने जब सुना कि उसको जुबैदा को चोदना है तो वो तुरन्त से अपनी चाय गटक कर अपना टी-शर्ट और जीन्स खोल्ने लगा और तब मासीमा जुबैदा से बोली, “बेटी, तुम जाओ और अब्दुल का कपडा उतारो और फ़िर उसके साथ चुदाओ पहले…. फ़िर नहा धो कर खाना खा लेना। तुम बेकार में अपनी बहन के चक्कर में लात खाओगी अगर खुशी-खुशी नहीं चुदाओगी। अब्दुल जवान है, तुम्हारे साथ उसका जोड़ा ठीक बैठेगा… और वो खुब प्यार से चोदेगा तुमको… ये तीनों हरामजादे तो तुम्हारे जैसी बच्ची को रगड़ कर रख देंगे, चार दिन तक खडा नहीं हो पाओगी ठीक से।” जुबैदा का तो यह सब सुन कर चेहरा सफ़ेद पड गया और वो धीरे से ऊठ कर अब्दुल के पास चली गई।

अब्दुल उसको अपने से चिपका लिया और उसके कमर से अपने हाथ उपर की तरफ़ सरारने लगा था। नसरीन अपनी बहन को ऐसे अब्दुल के पास जाते देख कर अपनी बहन को भी गाली देने लगी थी, कि तभी मासीमा का एक जोर का थप्पड उसकी गाल पर पडा और तीनों मुस्टन्डे उसकी पर झपटे। दो ने उसको बदोच लिया और एक उसका कपड़ा खोलने लगा। तब मासीमा चीखी, “फ़ाड़ साली कुतिया का कपडा फ़रीद, साली का बूर खून से लाल कर दो हरामजादी का। फ़रीद ने तब ताकत लगा कर उसका साया नीचे से पकड़ कर जोर लगा कर चर्रर्रर्रर्रर्रर्र से फ़ाड दिया और नसरीन की नंगी टांगों का दीदार सब को होने लगा था। नसरीन चीख रही थी, गाली दे रही थी…. पर उन सब ने उसके बदन से साया के फ़टे टुकड़ों को खींच-खींच कर हटाने लगे थे। साया ऊअपर नसरीन की कमर में डोरी से कस कर बंधा हुआ था सो उन सब के हर झटके से उसके कमर की डोरी भी जोर से उसकी कमर को दबाती और अब वो उस दर्द से अपने को बचाने के लिए अपना हाथ चुचियों से हटा कर बार-बार कमर पर साया की डोरी पर ले जाती थी, पर सब तरफ़ से तीनों उसका साया नोच रहे थे और वो अकेली अपने को साये से खींच रहे डोरी के दर्द से बचाने में नाकाम थी। जल्द हीं उस डोरी से तीन-चार छोटे-छोटे कपडे के टुकडे हीं लटक रहे थे। नसरीन अब लगातार रो रही थी और गिडगिडा रही थी। अब वो अपने हथेलियों से अपनी लाज को ढकने की नाकाम से कोशिश कर रही थी। तभी फ़रीद ने खुब ताकत से उसके हाथों को उसकी चूत से हटा दिया और सब को अब आराम से उसकी अनचुदी झाँटों से भरी चूत के दर्शन होने लगे। कैमरामैन ने आराम से उसका क्लोज-अप दिखाया। करीब ३-४ ईंच का झाँटों का जंगल था उसकी बूर के चारों तरफ़। तब मासीमा आगे बढ़ी और उसकी बूर की फ़ाँक को अपने हाथों से खोल दी जिससे की उसकी बूर की लाली कैमरे में कैद हो सके और फ़िर उसने और जोर लगा कर उसकी फ़ंक को जैसे चीड दिया और तब उसकी कुँवारेपन का सबूत लाल झिल्ली जिसमें एक नन्हा सा छेद था, अब चमक कर सामने दिखने लगा। मासीमा ने अपनी एक ऊँगली उसकी उस झिल्ली पर लगा कर उसको दाबा तो नसरीन दर्द से चीख उठी और उसने एक लात मासीमा के बाँह पर लगा दिया।

मासीमा वहाँ से गाली देते हुए हटी और उन सब को आदेश दिया, “फ़ाड़ दो साली का बूर….”। फ़रीद अब उन दोनों को बोला कि वो अब उसको स्थिर करें जिससे वो अपना लन्ड नसरीन की बूर में घुसा सके। तभी कमरे में एक चीख गुंजी, और तब कैमरा घुमा तो दिखा कि अब्दुल अब जुबैदा के भीतर अपना घुसा रहा था। उसका सुपाडा भीतर चला गया था, अब वो अपने को स्थिर रखे हुए था और जुबैदा के थकने के इंतजार में था। उसने जुबैदा को जमीन पर हीं अपने बाहों और टाँगों की मदद से लगभग पूरी तरह से दबोच लिया था। जुबैदा और उसके सीने पर अपने हाथ से धक्का लगा कर उसको अपने ऊपर से उठाने की कोशिश कर रही थी, पर नाकाम थी। जवान अब्दुल की उस मस्त गिरफ़्त से छुटना उसके जैसी नादान कली के बस में नहीं था। मासीमा ने उन तीनों को रुकने का आदेश दिया और अब उन दोनों के पास में बैठ गई और फ़िर जुबैदा के सर को सहलाते हुए, उसको पुचकारने लगी…, “बेटा, अब हल्का सा दर्द होना रानी, फ़िर सब ठीक हो जाएगा… तुम तो बहादूर हो, बस एक सेकेन्ड और बर्दास्त करो।” जुबैदा का ध्यान अब मासीमा की तरफ़ चला गया था, और तभी मासीमा नें अब्दुल को ईशारा किया और उस हरामी ने जुबैदा के बालों को अपने दोनों हाथों से दोनों तरफ़ से जोर से पकड़ लिया और फ़िर एक झटके में अपना लन्ड उसकी कसी हुई बूर में ठेल दिया। जुबैदा जोर से चिल्लाई…., छ्टपटाई…, अप अब्दुल ने अपने लन्ड झटके से भीतर ठेलने के बाद अपने कमर से उसकी कमर को दाब दिया था कि वो हिल भी ना सके। बालों को जोर से जकडे था जिससे वो अगर अपना सर जरा भी हिलाती तो बाल खींचने से दर्द होता। बेचारी की आँखों से मोटे-मोटे आँसू बह निकले, वो अब बेबसी में दो-चार बार कसमसा कर निढाल हो कर शान्त हो गई और हिचकी ले-ले कर रोने लगी। करीब १८-२० सेकेन्ड वैसे हीं अब्दुल उसको दाबे रहा, और फ़िर जब देखा कि अब जुबैदा इतनी टूट चूकी है कि अब कोई विरोध नहीं करेगी तब, उसन अपना गिरफ़्त थोड़ा ढ़ीला किया और उसके बाल छोड कर अपने हाथों के सहारे धीरे से उसके बदन से ऊपर उठा। फ़िर खुब प्यार से जुबैदा के होठ पर अपने होठ रख कर चुमने लगा। जुबैदा रोए जा रही थी और अब्दुल उसके होठ को चुमते जा रहा था, और जब जुबैदा थोड़ा और शान्त हुई तब उसने अपने कमर को उठाया जिससे उसका लन्ड अब बाहर निकलने लगा, क्लोज-अप में उसकी बूर की सील टुटने की गवाही में लन्ड पर लिथडा हुआ लाल-लाल थोड़ा सा खून दिखा। करीब आधा लन्ड बाहर खींच कर अब्दुल ने फ़िर से जोर के धक्के के साथ भीतर पेल दिया और इसबार फ़िर जुबैदा दर्द महसूस की पर अब वो परिस्थिति समझ गई थी सो बस सिसक कर रह गई। अब्दुल अब आराम से उसकी चुदाई करने लगा और वो बेचारी रोते हुए अपनी चुदाई करवा रही थी। पास में खडी बाकी चार लडकियों पर अब कैमरा घुमा तो सब ने सर नीचे झुका लिया, वो सब शान्त हो कर डरी-सहमी जुबैदा की चुदाई देख रही थीं। करीब ४०-५० धक्के खुब आराम-आराम से लगाने के बाद अब्दुल ने उसकी कमर को जकड़ कर तेजी से कुछ और धक्के लगाए और फ़िर उसकी बूर के भीतर हीं झड गया और जब उसने अपना लन्ड बाहर निकाला तो जुबैदा की ताजा चुदी हुई बूर से सफ़ेद-सफ़ेद सा माल निकल कर उसकी गाँड़ की फ़ाँक की तरफ़ बह निकला।

मासीमा ने अब अब्दुल को कहा, “छोड अब उसको, थोडी देर बाद उसकी गाँड़ भी मार देना, पता नहीं कल कौन सा कस्टमर आएगा इसके लिए… सो इसको सब पता तो रहे कि क्या कैसे होगा इसके बेदन के साथ और उसको क्या-क्या बर्दास्त करना है। चल अब आ और इस हरामजादी को ठीक कर…. इन साले बुढ़ों से कुछ नहीं होगा।” कैमरा अब फ़िर से बिस्तर पर था जहाँ नसरीन अब पूरी तरह से नंगी हो चुकी थी और दो लोग उसको कंधे और बाहों से पकड कर, और एक फ़रीद उसकी टांगों को पकड़ कर बिस्तर पर लिटाने की कोशिश कर रहे थे पर अभी तक नाकाम थे। नसरीन ने अब तक उन सब को अपने पर पूरी तरह से काबू नहीं करने दिया था। कई थप्पड उसने खाए पर वो जी-जान लगा कर विरोध कर रही थी। असल में जब जुबैदा की चुदाई हो रही थी तब तो सब वही देखने में मशगुल थे, शायद इसलिए कि तब नसरीन की विडियो नहीं बन पाती। २२ साल के जवान अब्दुल का लन्ड अभी भी सही था, वो जुबैदा की बूर से निकले अपने गीले लन्ड को हिलाया और आराम से बिस्तर पर चढ कर एक झटके से नसरीन की बडी-बड़ी झाँटों को अपनी मुट्ठी में जकड़ लिया। वो दर्द से बिलबिला गई। उसने नसरीन को, उसकी झांटों के भरोसे हीं काबू में करके, अपना कमर बिस्तर पर स्थिर करने के लिए मजबूर कर दिया। फ़िर अचानक उसने लपक कर उसकी एक चूची अपनी मुट्ठी में पकड कर जोर से दबाई, तो नसरीन फ़िर से दर्द से चीख पडी। अब्दुल ने अपने एक हाथ की मुठ्ठी में नसरीन की चूच्ची और दूसरे हाथ की मुठ्ठी में उसकी झाँट पकड ली थी और जब तब वह इस दोनों मुठ्ठियों के मदद से उसको दर्द से बिल्बिलाने के लिए मजबूर कर रहा था। जहाँ वो जरा भी विरोध करती वो उसकी झाँट को जोर से खींचता और बेचारी चीख कर शान्त हो जाती। जल्दी हीं वो समझ गई कि अब उसका कोई जोर नहीं चलेगा तब वो मजबूरी में रोने लगी और फ़िर फ़रीद ने उसकी जाँघ को फ़ैला दिया और अपने घुटनों के बल उसको चोदने के लिए बैठ गया। नसरीन अब उससे दया के लिए गिडगिड़ाने लगी। पर फ़रीद ने अपने हथेली पर खुब सारा थुक निकाला और फ़िर उसकी बूर की फ़ाँक खोल कर उसकी बूर में उस थुक को ल्गा दिया, फ़िर एक बार अपना थुक निकाल कर इस बार अपने खडे लन्ड पर लगा कर उसकी दोनों जाँघों को अपने कन्धे पर टिका कर अपना लन्ड उसकी बूर की खुली फ़ाँक पर लगाया, तब अब्दुल ने नसरीन के झाँट छोडे और उसकी दूसरी चूच्ची को भी अपने दूसरे हाथ से जकड़ लिया, और उसी समय फ़रीद धीरे-धीरे उसकी बूर में अपना लन्ड दबाने लगा। जल्दी ही उसकी झिल्ली पर जब लन्ड का दबाब पडा तो वो दर्द से बिलबिलाई पर उससे ज्यादा दर्द अब्दुल ने उसकी चूच्चियों को मसल कर दिया और बेचारी चीखती रह गई और उसको शायद पता भी नहीं चला कि कब उसकी बूर की सील टूट गई और कब फ़रीद का पूरा लन्ड भीतर घुस गया। फ़रीद बिना देरी के अब लगातार उसको चोदने लगा था और तब अब्दुल ने उसकी चूचियों को आजाद किया। अब वो भी मजबूर हो कर रो-रो कर अपनी बूर चुदा रही थी। करीब ७-८ मिनट की चुदाई के बाद फ़रीद ने उसकी बूर में अपना माल निकाल दिया और फ़िर हाँफ़ते हुए उसके ऊपर से हट गया। नसरीन भी रोते हुए ऊठी और अपनी बहन के पास जा कर उसके गले लग कर फ़फ़क कर रो पडी।

मासीमा ने अब सगीर और सज्जाद को आदेश दिया कि अब दोंनो अब जल्दी से दो और लडकियों को निपटाएँ, और तब उसने चारों बची हुई लडकियों में से दो को बिस्तर पर आने को कहा। सहमी हुई लडकियाँ अब एक-दूसरे को देखने लगी। तब मासीमा ने पास जाकर उन्हें समझाते हुए हिम्मत दी और फ़िर दो का बाँह पकड कर पूछा, “क्या नाम है तुम दोनों का?” दोनों ने अपना-अपना नाम सायरा और समीना बताया। दोनों सलवार-कुर्ते में थी। मासीमा ने दोनों को कहा, “जाओ जल्दी से अपना कपडा उतार कर आराम से चुदा लो जल्दी से फ़िर आराम से खाना-वाना खा कर आराम करना।” दोनों बेचारी उन दोनों बहनों का हाल देख कर डरी हुई थी। समीना ने आखिर बोल ही दिया, “बहुत दर्द होता है इसमें अभी एक-दो दिन बाद वो करवा लेगी यह सब।” तब खड़े लन्ड वाले उन दोनों हरामियों ने उनको दबोच लिया और उन्हें बिस्तर की तरफ़ ले गए और रास्ते में हीं उनके दुप्पटे हटा दिए। दोनों ने लगभग साथ साथ हीं उनके बदन से कुर्ती उतारी और फ़िर उनकी समीज भी खोल दी। समीना की छोटी-छोटी चूची चमक उठी पर सायरा जिसकी चूची थोड़ा बडी थी, उसने ब्रा पहन रहा था। अब्दुल ने आगे बढ़ कर उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और फ़रीद ने उन दोनों की सलवार की डोरी खींच दी, जिससे उनको चोदने को तैयार सगीर और सज्जाद ने फ़टाक से उनकी सलवार खींच कर उतार दी और अब दोनों के बदन पर मैली सी काली पन्टी दिख रही थी। उन दोनों को बिस्तर पर लिटा कर दोनों मर्द उन पर चढ गए और उनको चूमने लगे, दोनों थोड़ा अनमने तरीके से चुम्बन का जवाब दे रही थी। छोटी चोचियों वाली समीना से सगीर चिपका हुआ था और बड़ी चुचियों वाली सायरा से सज्जाद। दोनों के लन्ड साधारण थे, करीब ६” के। सायरा जो उम्र में समीना से १-२ साल बड़ी होगी, पहले गर्म हुई और अब वो जरा ठीक से चुम्मा-चाटी करने लगी, तब सज्जाद ने उसकी पैन्टी खोल दी और फ़िर उसकी झाँटों से खेलते हुए अपनी ऊँगली उसकी बूर की फ़ाँक पर चलाने लगा। सायरा जल्द हीं गर्म हो कर कसमसाने लगी। अब तक समीना भी गर्म हो कर अपनी जाँघ तो एक दूसरे से रगड़ने लगी थी, और तब सगीर उसके ऊपर से उठा और फ़िर उसकी कमर के पास बैठ कर उसकी पैन्टी को नीचे सरार कर खोल दिया।

समीना की बूर साफ़ और चिकनी थी, लगा जैसे १-२ दिन पहले हीं उसने झाँट साफ़ की हो। काली चिकनी साफ़ बूर देख कर अब्दुल फ़ट से झुका और उसकी बूर का चुम्मा ले लिया, वो गुद्गुदी बर्दास्त न कर सकी और खिल्खिला कर हँसते हुए एक तरफ़ पलट गई। अब्दुल बोला, “आय हाय मेरी जान…. चिकनी चूत…. खुब तैयारी से आई हो यहाँ तुम।” पर सगीर ने उसको सीधा किया और उसकी बूर जो खुब पनिआई हुई थी उसको दो चार बार सहलाने के बाद चुदाई के लिए सेट करने लगा। दोनों मर्दों ने अपने अपने लडकियों को अगल-बगल में सीधा लिटा दिया था और फ़िर उसकी जाँघों को खोल कर उन खुली जाँघों के बीच में बैठ गए थे। दोनों ने लडकियों को ठीक तरीके से अपनी जकड़ में ले लिया और फ़िर अपना लन्ड घुसाना शुरु किया। सगीर का लन्ड पहली बार में हीं फ़ाँक से लग गया, जबकि सज्जाद का लन्ड झाँटॊ की वजह से दो-तीन बार फ़िसल गया। तब मासीमा ने अपने हाथ से उसका लन्ड पकड़ कर सायरा की फ़ाँक से लगा दिया और फ़िर कहा, “चोदो….”, और दोनों ने एक झटके में अपना-अपना लन्ड उनकी लड़कियों की बूर में पेल दिया। सायरा की जब सील टूटी तो उसके मुँह से चीख निकल गई, पर समीना ने अपने बूर की सील टूटते समय अपने नीचले होठ को दाँतों से दबा ली और दर्द को बर्दास्त कर ली। सगीर और सज्जाद दोनों अपनी अपनी लडकी को खुब जोर-जोर से मस्त हो कर चोदने लगे। सज्जाद जो बीच-बीच में सायरा की बडी-बडी चूचियों को मसल भी देता था, तब वो जरा चिहुँकती, पर वैसे वो डरी-सहमी सी चुप-चाप शान्ति से लेट कर सज्जाद को अपना बूर चोदने दे रही थी। चेहरे पर कभी-कभार हीं कुछ भाव आता था, वर्ना वह शान्त थी। उसके उलट नन्ही-नन्ही चूचियों वाली समीना खुब मस्त हो गई थी और मजे ले लेकर चुदवा रही थी। सगीर जब-जब उसको चुमता वो भी पलट कर उस चुम्मा का जवाब देती। कभी-कभी मस्त हो कर आह्ह्ह्ह आह्ह्ह्ह ऊंह्ह्ह्ह ऊंह्ह्ह्ह्ह भी कर देती। सगीर भी उसके इस सहयोग पर मस्त हो गया था और खुब मजे से आराम-आराम से चोदते हुए अचानक कभी दस-बारह धक्का तेजी से लगा देता और तब समीना जोर-जोर से साँस लेने लगती और सिस्की लगाती। करीब पाँच मिनट बाद सगीर ने अचानक अपना लन्ड उसकी बूर से बाहर खींच लिया। समीना को लगा की सगीर अपना पानी उसकी बूर में निकाल दिया है सो वो अपने हाथ से अपना बूर सहलाई तो उसकी हथेली पर उसके बूर का गीलापन और खून की लाली लग गई।

सगीर ने तब तक उसकी कमर को पकड कर उसको पलट दिया और वो भी सगीर के ईशारे को समझ कर उसके साथ सहयोग करते हुए पीठ के बल लेट गई। तब सगीर उसको कहा कि वो अपने हाथ और घुटने के सहारे एक जानवर की तरह झुके और समीना ने वैसे हीं किया। फ़िर सगीर आराम से थोड़ा थुक अपने लन्ड पर लगाया और पीछे से उसकी बूर में लन्ड पेल दिया। समीना एक बार तो थोडा कसमसाई फ़िर बोली, “ऐसे ठीक है… पहले तो मेरा जाँघ दर्द करने लगा था फ़ैला कर रखने से, यही ठीक तरीका है यह सब करने का तभी सब जानवर भी ऐसे हीं करता है।” सगीर ने उसको चोदते हुए बताया, “ऐसे में लड़की ज्यादा आजाद हो जाती है, और कुँवारी लडकी की सील तोडने में ऐसे परेशानी होती है। कुँवारी लडकी को जब नीचे दबा कर चोदा जाता है तब उसके बचने का चाँस नहीं रहता है और तब उसकी सील तोडना भी आसान हो जाता है। इस तरह से चोदने को पूरी दुनिया में कुत्ता-चुदाई कहते हैं” और अब वो जोश में भर कर उसकी कमर को अपने हाथों से लपेट कर तेजी से हुमच कर उसको चोदने लगा। फ़च्च्च फ़च्च्च्च घच्च्च्च्च घच्च्च्च्च्च की आवाज होने लगी थी। इसी बीच में सज्जाद का पानी छूट गया और वो अपना सब माल सायरी की बूर में निकाल कर अलग हट गया। सायरा अब उठी और अपना सलवार पहनने लगी, तब मासीमा ने कहा, “अभी कपडा नहीं पहनो, अभी तुम सब को और चुदवाना है। वैसे भी सब के सामने नंगी रहोगी तो अनजाने मर्दों के सामने नंगा होने में लाज-शर्म नहीं आएगी।” बेचारी यह सब सुन कर चुप-चाप नंगी ही बिस्तर से उतर गई। सगीर अब धक्के लगा-लगा कर थक सा गया था सो वो अब अपना लन्ड फ़िर बाहर निकाल लिया और खुद बिस्तर पर लेट कर समीना को अपने ऊपर चढ़ने का ईशारा किया। समीना भी मजे से उसके कमर की दोनों तरफ़ अपने घुटने टिका कर सगीर का लन्ड अपने हाथ से पकड़ कर अपने बूर में घुसा कर ऊपर-नीचे करने लगी। करीब एक मिनट आराम करने के बाद सगीर ने फ़िर से समीना को सीधा लिटा दिया और उसके ऊपर चढ़ गया, और इस बार लगातार तेजी से धक्के लगाते हुए उसकी बूर में झड गया। समीना के चेहरे से संतुष्टि का भाव झलक रहा था। उसको चुदा कर मजा आया था।

अब्दुल ने उससे पूछा, “और मन है क्या?” समीना जोर-जोर से हाँफ़ रही थी…. बोली, “बहुत थक गई हूँ… बाप रे…ओह।” अब्दुल ने उसको बाहों में भर कर उसको चुमना शुरु किया, तो मासीमा बोली, “रे हरामी, उसको अभी थोडा दम लेने दे… अभी दो और है न बची हुई… उनको नाप कर देखो पहले।” अब्दुल हँसते हुए अब हटा और फ़िर साडी वाली लड़की को अपनी तरफ़ बुलाया। वो भी हिचकते हुए उसकी तरफ़ आई तो अब्दुल ने उसका नाम पूछा, “क्या नाम है मेरी रानी का?” उस लडकी ने अपनी नजर नीचे करते हुए कहा, “शफ़ा”। अब्दुल ने फ़िर कहा, “शफ़ा रानी, कभी खेली हो अपने छेद से?” शफ़ा चुप रही तो वो बोला, “उतारो अपना कपडा तब देखते हैं तुम्हारा क्या हाल है?” तभी कैमरा मैन साला ठरकी सा होकर बोला, “मासीमा…. एक बार मुझको भी मौका दो न… आज तो बहुत सारी आई है एक साथ…।” मासीमा हँसते हुए बोली, “अरे मासूम बेटा, तू तो बचा हीं रह गया, अच्छा कोई बात नहीं है, अभी तो इन सब की गाँड भी मरवानी है।” उसने फ़रीद को ईशारा किया तो उसने कैमरा पकड लिया और वो कैमरा मैन जिसका नाम मासूम था अब सामने खडा हो कर अपना पैन्ट खोलने लगा। मासूम करीब २६-२७ साल का जवान था, खूब गोरा चिट्टा। जल्दी ही वो नंगा हो गया और उसका ९” लम्बा गोरा लन्ड अपने पूरे सबाब पर दिखा। वो अब तक बची हुई लड़की, जिसका नाम रुही था और जो करीब १८ साल की थी, की तरफ़ बढा। रूही की नजर मासूम के उस ९” के लंड पर टिका हुआ था। बेशक, उसका लंड उस कमरे में सबसे बडा था पर वो अन्य लण्डों की तुलना में थोड़ा पतला था। सबसे सही लंड अब्दुल का था, खुब काला, खुब मोटा करीब ७.५” और उभरी हुई नसों से भरा हुआ। अब तक अब्दुल शफ़ा को नंगा करना शुरु कर चुका था, जब मासूम रूही को अपने से चिपटा कर चुमना शुरु किया। दोनों कमरे के दो तरफ़ थे सो मासीमा ने आदेश दिया, “बिस्तर पर आओ ले कर दोनों लडकियों को तब न एक साथ फ़िल्म बनेगा दोनों का”। यह सुन कर दोनों लौंडों ने अपने-अपने माल को अपने से चिपकाए हुए ही बिस्तर पर ले गए और उन्हें अगल-बगल बिठा दिया। शफ़ा की साडी खुल चुकी थी और अब्दुल अब उसके ब्लाऊज के ऊपर से हीं उसकी चुचियों से खेल रहा था।

मासूम ने रूही से कहा, “जरा मेरा लन्ड अपने मुँह में ले कर चूसो तो दो-चार बार”। रूही उसके लन्ड की लम्बाई से डरी हुई थी। बेचारी सहमते हुए बोली, “तुम्हारा इतना बडा है मेरे में नहीं जाएगा, मुझे छोड दो…प्लीज”। शफ़ा भी नजर घुमा कर उस लम्बे लन्ड को देखी, फ़िर एक नजर उसने डरी हुई रूही पर भी डाली। अब्दुल जो समीना को चोदते समय समझ गया था कि इन सब लडकियों में सबसे ज्यादा मजे ले कर वही चुदी है, सो वो समीना को देखकर बोला, “समीना… तुमको तो चुदवा कर मजा आया न, बताओ इस लडकी को कि कैसा मजा मिलता है किसी मर्द के साथ…”। समीना ने मुस्कुराते हुए कहा, “हाँ, मजा तो खुब आया था। शुरू में थोड़ा तकलीफ़ हुआ, फ़िर खुब मजा आया।” मासूम ने अब उसको न्योता दिया, “आ कर एक बार, बताओ इस बेवकुफ़ लडकी को… अब यहाँ चाहे तो मजा ले कर चुदाए या बेमजा के चुदाए… पर अब तो इसको यहाँ जब तक रहेगी रोज चुदवाना हीं होगा।” समीना भी बिस्तर के पास आई और रुही को प्यार करते हुए बोली, “कोई परेशानी नहीं होती है, सब आराम-आराम से हो जाता है अपने से…”। मासीमा चुप बैठ कर सब देख रही थी, औए बाकी सब की भी नजर बिस्तर पर हीं थी… बस नसरीन अभी भी बगावती नजरों से कभी मासीमा को तो कभी उन हरामी लौण्डों को देख रही थी। समीना के बार-बार समझाने पर रूही बोली, “लेकिन इसका इतना बडा है, बाकि सब का छोटा था….”। समीना अपना दिमाग लगाई और सगीर के तरफ़ ईशारा करते हुए बोली, “अच्छा… तो तुम इसके साथ कर लो, मैं भी तो इसी के साथ की हूँ, या कोई और जिसका छोटा है उसके साथ कर लो… सब का तो तुम देख हीं रही हो…”। रूही ने एक बार सब की तरफ़ नजर घुमाई और फ़िर सज्जाद की तरफ़ ईशारा किया कि उसके साथ वो करवाएगी। सज्जाद का लन्ड साधारण मुटाई का और ६” के करीब था। मासीमा ने अब सज्जाद को ईशारा किया और साथ में आँख भी मार दी। मासूम बेचारा अपना खडा लन्ड ले कर चिढ़ गया और झुंझुला कर रूही के चेहरे पर थुक दिया, “साली कुतिया..”।
अब्दुल का मन समीना को चोदने का था, सो वो अब नंगी शफ़ा को मासूम की तरफ़ ढकेल कर कहा, “यार तुम इस लौण्डिया का सील तोड लो”। अब शफ़ा के चेहरे पर डर छा गया और वो बिदकी, पर मासूम ने उसको धक्के दे कर बिस्तर पर चित कर दिया और फ़िर उसकी झाँटों भरी बूर से अपना चेहरा चिपका दिया।

इतनी चुदाई देख-देख कर जवान लडकियाँ वैसे भी गीली हो जाती है, और अब तो शफ़ा के मुँह से कराह निकल गई। बेचारी का झाँट करीब १/२” का था, लगता था कि वो करीब महीने भर पहले साफ़ की हो, या शायद कैंची से काटती होगी। सज्जाद अब खुब प्यार से रूही को सहलाते हुए नंगी करने लगा। अब्दुल ने समीना को पास खींचा और फ़िर उसके एक हाथ में अपना खडा लंड पकड़ा दिया। समीना ईशारा समझ गई और उसके लन्ड को सहलाने लगी। तब अब्दुल ने उसके होठ चुम कर कहा कि वो उसका लन्ड थोडा चूस दे। समीना बिना देरी के तुरंत वहीं जमीन पर बैठ कर अब्दुल का लन्ड चूसने लगी। मासीमा ने कहा, “फ़रीद… तीनों की फ़ोटो आ रही है फ़िल्म में कि नहीं?” तब फ़रीद बोला, “अब्दुल तुम भी बिस्तर पर हीं चले जाओ… वहाँ रोशनी बढ़या है फ़ोटो खुब साफ़ आता है”। अब्दुल, यह सुन कर समीना के साथ बिस्तर पर चला गया। अब वो बिस्तर पर सीधा लेट गया था और समीना उसके बगल में बैठ कर उसका लन्ड मुँह में ले कर चूस रही थी। मासूम अभी भी शफ़ा की चूत को चूस रहा था और सज्जाद रूही को नंगा करके अपनी से चिपका कर चूम रहा था। तभी फ़रीद कैमरा ले कर एक तरफ़ घुमा और इस बार पहली बार समीना की चिकनी फ़ूली हुई बूर जो पीछे से एकदम किसी बछिया की बूर लग रही थी दिखी। फ़रीद ने कोल्ज-अप में समीना की चिकनी चूत दिखाई और फ़िर घुमते हुए, कैमरा रूही पर फ़ोकस किया। सज्जाद अब उसको बिस्तर पर लिटा दिया था और उसके झाँटों से खेल रहा था। फ़िर उसने रूही की बूर की फ़ाँक खोली तब फ़रीद ने कैमरे में उसकी बूर के कुँवारा होने का सबूत वो गुलाबी झिल्ली दिखी जिसमे उसके पीरीयड के लिए एक छोटा सा छेद था। सज्जाद अब रूही के साथ ६९ करने लगा। रूही भी थोडा हिचकते हुए ही… पर जैसे तैसे साथ दे रही थी। शफ़ा अब लगातार चूत चूसाई से बेचैन हो कर हाथ-पैर पटकने लगी थी। मासूम ने जब देखा कि माल अब पूरा गर्म हो गया है तब वो उसकी चूत से हटा और फ़िर शफ़ा के जाँघों को पुरा फ़ैला कर बिस्तर पर दबाया। शफ़ा एक दुबली-पतली लडकी थी और उसके बदन में लोच भी खुब था, सो उसका जाँघ पूरा खुल गया। मासूम उसके बदन के ऊपर पसर गया और शफ़ा उसके नीचे दब गई। मासूम ने इसके बाद अपने दोनों हाथों को शफ़ा बगल से, काँख के नीचे से निकल कर उसके चेहरे को सहलाने लगा और फ़िर उसके होठ चूमने लगा।

भगवान हर लडकी को चुदाने की अक्ल जरुर दे देता है। शफ़ा बिना किसी ईशारे के खुद हीं अपने पैरों को मासूम की कमर के इर्द-गिर्द लपेट दी। मासूम भी अब अपने जाँघो से शफ़ा के दोनों जाँघो को एक तरह से दबा लिया था। दोनों की जोडी बहुत सही थी। दोनों लम्बे थे। मासूम करीब ५’१०” का था तो शफ़ा भी करीब ५’८” की थी। इस तरह से शफ़ा की कमर भी मासूम की कमर के लगभग साथ हीं थी। जब मासूम ने शफ़ा को पूरी तरह से अपनी जकड में ले लिया तो अपना कमर ह्ल्के से ऊपर उठा कर अपने लन्ड को शफ़ा की बूर की छेद पर लगाने की कोशिश करने लगा। तीन-चार बार में जब ठीक से नहीं लगा तो वो शफ़ा से बोला, “तुम्हारा हाथ खाली है… एक बार अपने हाथ से पकड़ कर मेरा लन्ड ठीक से अपने छेद पर लगाओ न…”। शफ़ा पर इतनी ज्यादा गर्मी चढी हुई थी कि उसको पता भी नहीं चला कि वो क्या करने जा रही है। उसने अपने हाथ से मासूम का लन्ड पकडा और अपने छेद पर लगा दिया। मासूम को भी पता चला गया और उसने शफ़ा को चुमते हुए अपना कमर नीचे दबाना शुरु किया। जल्दी हीं दर्द महसूस करके शफ़ा कसमसाने लगी। पर मासूम ने उसको इतने जबर्दस्त तरीके से अपने जकड में लिए हुए था कि बेचारी हल्के से हिलने से ज्यादा कुछ कर नहीं पा रही थी। फ़िर भी मासूम ने उसको सहुलियत देते हुए अपने को रोक लिया। शफ़ा अब फ़िर से शान्त हो कर उसके चुमब्न का जवाब अपने चुम्मा से देने लगी थी। मासूम भी उसके कनपटी के बाले को सहलाते हुए चुमता रहा और फ़िर जब शफ़ा को सब कुछ ठीक लग रहा था कि एक झटके से उसकी बूर की सील तोड दी। बेचारी जोर से छटपटाई… और मासूम अब उसके छाती के ऊपर से हटा और शफ़ा की चीख कमरे में गुँज गई… “ओह्ह्ह माँ…….”। दूसरे धक्के से जब मासूम अपने लन्ड को पूरा भीतर ठेल दिया तो उस धक्के से साथ अपनी माँ को एक बार फ़िर याद करते हुए शफ़ा की चीख और जोर से निकली, “माँ…. गो……….माँ………”। वो मासूम को ऊठते देख कर अपने को उसकी गिरफ़्त से आजाद करने की कोशिश की पर उसको कहाँ पता था कि मासूम अपना ९” का लन्ड पूरा भीतर ठेले हुए है और अब वो उसकी कमर को अपने हाथों की जकड में ले कर उसके निचले बदन को अपने झाँघों की जोर से बिस्तर से दबा कर रखे हुए था। बेचारी अपने ऊपरी बदन को हिला-हिला कर छटपटाहट जाहिर कर रही थी और मासूम उसकी पेड़ू को हाथों से दाब कर झाँटों को अपने दोनों हाथ के अंगुठों से सहला रहा था। फ़िर जब उसने उसकी टीट के दाने को सहलाया तो वो मस्ती से तड़फ़ड़ा गई और थोड़ा शान्त हुई। मासूम अब अपनी बूर से अपना लन्ड करीब ६” बाहर खींचा और फ़िर झटके से पूरा भीतर घुसा दिया। अब वो पास में बैठी हुई रूही को देख कर बोला, “देख लो…. लडकी के चूत में कितना गहराई है… पूरा भीतर घुसा हुआ है कि नहीं… तुमको यही लम्बा लग रहा था, मादरचोद।” शफ़ा के आँख से आँसू बह निकला… पर वो अपनी सील तुडवा कर अब थोड़ा शान्त हो गई थी और मासूम अब अपना कमर चला-चला कर उसकी चुदाई शुरु कर दिया था।

loading...

Leave a Reply