गुमराह पिता की हमराह बेटी की जवानी part 2

‘क्या हुआ मनिका?’ मनिका के चुप हो जाने पर जयसिंह ने पूछा था.

‘कुछ नहीं पापा…’ मनिका ने धीमी आवाज़ में कहा.

‘बुरा मान गई क्या?’ जयसिंह बोले ‘मैंने तो पहले ही कहा था रहने दो…’

‘उह…हाँ पापा. मुझे क्या पता था कि…आप उस बात का कह रहे हो.’ मनिका ने संकोच के साथ कहा. इतने दिन बीत जाने के बाद उस घटना के जिक्र ने उसे फिर से शर्मिंदा कर दिया था.

‘हाहा अरे तुम न कहती थीं के कपड़े ही तो हैं..?’ जयसिंह ने मनिका की झेंप कम करने के उद्देश्य से हंस कर कहा.

‘हेहे…हाँ पापा.’ मनिका बोली ‘बट पापा उस बात का हमारे डिस्कशन से क्या लेना-देना?’ मनिका ने सवाल उठाया.

‘लेना-देना क्यूँ नहीं है? तुमने उस दिन जब मुझसे माफ़ी मांगी थी तब तुम्हारे मन में यही बात तो थी ना कि तुमने ओवर-रियेक्ट कर दिया था और तुम्हारा वो बर्ताव इसीलिए तो रहा था कि तुमने सिर्फ हमारे सामाजिक रिश्ते के बारे में सोचा और आग-बबूला हो उठी थी.’ जयसिंह ने उसे याद दिलाते हुए कहा ‘अगर वही मेरी जगह तुम्हारा कोई मेल-फ्रेंड (लड़का) होता तो शायद तुम्हारी प्रतिक्रिया वह नहीं होती जो मेरे साथ तुमने की थी…और जब तुमने सॉरी बोला था तो मुझे लगा तुम्हें इस बात का एहसास हो गया है…अब तुमने क्या सोच कर माफ़ी मांगी थी यह तो तुम ही बता सकती हो…’ जयसिंह ने बात-बात में सवाल पूछ लिया था.

मनिका एक और दफा कुछ पल के लिए खामोश हो गई थी.

‘वो पापा…आपसे बात नहीं हो रही थी और आप रूम में भी नहीं रुकते थे तब मैंने टी.वी पर एक इंग्लिश-मूवी देखी थी जिसमें…एक फैमिली को दिखाया था और उसमे जो लड़की थी वो बीच (समुद्र-किनारे) पर अपने घरवालों के सामने बिकिनी पहने हुए थी…सो आई थॉट कि उसके पेरेंट्स उसे एन्जॉय करने से नहीं रोक रहे तो आपने भी तो डेल्ही में मुझे इतना फन (मजा) करने दिया…एंड मैंने आपसे थोड़ी सी बात पर इतना झगडा कर लिया…’ मनिका ने धीरे-धीरे कर अपने पिता को बताया.

‘ह्म्म्म…मैंने कहा वो सच है ना फिर?’ जयसिंह ने मुस्का कर मनिका से पूछा, उनके दिल में ख़ुशी की लहर दौड़ गई थी.

‘हाँ पापा…’ मनिका ने सहमति जताई.

‘लेकिन एक बात और जो मैं पहले भी कह चुका हूँ, और जैसा की तुमने अभी कहा कि न ही सोसाइटी और न हम हमेशा सही होते हैं, उसका भी ध्यान तुम्हें रखना होगा.’ जयसिंह ने कहा. अभी तक तो जयसिंह समाज और आदमी-औरत के उदाहरण देकर मनिका से बात कर रहे थे लेकिन इस बार जयसिंह ने सीधा मनिका को संबोधित करते हुए यह बात कही थी.

‘वो क्या पापा..?’ मनिका ने पूछा.

‘वो यही कि हर वह बात जो हमारे लिए सही नहीं है और समाज के लिए सही है या समाज के लिए सही नहीं है पर हमारे लिए सही है उसे जग-जाहिर ना करना ही अच्छा रहता है. जैसे तुम अपनी मम्मी से झूठ बोलने लगी हो…उस बात का भी ध्यान रखना बहुत जरूरी है.’ जयसिंह ने कहा.

‘हाहाहा…हाँ पापा डोन्ट वरी (चिंता) इसका ध्यान तो मैं आपसे भी ज्यादा रखने लगी हूँ…’ मनिका ने हंस कर कहा.

‘वैरी-गुड गर्ल..!’ जयसिंह ने मनिका का गाल थपथपाते हुए कहा. मनिका भी इठला कर मुस्कुरा दी थी. ‘चलो अब सोयें रात काफी हो गई है. कल काफी काम बाकी पड़ा है तुम्हारे एडमिशन का…’कहते हुए जयसिंह ने अपना दूसरा हाथ, जो अभी तक मनिका की कमर पर था, और नीचे ले जा कर उसके नितम्बों पर दो हल्की-हल्की चपत लगा कर उसे उठने का इशारा किया था.

‘बट पापा! नींद नहीं आ रही आज…कुछ देर और बैठते हैं ना?’ मनिका बोली.

‘ह्म्म्म…ठीक है, वैसे भी एक-दो दिन की ही बात और है फिर तो हम अलग-अलग हो जाएंगे.’ जयसिंह ने कुछ सोच कर कहा.

‘ओह पापा ऐसे तो मत कहा करो. हमने प्रॉमिस किया था ना कि नथिंग विल चेंज बिटवीन अस..?’मनिका ने उदासी से कहा.

‘अरे हाँ भई मुझे याद है पर फिर भी घर जाने के बाद कहाँ हम इस तरह साथ रह पाएंगे? और फिर कुछ दिन बाद तुम्हें वापिस भी तो आना है यहाँ…’जयसिंह मनिका को भावुक करने में लग गए थे.

‘हाँ पापा…वो भी है.’ मनिका बोली ‘कुछ और बात करते हैं ना पापा…ऐसी सैड बातें मत करो.’

‘ह्म्म्म. मैं तो कबसे बातें कर रहा हूँ…अब बोलने की बारी तुम्हारी है.’ जयसिंह ने पासा पलटते हुए कहा.

‘मैं क्या बोलूँ..?’ मनिका ने उलझते हुए कहा.

‘कुछ भी…जो तुम्हारा मन हो…’ जयसिंह बोले. तभी मनिका को एक और बात याद आ गई जो उसके पिता ने कही थी और जिसका सच उसने बाद में महसूस किया था.

‘पापा! एक बात बोलूँ?’ मनिका ने कहा ‘आप सही थे आज…’ उसने उनके जवाब का इन्तजार किए बिना ही आगे कहा.

‘किस बात के लिए?’ जयसिंह ने कौतुहल से पूछा.

‘वही जो आप कह रहे थे ना कि लड़कों से ज्यादा…वो मेन (आदमी)…मर्द या जो कुछ भी अपनी गर्लफ्रेंडस का ज्यादा ख्याल रख सकते हैं.’ मनिका ने बताया.

‘हाहाहा. हाँ पर ये तुमने कैसे जाना?’ जयसिंह ने मजाक में पूछा था पर अपने दिल की हालत तो वे ही समझ सकते थे.

‘फिर वही टी.वी. से पापा…हाहाहा!’ मनिका ने हँसते हुए बताया ‘आप सो गए थे तब टी.वी में देखा मैंने कि ज्यादातर हीरो-हिरोइन्स में ऐज डिफरेंस बहुत होता है फिर भी वे एक-दूसरे को डेट करते हैं. आई मीन कुछ तो लिटरली (ज्यों के त्यों) आपकी और मेरी ऐज के होते हैं. सो आई रियलाईज्ड कि मे-बी आप सही थे…’

‘हाहाहा…धन्य है ये टी.वी. अगर इसके चरण होते तो अभी छू लेता…’जयसिंह ने मजाक किया.

‘हहहहाहा…हेहेहे…’ मनिका एक बार फिर से उनकी बात पर लोटपोट होते हुए हँस दी थी ‘क्या पापा कितना ड्रामा करते हो आप हर वक्त…हाहाहा!’

‘अरे भई मेरी कही हर बात टी.वी. पर दिखाते हैं तो मैं क्या करूँ..?’जयसिंह बोले.

‘हाहाहा…तो आप भी किसी सेलेब्रिटी से कम थोड़े ही हो.’ मनिका ने हँसते हुए कहा.

‘हाहा…और मेरी गर्लफ्रेंड भी है किसी सेलेब्रिटी जैसी ही…’ जयसिंह ने मौका न चूकते हुए कहा.

‘हेहेहे…पापा आप फिर शुरू हो गए.’ मनिका बोली.

‘लो इसमें शुरू होने वाली क्या बात है?’ जयसिंह बोले ‘खूबसूरती की तारीफ़ भी ना करूँ..?’

‘हाहा…पापा! इतनी भी कोई हूर नहीं हूँ मैं…’मनिका ने कहा. लेकिन मन ही मन उसे जयसिंह की तारीफ़ ने आनंदित कर दिया था और वह मंद-मंद मुस्का रही थी.

‘अब तुम्हें क्या पता इस बात का के हूर हो की नहीं?’ जयसिंह भी मुस्काते हुए बोले ‘हीरे की कीमत का अंदाज़ा तो जौहरी को ही होता है…’

‘हहहहाहा…क्या पापा..? क्या बोलते जा रहे हो…बड़े आए जौहरी…हीही!’ मनिका ने मचल कर कहा ‘क्या बात है आपने बड़े हीरे देख रखें हैं..हूँ?’ और जयसिंह को छेड़ते हुए बोली.

‘भई अपने टाइम में तो देखें ही हैं…’ जयसिंह शरारत भरी आवाज़ में बोले.

‘हा..!’ मनिका ने झूठा अचरज जता कर कहा ‘मतलब आपकी भी गर्लफ्रेंडस होती थी?’

‘हाहाहा अरे ये गर्लफ्रेंड-बॉयफ्रेंड का चलन तो अब आया है. हमारे जमाने में तो कहाँ इतनी आजादी मिलती थी सब कुछ लुका-छिपा और ढंका-ढंका होता था.’ जयसिंह ने बताया.

‘हेहेहे! हाँ बेचारे आप…’मनिका ने मजाक करते हुए कहा ‘तभी अब कसर पूरी कर रहे थे उस दिन टी.वी. में हीरोइनों को देख-देख कर…है ना?’ उसने जयसिंह को याद कराया.

‘हाहाहा..!’ जयसिंह बस हंस कर रह गए.

‘देखा उस दिन भी जब चोरी पकड़ी गई थी तो जवाब नहीं निकल रहा था मुहं से…बोलो-बोलो?’ मनिका ने छेड़ की.
‘अरे भई क्या बोलूँ अब…मैं भी इन्सान ही हूँ.’ जयसिंह ने बनावटी लाचारी से कहा.

‘हाहाहा!’ मनिका हंस-हंस कर लोटपोट होती जा रही थी.

उधर उसकी करीबी ने जयसिंह के लिंग को तान रखा था. जयसिंह को भी इस बात का एहसास नहीं हुआ था कि उनका लंड खड़ा है क्यूंकि दिल्ली आने के बाद से उनके लिए यह एक रोजमर्रा की बात हो गई थी. बरमूडे के आगे के हिस्से को उनके लंड ने पूरा ऊपर उठा दिया था.

‘तो मतलब आप मेरी झूठी तारीफ़ कर रहे थे ना? आपको तो वो कटरीना-करीना ही पसंद आती है…जिनका सब कुछ ढंका-ढंका नहीं होता है!’ मनिका ने आगे कहा. वह उत्साह के मारे कुछ ज्यादा ही खुल कर बोल गई थी.

जयसिंह ने मन ही मन विचार किया ‘आज तो किस्मत कुछ ज्यादा ही तेज़ चल रही है…क्या करूँ? बोल दूँ के नहीं?’ फिर उन्हें अपना निश्चय याद आया कि दीमाग से ज्यादा वे अपनी काम-इच्छा का पक्ष लेंगे और वे बोले,

‘हाहाहा. कुछ भी कह लो मनिका पर तुम भी कोई कटरीना-करीना से कम तो नहीं हो..! फैशन में तो तुम भी काफी आगे हो…’

‘हीहीही…क्या बोल रहे हो पापा? आपको क्या पता?’ मनिका ने थोड़ा आश्चर्य से पूछा.

‘पता तो मुझे दिल्ली आते ही लग गया था…’ जयसिंह ने मनिका की आँखों में झांकते हुए कहा. उनकी आवाज़ में एक बात छिपी थी.

‘हैं? वो कैसे पापा?’ मनिका ने पहले की भाँती ही मुस्कुराते हुए पूछा. उसे अभी भी जयसिंह की बातें मजाक लग रहीं थी.

‘याद करो वो नाईट-ड्रेस जो तुमने पहली रात को पहनी हुई थी…’ जयसिंह ने मुस्कुरा कर कहा.

मनिका ने अभी भी उनसे नज़र मिला रखी थी. उनकी बात सुनते ही उसके चेहरे पर एक पल के लिए खौफ भरा भाव आ गया था और फिर उसकी नज़र नीची हो गई और चेहरे पर एक बार फिर से लाली आ गई.

‘क्या हुआ?’ जयसिंह ने मनिका का हाथ अपने हाथ में लेते हुए कहा.

‘कुछ नहीं…’ मनिका ने हौले से कहा. एक ही पल में पासा पलट गया था और उसकी सिट्टी-पिट्टी गुम हो गई थी.

‘पापा ने सब नोटिस किया था मतलब..! ओह गॉड!’ उसके मन में उथल-पुथल मच चुकी थी. आज यह दूसरी बार था जब जयसिंह ने मनिका को धर्म-संकट में डाल फिर से वही सवाल दोहराया था.

मनिका और जयसिंह के बीच चुप्पी छा गई थी.

कुछ पल बीतने के बाद मनिका रुक ना सकी और भर्राई आवाज में बोली,

‘पापा? आई एम् सॉरी..!’

‘अरे किस बात के लिए?’ जयसिंह ने झूठी हैरानी व्यक्त की.

‘वो…वो पापा उस रात है ना मुझे ध्यान नहीं रहा…वो मैं अपने घर वाले कपड़े ले कर बाथरूम में घुस गई थी और फिर…फिर पहले वाली ड्रेस शावर में भीग गई सो…आई हैड टू वियर दोज़ क्लॉथस एंड कम आउट…’ उसने उन्हें बताया ‘मैंने सोचा भी था की आप क्या सोचोगे मेरे बारे में कि कैसी बिगड़ैल हूँ मैं…बट आपने जैसे रियेक्ट किया उससे मुझे लगा कि आप भी एम्बैरेस हो तभी मुझे डांटा नहीं…आई एम् सो सॉरी…’ मनिका ने एक्सप्लेनेशन दिया.

‘अरे! पागल हो तुम…ऐसा क्यूँ सोच रही हो? मैं तो यहाँ तुम्हारी तारीफ़ कर रहा था और तुम कुछ भी सोचती चली जा रही हो..!’जयसिंह ने मनिका की ठुड्डी पकड़ उसका चेहरा ऊपर उठाते हुए कहा.

‘पापा?’ मनिका की नज़र में अचरज था. ‘क्या कह रहे हैं पापा?’ उसने सोचा. जयसिंह ने उसके चेहरे से उसके मन की बात पढ़ ली थी.

‘और नहीं तो क्या…मैं तुम्हें डांटूंगा ऐसा क्यूँ लगा तुम्हें?’ जयसिंह धीमे-धीमे बोलने लगे थे ताकि मनिका को पता रहे कि वे मजाक नहीं कर रहे थे और उनकी आवाज़ में एक अंतरंगता भी आ गई थी.

‘वो मैं…’ मनिका को कुछ नहीं सूझा था और वह फिर से चुप हो गई थी.

‘तुम्हें लगा कि मैं तुम्हें इतना खूबसूरत लगने के लिए डांटने वाला हूँ?’ मनिका की चुप्पी का फायदा उठा कर जयसिंह बोलते जा रहे थे ‘भई मुझे तो इस बात का पता ही नहीं लगता कि तुम इतनी बड़ी हो गई हो अगर उस रात तुम कुछ और पहन कर आ जाती तो के जिसे मैं छोटी बच्ची समझता था वह इतनी बड़ी हो गई है. इन-फैक्ट (दरअसल) तुम्हें तो शुक्रगुजार होना चाहिए कि तुमने वो ड्रेस पहनी हुई थी…’

‘क…क्या मतलब पापा?’ मनिका के कानों में जयसिंह की आवाज़ गूँज सी रही थी.

‘अरे भई तभी से तो मैंने तुम्हें एक एडल्ट-समझदार लड़की की तरह ट्रीट करना शुरू किया बिकॉज़ आई क्न्यु कि इंटरव्यू कैंसिल होने के बाद तुम इतना जल्दी वापस नहीं जाना चाहोगी और हम यहाँ रुके रहे.’ जयसिंह ने शब्द-जाल बुनना शुरू कर दिया था.

‘ओह…’ मनिका ने हौले से कहा.

‘क्या हुआ मनिका तुम कुछ बोल नहीं रही हो?’ जयसिंह ने मनिका को कुरेदते हुए कहा.

‘कुछ नहीं ना पापा. वो मैं थोडा एम्बैरेसड फील कर रही हूँ…आपके सामने ऐसे…आई मीन वो ड्रेस इनडिसेंट (अभद्र) सा था ना थोड़ा?’ मनिका ने अंत में आते-आते अपने जवाब को सवाल बना दिया था और एक पल जयसिंह से नज़र मिलाई थी.

‘ओहो…अभी दो घंटे के डिस्कशन के बाद हम फिर वहीँ आ खड़े हुए जहाँ से चले थे!’ जयसिंह उत्साहविहीन आवाज़ में बोले ‘मनिका डोन्ट फील एम्बैरेसड ओके? अब मैं तुम्हें कैसे समझाऊँ…लुक एट मी…’उन्होंने मनिका के एक बार फिर नज़र झुका लेने पर कहा.

‘जी…’ मनिका ने उन्हें देखते हुए कहा.

‘देखो मनिका अभी हम क्या बातें कर रहे थे..? यही ना कि सोसाइटी के नॉर्म्स (नियम) एक हद तक ही फॉलो करने चाहिएं…अब देखो वही बात तो यहाँ अप्लाई हो रही है.’ वे उसे समझाते हुए बोले ‘तुम सिर्फ इसलिए एम्बैरेस हो रही हो कि मैं तुम्हारे साथ था. पर मैंने तो तुम्हें सपोर्ट ही किया था, डिड आई मेक यू फील अनकम्फ़र्टेबल?’

‘नो पापा…बट…’ मनिका एक-दो शब्दों में ही जवाब दिए जा रही थी.

‘बट क्या मनिका?’ जयसिंह बोले ‘तुम इतनी खूबसूरत लग रही थी अब इज़ दैट ए क्राइम? नहीं ना…एंड आई एडमायरड (प्रशंशा) यू फॉर इट…एंड वो भी कोई जुर्म तो है नहीं. पर तुम ये सोच रही हो कि मैंने तुम्हें बिगड़ा हुआ समझ लिया और जाने क्या-क्या?’

‘हूँ…आपने नहीं सोचा ऐसा?’ मनिका ने हौले से उनसे पूछा.

‘बिलकुल नहीं…क्या मैं तुम्हें जानता नहीं हूँ? यू आर इनसल्टिंग (अपमान) मी बाय सेयिंग दैट..?’ वे बोले.

‘सॉरी पापा आई डिड नॉट मीन टू हर्ट यू..!’ मनिका बोली.

‘आई क्नॉ आई क्नॉ…अरे भई मुझे तो बहुत अच्छा लगा कि मेरी मनिका इतनी ब्यूटीफुल हो गई है…हम्म?’ जयसिंह ने मनिका का गाल सहलाते हुए कहा.

जयसिंह ने देखा की मनिका के झेंप भरे चेहरे पर एक पल के लिए छोटी सी मुस्कान आई और चली गई थी.

‘इतनी खूबसूरत तो मधु भी कभी नहीं थी…वो फ़िल्मी हिरोइन्स भी तुम्हारे सामने कुछ नहीं लगती सच कहूँ तो.’ जयसिंह ने मख्खन लगाते हुए कहा.

‘इश्श पापा…बस करो इतना भी हवा में मत उड़ाओ मुझे…’ मनिका ने काफी देर बाद एक वाक्य पूरा किया था.

‘सच कह रहा हूँ…हाहा.’ जयसिंह ने टेंशन थोड़ी कम करने के उद्देश्य से हंस कर कहा.

‘हीही पापा…’ मनिका की झेंप कुछ मिटी थी.

अब जयसिंह ने मनिका को थोड़ा और करीब खींचा जिससे वह उनकी जाँघ पर खिसक कर उनसे सट गई, ऐसा करते ही उसकी एक जाँघ जयसिंह के खड़े लिंग से जा टकराई. मनिका को कुछ पल तो पता नहीं चला था, पर फिर उसे अपनी जाँघ के साथ लगे जयसिंह के ठोस लंड का आभास होने लगा और उसने नज़र नीचे घुमा जयसिंह की गोद में देखा था व मनिका एक बार फिर से होश खोने के कागार पर आ खड़ी हुई थी.

जयसिंह के बरमूडे के अन्दर से तन कर उनका लंड उनकी गोद में किसी डंडे सी आकृति बना रहा था और उसकी जाँघ से सटा हुआ था. यह देखते ही मनिका चिहुँक कर थोड़ा पीछे हट गई. उधर जयसिंह को भी मनिका की जाँघ के अपने लंड से हुए स्पर्श का पता चल चुका था और वे उसके चेहरे पर ही नज़र गड़ाए हुए थे जब उसने उनकी गोद में झाँक कर अनायास ही अपने-आप को पीछे हटाया था.

मनिका ने भी झट नज़र उठा कर जयसिंह की तरफ देखा था कि उनकी क्या प्रतिक्रिया होती है पर उन्हें बिल्कुल सामान्य पाया, उन्होंने उसका गाल फिर से थपथपाया और पूछा,

‘नींद नहीं आ रही आज?’

‘हाँ…हाँ पापा…स्स…सोते हैं चलो.’ मनिका ने थर्राते हुए कहा.

जयसिंह के लंड का आभास होने के बाद से मनिका की इन्द्रियां जैसे पहली बार जाग उठी थी, उसे अब अपने पिता के बदन के हर स्पर्श का एहसास साफ़-साफ़ हो रहा था. उसके गाल पर रखा हाथ उन्होंने नीचे कर के उसकी गर्दन पर रखा हुआ था वहीं उनके दूसरे हाथ की पोजीशन ने उसकी हया को और ज्यादा बढ़ा दिया था, उसने पाया कि जब से जयसिंह ने उसकी बम्स (कूल्हे) पर थपकी दे कर उसे उठने को बोला था तब से उनका हाथ उन्होंने वहाँ से हटाया नहीं था. जयसिंह ने हाथ पूरी तरह से तो उसके अधो-भाग पर नहीं रखा हुआ था बल्कि उसे एक हल्के से टच (स्पर्श) की अनुभूति हो रही थी. अपने नीचे दबी जयसिंह की माँसल जाँघ की कसावट भी वह महसूस कर रही थी. उसे ऐसा लग रहा था जैसे उसके और उनके बीच हर पॉइंट ऑफ़ कांटेक्ट (मिलन-बिंदु) से एक गर्माहट सी प्रज्ज्वलित हो रही हो. वह सोने का बोल कर उनकी गोद से उठने लगी.

‘पट्ट’ की आवाज आई. जयसिंह ने हल्के से उसके कूल्हे पर एक और चपत लगा दी थी लेकिन इस बार मनिका को उनका ऐसा करना पहली-दूसरी बार से ज्यादा इंटेंसिटी (प्रवेग) से महसूस हुआ था व उसकी आवाज़ भी उसके कानों में आन पड़ी थी.

‘चलो फिर सोते हैं…’ वे भी मुस्काते हुए उठ गए थे.

बिस्तर की तरफ बढती हुई मनिका के क़दमों में एक तेज़ी थी. जयसिंह भी पीछे-पीछे ही आ रहे थे. बेड पर चढ़ कर मनिका ने दूसरी तरफ से बिस्तर पर चढ़ते हुए अपने पिता की तरफ देखा, उसको जैसे ताव आ गया था, पहली रात जब जयसिंह ने बरमूडा-शॉर्ट्स पहनी थी तो उनमें से उनके लिंग के उठाव का पता मनिका को इसलिए चला था कि वह पहले से ही उनकी नग्नता के दर्शन कर चुकी थी और उसकी नज़र सीधा वहीं गई थी. लेकिन आज तो जयसिंह का लंड पूरी तरह से तना हुआ था और शॉर्ट्स के आगे के भाग को पूरा ऊपर उठाए इस तरह खड़ा हुआ था की मनिका की नज़र ना चाहते हुए भी उस पर चली गई थी. जयसिंह मुस्कुराते हुए बिस्तर में घुस कर उसकी ओर करवट लिए लेट गए.

उन दोनों की नज़रें मिली. जयसिंह उसकी निगाहों को ताड़ चुके थे और मुस्काए, मनिका भी क्या करती सो वह भी मुस्का दी. जयसिंह को जैसे कोई छिपा हुआ इशारा मिल गया था, वे खिसक कर मनिका के बिलकुल करीब आ गए. इस तरह उनके अचानक पास आ जाने से मनिका असहज सी हो गई पर उसका शरीर उस एक पल के लिए जड़ हो गया था. जयसिंह ने उसके करीब आ कर अपना हाथ उसकी कमर में डाल लिया और अपना चेहरा उसके चेहरे के बिलकुल पास ले आए, उधर मनिका से हिलते-डुलते भी नहीं बन रहा था.

‘गुड-नाईट डार्लिंग!’ जयसिंह ने धीरे से कहा.

‘ओह…गुड-नाईट पापा…’ मनिका उनकी इस हरकत का आशय समझ थोड़ी सहज होने लगी.

जयसिंह ने मुस्का कर उसकी कमर पर रखा हाथ उठा कर एक बार फिर उसकी ठुड्डी पकड़ी और अगले ही पल अपना मुहँ उसके चेहरे की तरफ बढ़ा दिया; ‘पुच्च’ मनिका कुछ समझ पाती उस से पहले ही उन्होंने उसके गाल पर एक छोटा सा किस्स कर दिया था और पीछे हो कर लेट गए.

मनिका की नज़रें उठाए नहीं उठ रहीं थी. जयसिंह के यकायक किए इस बर्ताव ने उसे स्तब्ध कर दिया था. किसी तरह उसने एक पल को उनकी तरफ देखा था और झट-पट नज़र झुका ली, जयसिंह को इतना इशारा काफी था,

‘वैसे तुमसे एक शिकायत भी है मुझे अब…’ वे बोले.

‘क्या पापा?’ मनिका ने हैरानी से पूछा, उसकी नज़र फिर से उठ गई थी.

‘यही कि मैंने तुमसे ये एक्स्पेक्ट नहीं किया था कि तुम मुझे इतना पराया और गलत समझोगी…’ जयसिंह के चेहरे से मुस्कुराहट हट चुकी थी.

‘पापा! मैं ऐसा सोच भी नहीं सकती…कभी नहीं…आप ऐसा क्यूँ बोल रहे हो?’ मनिका ने भावुक हो कर कहा और उठ बैठी.

‘वैसे ही कह रहा हूँ, हो सकता है मैं गलत होऊं पर जब से तुमने बताया है तब से सोच रहा हूँ अगर तुम्हें मुझ पर भरोसा होता तो पहली रात के बाद तुम नाईट-ड्रेस चेंज करके रोज यह अभी वाले कपड़े न पहन कर सोती.’ जयसिंह ने चेहरे पर ऐसा भाव प्रकट किया जैसे वे बहुत दुखी व विचलित हों.

‘नहीं ना पापा ऐसा मत कहो…ऐसा बिल्कुल नहीं है!’ मनिका ने अपने तर्क की सच्चाई जताने के लिए थोड़ा सा उनकी तरफ झुकते हुए कहा ‘वो तो…मुझे शर्म…शर्म आती है इसलिए नहीं पहनती…प्लीज़ ना पापा आप मुझे मिसअंडरस्टैंड मत करो…’

‘हम्म…’ जयसिंह ने सोचते हुए प्रतिक्रिया की.

‘पापा! प्लीज..?’मनिका ने हाथ बढ़ा कर उनका हाथ थाम कर मिन्नत की.

‘ओके ओके…मान ली तुम्हारी बात भई.’ जयसिंह ने मुस्का कर उसकी तरफ देखा.

‘ओह पापा.’ मनिका ने राहत की साँस ली ‘ऐसा मत सोचा करो आप…’

‘ठीक है…’ जयसिंह बोले ‘चलो अब यहाँ आओ और मुझे मेरी गुड-नाईट किस्स दो…’

मनिका एक पल के लिए ठिठकी और उसकी नज़र फिर से जयसिंह के लिंग पर चली गई फिर उसने धीरे से आगे झुक कर जयसिंह के गाल पर पप्पी दे दी ‘पुच्च’.

अब मनिका पीछे हट कर फिर से अपनी जगह पर लेट गई. जयसिंह ने लाइट बुझा कर नाईट-लैंप जला दिया और वे दोनों एक-दूसरे की तरफ करवट लिए सोने लगे. पर कुछ-कुछ पल में ही कभी मनिका तो कभी जयसिंह आँख खोल कर देख रहे थे और जब कभी दोनों की आँखें साथ में खुल जाती थी तो दोनों झट से आँखें मींच लेते थे.

यूँ तो जब से वे दोनों दिल्ली आए थे मनिका और जयसिंह दुनिया-जहान की बातें कर चुके थे और कभी-कभी जयसिंह की चालाकी से उनके बीच की बातचीत ने कुछ रोचक मोड़ भी ले लिए थे परन्तु अभी तक उन्होंने अपने रिश्ते के दायरों का उलंघन नहीं किया था. लेकिन आज जिस तरह से जयसिंह ने बात घुमाते-घुमाते मनिका के सामने हर रिश्ते की परिभाषा को एक मर्द और औरत के बीच समाज की खड़ी की दीवारों के रूप में पेश किया था उसने मनिका के मन को अशांत और आतंकित कर दिया था. मनिका लेटी हुई सोच रही थी,

‘ओह पापा भी कैसी अजीब बातें सोचते हैं…सबसे डिफरेंट…मर्द-औरत…लड़की…सोसाइटी के बनाए हर रूल से उलट..! वैसे वे भी कुछ गलत तो नहीं कह रहे थे…आई मीन (मेरा मतलब) अगर हम अपनी लाइफ अपने हिसाब से जीना चाहते हैं तो उससे सोसाइटी और लोगों को क्यूँ दिक्कत होती है? एंड उन फूहड़ लोगों का भी अपना लाइफ स्टाइल है वो चाहें मूवी में हूटिंग करें या कुछ और…बात तो तब गलत होगी जब वे किसी और को जान-बूझ कर परेशान करें या छेड़ें.’ मनिका ने अब आँख खोल-खोल कर जयसिंह की ओर देखना बंद कर दिया था ‘एंड पापा ने कहा कि मैं भी तो मम्मी से बातें छुपाने लगी हूँ…हाँ क्यूंकि वे हमेशा मुझसे चिढती रहती हैं…पापा ने भी तो कहा कि सब बातें हर किसी को बताने की नहीं होती…पहले भी तो मैंने यह सोचा था कि अगर मम्मी को पता चले कि हम यहाँ दिल्ली में ऐश कर रहे थे तो कितना बखेड़ा खड़ा हो जाएगा…हमें तो ज़िन्दगी भर ताने सुनने पड़ें शायद…और अगर…ओह गॉड! अगर किसी तरह मम्मी को हमारे बीच होने वाली इंटरेक्शन (मेल-जोल, बातें) का पता चल गया तो फिर तो गए समझो…कैसे हम दोनों एक ही रूम में इतने दिनों से रह रहे हैं और…वो अंडरर्गार्मेंट्स वाली बात पर हुई लड़ाई…पापा ने कहा कि अगर उनकी जगह कोई और होता तो मैं शायद इतना रियेक्ट नहीं करती…क्या सच में? कभी किसी ने ऐसी बात तो कही नहीं है मुझसे…पर हाँ शायद इतना बड़ा इशू (बतंगड़) नहीं बनता…आखिर मूवीज में ये सब कॉमन है. पर पापा थे इसलिए…सुबह उनसे फिर से सॉरी कहूँगी…पापा कितने मैच्योर (समझदार) हैं और कितने कूल भी…उन्होंने कहा कि वे सच में मुझे एक एडल्ट की तरह ट्रीट करते हैं…हाँ वो तो है!’ सोचते हुए मनिका ने करवट बदल ली.

उधर जयसिंह लेटे हुए उसे देख रहे थे, उसके करवट बदलने पर उन्होंने अच्छे से आँखें खोल कर उसकी तरफ देखा था, ‘आज तो पता नहीं क्या-क्या बोल गया मैं…पर कुतिया ने ज्यादा विरोध नहीं किया…साली के मन में पता नहीं क्या चल रहा होगा. कैसी मचकी थी चिनाल जब पैर पे लंड महसूस हुआ था…पर फिर भी सब लग तो सही ही रहा है वरना चुम्मा ना देती इतने आराम से…देखो कल कितना काम आता है ये ज्ञान…’जयसिंह ने सोचते हुए मनिका की तरफ एक नज़र और डाली; वे जानते थे कि आज उनके बीच जिस तरह की बातें हुई थी वे आज से पंद्रह दिन पहले तक नामुमकिन थी और ये उनके रचे चक्रव्यूह का ही कमाल था कि मनिका अब उनके चंगुल में फंसती चली जा रही थी. उन्होंने पूरे समय मनिका के साथ एक कदम आगे बढ़ने के बाद दो कदम पीछे खींचे थे और उनकी यह स्ट्रेटेजी कामयाब रही थी. एक पल तो वे मनिका को शर्मिंदगी के कागार पर पहुंचा देते और फिर अगले ही पल खुद ही उसे आश्वस्त कर देते कि उनके बीच होनेवाली बातों में कुछ भी गलत नहीं था और मनिका उनकी और ज्यादा कायल हो जाती थी. वैसे भी २२ साल की मनिका जयसिंह जैसे मंझे हुए व्यापारी के साथ क्या होड़ कर सकती थी? उन्होंने देखा कि मनिका ने अपना हाथ उठा कर अपने नितम्ब पर रखा हुआ था और एक बार उसे हल्के से सहलाया था. उनके चेहरे पर एक लम्बी मुस्कान तैर गई और ख़ुशी से उन्होंने एक पल को आँखें बंद कर ली थी.

‘और मम्मी ने मुझे आज तक इस तरह अच्छे से ट्रीट नहीं किया है…छोड़ो मम्मी की किसे जरूरत है?’ मनिका के विचार भी अभी बराबर चल रहे थे ‘अगर उन्हें पता चले कि पापा ने मेरी ब्रा-पैंटी देख ली थी तो…हाहाहा हाय! पापा ने कैसा सताया था…और मैंने जो उनका डिक…देख लिया था? पापा बार-बार कहते हैं कि हमें घर पर सावधान रहना होगा…और ये बात तो किसी से शेयर भी नहीं कर सकती…कितना बड़ा है पापा का! हाय…कैसे खिसिया जाते हैं जब उनको सताती हूँ उन मूवी वाली हिरोइन्स के नाम पर…क्या उनके छोटे-छोटे कपड़े देख कर पापा टर्न-ऑन (उत्तेजित) हो जाते हैं..? और उनका डिक इरेक्ट (खड़ा)…हाय… बोल रहे थे कि उन्होंने उस रात मुझे नोटिस किया था…शॉर्ट्स में…पर कुछ कहा नहीं था ताकि मुझे बुरा ना लग जाए…कितने केयरिंग है पापा…बट कितना अडौर (तारीफ) कर रहे थे आज मुझे…कि आई वास् लुकिंग वैरी ब्यूटीफुल…सब कुछ देख लिया था उन्होंने सुबह-सुबह मतलब…शॉर्ट्स तो पूरी ऊपर हुई पड़ी थी…ही सॉ माय नेकेड बम्स (नंगी गांड)…ओह गॉड और बोले की मैं मम्मी से भी ज्यादा खूबसूरत हूँ…तो क्या उनको इरेक्शन हुआ होगा मुझे देखने के…नहीं-नहीं वो तो पापा हैं मेरे ऐसा थोड़े ही सोचेंगे…पर पापा तो कहते हैं कि सब रिश्ते समाज ने बनाए हैं! मैंने भी तो उन्हें बताया था कि सब मुझे उनकी गर्लफ्रेंड समझते हैं…कैसे मजाक बनाते हैं उस बात का भी वे…यहाँ आने से पहले तो कभी मैं उनकी गोद में नहीं बैठी…आई मीन बड़ी होने के बाद से…पर अब तो मुझे अपने लैप में ही बिठाए रखते हैं…और दो-तीन बार तो मुझे डार्लिंग भी कह चुके हैं…मनिका डार्लिंग…ये तो मैंने सोचा ही नहीं था…और जो मेरे बम्स पर उन्होंने हाथ से…पहले किसी ने नहीं टच किया मुझे वहाँ पर…पापा ने…कैसी आवाज़ आई थी उनके स्लैप (थपकी) की…हे भगवान मैं क्या सोचती जा रही हूँ आज ये..?’मनिका याद कर-कर के सम्मोहित होती जा रही थी, उसे अचानक अपनी गांड में एक स्पंदन का एहसास होने लगा था और उसने हाथ से वहाँ पर सहलाया था जहाँ उसके पिता ने उसे छुआ था. यही देख जयसिंह की बाँछें खिल उठी थीं. उधर मनिका के मन में लगी आग ने ज्वाला का रूप धारण कर लिया था.

‘घर जाने के बाद तो मैं और पापा यह सब नहीं कर पाएंगे…सिर्फ एक-दो दिन और हैं हम यहाँ फिर तो जाना ही पड़ेगा…तब देखती हूँ कितना डार्लिंग-डार्लिंग करके बुलाते हैं मुझे…पर वो तो वे प्यार से कहते होंगे…मैं भी गलत-सलत सोच रही हूँ बेफालतू…’ मनिका ने अपने ख्यालों को विराम देने की कोशिश की पर विफल रही ‘और आज तो गुड-नाईट किस्स…मुझे तो एक बार लगा कि पापा इज गोइंग टू किस्स माय लिप्स (होंठ)…जैसा उस मूवी में था…उनकी पकड़ कितनी मजबूत है, चेहरा घुमा तक नहीं सकी थी मैं…उस दिन भी तो उनकी बाहों में…सबके सामने मुझे अपनी बाहों में भर लिया था…उह्ह.’

इसी तरह के विचारों में उलझी मनिका की आँख लग गई थी पर जयसिंह सोए न थे.

जयसिंह जानते थे कि आज मनिका इतनी जल्दी नहीं सो पाएगी सो वे देर तक आँखें मूँदे पड़े रहे थे. ‘आहा आज तो मजा आ गया. साली का दीमाग पलटने में अगर कामयाबी मिल जाती है तो उसके बाद तो कुतिया के बचने का सवाल ही पैदा नहीं होता…जल्दी से सो जाए तो थोड़ा मजा कर लूँ काफी दिन हो गए…उम्म्म…अब तो वापसी का वक़्त भी करीब आ गया है.’ करीब दो घंटे तक जयसिंह ने कोई हरकत नहीं की थी. जब उन्हें लगा कि अब तो मनिका गहरी नींद सो ही चुकी होगी तो उन्होंने अपनी आँखें खोलीं और अपनी बेटी की तरफ देखा.

मनिका की करवट उनकी तरफ थी. कमरे में हमेशां की तरह नाईट-लैंप की रौशनी फैली हुई थी. मनिका बेफिक्र नींद के आँचल में समाई हुई थी. एक पल के लिए उसके मासूम-खूबसूरत चेहरे को देख जयसिंह को अपने इरादों पर शर्मिंदगी का एहसास हो आया था पर फिर हवस का राक्षस उन पर दोगुनी गति से सवार हो गया ‘रांड चिनाल कुतिया…छोटी-छोटी कच्छियाँ पहनती है मेरे पैसों से! ऐश करती है मेरे पैसों से…और मजे लेगा कोई और? हँह!’
‘मनिका!’ जयसिंह ने उसे पुकारा. उन्होंने अपनी आवाज़ भी नीची नहीं की थी. मनिका सोती रही.

जयसिंह की हिमाकत अब इस हद तक बढ़ चुकी थी कि वे अब बेख़ौफ़ खिसक कर मनिका के करीब हो लेट गए और अपने हाथ से उसके गाल को एक दो पल सहलाने के बाद अपने हाथ का अँगूठा मनिका के गुलाबी होंठों पर रख कर उन्हें मसलने लगे. मनिका के रसीले होंठों को मसलते-मसलते उन्होंने अपना अँगूठा उसके मुंह में डाल दिया, मनिका के होंठों पर लगे लिप-ग्लॉस की खुशबू उसकी साँसों के बाहर आने पर जयसिंह तक पहुँच रही थी. उनकी उत्तेजना बढ़ने लगी, परन्तु जयसिंह का इरादा सिर्फ मजे लेने का नहीं था.

मनिका जयसिंह की तरफ करवट लिए इस तरह लेटी थी कि उसका एक हाथ उसने मोड़ कर अपने सिर के नीचे रखा हुआ था और दूसरा उसकी छाती के आगे से मोड़ कर बेड पर रखा हुआ था. अब जयसिंह ने मनिका के बेड पर रखे हाथ को पकड़ कर धीरे-धीरे सहलाया, फिर जब वे थोड़ा आश्वस्त हो गए तो उन्होंने उसका हाथ धीरे से उठाया और खिसक कर उसके बिलकुल करीब हो गए व उसका हाथ अपनी कमर पर रख लिया. जयसिंह और मनिका के बीच अब सिर्फ कुछ ही इंच की दूरी थी. एक बार फिर जयसिंह ने कुछ पल का विराम लिया.

थोड़ा वक्त गुजरने के बाद जयसिंह ने अब अपना हाथ भी मनिका की कमर पर रख लिया था और धीरे से अपना दूसरा हाथ नीचे से मनिका की कमर और बेड के बीच घुसाने लगे. कुछ पल की कोशिश के बाद उन्हें सफलता मिल गई, वे फिर थोड़ा रुक गए. अब उन्होंने मनिका की कमर पे रखे अपने हाथ को उसकी पीठ पर ले जा कर हौले से दबाया और उसके नीचे दबे अपने हाथ से उसकी कमर को थाम लिया. जब मनिका की तरफ से उनकी इन हरकतों की कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली तो वे खिसक कर उसके साथ चिपक गए और फिर एकदम से बेड पर पीछे हो करवट बदल कर सीधे लेट गए.

जयसिंह ने मनिका को कस कर थामे रखा था और उनके सीधे होते ही वह भी उनके साथ ही खिंच कर बेड पर उनकी साइड पर आ गई थी. मनिका के थोड़ा ऊपर होते ही उन्होंने उसके नीचे दबा अपना हाथ ऊपर ले जा कर उसकी बगल में डाल लिया था. अब मनिका आधी उनकी बगल में और आधी उनकी छाती पर लगी हुई सो रही थी. जयसिंह के इस कारनामे ने मनिका की नींद को थोड़ा कच्चा कर दिया था और वह थोड़ा हिलने-डुलने लगी. जयसिंह ने जड़वत हो आँखें मींच ली थी ताकि उसके उठ जाने की स्थिति में बचा जा सके लेकिन मनिका ने थोड़ा सा हिलने के बाद अपना सिर उनकी छाती पर एडजस्ट किया और अपनी एक टांग उठा कर उनकी जांघ पर रख कर सोने लगी. जयसिंह को अपनी जांघ की साइड पर सटी अपनी बेटी की उभरी हुई योनि का आभास मिलने लगा था और वे दहक उठे थे.

***

अब जयसिंह ने अपना हाथ, जो मनिका की पीठ पर था, उसे नीचे ले जा कर उसकी टी-शर्ट का छोर पकड़ा और ऊपर उठाने लगे. क्यूंकि उनका एक हाथ आज मनिका के नीचे था, सो टी-शर्ट ऊपर करने में उन्हें ज्यादा वक्त नहीं लगा, और कुछ ही देर में वे अपनी बेटी की टी-शर्ट उसकी कमर से ऊपर कर उसकी पीठ तक उघाड़ चुके थे, पीछे से ऊपर होती टी-शर्ट आगे से भी ऊपर हो गई थी और मनिका की नाभी से भी ऊपर तक उसका बदन अब नग्न था. जब जयसिंह के हाथ पे मनिका की ऊपर हुई टी-शर्ट के नीचे उसकी ब्रा का एहसास हुआ तो वे एक पल के लिए रुक गए. उनकी धड़कनें उनका साथ छोड़ने को हो रहीं थी, उन्होंने अब मनिका की टी-शर्ट को छोड़ा और धीरे-धीरे उसकी नंगी कमर और पीठ सहलाने लगे.

मनिका के नीचे दबे होने की वजह से वे अपना सिर उठा कर उसका नंगापन तो पूरी तरह से नहीं देख सकते थे, लेकिन अब उनके हाथ ही उनकी आँखें बने हुए थे. उन्होंने अब एक कदम और आगे बढ़ते हुए, मनिका का लोअर (पजामी) भी नीचे करना शुरू कर दिया. लेकिन कुछ पल बाद उन्हें रुकना पड़ा क्यूंकि पजामी मनिका के नीचे दबी हुई थी. फिर भी उन्होंने अपनी सोती हुई बेटी की गांड का उपरी हिस्सा उसके लोअर से बाहर निकाल ही लिया था. मनिका की पैंटी का इलास्टिक और उसके नितम्बों के बीच फंसा पैंटी का डोरीनुमा पिछला भाग अब उघड़ चुके थे. जयसिंह हौले-हौले मनिका की गांड से लेकर पीठ तक हाथ चला रहे थे. मनिका के मखमली स्पर्श ने उनके लंड को तान दिया था और वह अब मनिका के जांघ के नीचे दबा हुआ कसमसा रहा था.

जयसिंह ने अपना हाथ मनिका की अपने ऊपर रखी जांघ के नीचे डाला और अपने लंड को सीधा कर थोड़ा आज़ाद किया. वे अपना हाथ वापस ऊपर निकालने लगे पर उनकी उत्तेजना चरम पर थी, और उन्होंने अपना हाथ बाहर न खींच कर, मनिका की टांगों के बीच दे दिया और उसकी जवान योनि पर रख लिया. उनके बदन में गर्माहट का एक सैलाब सा उठने लगा था. मनिका की योनि उनके हाथ में किसी तपते अंगारे सी महसूस हो रही थी, कुछ ही पल में आनन्द से वे निढाल हो गए, और बरबस ही अपनी बेटी की कसी हुई चूत को दबाने लगे.

मनिका को उनकी हरकतों का आभास होने लगा था, परन्तु वह जागी नहीं थी, यह ठीक वैसा ही था जैसा हमें कभी-कभी सपने में अपने आस-पास की चीज़ों का आभास होने लगता है और जग जाने पर हम उन्हें वास्तविक पाते हैं.

“मनिका एक अँधेरे कमरे में थी, और उसके मन में एक अजीब से भय और उत्तेजना का मिलाजुला रूप उठ रहा था, वह अंधेरे में इधर-उधर टटोलते हुए आगे बढ़ रही थी कि उसका पैर किसी सख्त चीज़ से टकराया, मनिका ने हाथ बढ़ा कर देखा तो पाया कि वह एक पलंग था, कमरे में जैसे हल्की सी रौशनी हो गई थी, उसे पलंग का एक हिस्सा नज़र आने लगा था. तभी जैसे आवाज़ आई, ‘मनिका, आओ बिस्तर में आ जाओ.’ मनिका ने गौर से देखा तो पाया के उसके पापा बेड की दूसरी ओर लेटे हुए थे. वह मुस्कुरा कर बेड पर चढ़ गई, लेकिन उसका दिल जैसे जोरों से धड़कने लगा था. उसके पापा ने एक कम्बल ओढ़ रखा था, ‘पापा.’ मनिका ने कहा, ‘हाँ डार्लिंग?’ उसके पापा मुस्कुरा कर बोले, मनिका से उसके पापा ने हमेशा प्यार से बात की थी, उनका ख्याल आते ही उसके मन में उनका वह प्यार भरी मुस्कान वाला चेहरा आ जाता था. लेकिन अब जो मुस्कान उसके पिता ने उसे दी थी उसमें कुछ अलग था, एक ऐसा भाव जिसने उसके मन में स्नेह की जगह एक अजीब सी सनसनी पैदा कर दी थी. जयसिंह ने अब हाथ बढ़ा कर उसका हाथ पकड़ लिया था, उनकी पकड़ में भी एक मजबूती थी, एक ऐसी पकड़ जिसमें आक्रमकता थी, एक किस्म की जबरदस्ती. वे अभी भी मुस्कुरा रहे थे, मनिका भी मुस्का कर उन्हें देख रही थी, फिर उन्होंने मनिका को अपनी ओर खींचा. मनिका अपने डर और आशंकाओं के बावजूद उनका प्रतिरोध नहीं कर सकी और उनके करीब हो गई. आचानक से उसे आभास हुआ के उसके पापा ने ऊपर कुछ भी नहीं पहन रखा था. मनिका का मन और अशांत हो उठा, उधर जयसिंह अभी भी वही अजीब सी मुस्कान लिए थे, मनिका ने अपना हाथ पीछे खींचना चाहा लेकिन उसके पापा ने उसे कसकर थाम रखा था. उनकी आँखों में एक चमक थी, जिसमें प्यार नहीं, एक भूख झलक रही थी. ‘पापा, छोड़ो ना मुझे…’ मनिका ने मिन्नत की. ‘क्यूँ?’ जयसिंह ने पूछा, मनिका के पास कोई जवाब न था. ‘रात हो गई है, सोना नहीं है?’ उसके पापा ने आगे कहा. ‘हाँ पापा, मैं सोने जा रही हूँ अपने रूम में.’ मनिका ने फिर से अपना हाथ छुड़ाने की कोशिश की. ‘लेकिन जानेमन, यह तुम्हारा ही तो रूम है.’ जयसिंह बोले. मनिका ठिठक गई, क्या पापा ने उसे अभी ‘जानेमन’ कहा था, उसने गौर से आस-पास देखा तो पाया कि जयसिंह सही कह रहे थे, कमरे में जैसे और रौशनी हो गई थी, यह तो उसी का कमरा था. ‘पर पापा आप यहाँ क्यूँ सो रहे हो?’ मनिका ने उपाह्पोह भरी आवाज़ में पूछा. ‘मैं तो यहीं सोता हूँ रोज़, तुम्हारे साथ.’ जयसिंह मुस्का के बोले. ‘पर मम्मी..?’ मनिका ने अचम्भे से कहा. ‘वह अपने कमरे में है. बहुत बातें हो गईं चलो अब आ भी जाओ…’ कह उसके पापा ने कम्बल एक तरफ कर दिया. ‘पापाआआअह्हह्हह…आप…!’ मनिका की कंपकंपी छूट गई, उसके पापा कम्बल के अन्दर पूरे नंगे थे. उनका काला लंड खड़ा हो कर मचल रहा था. उसने एक झटके से जयसिंह से हाथ छुड़ाने की कोशिश की, लेकिन जयसिंह ने मनिका को दोगुनी ताकत से अपने साथ कम्बल में खींच लिया. मनिका सिहर उठी, उसने अपने आप को छुड़ाने की कोशिश में कहा ‘पापा, ये गलत है, आप ये क्या कर रहे हो? मैं आपकी बेटी हूँ, आपने कुछ नहीं पहना हुआ! आप…आप…नंगे हो.’ जयसिंह ने मनिका को अपनी गिरफ्त से थोड़ा आज़ाद किया, पर वे अब भी उसे कस कर अपने बदन से लगाए हुए थे और मनिका उनके बलिष्ठ शरीर की ताकत के आगे बेबस थी. ‘पर तुम भी तो नंगी हो मेरी जान…’ जयसिंह ने उसी कुटिल मुस्कान के साथ कहा. ‘ह्म्म्प…मैं…मैं भी!’ मनिका को यकायक एहसास हुआ कि उसके पिता सही कह रहे थे, वह भी पूरी तरह से नंगी थी, अगले ही पल उसका कलेजा मुहं में आने को हो गया, उसने पाया कि उसने अपने हाथ से अपने पापा का लंड कस कर पकड़ रखा था.”

‘आह्ह्ह्हह्ह…नाआआअ…’ मनिका की आँखें एक झटके से खुल गईं, उसके माथे पर पसीने की बूँदें छलक आईं थी. एक पल के लिए उसे समझ नहीं आया कि वह कहाँ है. कुछ पल बाद उसे याद आया कि वे लोग डेल्ही में थे और एहसास हुआ कि वह एक डरावना सपना देख रही थी, और फिर अगले ही पल उस पर एक और गाज गिरी. वह अपने पिता से लिपट कर सो रही थी.

मनिका ने जयसिंह से अलग होने के लिए पीछे हटने की कोशिश की, लेकिन पाया कि उनका एक हाथ उसकी कमर में था, और इस से भी ज्यादा भयावह यह था कि उसकी टी-शर्ट ऊपर हो रखी थी. इस से वह उबर पाती उस से पहले ही उसे अपने लोअर की स्थिति का भी एह्सास हो गया, मनिका का बदन अब सचमुच कांपने लगा था, उसने फिर से हिलने की कोशिश की और इस बार तो जैसे उसका खून ही सूख गया, उसके हिलने पर उसे आभास हुआ की उसके पापा का हाथ उसकी योनि पर स्पर्श कर रहा था.

अब निढाल होने की बारी मनिका की थी, हर एक पल के साथ उसे अपने पिता के स्पर्श का एक और पहलू नज़र आ रहा था, अब उसे अपनी जांघ के नीचे दबे जयसिंह के लंड का भी आभास हो गया था, ‘पपाज़ डिक!! इट इज़ अंडर माय थाईज़!’ यह सोचते ही मनिका ने अपना पैर पीछे हटाया, पर उसके पैर पीछे करते ही जयसिंह का हाथ जो उसकी योनि पर रखा था, पूरी तरह से उसकी टांगों के दबाव में आ कर भिंच गया. मनिका की आँखों के आगे अँधेरा छा गया था, उसके पापा का हाथ अब उसकी योनि पर कसा हुआ था. ‘पापाज हैंड इज़ ऑन माय पुसी (योनि)!!!’

मनिका ने सिहरते हुए हिम्मत की और अपने हाथ से जयसिंह के हाथ को अपनी नंगी कमर से निकाला, और तेज़ी से उनसे अलग हो कर बिस्तर की दूसरी ओर पहुँची. उसके कांपते हाथ बड़ी ही तीव्रता से अपने कपड़ों को सही कर रहे थे पर उसकी नज़र सोते हुए जयसिंह पर ही गड़ी थी. जयसिंह उसके अलग होने पर थोड़ा हिले-डुले थे, पर फिर शांत हो गए थे. ‘क्या पापा उठ गए? और मैं उनकी तरफ कैसे पहुँच गई?’ सोच-सोच कर मनिका का दिल दहल रहा था. अब उसे वह सपना भी याद आने लगा था जिसकी वजह से उसकी आँख खुल गई थी. ‘तो क्या मैं उस ड्रीम की वजह से पापा के पास पहुँच गई थी? ओह गॉड…पापा वाज़ नेकेड (नंगे थे)…एंड मी टू (और मैं भी)…एंड वी वर स्लीपिंग टोगेदर (हम साथ में सो रहे थे)…और हम सच में भी साथ ही सो रहे थे! पापा का हाथ…हाय…’ मनिका की नज़र अब जयसिंह के लंड पर चली गई, उनका बरमुडा अभी भी तम्बू बना हुआ था. ‘इतना बड़ा डिक है पापा का…और मैंने उसे पकड़ रखा था…नहीं-नहीं इट वाज़ अ ड्रीम (वो एक सपना था)…’ मनिका ने अपने आप को भींचते हुए सोचा. ‘पर उस दिन तो मैंने पापा का डिक सच में देखा था, इट इज़ सो बिग! (वह कितना बड़ा है!)’ मनिका ने बरबस ही आँखें मींच ली थी.

अब उसे वह सपना रह-रह कर याद आ रहा था, ‘पापा मुझे कैसे देख रहे थे, जैसे मैं उनकी बेटी नहीं बल्कि…जैसे ही वांटेड मी टू बी हिज़ गर्लफ्रेंड (कि वे मुझे अपने गर्लफ्रेंड बनाना चाहते हों)…नहीं, उनकी आँखों में वैसा प्यार भी नहीं था, इट वाज़ लस्ट…ओह गॉड (उनकी नज़रों में हवस थी)…’ मनिका अपने विचारों को रोकने में असमर्थ थी, उसने एक बार फिर आँखें खोल अपने पिता की तरफ देखा, जयसिंह की साइड का नाईट-लैंप जल रहा था इसलिए वह उन्हें साफ़ देख पा रही थी. उनके चेहरे को देखते ही मनिका की जैसे आँखें खुल गईं, ‘ओह गॉड, पापा…जब से हम यहाँ आए हैं, पापा सिर्फ मुझे उसी नज़र से तो देखते हैं…’ मनिका का गला भर आया था. फिर उसे सपने में उनका जबरदस्ती उसका हाथ पकड़ना भी याद आ गया, ‘और अब भी तो पापा मुझे अपनी गोद में इशारा कर के बैठने को कहते हैं…यहाँ आने के बाद से मैं हमेशा उनके लैप में ही बैठती हूँ…ओह शिट…ही इज़ ऑलवेज टचिंग मी (वे हमेशा मुझे छूते भी रहते हैं)…और वो मेरे बम्स (नितम्बों) पर स्लैप (चपत) लगाना…! आई ऍम ग्रोन अप नाउ (मैं बड़ी हो गई हूँ)…और पापा मुझे इस तरह हाथ लगाते रहते हैं…मैं ये सब पहले क्यूँ नहीं देख पाई!?’

मनिका की अंतरात्मा जैसे एक पल में ही जाग उठी थी, उसे जयसिंह की हर वो हरकत याद आने लगी थी जिसके बहाने से उन्होंन उस के साथ अमर्यादित व्यवहार किया था और उसने उनकी नादानी समझ कर अनदेखा कर दिया था. और फिर तो उन्होंने उसे मर्द-औरत के रिश्तों और ऐसी ही बातों में लगा कर किस तरह यह एहसास भी नहीं होने दिया था कि उनके मन में क्या है.

मनिका के दिल की धड़कने अपना वेग कम करने का नाम ही नहीं ले रहीं थी. पर अब उसे हौले-हौले एक और आभास भी होने लगा था, ‘क्या सच में मुझे पापा के बिहेवियर (बर्ताव) में बदलाव का पता नहीं चला?’ वह सोचने लगी, ‘पर मैंने भी तो सब बातें नोटिस की थीं, लेकिन फिर भी कभी पापा को ना नहीं किया…पापा…ओह. उनको पापा कहने पर आई फील सो गुड (कितना अच्छा लगता है उन्हें पापा कहना)…एंड इट्स नॉट लाइक हाउ आई फेल्ट बिफोर (और उस तरह नहीं जैसे पहले लगता था)…बट लाइक ही इज़…पता नहीं कैसे एक्सप्लेन करूँ…ऐसा पहले कभी नहीं लगता था. पर जब वो मुझे देखते हैं, क्या मुझे पता रहता है कि वो मुझे…क्या वो मुझे अपनी डॉटर समझते हैं?’ मनिका के रोंगटे खड़े हो गए थे. ‘और क्या सचमुच मैं उन्हें अपने पापा समझती हूँ..? उनकी बॉडी कितनी पावरफुल है…और वे कहते हैं कि सिर्फ मर्द ही लड़कियों को खुश…उनका डिक…पापा का डिक…ओह इतना बड़ा डिक है…पापा का…पापा…’ मनिका ने अपने आप को रोकने की कोशिश की लेकिन उसके ख्याल थमने का नाम ही नहीं ले रहे थे. ‘पापा ने कहा किसी को न बताने को…ओह गॉड, अगर किसी को पता चल जाए तो..? ये सब गलत है…पाप है, अब ऐसा नहीं होने दूँगी…’ मनिका ने करवट बदल ली और अपने मन से विचारों को निकालने की कोशिश करने लगी. उसके पूरे बदन में एक करंट सा दौड़ रहा था, एक पल के लिए उसे अपने पिता का हाथ अपनी योनि पर महसूस हुआ, और उसने सिसक कर आँखें मींच ली.

(11-05-2016 04:38 PM)  Le Lee 0
उधर जयसिंह मनिका के मन में मची उथल-पुथल से अनजान घोड़े बेच कर सो रहे थे. दरअसल जब तक मनिका की आँख खुली थी, उसके पिता उसके जिस्म से खेलते-खेलते सो चुके थे. मनिका के आतंकित-आशंकित मन ने उसे थकाने का का काम किया था और थोड़ी देर बाद उसकी भी आँख लग गई.

उस दिन जब जयसिंह की आँख खुली तो उन्होंने पाया कि मनिका उनसे पहले उठ चुकी है. वह सोफे पर बैठी थी और उसकी पीठ उनकी तरफ थी. वे तकिये से टेक लगा कर उठ बैठे और बोले,

‘अरे, आज तो तुम बड़ी जल्दी उठ गई.’

‘हूँ.’ मनिका की तरफ से जवाब आया.

जयसिंह ने मनिका से ऐसी प्रतिक्रिया की उम्मीद नहीं की थी, और उनसे कुछ बोलते न बना. फिर उन्हें याद आया कि पिछली रात उन्होंने किस तरह मनिका को अपने साथ ले कर उसकी मर्यादा पर हाथ डाला था. वे सतर्क हो गए ‘क्या आज आखिरी दिन पर आकर बात बिगड़ गई है? मैंने भी सब्र नहीं किया कल…’ जयसिंह कुछ पल सोचते रहे फिर बिस्तर से बाहर निकल, अपना तौलिया उठा कर बाथरूम की तरफ बढे.

‘मनिका, मैं बाथरूम हो कर आता हूँ, जरा कुछ ब्रेकफास्ट ऑर्डर कर लो.’ जयसिंह ने एक नज़र अपनी बेटी पर डालते हुए कहा. मनिका ने उनके उठने की आहट होते ही अपना चेहरा फिर एक बार घुमा लिया था और जयसिंह ने जब उसकी तरफ देखा था तो पाया कि उसका मुहं दूसरी तरफ था. मनिका ने कोई जवाब नहीं दिया.

जयसिंह भी बिना कुछ बोले बाथरूम में घुस गए.

जब जयसिंह नहा कर बाहर आए तो देखा की मेज़ पर ब्रेकफास्ट लगा था और मनिका अभी भी वहीँ बैठी थी, जयसिंह ने अपने कपड़े वगरह अटैची में रखे और आ कर मनिका के सामने सोफे पे बैठ गए. उनके बैठते ही मनिका उठ खड़ी हुई और बेड की तरफ जाने लगी.

‘क्या हुआ मनिका? ब्रेकफास्ट नहीं करना..?’ जयसिंह ने पूछा. वे नार्मल एक्ट कर रहे थे लेकिन मनिका का बर्ताव पल-पल उनकी बेचैनी बढ़ाता जा रहा था.

‘मैंने कर लिया.’ बोल कर मनिका बेड पर जा बैठी. उसका चेहरा अब झुका हुआ था और उसके बालों की ओट में छुपा हुआ था.

जयसिंह ने जैसे-तैसे नाश्ता ख़तम किया. उन्होंने उठ कर रूम-सर्विस को कॉल कर टेबल साफ़ करने को बोला. मनिका ने उनके उठ जाने पर भी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी थी, उन्होंने एक बार फिर से बात करने की कोशिश की.

‘तो फिर क्या प्लान है आज का?’ उन्होंने मनिका से मुखातिब हो पूछा.

‘कुछ नहीं…’ मनिका की आवाज में कोई भाव न था.

‘अरे आज हमारा लास्ट डे है डेल्ही में…भूल गईं? और तुम कह रही हो के कुछ नहीं?’ जयसिंह ने आवाज में झूठा उत्साह लाते हुए कहा.

‘नहीं.’ मनिका ने सिर्फ एक शब्द का जवाब दिया.

जयसिंह समझ गए की गड़बड़ शायद हो चुकी है. फिर भी उन्होंने चुप रहना मुनासिब नहीं समझा. वे चल कर मनिका के पास पहुंचे और उसकी बगल में बैठ गए. मनिका ने एक पल के लिए ऐसे रियेक्ट किया था मानो वह उठ खड़ी हो रही हो, लेकिन बैठी रही.

‘क्या हुआ मनिका? आज मूड ऑफ लग रहा है तुम्हारा..?’

‘नहीं.’ मनिका ने फिर से एक ही लफ्ज़ में जवाब दिया था.

जयसिंह ने अब अपना हाथ बढ़ा कर मनिका के झुके हुए चेहरे को ठुड्डी से पकड़ कर अपनी तरफ घुमाया, मनिका ने हल्का सा प्रतिरोध किया था. जयसिंह ने उसका चेहरा देखा तो पाया कि उसकी नज़रें झुकी हुईं थी.

‘क्या हुआ मनिका?’ जयसिंह ने फिर पूछा.

‘कुछ भी नहीं…’ मनिका बोली.

‘कहीं आज हमारा यहाँ आखिरी दिन है इसलिए तो मेरी जान उदास नहीं है?’ जयसिंह ने फैसला कर लिया था कि जब तक मनिका उनका साफ़-साफ़ प्रतिरोध नहीं करेगी वे भी पीछे नहीं हटेंगे. उन्होंने अब मनिका का गाल सहलाते हुए आगे कहा, ‘डोंट वरी डार्लिंग, वापस जा कर भी वी विल हैव फन.’

उनके ऐसे कहने पर मनिका की नज़र एक पल के लिए उनसे मिली और फिर से झुक गई, पर उसने कुछ नहीं कहा.

‘अरे भई, अभी भी उदासी?’ जयसिंह ने झूठा व्यंग्य करते हुए कहा, ‘कम हियर (इधर आओ).’ और मनिका का हाथ पकड़ उसे रोज़ की तरह अपनी गोद में लेने का प्रयास किया.

पर मनिका ने इस बार उनका प्रतिरोध किया और बैठी रही. ‘नो पापा!’ उसने थोड़ा उचक कर कहा था.

जयसिंह भी कहाँ हार मानने वाले थे, आज उनके लिए आर या पार की लड़ाई थी. वे उठ खड़े हुए, उन्होंने अभी भी मनिका का हाथ पकड़ रखा था, लेकिन अब उन्होंने उसका हाथ छोड़ते हुए उसकी बगल में हाथ डाला और दूसरा हाथ उसकी जाँघों के नीचे डाल कर एक ही पल में उसे उठा लिया.

‘पापाआआअ..! व्हाट आर यु डूइंग?’ मनिका ने तीखी आवाज़ में कहा, ‘छोड़िये मुझे!’

लेकिन जयसिंह ने उसकी एक न सुनी और उसे लेकर सोफे की तरफ चल दिए. मनिका कसमसा रही थी. जयसिंह सोफे पे बैठ गए और मनिका को अपनी गोद में ले लिया. मनिका ने उठने की कोशिश की थी लेकिन जयसिंह ने उसे कस कर पकड़ रखा था.

‘पहले बताओ क्या हुआ?’ जयसिंह ने उसे पूछा.

‘कुछ नहीं…लेट मी गो (मुझे जाने दो).’ मनिका ने दबी सी जुबान में कहा.

‘नो.’ जयसिंह की आवाज़ में एक सख्ती थी. ‘व्हाट हैपनड मनिका?’

‘नथिंग…हाउ मैनि टाइम्स शुड आई टेल यू?’ मनिका बोली. उसने नज़र झुका ली थी और अब जयसिंह का प्रतिरोध भी नहीं कर रही थी.

‘तो फिर ठीक है जब तक तुम नहीं बताओगी, मैं भी तुम्हें जाने नहीं दूंगा.’ जयसिंह बोले. मनिका चुप रही.

अब जयसिंह ने एक बार फिर मनिका के चेहरे पर हाथ रख लिया था और उसका गाल सहला रहे थे. रोजाना तो जयसिंह की गोद में बैठने पर उसके पैर ज़मीन पर होते थे लेकिन आज जयसिंह ने उसे अपनी गोद में इस तरह रखा था की उसकी दोनों टांगें सोफे के ऊपर थी और अपने एक हाथ से जयसिंह ने उसे जकड़ रखा था. मनिका ने अपने पिता की ताकत के आगे घुटने टेक दिए थे और चुपचाप नज़र झुकाए उनकी गोद में लेटी रही. जयसिंह हौले-हौले उसका गाल सहलाते-सहलाते अब उसकी गर्दन पर भी हाथ फिरा रहे थे और कभी-कभी हाथ के अंगूठे से उसके गुलाबी होंठों को भी धीरे से मसल दे रहे थे.

‘पापाआआअ..!’ मनिका ने कुछ देर बाद एक लम्बी आह के साथ कहा. ‘प्लीज मुझे छोड़ दीजिए…’

‘पहले बताओ क्या बात है, तुम इस तरह क्यूँ बिहेव कर रही हो?’ जयसिंह ने पूछा. वे मनिका के ऊपर झुके हुए थे.

‘कुछ नहीं पापा…ऐसे ही पापा…’ मनिका थोड़ा अटकते हुए बोली.

‘देन स्माइल फॉर मी डार्लिंग…’ जयसिंह ने मनिका से कहा.

मनिका की नज़र उनसे मिली, उसके चेहरे पर एक अंतर्द्वंद झलक रहा था. एक पल के लिए उसने अपनी आँखें मींच ली, और फिर आँखें खोलते हुए मुस्का दी. जयसिंह ने उसके मुस्काते ही उसे खींच कर अपनी बाहों में भर लिया था. मनिका भी उनसे लिपट गई.

मनिका को जयसिंह के आगोश में समाए दस मिनट से भी ज्यादा हो गए थे, जयसिंह ने उसे कस कर सीने से लगा रखा था, हर एक दो पल में वे उसे अपने शक्तिशाली बाजुओं में भींच लेते थे. मनिका भी उनसे लिपट कर उनकी पीठ को अपने दोनों हाथों से जकड़े हुए थी.

सुबह जब मनिका उठी थी तो उसने तय किया था कि वह अब अपने पिता के जाल में नहीं आएगी. इसीलिए उसने उन्हें सुबह से ही इग्नोर (नज़रंदाज़) करना चालु कर दिया था. उसे लगा कि जयसिंह भी उसकी तल्खी की वजह अपने आप समझ कर उस से दूर हो जाएँगे. लेकिन जैसे-जैसे उसने उन्हें निराश करने की कोशिश की थी, जयसिंह बार-बार उसके करीब आते रहे. अभी-अभी जवान हुई मनिका का यह जयसिंह जैसे मर्द से पहला सामना था और उस को यह नहीं मालूम था कि भय और प्रतिबंधित सीमाओं के उल्लंघन का पुराना वास्ता है. जितना अधिक एक व्यक्ति अपने-आप को नियम-कायदों में बांधता जाता है और उनको तोड़ने से डरता है, उसकी उन्हें तोड़ने की इच्छा भी उसी अनुपात में बढती भी जाती है.

जब जयसिंह उसके रोकने से भी नहीं रुके और उसे उठा कर अपनी गोद में बिठा लिया, तो मनिका भी उनके गंदे मंसूबों को भांप कर उत्तेजित होने लगी थी. अपने बदन में पिछली रात हुए उस सनसनीखेज़ एहसास को वह भूली नहीं थी, और अब जब उसके पिता उसे इस तरह अपनी गोद में जकड़ कर बैठे थे तो उसके मन में प्रतिरोध की जगह कुछ और ही ख्याल चल रहे थे, ‘ओह्ह गॉड…पापा तो रुक ही नहीं रहे…कितने गंदे हैं पापा…मुझे जबरदस्ती पकड़ कर अपनी लैप में बिठा लिया है…अपने डिक (लंड) पर…ओह्ह, कितना बड़ा डिक है पापा का…ओह गॉड! आई कैन फील इट अंडर मीईईई…’ उधर जयसिंह के उसके गाल और गर्दन पर चलते हाथ ने उसे और अधिक उत्तेजित करने का काम किया था, और आखिर में न चाहते हुए भी मनिका ने समाज के बनाए नियमों को ताक पर रख दिया था, वह अपने पिता की कामेच्छा के आगे बेबस हो कर उनसे लिपट गई थी.

***

अपने पिता के साथ आलिंगनब्ध मनिका गरम-गरम साँसें भर रही थी. जयसिंह अपनी छाती से लगा कर उसके वक्ष का मर्दन जारी रखे हुए थे, और उनकी जकड़ की तीव्रता के बढ़ने के साथ ही मनिका के बदन में जैसे एक तड़पा देने वाली सी चुभन उठ रही थी. उसका मुहं जयसिंह के कान के पास था,

‘पापाआआआअह्हह्हह्ह…पापाआआआअम्मम्मम्मम…’ वह हौले-हौले उनके कान में फुसफुसाती जा रही थी. जयसिंह ने भी अब उसकी पीठ और कमर को सहलाना शुरू कर दिया था. पर इस से पहले की दोनों बाप-बेटी अपने रिश्ते कि देहलीज़ लांघने की गलती कर पाते, उनके कमरे के दरवाज़े पर दस्तक हुई और आवाज़ आई,

‘रूम सर्विस, सर.’

जयसिंह ने मनिका को एक आखिरी बार अपनी छाती से भींचा और फिर धीरे से उसे अपनी गिरफ्त से आज़ाद कर दिया. उनकी नज़र मिली और मनिका के चेहरे पर लाली फ़ैल गई. जयसिंह ने आवाज़ दी,

‘येस, कम इन…’

मनिका उनकी गोद से उठने को हुई पर जयसिंह ने उसे हल्के से पकड़ कर बैठे रहने का इशारा किया. तब तक रूम सर्विस वाला वेटर अन्दर आ चुका था. जयसिंह ने अपना एक हाथ तो पहले ही मनिका की कमर में डाल रखा था, अब उन्होंने अपना दूसरा हाथ मनिका की जांघ पर रख लिया. मनिका शर्म से तार-तार हो रही थी. उसने आज जानबूझकर एक सूट पहना था, लेकिन उनके आवेश भरे आलिंगन के दौरान मनिका की कुर्ती ऊपर हो गई थी और उसकी चूड़ीदार पजामी में लिपटी मांसल टांगें नज़र आने लगी थी. जयसिंह उन्हें सहलाने लगे.

वेटर टेबल साफ़ करके जाने में काफी वक्त लगा रहा था. आखिर वह भी कितनी देर बहाना करता, उसने टेबल से नाश्ते का बचा-खुचा सामान लिया और चलता बना. जयसिंह ने उसे कहा था की वे टिप अगली बार देंगे, अभी थोड़े बिजी हैं, और मनिका को देख मुस्का दिए थे. मनिका ने उनकी छाती में मुहं छुपा लिया था, और वेटर भी एक कुटिल मुस्कान के साथ चला गया था.

गेट बंद होने के बाद जयसिंह और मनिका कुछ देर उसी तरह बैठे रहे, मनिका का दिल धौंकनी सा धड़क रहा था. उसे एहसास हुआ कि उसके पापा उसे ही निहार रहे हैं, उसने हिम्मत कर के उनकी तरफ देखा, लेकिन उनकी नज़रों के आवेग के आगे न टिक सकी और शरमाते हुए फिर से नज़र झुका ली. जयसिंह उसे ही देखते रहे.

जब काफी देर हो गई और जयसिंह ने उसपर से नज़र नहीं हटाई और न ही कुछ बोले, तो मनिका ने खिसिया कर हौले से कहा,

‘पापाआआ…’

‘क्या हुआ मेरी जान…’ जयसिंह ने मनिका के बोलते ही अपने हाथ से उसका हाथ पकड़ लिया और उसकी अँगुलियों में अपनी अंगुलियाँ डाल सहलाने लगे.

‘उन्हह…’ मनिका कुछ न बोल पाने की स्थिति में थी.

‘लुक एट मी डार्लिंग.’ जयसिंह ने कहा.

मनिका ने किसी तरह उनसे नज़र मिलाई, पर ज्यादा देर तक उनसे नज़रें बाँध कर न रख सकी और एक बार फिर शर्म से लाल होते हुए सर झुका लिया. जयसिंह तो जैसे स्वर्ग में थे.

पर उनका ये स्वर्ग ज्यादा देर नहीं टिक सका, अबकी बार उनका फोन बज उठा था. उन्होंने देखा की माथुर का कॉल आ रहा था. बात करने पर पता चला कि उन्हें फिर एक मीटिंग में बुलाया गया है. उनके बात करने के लहजे से मनिका को भी आभास हो गया था के वे बाहर जा रहे हैं. फोन रख चुकने के बाद जयसिंह कुछ पल चुप रहे, फिर उन्होंने कहा,

‘जाना पड़ेगा, कुछ जरूरी काम आ गया है.’

‘जी.’ मनिका ने धीरे से उठते हुए कहा, जयसिंह ने भी उसे नहीं रोका. मनिका उठ कर उनके पास ही खड़ी थी. जयसिंह भी उठने लगे, ‘आह…’ वे अचानक कराह उठे.

उनका लंड अपने प्रचंड रूप में खड़ा था और उसके पेंट और अंडरवियर में कैद होने की वजह से उनकी आह निकल गई थी. मनिका के चेहरे पर एक पल के लिए चिंता का भाव आया था, लेकिन जयसिंह ने अपना हाथ मनिका की नज़रों के सामने ही अपनी पेंट के अगले हिस्से पर रख कर अपने लंड को थोड़ा सीधा कर दिया था, मनिका शर्म के मारे पलट गई.

‘हाहाहा…’ जयसिंह ठहाका लगा कर हंस दिए.

***

‘ठक्क’, दरवाजा बंद होने की आवाज़ आई. जयसिंह तैयार होकर मीटिंग के लिए चले गए थे. जाने से पहले उन्होंने मनिका को एक बार फिर बाहों में भर लिया था और कहा था,

‘आई विल ट्राई तो कम बैक एज सून एज पॉसिबल.’ मनिका शरमा गई थी.

उनके जाते ही मनिका भाग कर औंधे मुहं बेड पर जा गिरी. ‘ओह शिट, ओह गॉड…पापाआआअ…पापा एंड मी…हमने अभी ये सब क्या किया! पापा ने मुझे अपनी बाहों में लेकर…उह्ह ही इज़ सो स्ट्रांग…वी वर हग्गिंग (गले मिलना) लाइक लवर्स…और उस वेटर के सामने पापा मेरी थाईज़ पर हाथ फिरा रहे थे…ओह गॉड…मुझे डार्लिंग और जान कह रहे थे…हाय…’ मनिका ने तकिए को बाहों में कसते हुए सोचा. ‘और पापा का डिक…उनसे तो खड़ा भी नहीं हुआ जा रहा था…क्यूंकि…इश्श…क्यूंकि उनका डिक खड़ा था…ईहिहिही…आई कुड फील इट अंडर माय बम्स…हाय राम…पापा कितने गंदे हैं…और मैं भी…ओह गॉड, पर कितना अच्छा लग रहा था…उफ्फ्फ, ये क्या हो रहा है मेरे साथ.’ मनिका उत्तेजना से कांपती हुयी बिस्तर पर पड़ी-पड़ी यही सब सोचती रही.

उधर जयसिंह का मन शांत था. जयसिंह ने अपनी हर कामयाबी को बहुत ही शांत तरीके से स्वीकार किया था और यही उनकी लम्बी सफलता का राज़ था. और अभी मनिका के साथ उन्हें सफलता पूरी तरह से मिली भी कहाँ थी. पर फिर भी आज की सुबह ने उनके चेहरे पर एक मंद मुस्कुराहट ला दी थी और वे हल्के मन से अपनी मीटिंग अटेंड करने जा रहे थे.

***

एक ही पल में मनिका के जीवन में आया यह सबसे बड़ा बदलाव था. मनिका ने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि फ़िल्में और कहानियों में देख-देख कर जो उसने अपने होने वाले प्रियतम के सपने संजोए थे, वे इस तरह चकनाचूर हो जाएंगे. रह-रह कर उसे अपने पिता जयसिंह की गन्दी हरकतें याद आ रहीं थी, और जितना वह उनसे नफरत करने का सोचती, उतना ही अधिक उसका आकर्षण उनकी तरफ बढ़ता जा रहा था. मनिका का दिल और दीमाग दोनों ही मानो जल रहे थे, एक बार फिर उसे सुबह-सुबह हुई अपनी मानसिक जागृति का ध्यान आने लगा, कि किस तरह उसके पिता ने उसे अपनी चिकनी-चुपड़ी बातों से साध लिया था.

लेकिन उसे हैरानी इस बात पर हो रही थी कि अब जब वह सब कुछ जान चुकी थी फिर भी उसका पापा के सामने कोई बस नहीं चल रहा था. उसने बेड पर पड़े-पड़े भी दो-तीन बार सोचा था कि वह अपने आप को जयसिंह से दूर रखेगी, लेकिन मानो कुछ ही पलों में वह अपने प्रण को भूल कर फिर से अपने पिता के सम्मोहन ने फंस जाती थी. जहाँ जयसिंह ने मनिका को ‘जान’ और ‘डार्लिंग’ जैसे संबोधनों से पुकारना शुरू कर दिया था, वहीँ मनिका के लिए उसके ख्यालों में भी उनका एक ही नाम था, ‘पापा’. न जाने क्यूँ उन्हें ‘पापा’ कहना उसके पूरे बदन को गुदगुदा देता था. शायद यह शब्द उसे उन दोनों के बीच के पावन रिश्ते की याद दिलाता था, और समाज से छुप कर यूँ अपने पिता के साथ बन रहे इस नापाक सम्बन्ध के बारे में सोचने पर वह उत्तेजित हो उठती थी. इसीलिए जब जयसिंह ने उसे अपनी बाहों में भींच रखा था तब भी वह मदहोश सी होकर सिर्फ ‘पापाआआ-पापा’ कह कर ही पुकारती रही थी. इसी तरह मदहोश पड़ी मनिका को वक्त बीतने का एहसास ही नहीं हुआ था, अपने फ़ोन की रिंगटोन सुन आखिर उसकी तन्द्रा टूटी.

‘पापा’ का ही फोन था. मनिका की तो जैसे साँस गले में ही अटक गई थी.

‘हेल्लो.’ उसने फोन उठा हौले से कहा.

‘क्या कर रही हो जानेमन?’ उसके पिता ने चहक कर पूछा.

‘कुछ नहीं पापा…उह्ह.’ मनिका के चेहरे पर उनको पापा कहते ही लालिमा छा गई थी और उसकी आह निकल गई. ‘देखो तो मुए, कैसे मुझे जानेमन बुला रहे हैं…’ उसने मन ही मन सोचा.

‘हम्म…मुझे मिस (याद) नहीं कर रही?’ जयसिंह ने नाटकीय अंदाज़ में पूछा.

‘इह…’ मनिका के मुहं से इतना ही निकल सका था.

‘बोलो न डार्लिंग, मुझे मिस कर रही हो या मैं चला जाऊं…’ जयसिंह तो किसी मनचले लड़के की तरह रुकने का नाम ही नहीं ले रहे थे.

‘मत जाओ…’ मनिका ने धीमे से कहा.

‘हाहाहा…मतलब मिस तो कर रही है मुझे मेरी मनिका…’ जयसिंह खिलखिलाकर बोले.

‘हूँ…’ मनिका ने धीमे से कहा.

‘चलो फिर रेडी हो कर नीचे आ जाओ लंच करने. मैं भी १० मिनट में पहुँच रहा हूँ.’ जयसिंह ने बताया.

फोन रखने से पहले जयसिंह ने एक बार फिर उस से पूछा था कि क्या वह आ रही है, और मनिका ने हौले से कहा था, ‘हाँ पापा…’ और सिहर गई थी. अब वह उठी, घड़ी में देखा तो शाम के पांच बजने को थे, ‘हे भगवान, टाइम का पता ही नहीं चला…’ उसने अपने कपड़े जरा ठीक किए, और फिर हल्का सा मेकअप कर, नीचे होटल के रेस्टोरेंट में पहुँची. जयसिंह अभी आए नहीं थे, धड़कते दिल से मनिका ने एक कार्नर सीट पर बैठ अपने पिता के आने का इंतज़ार शुरू किया.

(11-05-2016 04:38 PM)  Le Lee 0
‘पापा ऐसे मत देखो ना.’ मनिका ने मन ही मन कहा. उसके पिता जयसिंह आ चुके थे और वे आमने-सामने बैठ कर लंच कर रहे थे. मीटिंग में बिजी होने के कारण जयसिंह ने भी खाना नहीं खाया था. जयसिंह और मनिका की नज़र बार-बार मिल रही थी और, जहाँ जयसिंह के चेहरे पर एक उन्माद भरी कुटिल मुस्कान तैर रही थी वहीँ उनकी बेटी मनिका ह्या से बोझिल उनकी मुस्कान का जवाब दे रही थी.

जब शर्म की मारी मनिका ने कुछ देर उनकी तरफ नहीं देखा था तो जयसिंह ने टेबल के नीचे उसकी टांग पर अपने पैर से हल्का सा छुआ था. मनिका ने घबरा कर अपनी बड़ी-बड़ी आँखें उनसे मिलाई और एक बार फिर शर्म से लाल होते हुए मुस्का दी.

जब वे खाना खा चुके तो जयसिंह ने सुझाया कि कुछ देर होटल में ही बने पार्क में घूमा जाए, और फिर मनिका का हाथ अपने हाथ में ले उसके साथ बाहर चल दिए. मनिका को उनके स्पर्श से ही जैसे करंट लग रहा था, और वह यंत्रवत उनके साथ चल दी थी. कुछ देर पार्क में टहलते रहने के बाद जयसिंह और मनिका अपने रूम में आ गए थे, उन दोनों के बीच कोई बात भी नहीं हुयी थी, वे बस मंद-मंद मुस्काते घूमते रहे थे. उस वक्त शाम के करीब सात ही बजे थे.

कमरे में आने के बाद मनिका थोड़ी असहज हो गई थी, और जयसिंह आगे क्या करने वाले हैं यह सोच-सोच कर उसका दिल जोरों से धड़क रहा था.

जयसिंह ने जानबूझकर मनिका को बाहर पार्क में घूमने चलने को कहा था, ताकि उसे यह न लगे के वे उसके जिस्म के पीछे पागल हैं. मनिका ने तो यही सोच रखा था कि वे इतना लेट (देरी से) लंच करने के बाद रूम में ही जाएंगे. लेकिन जयसिंह के प्रस्ताव ने उसे भी सरप्राइज कर दिया था. किन्तु उनके साथ घूमते-घूमते उसे बड़ा मजा आ रहा था और हर एक पल ने उसकी तृष्णा को बढ़ाने का ही काम किया था. अब वह रूम में आने के बाद थोड़ी सहमी सी लग रही थी और सोफे के पास खड़ी हुई कुछ-कुछ देर में उनसे नज़र मिला कर शरम से मुस्का दे रही थी.

जयसिंह ने कमरे में आकर अपने मीटिंग के दस्तावेज़ संभाल के रखे, वे यूँ जता रहे थे जैसे सब कुछ नार्मल ही था. फिर वे चल कर मनिका के पास आ कर खड़े हो गए व उसके दोनों हाथों को अपने हाथों में ले लिया. मनिका ने सकुचाते हुए नज़र ऊपर उठाई.

‘ह्म्म्म…’ जयसिंह ने हुंकार भरते हुए कहा, ‘खुश है मेरी जान?’

‘हूँ…ज..जी…’ मनिका ने हामी में सर हिलाते हुए कहा.

‘अच्छा है, अच्छा है…’ जयसिंह ने मुस्कुराते हुए कहा, फिर अपना स्वर जरा नीचे कर बोले, ‘आज बिस्तर में जरा जल्दी चलें…कल तो सुबह ट्रेन है ही, हम्म?’

मनिका उनके सवाल से तड़प उठी थी, ‘पापा को तो बिलकुल भी शरम नहीं है..!’, उस से कुछ कहते न बना, बस उसने अपना शरम से लाल मुहं झुका लिया था. जयसिंह ने इसे उसकी हाँ समझ आगे कहा,

‘मैं तो आज सिर्फ नाईट-ड्रेस में चेंज करने के मूड में हूँ…तुम देख लो क्या करना है.’ और मनिका का हाथ छोड़ एक पल रुके रहे फिर मुस्का कर अपने सूटकेस से अपना बरमुडा और टी-शर्ट लेकर बाथरूम में चले गए. मनिका धम्म से सोफे पर बैठ गई थी. पर इस से पहले कि वह अपने आप को इस नई परिस्थिति में ढाल पाती, जयसिंह कपड़े बदल कर बाहर भी आ चुके थे.

उसने उनकी तरफ देखा, वे मुस्कुरा रहे थे, फिर उसकी नज़र बरबस ही उनके लंड पर चली गई, बरमुडे का तम्बू बना हुआ था. उसने एक पल जयसिंह की तरफ देखा और पाया कि वे यह सब देख रहे थे, उसकी जान गले में अटक गई थी, वह तेज़ क़दमों से चलती हुयी अपने बैग के पास पहुँची और अपनी नाईट-ड्रेस निकालने लगी.

***

मनिका बाथरूम के गेट के पास खड़ी थी, वह नहा ली थी और कपड़े बदल लिए थे. लेकिन अब बाहर जाने की हिम्मत जुटाने की कोशिश कर रही थी. कुछ देर खड़ी रहने के बाद उसने हुक पर से अपना पहले पहना हुआ सूट उतरा और अपनी नाईट-ड्रेस उतार उसे पहन लिया और जा कर वॉशबेसिन पर मुहं धोने लगी. लेकिन कुछ वक्त और बीत गया और वह फिर भी बाहर न निकली, और एक बार फिर सूट उतार कर नाईट-ड्रेस पहन ली. एक दो बार ऐसा रिपीट करने के बाद भी जब उससे कोई फैसला न हो सका. वह अब नाईट-ड्रेस में थी. यंत्रवत सी मनिका ने बाल्टी में पानी चलाया और इस बार सूट को हुक पर टांगने की बजाय बाल्टी में डाल दिया. उसके हाथ कांप रहे थे. अब एक बार फिर वह बाथरूम में लगे शीशे के सामने जा खड़ी हुई और अपने साथ लाया छोटा किट (बैग) खोला.

‘कहाँ मर गई कुतिया?’ जयसिंह ने झुंझलाते हुए सोचा. वे बेड पर लेटे हुए थे, कमरे की लाइट जल रही थी. जयसिंह अपना फोन हाथ में लिए ऐसा जता रहे थे कि वे उसमे व्यस्त हैं, ताकि मनिका के बाहर निकलने पर उन्हें ऐसा न लगे कि वे बस उसे ही तवज्जो देने के लिए बैठे हैं.

‘खट’ बाथरूम के दरवाजे की कुण्डी खुलने की आवाज़ आई.

जयसिंह ने झट नज़रें मोबाइल में गड़ा लीं थी. पर कनखियों से उन्हें मनिका के सधे हुए क़दमों से कमरे में आने का आभास हुआ, और एक ही पल में वे आश्चर्य से भर उठे थे. उन्होंने मनिका की तरफ देखा.

जब वे लोग दिल्ली आए थे एक वह दिन था और एक आज का दिन था. मनिका ने वही शॉर्ट्स और गंजी पहन रखी थी जो वह उनकी साथ बिताई पहली रात को पहन कर आई थी. जयसिंह आवाक रह गए थे.

***

मनिका हौले से बेड के उपर चढ़ी, कम्बल उसी की तरफ तह करके रखा था, मनिका ने धीरे से उसे खोला और ओढ़ कर लेट गई. उसने अपने पिता की तरफ एक नज़र देखा तो पाया के वे अपना फोन बेड-साइड टेबल पर रख रहे थे, उसकी नज़र उनके अर्धनग्न बदन पर फिसलती हुई उनके बरमुडे पे जा टिकी. पापा का लंड तन चुका था. मनिका ने बरबस ही आँखें मींच लीं.

‘मनिका?’ जयसिंह की आवाज़ आई. मनिका ने आँखें खोलीं, उसके पिता ने अब उसकी तरफ करवट कर रखी थी और खिसक कर उसके करीब आ गए थे. मनिका उन्हें इतना करीब पा असहज हो उठी, उसने अपनी बड़ी-बड़ी आँखों से एक पल के लिए जयसिंह को देखा और फिर नज़र नीची कर ली. नीचे देखते ही उसने अपने आप को अपने पिता के बरमुडे में फनफनाते लंड से मुखातिब पाया, उसकी कंपकंपी छूट गई.

जयसिंह ने अपना हाथ आगे बढ़ा कर मनिका के कंधे पे रखा और सहलाने लगे. ‘क्या हुआ मनिका? चुप-चुप कैसे हो?’ उन्होंने बात बनाने के बहाने से पूछा. मनिका से कुछ बोलते नहीं बन रहा था, उसे अहसास हुआ के जयसिंह का हाथ धीरे-धीरे उसके कंधे से कम्बल को नीचे खिसका रहा था.

‘हूँ?’ जयसिंह ने अपने सवाल का जवाब चाहा.

‘कुछ नहीं पा..?’ मनिका ने हौले से मुहं नीचे किये हुए ही जवाब दिया.

‘पैकिंग वगैरह कर ली तुमने?’ जयसिंह ने पूछा, कम्बल अब मनिका की बगल से थोड़ा नीचे तक उतर चुका था.

‘जी पापा.’ मनिका ने बिल्कुल मरी सी आवाज़ में कहा. उसे अपने बदन से उतरते जा रहे कम्बल के आभास ने निश्चल कर दिया था. जयसिंह ने अब कम्बल उसकी कमर तक ला दिया था.

मनिका का दिल जैसे उसके मुहं में आने को हो रहा था. यकायक उसे अपने फैसले पर अफ़सोस होने लगा, ‘हाय ये मैंने क्या कर लिया. क्यूँ पहन ली मैंने ये बेकार सी नाईट-ड्रेस..? पापा तो रुक ही नहीं रहे, कम्बल हटा कर ही छोड़ेंगे…’ मनिका ने अपने आप को कोसा, फिर उसने धीरे से अपने हाथ से कम्बल पकड़ कर ऊपर करने की कोशिश की.

जयसिंह मनिका की मंशा ताड़ गए थे, जैसे ही मनिका ने कम्बल को धीरे से पकड़ कर ऊपर खींचने की कोशिश की जयसिंह ने अपना हाथ ऊपर उठा लिया और साथ ही उसमे कम्बल का एक सिरा भी फंसा लिया था. एक ही पल में मनिका अब अपने पिता के साथ अर्धनग्न अवस्था में पड़ी थी.

‘उन्ह…’ मनिका के गले से घुटी सी आवाज़ निकली.

***

जयसिंह ने कम्बल एक तरफ़ कर दिया. मनिका की नज़र उठने को नहीं हो पा रही थी. उसने अपनी टाँगे भींच कर अपनी मर्यादा बचाने की कोशिश की. पर जयसिंह का पलड़ा आज भारी था. उन्होंने अपना हाथ अपनी बेटी की कमर पर रखा और उसे ऊपर से नीचे तक देखने लगे, जब मनिका ने एक पल के लिए नज़र उठा उनकी तरफ़ देखा तो पाया के वे उसके वक्श्स्थ्ल को ताड़ रहे थे. मनिका की नज़र उठते ही जयसिंह ने भी उसके चेहरे की तरफ़ देखा और मुस्कुराते हुए अपना हाथ उसकी कमर से उठा कर उसके गले पर ले आए और सहलाते हुए कहा,

‘क्या बात है मनिका, आज तो दिल जीत लिया तुमने.’ मनिका क्या कहती, जयसिंह ही आगे बोले, ‘आज ये वाली नाइट ड्रेस कैसे पहन ली?’

मनिका एक बार फिर नज़र झुकाए रही तो जयसिंह थोड़ा उसके ऊपर झुक आए, उनके ऐसा करते ही, मनिका ने पाया के उसके पिता का लंड भी उसे छूने को हो रहा था. ‘बोलो ना?’ जयसिंह ने हमेशा की तरह उसपर दबाव बनाने के लिए पूछा.

‘वो…वो…आपने कहा न पापा कल…’ मनिका ने अटकते हुए कहा.

‘काश पहले पता होता…कि मेरे कहने पर तुम इस तरह…तो पता नहीं कब का कह देता.’ जयसिंह की आवाज़ पूरी तरह बदल गयी थी, उसमें सिर्फ़ हवस और वासना थी.

‘क्या…आह्ह…क्या बोल रहे हो आप पापा…’ मनिका उनके इस रूप से सहम गयी थी.

‘यही कि काफ़ी जवान हो गयी हो तुम…’ जयसिंह ने एक बार फिर उसे ऊपर से नीचे तक देखते हुए कहा, और अपना हाथ अपनी बेटी की नंगी जाँघ पर ले जा कर सहलाने लगे, ‘पर आज तो मज़ा नहीं आया उतना.’

‘पापा आप ऐसे क्यूँ बोल रे हो? क्या…क्या…मज़ा नहीं आया…?’ मनिका ने और ज़्यादा सहमते हुए कहा. दरअसल मनिका ने अभी तक सिर्फ़ जयसिंह की हरकतों को एक दीवाने इंसान की हरकतों की तरह ही देखा था. लेकिन अब उनके अंदर की हवस को पूरी तरह बाहर आते देख उसकी सिट्टी-पिट्टि गुम हो गयी थी.

जयसिंह ने इस बार सीधे जवाब न देकर पहले उसकी जाँघ को अपने हाथ से पकड़ कर दबाया, और फिर अपना मुँह उसके चेहरे से सटाते हुए भरभराती आवाज़ में बोले, ‘अरे डार्लिंग, पिछली बार तो अंदर बिना ब्रा-पैंटी पहने आई थी तू…या वो भी मैं कहूँगा तो उतारेगी आज…हूँ?’

मनिका की सारी इज़्ज़त तार-तार हो गयी थी. उसने एकदम से अपने उन्मादी बाप को धक्का दिया और पीछे खिसकते हुए तेज़ी से बिस्तर से उतर कर बाथरूम की तरफ़ भागी. जयसिंह को उसकी इस प्रतिक्रिया की उम्मीद नहीं थी, परंतु वे क्या समझते, वासना ने एक बार फिर उनकी बुद्धि को मात दे दी थी. लेकिन मनिका को इस तरह भागते देख वे भी उसके पीछे लपके थे और बेड से नीचे उतर कर मनिका जैसे ही सीधी होकर भागने लगी थी, जयसिंह ने एक ज़ोरदार थप्पड़ मनिका की अधनंगी गाँड पर जड़ दिया था.

‘तड़ाक’ जयसिंह के हाथ के मनिका की गाँड पर लगते ही एक तेज़ आवाज़ हुयी.

मनिका एक पल लड़खड़ाई थी और उसके मुँह से कराह निकली थी, ‘आह्ह्ह्ह…’ और फिर अगले ही पल वह बाथरूम में जा घुसी और एक सिसकी के साथ दरवाज़ा बंद होने की आवाज़ आई.

‘आऽऽऽऽ…हाए माऽऽऽऽ…’ मनिका अपने हाथों में मुँह छुपाए रो रही थी. हर एक पल बाद उसका अधनंगा जिस्म भय और शर्म से कंपकंपा जाता था. उसे समझ नहीं आ रहा था कि क्या सोच कर उसने अपने आप को इस स्थिति तक आने दिया था. जब उसे साफ़ पता चल चुका था कि उसके पिता के इरादे नेक नहीं है, फिर भी उसने उनका प्रतिकार करने के बजाय उनको उकसाया था. अपनी इस लाचार अवस्था पर विचार कर-कर के बार-बार उसकी रूलाई फूट रही थी. उसे अपने पिता, जयसिंह, पर भी बेहद ग़ुस्सा आ रहा था. उन्होंने अपने धर्म का निर्वाह करने के बजाय उसके साथ इस तरह का कुकर्म करने की कोशिश की थी. आख़िर में तो सब उन्हीं की चालबाज़ी का नतीजा था.

‘बस किसी तरह घर वापस पहुँच जाऊँ, सब बता दूँगी मम्मी को.’ मनिका बैठी हुई ख़ैर मना रही थी, ‘कितने कमीने हैं पापा, कितनी गंदी बात बोल रहे थे मुझे, और मेरेको कैसे गंदा टच कर रहे थे.’ मनिका ने सिहरते हुए सोचा, ‘हे भगवान, ये क्या हो रहा है मेरे साथ? पापा को तो मैं कितना अच्छा समझती थी, कितना प्यार करते थे मुझे वे घर पे…और अब तो मुझे सिर्फ़ गंदी नज़रों से देखते हैं…’ मनिका के दिमाग़ में एक के बाद एक ख़याल आते जा रहे थे, ‘पर मैंने भी तो उनको बढ़ावा दिया…पता नहीं मेरा भी कैसे माथा ख़राब हो गया था…हाय…आज के बाद उनसे कभी बात नहीं करूँगी…ऐसा बाप किसी को न दे भगवान…’

जयसिंह की पाप की लंका का दहन हो चुका था, कुछ पल तो वे अपनी वासना के उन्माद से ऊबर ही न सके थे, लेकिन फिर उन्हें अपनी परिस्थिति की नाजुकता जा अंदाज़ा होने लगा. वे उठ कर बिस्तर पर बैठ गए, उनका लिंग भी अब शांत हो कर सुस्त पड़ गया था. कुछ देर बैठे रहने के बाद वे उठ कर दबे पाँव बाथरूम के दरवाज़े के पास गए. अंदर से मनिका के सिसकने की आवाज़ आ रही थी, वे कुछ पल सुनते रहे और फिर वापस बिस्तर पर जा बैठे. उनका सिर झुका हुआ था और वे हार मान चुके थे.

‘पता नहीं क्या होगा, यह तो सब दाँव उलटे पड़ गए…साली मनिका इस तरह पलटी मार जाएगी, यह तो मेरे दिमाग़ में ही नहीं आया.’ वे अपनी हार पर निराशा और भय से भर चुके थे, ‘कहीं इसने किसी के सामने मुँह खोल दिया तो मैं तो कहीं का नहीं रहूँगा…हे भगवान मेरी भी मत मारी गयी थी, इतने मौक़े आए जब मैं संभल सकता था लेकिन इस वासना के भूत ने मुझे बर्बाद करके ही छोड़ा…’

सुबह होते-होते मनिका की आँख लग गयी थी, वह बाथरूम के ठंडे फ़र्श पर ही निढ़ाल हो कर पड़ी हुई थी.*उधर जयसिंह भी अपनेआप को कोसते-कोसते सो गए थे. वह तो शुक्र था कि उनकी ट्रेन का रेज़र्वेशन होटेल के फ़्रंट-डेस्क वालों ने कराया था, क़रीब सवा-सात बजे उन्होंने वेक-अप कॉल किया. जयसिंह हड़बड़ा कर उठ खड़े हुए.

‘हेल्लो?’ उन्होंने रिसीवर उठाते हुए कहा.

‘सर, होटेल फ़्रंट-डेस्क, दिस इज अ वेक अप कॉल फ़ोर योर कन्वीन्यन्स.’ उधर से आवाज़ आयी.

‘ओह! थैंक-यू…थैंक-यू.’ कहते हुए जयसिंह ने फ़ोन रख दिया.

अब जयसिंह को पिछली रात की अपनी करतूत के सही मायने समझ आने लगे थे. वे अब अपनी बेटी से बात करने लायक भी नहीं रहे थे. वे कुछ देर इसी असमंजस में बैठे रहे कि मनिका को बाथरूम से बाहर आने को कैसे कहें. उनकी ट्रेन सवा-नौ बजे की थी. जब घड़ी में पौने-आठ होने लगे, तो उन्होंने किसी तरह हिम्मत जुटायी और बाथरूम के गेट के पास गए.

जयसिंह ने एक पल रुक कर दरवाज़ा खटखटाया.

मनिका अंदर सोई पड़ी थी ‘वह अपने घर की गली में थी, और एक आदमी उसका पीछा कर रहा था. मनिका ने अपनी चाल तेज़ कर दी, उसका घर अभी भी थोड़ी दूरी पर था. एक बार फिर जब उसने पलट कर उसका पीछा कर रहे इंसान को देखना चाहा तो पाया कि वह बहुत क़रीब आ चुका था और उसे पकड़ने ही वाला था. मनिका का कलेजा मुँह में आने को हो गया, यकायक ही वह दौड़ पड़ी. उसका घर अब कुछ ही क़दम की दूरी पर रह गया था, लेकिन वह आदमी भी अब उसके पीछे भागते हुए आ रहा था. मनिका भागते हुए अपने घर में जा घुसी और मुड़ कर देखा — वह आदमी अभी भी नहीं रुका और उसकी ओर आता चला जा रहा था, मनिका अब भाग कर घर के अंदर जा पहुँची, उसने पाया कि घर में कोई नहीं था. डर के मारे उसकी टाँगें काँप रही थी, वह धड़धड़ाते हुए सीढ़ियाँ चढ़ अपने कमरे में जा पहुँची और दरवाज़ा बंद कर लिया. कुछ पल की शांति के बाद, अचानक दरवाज़ा कोई दरवाज़ा खटखटाने लगा.’ मनिका एक झटके के साथ उठ बैठी. कोई बाथरूम का दरवाज़ा खटखटा रहा था.

सपना टूटने के साथ ही मनिका को अपनी इस अवस्था में होने का कारण भी याद आ गया था. वह बिना बोले बैठी रही.

‘ट्रेन का टाइम हो गया है.’ जयसिंह की आवाज़ आयी और दरवाज़े पर खटखटाहट बंद हो गयी.

अब असमंजस में पड़ने की बारी मनिका की थी. क्या करे कैसे बाहर जाए, वह अभी भी पिछली रात वाली अधनंगी हालत में थी. एक सूट था जो उसने बालटी में भिगो दिया था. उसने उठ कर बाथरूम के शीशे में देखा, रोने की वजह से उसका मेक-अप उसके चेहरे को बदरंग कर चुका था. फिर उसने पीछे घूम कर शॉर्टस को नीचे करने का व्यर्थ प्रयास किया – उसने देखा कि उसके एक कूल्हे पर लाल निशान पड़ गया था, जयसिंह के ज़ोरदार थप्पड़ को याद कर उसके रोंगटे खड़े हो गए थे. थोड़ी देर इसी तरह खड़ी-खड़ी वह अपने आँसू रोकने की कोशिश करती रही, पर कब तक वह बाथरूम में छुपी रहती, आख़िर बाहर तो निकलना ही था.

जयसिंह बाहर बैठे सोच ही रहे थे कि रेज़र्वेशन कैन्सल करवाएँ या क्या करें जब बाथरूम का दरवाज़ा खुला. उन्होंने ऊपर देखा तो पाया कि मनिका अपने हाथों से अपनी योनि छुपाए बाहर निकली थी.

‘मेरे पास मत आना!’ मनिका ने उन्हें देखते ही चेतावनी दी, और एक पल उन्हें घूरा, जब जयसिंह उसी तरह जड़वत बैठे रहे, तो वह तेज़ी से अपने सामान के पास गयी और कुछ कपड़े लेकर भाग कर वापस बाथरूम में घुस गयी. इस पूरे वाक़ये में कुछ दस से पंद्रह सेकंड ही लगे होंगे.

जब वह वापस बाहर आयी तो पाया के जयसिंह अपना सूट्केस ले कर कमरे के गेट के पास खड़े हैं, उनकी नज़र झुकी हुई थी. मनिका ने बाथरूम में घुस कर कपड़े बदल लिए थे, अब उसने भी अपने कपड़े बैग में रखे, और अपने भीगा सूट जो वह निचोड़ कर लायी थी, एक प्लास्टिक के लिफ़ाफ़े में डाल कर पैक कर लिया. उसने देखा कि जयसिंह अभी तक अपनी जगह से हिले भी नहीं थे. उसने अपना बैग और सूट्केस लिया और दरवाज़े की तरफ़ थोड़ा सा बढ़ी, जयसिंह की इतनी भी हिम्मत नहीं हो रही थी की अपनी बेटी की तरफ़ देख सकें, वे मुड़ कर दरवाज़े से बाहर निकलने को हुए.
‘अगर आपने मुझे हाथ भी लगाने की कोशिश की तो ठीक नहीं होगा!’ मनिका की तल्ख़ आवाज़ उनके कानों में पड़ी. वे बिना कुछ बोले बाहर निकल गए.

मनिका एक पल वहीं खड़ी हुयी ग़ुस्से और दर्द से काँपती रही थी.

बाहर होटेल का हेल्पर उनका सामान लेने आ गया था, जयसिंह ने उसे अंदर से सामान ले आने को कहा और नीचे चले गए. कुछ देर बाद मनिका भी रूम से बाहर आयी और नीचे होटेल की लॉबी की तरफ़ चल दी.

होटेल से वापस राजस्थान तक के सफ़र में मनिका और जयसिंह के बीच एक लफ़्ज़ की भी बातचीत नहीं. कैब से रेल्वे-स्टेशन पहुँचने और अपने ए.सी. फ़र्स्ट-क्लास के कम्पार्ट्मेंट में, वे दोनों एक दूसरे से दूरी बनाए रहे थे. आज न तो उन्हें भूख लग रही थी न ही प्यास — एक तरफ़ मनिका जयसिंह को मन ही मन कोस रही थी और दूसरी तरफ़ जयसिंह ख़ुद अपने पाप की आग में जल रहे थे.

आख़िरकार सफ़र का अंत आ गया, जब ट्रेन बाड़मेर स्टेशन में घुसने लगी, तो लोग उठ-उठ कर अपना सामान दरवाज़ों के पास जमा करने लगे. जयसिंह ने उठ कर अपना सूट्केस बर्थ के नीचे से निकाला, और फिर मनिका के सामान की तरफ़ हाथ बढ़ाया.

‘कोई ज़रूरत नहीं है एहसान करने की…’ मनिका बेरुख़ी से बोली.

वे रुक गए.

‘अभी घर जाते ही सब को बताऊँगी कि आप का असली रूप क्या है!’ मनिका ने रुआंसी हो कर कहा.

जयसिंह ने एक दफ़ा उसकी तरफ़ मिन्नत भरी नज़रों से देखा, पर उनसे कुछ कहते न बना. तभी ट्रेन एक झटके के साथ रुक गयी.

स्टेशन पर मनिका का पूरा परिवार उन्हें रिसीव करने आया हुआ था. मनिका पहले बाहर निकली थी, और अपने छोटे भाई-बहन को देख उसके चेहरे पर भी एक मुस्कान आ गयी थी. फिर वह थोड़ा सकुचा कर अपनी माँ की तरफ़ बढ़ी,

‘आ गये वापस आख़िर तुम दोनों…’ मनिका की माँ ने मुस्कुरा कर कहा, लेकिन उनकी आवाज़ में हल्का सा व्यंग्य भी था, ज़ाहिर था कि वे मनिका का व्यवहार भूली नहीं थी.

मनिका का दिल भर आया, उसने अपनी माँ को कितना ग़लत समझा था. वह आगे बढ़ी और मधु के गले लग गयी,

‘ओह, मम्मा…’ उसने अपने माँ को बाँहों में भरते हुए कहा, ‘आइ एम सो सॉरी…’

‘अरे…’ मनिका की माँ उसके बदले स्वरूप से अचंभे में थी, फिर संभल कर मुस्कुराई और उसे फिर से गले लगाते हुए बोली, ‘कोई बात नहीं…कोई बात नहीं, चलो भी अब, घर नहीं चलना?’

जयसिंह का यह डर के मनिका घर पहुँच कर उनकी सारी पोल खोल देगी, ग़लत साबित हुआ. हालाँकि शुरू के चार-पाँच दिन तो वे धड़कते दिल से रोज़ घर से अपने ऑफ़िस जाया करते थे, लेकिन फिर धीरे-धीरे वे थोड़ा आश्वस्त हो चले कि अगर मनिका से आगे छेड़-छाड़ न की तो शायद वह किसी से कुछ ना बोले. उधर मनिका ने भी अपना इरादा बदल लिया था, उसने सोचा तो था कि वह अपनी माँ से सब सच-सच बोल देगी, लेकिन जब उसने घर पर इतनी ख़ुशी का माहौल देखा तो उस से कुछ कहते न बना. और बात टलते-टलते टल गयी. जयसिंह का अंदाज़ा सही था, मनिका ने सोच लिया था कि अगर जयसिंह आगे कोई भी गंदी हरकत करेंगे तो वह सबकुछ उगलने में एक पल की भी देरी नहीं करेगी. मनिका को एक और बात भी खल रही थी, उसका अड्मिशन तो दिल्ली में हो गया था लेकिन अब वह जयसिंह के पैसों से वहाँ पढ़ना नहीं चाहती थी. परंतु इस बात पर काफ़ी गहरायी से सोचने के बाद उसने दिल्ली ही जाने का फ़ैसला कर लिया – उसका तर्क था कि वहाँ जा कर एक तो वह हर वक़्त जयसिंह का सामना करने से बच सकेगी – उसे अब वे फूटी आँख नहीं सुहाते थे – और दूसरा, ग़लती जयसिंह की थी और अगर उनका पैसा ख़र्च होता भी है तो अब उसे फ़र्क़ नहीं पड़ना चाहिए, यह उसका हक़ था कि जयसिंह से दूर रहे, भले ही इसके लिए उनका ख़र्चा हो रहा हो.

दो एक हफ़्ते बाद, मनिका के फिर से दिल्ली जाने का समय आ गया. इस बार जयसिंह ने अपनेआप ही उसके साथ जाना यह कह कर टाल दिया के ऑफ़िस में पहले ही काफ़ी काम बाक़ी पड़ा है, सो वे नहीं जा सकेंगे. उधर मनिका ने भी अपनी माँ को इस बात की फ़िक्र में देख उन्हें आश्वासन दिया कि अब उसे दिल्ली में कोई परेशानी नहीं होगी, उसने सभी ज़रूरत की जगहें देख लीं है और वह आराम से आने-जाने में समर्थ है. घर में इस बात को लेकर काफ़ी दिन डिस्कशन चला परंतु अंत में यही तय हुआ कि मनिका अकेले ही दिल्ली जाएगी. वापस आने के बाद से ही मनिका और उसकी माँ में घनिष्टता बढ़ गयी थी, और उसकी माँ ने कई बार उसके समझदार हो जाने कि दाद दी थी. इसी तरह, कुछ अपनों का प्यार और कुछ अपने कल के बुरे अनुभवों से बाहर निकलने के सपने लिए मनिका दिल्ली के लिए रवाना हो गयी.

उस दिन भी, जयसिंह काम का बहाना ले कर, उसे रेल्वे-स्टेशन छोड़ने नहीं आए थे.

(11-05-2016 04:39 PM)  Le Lee 0
एक साल बीत चुका था. मनिका को दिल्ली रास आ गयी थी, उसके बहुत से नए दोस्त बन गए थे और पढ़ाई में तो वह अव्वल रहती ही थी. कॉलेज शुरू होने के बाद से वह वापस बाड़मेर नहीं गयी थी. घर से फ़ोन आता था तो वह कोई न कोई बहाना कर के टाल जाती, बीच में एक दफ़ा मनिका की माँ और उसके भाई-बहन उसके मामा के साथ दिल्ली आ कर उस से मिल कर गए थे. परंतु न तो जयसिंह उनके साथ आए न ही उनसे उसकी कोई बात हुयी. अगर उसकी माँ कभी फ़ोन पर उस से पूछ भी लेती कि ‘पापा से बात हुई?’ तो वह झूठ बोल देती कि हाँ हुई थी. उधर जयसिंह भी इसी झूठ को अपनी बीवी के सामने दोहरा देते थे कि मनिका से बात होती रहती है. मनिका के बिना कहे ही उसके अकाउंट में हर महीने पैसे भी वे जमा करवा देते थे और अगर मनिका को किसी और ख़र्चे के लिए पैसे चाहिए होते थे तो वह अपनी माँ से ही कहती थी.

कॉलेज का पहला साल ख़त्म हो चुका था, लेकिन मनिका एक्स्ट्रा-क्लास का बहाना कर दिल्ली में ही रुकी हुयी थी. उसके कॉलेज के हॉस्टल में कुछ विदेशी स्टूडेंट्स भी रहती थी, सो हॉस्टल पूरे साल खुला रहता था.

आज मनिका का जन्मदिन था.

मनिका ने अपनी माँ से कुछ दिन पहले ही कुछ पैसे भिजवाने को कहा था, लेकिन वे भूल गयी थी. मनिका ने अपनी कुछ लोकल फ़्रेंड्ज़ को पार्टी के लिए बुलाया था. पर जब उसने अपने अकाउंट में बैलेन्स चेक किया तो पाया कि पैसे अभी तक नहीं आए थे. हालाँकि उसके पास पैसे पड़े थे लेकिन वे उसके महीने के नॉर्मल ख़र्चे वाले पैसे थे. ‘शायद मम्मा भूल गयी, चलो कोई बात नहीं, उनसे बाद में डिपॉज़िट कराने को कह दूँगी.’ मनिका ने सोचा और पार्टी करने फ़्रेंड्ज़ के साथ साकेत मॉल चल दी.

उन्होंने उस दिन काफ़ी मज़ा-मस्ती की. मनिका की सहेलियाँ उसके लिए एक केक लेकर आयीं थी —अपना फ़ेवरेट चोक्लेट केक देख वह बहुत ख़ुश हुई. पूरा दिन इसी तरह हँसते-खेलते और शॉपिंग करते बीत गया, कब शाम हो गयी उन्हें पता भी न चला. वे सब अब अपने-अपने घर के लिए निकलने लगीं. आख़िर में मनिका और उसकी फ़्रेंड रश्मि ही रह गए.

‘आर यू नॉट लीविंग?’ मनिका ने रश्मि को जाने का नाम न लेते देख पूछा. वह आज की पार्टी की होस्ट थी सो उसने सोचा था सब के चले जाने के बाद हॉस्टल के लिए निकलेगी.

‘या या…यू गो मणि, आइ विल गो बाय मायसेल्फ़.’ रश्मि बोली.

‘अरे, हाउ केन आइ गो लीविंग यू हियर?’ मनिका बोली, ‘तुम सब सेफ़्ली घर चले जाओ उसके बाद ही मैं जाऊँगी…’

‘हाहाहा…आइ एम नॉट गोइंग होम सिली (बेवक़ूफ़).’ रश्मि ने खिखियाकर कहा.

‘वट डू यू मीन?’ मनिका ने आश्चर्य से पूछा.

‘अरे यार, राजेश आ रहा है मुझे लेने, मैंने घर पर तेरे बर्थ्डे का बहाना किया है और बोला है कि आज तेरे पास रुकूँगी…’ रश्मि ने मनिका को आँख मारते हुए कहा. राजेश उसका बॉयफ़्रेंड था.

‘हैं…’ मनिका ने बड़ी-बड़ी आँखें कर के पूछा, ‘तुम उसके साथ रहोगी रात भर?’

‘हाहाहा…हाँ भयी हमारी बाड़मेर की सावित्री…वी विल हैव सम फ़न टुनाइट…’ रश्मि ने उसे फिर आँख मारी. सब जानते थे कि मनिका का कोई बॉयफ़्रेंड नहीं था.

‘हे भगवान…’ मनिका से और कुछ कहते न बना.

तभी रश्मि का फ़ोन बज उठा, राजेश बाहर आ गया था. रश्मि मुस्कुराते हुए उठ खड़ी हुयी,

‘ओके मणि, थैंक्स फ़ोर द ओसम ट्रीट. अब तुम जा सकती हो…बहुत मज़ा आया आज…काफ़ी पैसे भेजे लगते हैं तुम्हारे पापा ने उड़ाने के लिए इस बार.’

‘हुह…’ अपने पिता का ज़िक्र सुन मनिका ने मुँह बनाया, फिर मुस्का कर बोली, ‘थैंक्स फ़ोर कमिंग रशु.’

रश्मि के जाने के बाद मनिका ने अपने गिफ़्ट्स समेटे और एक कैब लेकर अपने हॉस्टल आ गयी. रास्ते में वह यही सोच रही थी कि रश्मि कितनी चालू निकली, अपने बॉयफ़्रेंड के साथ ‘फ़न’ करेगी मेरा बहाना लेकर. ‘चलो जो भी करे मुझे क्या करना है.’ तब तक उसका हॉस्टल आ गया था.

मनिका ने अपने रूम में पहुँच कर कपड़े बदले और हाथ-मुँह धो कर बेड पर जा बैठी व एक-एक कर अपने गिफ़्ट देखने लगी. सब लड़कियों को अमूमन मिलने वाली ही चीज़ें थी — दो स्कर्ट्स थे, जो अदिति लायी थी, एक मेक-अप किट था, रवीना की तरफ़ से, और एक क्रॉप-टॉप था, रश्मि की तरफ़ से. ‘अपने जैसा ही गिफ़्ट लाई है मुयी.’ मनिका ने क्रॉप-टॉप देख कर सोचा.

तभी उसका फ़ोन बज उठा. देखा तो उसकी माँ का फ़ोन था.

‘हाय मम्मा..’ मनिका ने उत्साह से फ़ोन उठाते हुए कहा.

‘कैसा रहा बर्थ्डे?’ उसकी माँ ने पूछा.

‘बहुत अच्छा मम्मा…’ मनिका उन्हें दिन भर की बातें बताने लगी.

कुछ देर माँ-बेटी की बातें चलती रहीं. तभी मनिका को याद आया,

‘माँ, आपको पैसे ट्रान्स्फ़र के लिए बोला था ना बर्थ्डे के लिए? आपने भेजे ही नहीं…सारी पार्टी अपने नॉर्मल वाले बैलेन्स से करी है आज मैंने…’

‘अरे, तेरे पापा को बोला था, कुछ याद नहीं रहता इन्हें भी, ले तू ही बोल दे…’ उसकी माँ ने कहा.

मनिका कुछ बोल पाती उस से पहले ही दूसरी तरफ़ से फ़ोन किसी और के पकड़ने की आवाज़ आयी. मनिका की धड़कनें बढ़ गयी थी.

‘हेल्लो?’ उसके पिता की आवाज़ आइ.

मनिका कुछ नहीं बोली.

‘अच्छा हाँ, हैपी बर्थ्डे वन्स अगैन मणि…हाँ हाँ सॉरी, वो पैसे मैं सुबह ही भेज देता हूँ.’ जयसिंह मधु के सामने झूठ-मूठ ही बातें कर रहे थे. ‘लो हाँ भयी, मम्मी से बात कर लो.’

उसके पिता ने बड़ी ही चतुरायी से फ़ोन वापस उसकी माँ को दे दिया था.

मनिका की माँ ने कुछ देर और बातें करने के बाद फ़ोन रख दिया था. मनिका अपना सामान एक ओर रख बेड पर लेटी हुयी थी, उसके मन में एक उथल-पुथल मची हुयी थी. आज एक अरसे बाद जयसिंह की आवाज़ सुनी थी, उन्होंने उसे ‘मणि’ कह कर पुकारा था. मनिका ने उस भयानक रात के बाद काफ़ी वक़्त यह सोचते हुए बिताया था, कि आख़िर क्यूँ, कब और कैसे उसके पिता ने उसे बुरी नज़र से देखना शुरू किया था. उसे एहसास हुआ कि जब से जयसिंह ने उसे मनिका कह कर बुलाना शुरू किया था, तभी से उनके आचरण में बदलाव आ गया था. और आज उनका उसे उसके घर के नाम से बुलाना उसे थोड़ा विचलित कर गया था — ‘क्या पापा अपने किए पर शर्मिंदा हैं?’ उसने मन ही मन सोचा. धीरे-धीरे उसे पुरानी बातें याद आने लगीं, जिनके बारे में सोचना वह छोड़ चुकी थी — कि कैसे जयसिंह उस रात के बाद उस से दूर रहने लगे थे और उस से आँखें तक नहीं मिलते थे. लेकिन उनसे सामना हुए एक साल बीत चुका था — ‘तो क्या पापा सच में बदल गए हैं?’ मनिका ने ख़ुद से एक और सवाल किया. सोचते-सोचते उसने करवट बदली और उसकी नज़र सामने कुर्सी पर रखे उस क्रॉप-टॉप पर गयी जो आज उसे गिफ़्ट में मिला था.

‘रश्मि भी ना ज़्यादा मॉडर्न बनती है…क्या कह रही थी आज, बाड़मेर की सावित्री…एक बॉयफ़्रेंड क्या बना लिया. सब मुझे इसी तरह चिढ़ाते हैं…उन्हें क्या पता मेरे साथ क्या हो चुका है, मेरे अपने पापा ने मुझे…हाय…कितनी बेवक़ूफ़ थी मैं, सब जान कर भी अनजान बनी रही…और पापा ने कितना फ़ायदा उठाया मेरा. स्कूल की सब फ़्रेंड्ज़ तो पापा को मेरा बॉयफ़्रेंड तक कहती थीं…और यहाँ सब सोचतीं है कि मुझे कुछ पता नहीं लड़कों के बारे में…उन्हें क्या पता है..? उनके ऐसे गंदे पापा जो नहीं है…जो उन्हें अपने साथ रूम में सुला कर गंदी हरकतें करते हों और अपना…डिक…दिखाते हों…हाय राम, कितना बड़ा और काला डिक था पापा का…और वे मुझे दिखा दिए…ज़रा भी शर्म नहीं आइ. कैसे चमक रहा था उनके पैरों के बीच, और पापा के बॉल्ज़ (टट्टे) भी कितने बड़े-बड़े थे…’ मनिका को एहसास भी नहीं हुआ था कि कब यह सब सोचते-सोचते उसने अपनेआप को अपनी बाँहों में कस लिया था और अपनी टाँगें भींच ली थी. अचानक उसकी तन्द्रा टूटी, उसके पूरे बदन में एक अजीब सी लहर उठ रही थी. कुछ पल तक उसने हिलने-डुलने की कोशिश की, लेकिन उसपर एक मदहोशी सी छाने लगी थी और थोड़ी ही देर में वह गहरी नींद के आग़ोश में समा गयी.

उधर जयसिंह ने आज अपनी बीवी के अचानक से उन्हें फ़ोन पकड़ा देने पर बड़ी ही होशियारी से स्थिति को संभाल लिया था. वे यही सोचते-सोचते सो गए थे कि कहीं मनिका बुरा न मान गयी हो और यह न सोच ले कि उन्होंने जान-बूझकर फ़ोन लिया था.

अगली सुबह जब मनिका उठी, तो कुछ पल के लिए वह समझ नहीं पाई कि वह इतनी विचलित क्यूँ है. पर फिर उसे पिछली रात की बातें याद आने लगी, उसने कल एक साल में पहली बार अपने गंदे बाप की आवाज़ सुनी थी. और यही सोचते-सोचते उसकी आँख लग गयी थी, वह अब उठने को हुई, लेकिन कॉलेज की तो छुट्टियाँ चल रहीं थी, आलस के मारे उसने फिर आँखे मींच ली और सुस्ताने लगी. धीरे-धीरे उसके अवचेतन मन में फिर से वही बातें आने लगीं — ‘सब को लगता है, बॉयफ़्रेंड ही सबकुछ होते हैं…क्या तो बॉयफ़्रेंड है रश्मि का, राजेश, न कुछ काम करता है न कुछ और…बस बाइक लेकर आवारगर्दी करता है पूरे दिन…उस पर इतना इतराती और है, और मुझे ताने मारती है…सब पता है मुझे इन मर्दों का, पापा ने भी तो यही कह कर फँसाया था…कि वो मेरे बॉयफ़्रेंड हैं, क्यूँकि मैंने उनको बता दिया कि मेरी बेवक़ूफ़ फ़्रेंड्ज़ उनके लिए ऐसा बोलती हैं…तो क्या तभी से वे मुझे गंदी नज़र से देखने लगे होंगे? हो सकता है…पर वे तो कहते थे कि बॉयफ़्रेंड्ज़ और मर्दों में डिफ़्रेन्स होता है…मे बी…मर्द काम करते हैं, सकक्सेस्फुल होते हैं, बॉयफ़्रेंड्ज़ की तरह आवारा नहीं होते…जैसे राजेश है…कितना इम्प्रेस हो गये थे वे लोग पापा से जिनके साथ हमने पूल खेला था…और रश्मि अवेंयी इतना इतराती है राजेश पर…क्या बोल रि थी कल, वी विल हेव सम फ़न?…उस लंगूर का क्या तो फ़न करेगी…उसका तो किसी मर्द जितना बड़ा भी नहीं होगा…पापा के डिक जैसा…ओह गॉड…कैसे हिलाया था पापा ने उसे…मुझे तो लगा था कि उछल कर मुझे टच करने वाला है…इतना लम्बा…’ मनिका बिस्तर में पड़ी-पड़ी कसमसा उठी थी और उलटी हो कर लेट गयी, पर उसके अंतर्मन की बातें फिर भी चलती रहीं, ‘आइ ईवेन ड्रीम्ड अबाउट ईट…कैसे पापा मेरे रूम में बेड पर आ गये थे…और मुझे बोले कि मैं तो नंगी हूँ…और पापा भी नंगे थे…मुझे कैसे अपनी बाँहों में दबा-दबा कर…ओह्ह्ह्ह…एंड आइ वास होल्डिंग हिज़ डिक…हाथ में पूरा ही नहीं आ रहा था…कैसे दबा रही थी मैं उसको…पापा का बड़ा सा डिक…कैसा गंदा बोल रहे थे फिर…जवान हो गयी हो…एंड मेरे बूब्स को घूर रहे थे, एंड हिज़ हैंड वास ऑन माई नेकेड थाइज़. बोले ब्रा और पैंटी उतार दो…बरमूडा शॉर्ट्स में से ही उनका डिक मुझे टच कर रहा था…’

‘उन्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह…’ एक ज़ोरदार सिसकी के साथ मनिका ने अपना अधोभाग ऊपर उठाया था, ‘उन्ह्ह्ह्ह…ह्म्प्फ़्फ़्फ़्फ़…’ एक दो बार और उसका शरीर थरथर्राया और फिर वह शांत हो गयी, उसकी गाँड अभी भी ऊँची उठी हुयी थी.

जब थोड़ी देर बाद मनिका होश में आयी तो उसके होश फ़ाख्ता हो गए, ‘ओह गॉड, ये अभी मैंने क्या किया…?’ वह थोड़ा सा हिली तो उसे अपने पैरों के बीच कुछ गीलापन महसूस हुआ. ‘ओफ़्फ़्फ…डिड आइ जस्ट केम?’ (क्या मैं अभी-अभी झड़ गयी हूँ?)

मनिका जल्दी से उठने को हुई लेकिन उसके बदन में जैसे बुखार आ गया था. वह निढ़ाल हो कर फिर से बिस्तर पर गिर पड़ी.

(11-05-2016 04:39 PM)  Le Lee 0
शाम होते-होते मनिका का आवेग थोड़ा कम हुआ, वह बिस्तर से निकली और अपना कमरा ठीक करने लगी, लेकिन उसके दिमाग़ में सिर्फ़ एक ही बात थी — ‘आइ केम थिंकिंग अबाउट पापा…एंड हिज़ डिक.’ जयसिंह के लंड का ख़याल आते ही मनिका नए सिरे से सिहर उठती थी. वह जैसे-तैसे करके नीचे हॉस्टल के डाइनिंग हॉल में जा कर डिनर कर के आइ और वापस आ कर फिर से लेट गयी. कुछ देर लेटे रहने के बाद उसने अपने सिरहाने रखे फ़ोन को टटोला. उसने पाया कि दो नए मेसेज आए हुए थे, एक तो बिलेटेड हैपी बर्थ्डे विश का था और दूसरा उसके बैंक से था. उसके अकाउंट में बीस हज़ार रुपए जमा हुए थे, एक बार फिर उसका बदन तप उठा, उसने तो अपनी माँ से सिर्फ़ पाँच हज़ार के लिए कहा था, ‘तो क्या पापा ने…?’

मनिका को उस रात देर तक नींद नहीं आयी, और सुबह होते-होते वह एक बार फिर अपने पिता के काले-मोटे लंड के ख़यालों में खो गयी थी. अगले कुछ दिन मनिका की हालत बेहद ख़राब रही, अचानक अपने अंदर जगी इस आग को बुझाने का उसका हर प्रयत्न विफल रहा था. हर बार वह अपने आप को कोसते हुए अगली बार ऐसा ना होने देने का प्रण करती और हर बार अपनी इच्छाओं के सामने बेबस हो जाती. इसी तरह एक रात जब उसकी कामिच्छा अपने चरम पर थी तो वह मस्ती में सिसकती-सिसकती बोल पड़ी,

‘उम्ह्ह्ह्ह्ह पापाऽऽऽऽऽऽऽ…..पापाऽऽऽऽऽऽऽ…योर डिक पापा…स्स्स्स्स्स्साऽऽऽऽ सो बिग…’

और जब उसे होश आया तो उसकी ग्लानि की कोई सीमा नहीं थी. ‘ओह गॉड, ये मुझे क्या होता जा रहा है? पापा का डिक…उम्मम्म…क्यूँ मैं उसके बारे में ही सोचती रहती हूँ?’

इधर मनिका का कॉलेज शुरू होने में कुछ ही दिन बचे थे, वह नए समेस्टर की फ़ीस वगरह जमा करवाने के बाद ज़्यादातर वक़्त अपने कमरे में ही बिताने लगी थी. उसने जयसिंह के साथ बितायी आख़िरी रात के बाद ही अपने लैप्टॉप से उनकी सारी फ़ोटोज डिलीट कर दी थी. पर फिर एक दिन उसने ऑनलाइन सर्च किया कि डिलीट हुयी फ़ाइल्ज़ कैसे वापस लाई जा सकती है. थोड़ा ढूँढने पर उसे एक प्रोग्राम मिला जिस से डिलीट कर हुआ डेटा रिकवर किया जा सकता था. धड़कते दिल से उसने वो प्रोग्राम चलाया, लेकिन उसे अपने पिता की फ़ोटोज डिलीट किए काफ़ी अरसा हो गया था, सो प्रोग्राम से सिर्फ़ एक दो फ़ोटो ही रिकवर हो सके. पर मनिका के हाथ तो मानो सोना लगा गया था, जो फ़ोटो उसने रिकवर किए थे, उनमे से एक फ़ोटो तो ऐसे ही था जिसमें जयसिंह की पीठ उसकी तरफ़ थी और वह सेल्फ़ी ले रही थी, लेकिन दूसरे तब का था जब उसने रूम में अपनी नयी-नयी ड्रेसेज़ पहन कर उन्हें दिखाई थी और इस में वह वो बदन से चिपकी काली ड्रेस पहन कर उनकी गोद में बैठी थी. फ़ोटो को देखते ही मनिका, बेड पर उलटी लेट गयी और लैप्टॉप अपने सिरहाने रख उस फ़ोटो को देख-देख मस्ताने लगी. ‘उम्मम्म पापा…उम्मम्म…’ करते हुए उसने लैप्टॉप स्क्रीन पर ही एक दो किस कर दिए थे.

मनिका का कॉलेज शुरू हो गया था. लेकिन पिछले समेस्टर की तरह इस बार न तो मनिका क्लास में फ़र्स्ट-बेंच पर बैठी दिखायी देती थी और ना ही उसकी पढ़ाई की पर्फ़ॉर्मन्स इतनी अच्छी थी. एक दो बार जब किसी प्रोफ़ेसर ने उसे टोका भी, तो उसने अनसुना कर दिया था. कुछ दिन बाद उसने कॉलेज से बंक मारना भी शुरू कर दिया और अपने कमरे में ही ज़्यादातर वक़्त बिताने लगी. यूँ ही करते-करते सितम्बर का महीना आ गया. ९ सितम्बर को जयसिंह का जन्मदिन था.

आठ की रात को मनिका धड़कते दिल के साथ जगी हुई थी. उसके मन में एक उपाहपोह की स्थिति थी, कि क्या वह अपने पिता को बर्थ्डे विश करे या न करे. जब रात के १२ बजने में कुछ ही मिनट रह गए तो मनिका ने कांपते हाथों से अपने फ़ोन में एक मेसिज टाइप किया,

“Happy Birthday Papa”

पर फिर जब उसने कुछ देर सोचा तो उसे लगा कि हो सकता है उसके पापा यह रिप्लाई कर दें,

“Thank You Mani”

यह सोच कर उसका मन थोड़ा खिन्न हो गया था, उसने एक दो बार फिर ट्राई किया और आख़िर एक मेसेज लिखा,

“Happy Birthday My Dear Papa
From: Manika”

उस मेसेज को पढ़-पढ़ कर ही मनिका की अंगड़ाई टूट रही थी. बारह बजने में सिर्फ़ कुछ ही सेकंड बचे थे, मनिका ने डर के मारे एक बार मेसेज एप बंद कर दिया. पर फिर हड़बड़ाते हुए जल्दी से एप वापस खोला और सेव हुए मेसेज के सेंड बटन को दबा दिया. सिर्फ़ इतना सा करने के साथ ही मनिका एक बार फिर तड़पते हुए तकये में मुँह दबा कर आनंदित चीतकारें मारने लगी,

‘पापाऽऽऽऽऽऽ, उम्ममा…हैपी बर्थ्डे फ़्रम योर मनिका…हैपी बर्थ्डे टू योर बिग डिक पापा…उन्ह्ह्ह्ह…’

जयसिंह जगे हुए थे. उनकी बीवी और बच्चे पहले ही उन्हें उठा चुके थे. घर में ख़ुशी का माहौल था. वे भी अपने परिवार को गले लगा कर उन्हें बर्थ्डे विश के लिए धन्यवाद कह रहे थे. पर क्यूँकि रात काफ़ी हो चुकी थी, और जन्मदिन अगले दिन मनाना था, तो कुछ देर बाद वे सब अपने-अपने कमरे में सोने चले गए.

जयसिंह अपने कमरे में आ कर लेट गए. मधु बाथरूम में थी. तभी उनकी नज़र अपने फ़ोन पर गयी, जिसकी नोटिफ़िकेशन लाइट जल रही थी. यह सोच कर कि देखें किस-किस मेसेज किए हैं उन्होंने फ़ोन उठा कर देखा. सिर्फ़ एक ही मेसेज था.

मेसेज पढ़ते ही जयसिंह का बदन शोला हो उठा था. वे कुछ समझ नहीं पा रहे थे क्या करें, उनके माथे पर पसीने की बूँदें छलक आयीं थी. तभी मधु बाथरूम से निकल आयी, जयसिंह ने आनन-फ़ानन में फ़ोन एक तरफ़ रख दिया और लेट गए.

मधु आकर उनके बग़ल में लेट गयी. उनका जन्मदिन था सो मधु ने अपने पति को कुछ सुख देने का सोचा था, लेकिन एक दो बार जब जयसिंह ने मधु के उकसावे का जवाब नहीं दिया तो वह चुपचाप लेट कर सोने लगी. तीन बच्चे हो जाने के बाद अब उनके बीच कभी-कभार ही गहमा-गहमी होती थी, वरना दोनों आपसी समझ से सो जाया करते थे.
कुछ देर बाद जब जयसिंह आश्वस्त हो गए कि उनकी बीवी सो चुकी है तो उन्होंने एक बार फिर अपनी जवान बेटी का रूख किया. उनका लंड अब तन चुका था. मनिका का मेसेज काफ़ी उत्तेजक था, जयसिंह मेसेज देखते ही यह तो नहीं समझ सके थे कि मनिका ने ऐसा मेसेज क्यूँ किया लेकिन उसके पीछे दबी बात उनके समझ ज़रूर आ गयी थी. लेकिन वे इस बार अंधेरे में कोई तीर नहीं चलाना चाहते थे सो उन्होंने मनिका को रिप्लाई किया,

“Thank You Mani Dear”

मनिका फ़ोन के पास पड़ी आहें भर रही थी जब जयसिंह का रिप्लाई आया. उसने झट फ़ोन उठा कर देखा, और उसका सारा नशा उतार गया. उसके पापा ने उसे मणि कह कर बुलाया था. ‘क्या पापा सच में बदल चुके है? और मैं ही ऐसी गंदी बातें सोचने लगी हूँ?’ मनिका अंतर्द्वंद्व से घिर चुकी थी, उसने अपने आप को ऐसा क़दम उठाने के लिए कोसा और शर्म से पानी-पानी हो गयी.

अगला दिन मनिका का पिछले कुछ महीनों का पहला ऐसा दिन था जब उसने एक बार भी अपने पिता के बारे में ग़लत नहीं सोचा था. वह आत्मग्लानि से भरी काफ़ी दिन बाद आज कॉलेज भी आई थी. पूरे दिन पश्चाताप की आग में जलने के बाद वह अपने हॉस्टल रूम में लौट आई. उसका मन भारी था, जिस पाप के लिए उसने अपने पिता को नकारा था, आज वही पाप उसके ख़ुद करने का एहसास उसे दबाता जा रहा था. उसे समझ नहीं आ रहा था कि कैसे वह इतने महीनों से इस उन्माद का शिकार हो गयी थी.

वह डिनर के लिए भी नहीं गयी थी. बाहर रात घिर आई थी, मनिका की आँख लगने को हुयी ही थी जब उसके फ़ोन की घंटी बजी. जयसिंह का फ़ोन था. मनिका का दिल धौंकनी सा धड़कने लगा.

‘हेल्लो.’ कुछ देर बजने देने के बाद मनिका ने फ़ोन उठा कर कहा.

‘दीदी! क्या कर रहे हो? हम तो पार्टी कर के आए हैं अभी…’ मनिका की छोटी बहन थी.

‘ओह, वाह…’ मनिका ने झूठा उत्साह जताया.

‘क्या दीदी, पापा बोल रहे थे कि आपने उनको कॉल करके विश भी नहीं किया…सो मैंने ही आपको कॉल कर लिया…लो पापा को विश तो कर दो…’ उसकी बहन ने उलाहना देते हुए कहा, और एक बार फिर मनिका ने अपने आप को अपने पिता से मुख़ातिब पाया.

‘हेल्लो.’ जयसिंह की आवाज़ थी.

‘पापा…’ मनिका के मुँह से अपने आप ही निकल गया था वह शब्द.

‘क्या कर रही हो…’ जयसिंह ने कहा, वे एक पल उसके जवाब के लिए रुके रहे थे फिर आगे बोले ‘मनिका…’

‘पापा…’ मनिका एक बार सिर्फ़ इतना ही बोल पाई.

दूसरी तरफ़ से कुछ खट-पट होने की आवाज़ें आई और फिर मनिका ने पाया कि पीछे से आ रही उसके भाई-बहन की आवाज़ें अब बंद हो गयी थी.

‘कल तुम्हारा मेसेज मिला रात को…’ जयसिंह बोले, ‘थैंक यू…’

‘जी…’ मनिका ने हौले से कहा, ‘हैपी बर्थ्डे वन्स अगैन.’

कुछ देर जयसिंह कुछ नहीं बोले, फिर उन्होंने आगे कहा,

‘सो गयी थी क्या?’

‘नहीं…पापा…नहीं सोई.’ मनिका फुसफुसाई.

‘अच्छा है…अच्छा है…’ उसके पिता की आवाज़ में भी एक गहराई थी, ‘सुनो…’

‘जी…’ मनिका ने उनके बात पूरा करने से पहले ही कहा.

‘नींद तो नहीं आ रही? अभी सब जगे हुए हैं…थोड़ा रुक कर फ़ोन करूँ तुम्हें?’ जयसिंह ने पूछा.

‘ओह…ओके पापा…’ मनिका तो सुबह का पश्चाताप भूल चुकी थी.

‘ओके मनिका…’ जयसिंह ने फ़ोन काट दिया.

उनके फ़ोन रखते ही मनिका उठ खड़ी हुयी और बाथरूम में जा कर हाथ-मुँह धोने लगी. उसकी सारी नींद उड़ चुकी थी. फिर उसने हल्का सा मेक-अप भी लगा लिया — हालाँकि जयसिंह उसे देख नहीं सकते थे — पर न जाने क्यूँ उसका मन तो कुलाँचे मारने लगा था, शायद इसलिए कि पापा ने उसे ‘मनिका’ कह कर बुलाया था.

लेकिन जयसिंह का थोड़ा रुक कर फ़ोन करने का वादा पूरा होते-होते रात का डेढ़ बज गया था. फ़ोन की घंटी बजी तब तक मनिका आस छोड़ चुकी थी. पर फ़ोन की स्क्रीन पर ‘पापा’ लिखा आते ही मनिका सकुचा गयी और दहलते दिल से फ़ोन उठाया,

‘हेल्लो.’ उसके पापा की आवाज़ आई.

मनिका चुप रही.

‘हेल्लो, बोलोगी नहीं कुछ…मनिका?’ जयसिंह ने पूछा.

‘हूँ…’ मनिका ने हौले से अपने लाइन पर होने की हामी भरी.

‘क्या कर रही हो? कहाँ हो?’ जयसिंह ने नॉर्मल सवालों से शुरुआत की.

‘हॉस्टल रूम में…कुछ भी नहीं कर रही थी…आप क्या कर रहे हो? सब सो गए क्या पापा?’ मनिका आस-पास किसी के न होने पर भी फुसफुसा कर बोली.

उनकी बातें अब धीरे-धीरे चल पड़ीं.

‘हाँ…सब सो गए…तुम नहीं सोई आज?’

‘नहीं…बस सोने ही वाली थी…’

‘कल तुम्हारा मेसेज आया…बहुत अच्छा लगा, यू क़्नो…’

‘हूँ…’

‘ग़लती से कर दिया था क्या?’ जयसिंह ने थोड़ा उकसाने के लिए पूछा.

‘नहीं…वो…वो आपका बर्थ्डे…था न…’ मनिका ने अटकते हुए कहा, उसे समझ नहीं आ रहा था कि क्या बोले.

‘हम्म…और बताओ कैसी हो?’

‘ठीक हूँ.’

बात आगे बढ़ती न देख जयसिंह चुप हो गए. कुछ देर यूँही बाप-बेटी एक दूसरे की साँसों कि आवाज़ सुनते रहे, फिर,

‘पापा?’

‘हूँ?’

‘पापा…आपने…आपने मेरे साथ ऐसा क्यूँ किया पापा…?’ मनिका ने आख़िर अपने दिल में छुपी बात पूछ ही डाली.

जयसिंह कुछ देर चुप रहे, क्या ये कोई जाल था, क्या मनिका उनकी बातें रेकोर्ड कर रही थी? पर फिर उन्होंने फ़ैसला किया कि ऐसा नहीं हो सकता, मनिका इतना वक़्त बीत जाने के बाद ऐसा क्यूँ करती, और फिर उसका वो कल वाला मेसेज, सो वे बिना कोई भूमिका बनाए बोले,

‘याद है जब हम पहली बार दिल्ली जा रहे थे?’

‘हाँ…’

‘और तुमने वो टाइट लेग्गिंग़्स पहनी थी और के छोटा सा टॉप…’

‘हूँ…हाय राम…’

‘उस दिन जब तुम ब्रेक्फ़स्ट के बाद हाथ धो रहीं थी और मैं तुम्हारे पीछे खड़ा था…तो पहली बार मुझे एहसास हुआ कि तुम कितनी जवान हो गयी हो…तुम्हारी गाँड जैसे उन कपड़ों से बाहर निकलने को हो रही थी…’

‘पापाऽऽ…कितना गंदा-गंदा बोल रहे हो…हाय…’ मनिका ने सहमते हुए कहा, लेकिन जयसिंह न रुके,

‘मैंने किसी तरह अपने आप पर क़ाबू पाया था उस वक़्त…फिर जब तुम स्टेशन पर मधु से लड़ाई के बाद ट्रेन में मेरे पास आ कर बैठी थी…याद है?’

‘ज…जी…’

‘और मैं अपने आप को तुम्हारी जाँघें सहलाने से रोक नहीं पाया था…फिर भी मैंने सोचा कि नहीं मनिका मेरी बेटी है…लेकिन तुम थीं की मेरी जान लेने पर तुली थी उस दिन…’

‘हाय पापा…क्या कह रहे हो…आप ऐसा गंदा सोच रहे थे…मुझे तो पता भी नहीं था…’ मनिका सुन-सुन कर कसमसा रही थी.

‘शायद पता न हो लेकिन, मैं समझ गया था कि तुम बाहर से जितनी शरीफ़ दिखती हो उतनी हो नहीं…’

‘क्या…क्या मतलब पापा?’

‘यही कि जब तुम उठ कर बैग से कुछ निकालने लगी थी तो मेरी नज़र फिर से एक बार तुम्हारी गाँड पर पड़ी…और जानती हो मैंने क्या देखा?’

‘क्याऽऽऽ…हाय गंदे पापा…’

‘तुम्हारी लेग्गिंग़्स के कपड़े में से तुम्हारी सेक्सी पैंटी…’

‘उफ़्फ़…हाय राम…मैं फ़ोन रख रही हूँ पापा…आप तो बहुत गंदे हो…’

‘हम्म…लेकिन मैं समझ गया था कि तुम भी कोई कम गंदी नहीं हो…जिस तरह की पैंटी तुमने पहनी थी उसे देख कर मेरा लंड तो जैसे फटने को हो गया था…’

‘हाय पापा ये बोल रहे हो…ऐसा मत कहो?’

‘और तभी मैंने फ़ैसला किया कि तुम्हें अपनी…’

‘ओहहहह…क्या पापा…’ वासना से तड़पती मनिका ने पूछा.

‘रखैल बनाऊँगा…’

‘हाय राम्म्म्म्म्म!’

‘और फिर जब तुम होटेल रूम में मेरे साथ हमारी पहली रात को सोने को तैयार हो गयी थी…’

‘हाय पापा मैं कब तैयार हुई थी, आपने ही बुकिंग की थी…’

‘लेकिन सोचो, कौन बेटी इस तरह अपने बाप के साथ बिस्तर में आने के लिए तैयार होती है? और तुमने तो एक बार भी ना नहीं किया…’

‘हाय पापा…मुझे लगा आप मेरे पापा हो…’

‘और फिर जब उस रात तुम नंगी हो कर सोने के लिए आई थी…’

‘पापाऽऽऽ…ऐसा क्यूँ बोल रहे हो?’

‘और नहीं तो क्या…हो सकता है कि तुम मेरे साथ रूम में अनजाने में रह रहीं थी लेकिन, क्या कोई भी बेटी अपने बाप के सामने इस तरह का नंगा रूप धर कर आ सकती है…’

‘मैंने…ग़लती से पहन लिया था…पापाऽऽऽ.’

‘जो भी हो उसी रात मैंने तो तुम्हें रांड के रूप में देखना शुरू कर दिया था…’

‘छी पापा…आपने मुझे गाली दी!’ मनिका का ख़ुमार थोड़ा सा उतर गया था.

‘और नहीं तो क्या…जब तुम सो गयी तो मैंने कम्बल हटा कर अच्छे से तुम्हें नंगा किया…याद है जब सुबह तुम उठी थी…’

‘हाय पापा…हाय…ऐसा कौन पापा करते हैं…?’

‘अब तुम जैसी बेटियाँ जब नंगी हो कर साथ सोएँगी तो इसमें बाप का क्या दोष…और आगे-आगे तो तुमने सभी हदें पार कर दीं थी, कैसे थोड़ा सा ग़ुस्सा दिखाने के बाद तुम मेरे से ब्रा-पैंटी तक लेने को राज़ी हो गयी थी, और तो और जितना मैंने पैसा फेंका उतना ही तुमने अपना जिस्म मुझे सौंपा…यह रंडियां नहीं तो और कौन करता है?’

‘सब आपकी चाल थी पापा…’

‘तो फिर आख़िरी रात को फिर से नंगी हो कर क्यूँ आई थी जानेमन?’ जयसिंह ने आख़िरी दाँव खेला.

‘हाय पापा…मैं क्या बोलूँ…आपने मुझे फँसा लिया…अपनी बातों से मुझे…’

‘सिर्फ़ बातों से ही?’ जयसिंह ने कुटीलता से पूछा.

‘क्या…क्या मतलब?’ मनिका को कुछ समझ नहीं आ रहा था कि वह अपने पिता से यह कैसी बातें कर रही थी, उसका पूरा बदन काँप रहा था.

‘और नहीं तो क्या…हर वक़्त जो मेरा लंड खड़ा रहता था…उसे नहीं देखतीं थी तू?’

जयसिंह का तीर एकदम निशाने पर लगा था.

‘हाय पापा…क्या बोलते हो…आपको तो ज़रा भी शर्म नहीं आ रही…मैं आपकी बेटी हूँ…’

‘उसी में तो मज़ा है…क्यूँ है ना मनिका माई डार्लिंग?’ जयसिंह ने लंड सहलाते हुए कहा.

‘ऊहहह…हाय पापा…’

‘बताओ ना…पापा के लंड में मज़ा है ना?’

‘हाय…ईट इज सो बिग पापाऽऽऽ…’

‘हम्म…सो तुम देखती तो थी…है ना?’

मनिका शरमा कर चुप हो गयी.

‘बोलो ना मनिका…देखती थी ना पापा का लौड़ा?’

‘लौ…लौ…क्या पापा…?’

‘मेरा लंड मेरा लौड़ा…देखती थी ना मेरी बेटी…?’

‘हाय…हाँ पापाऽऽऽ…उन्ह्ह्ह्ह.’

‘कैसा लगता था मेरी जान को…’

‘ऊहहहह…’

‘बोल ना कुतिया…क्या ऊहहहह कर रही है…’

‘हाय पापा मुझे गाली देते हो…हाय…इतना बड़ा डिक है आपका पापा…सो ब्लैक…’

(11-05-2016 04:40 PM)  Le Lee 0
‘उम्मम्म मेरी रंडी बेटी को देख के हो जाता है बड़ा…’

जयसिंह और मनिका अब तक सारी मान-मर्यादा को ताक पर रख चुके थे.

‘पापाऽऽ मुझे कुछ-कुछ हो रहा है…ऊहहह ऐसे मत बोलो ना आप…’ मनिका का बदन दहक रहा था.

‘क्या हो रहा है मेरी जान को…तेरी चूत गीली हो रही है क्या?’

‘हाऽऽऽ…हाय…गंदे पापा…’

‘बोल ना साली चिनाल…बोल साली रांड…’ जयसिंह तो जैसे अपना-आपा खो चुके थे.

‘ईहहह…पापा माय पुसी इस वेट्ट…म्म्म्म्म…’ मनिका ने तड़पते हुए बताया.

‘ह्म्म्म्म्म…क्या कर रही है मेरी हरामन बेटी…?’

‘आ…आपसे बातें और क्या?’ मनिका मचल कर बोली.

‘ऐ मनिका…’ जयसिंह भी अब मदमस्त हो चुके थे और अपना काला लंड पजामे से बाहर निकाल कर सहला रहे थे.

‘ऊहहह पापा…?’

‘नंगी हो?’ जयसिंह ने खरखराती आवाज़ में पूछा.

‘हाय…पापा अब बस भी करो. ये…कैसी…कैसी बातें कर रहे हैं अपन…’

‘बताओ न…नंगी हो क्या…?’

‘उम्मम नो पापा…ऐसे मत बोलो ना…आप तो बहुत गंदी बातें करते हो…’ मनिका ने उन्माद से तड़पते हुए कहा.

‘एक पप्पी तो दे दो अपने पापा को…’

‘हाय पापाऽऽ…शरम आती है मेरेको…’

‘कोई बात नहीं…शरमा कर ही दे दो…’

‘ऊहहह पापा…आप जाओ ना…कोई आ जाएगा…’

‘पहले मेरी गुड नाइट किस तो दो…’

‘हाय पापा…आप तो मानते ही नहीं…’ मनिका मचली, ‘उम्म्म्म्म्म्मा…’ और एक लम्बी आह के साथ जयसिंह को फ़ोन पर किस दे दिया.

‘आह…’ जयसिंह भी अपनी बेटी की इस मादक आवाज़ से मचल उठे थे.

‘अब ख़ुश? अब जाओ ना पापा…’

‘नहीं…उसे तो तुमने सुलाया ही नहीं…’

‘किसे..?’ मनिका ने उलझन से पूछा.

‘अरे मेरी कुतिया…पापा के लंड को किस नहीं दोगी तो वो सोएगा कैसे?’

‘छी…हाय पापा कैसे गंदे हो आप…’ मनिका जयसिंह की बात से दहल उठी थी.

‘हूँ…’ जयसिंह समझ गए कि अभी इस बात पर ज़ोर न देना ही ठीक है.

‘सो जाओ ना पापा…’ मनिका ने मिन्नत की.

‘चलो ठीक है…’ जयसिंह भी मस्ती में झूम रहे थे और ऊनींदे हो गए थे.

‘गुड नाइट पापा…’ मनिका ने प्यार से कहा.

‘गुड नाइट मनिका…’ जयसिंह भी लंड सहलाते हुए बोले.

‘पापा…?’ मनिका फुसफुसाई.

‘हूँ…?’

‘आइ लव यू…पापाऽऽ…’

जयसिंह ने फ़ोन रखा और अपने लंड को शांत करने कि कोशिश करने लगे. वे मनिका से बात करने के लिए दबे पाँव अपने घर की छत पर चले आए थे. अब उन्होंने अपने फड़कते लंड को पजामे में डाला और हौले से घर के अंदर आकर छत के दरवाज़े की कुंडी लगाई. वे एक बार फिर दबे पाँव नीचे अपने कमरे की तरफ़ बढ़ने लगे, तभी उनकी नज़र मनिका के कमरे की तरफ़ गई.

मनिका के जाने के बाद से उस कमरे को उनकी छोटी बेटी कनिका ने हथिया लिया था. जयसिंह को न जाने क्या सूझा, वे नीचे न जा कर मनिका और कनिका के कमरे की तरफ़ बढ़ चले. कमरे के अंदर आ कर उन्होंने पाया कि काफ़ी अंधेरा था. जयसिंह मोबाइल रौशनी से राह टटोलते हुए बेड के पास पहुँचे. अब तक उनकी आँखें भी अंधेरे के अनुकूल ढल चुकी थी और उन्हें मोबाइल की रौशनी भी काफ़ी ज़्यादा प्रतीत होने लगी थी. बेड पर उनकी छोटी बेटी अल्हड़ हुई सो रही थी. उसकी दोनों बाँहें ऊपर की तरफ़ थीं और वह अपनी दोनों टाँगें खोल कर सो रही थी, उसकी एक टाँग सीधी थी और एक घुटने से सिकोड़ी हुयी. जयसिंह का दिल इतनी ज़ोर से धड़क रहा था कि वे अपने खड़े लंड को भी भूल गए थे.

***

जयसिंह ने कनिका के सीधे रखे पैर पर हाथ रख कर धीरे से उसे हिलाया और फिर धड़कते दिल से उसकी प्रतिक्रिया का इंतज़ार करने लगे. कुछ पल बीते, लेकिन उनकी छोटी बेटी भी बड़ी वाली की भाँति गहरी नींद सोने की आदि थी, सो कनिका ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी. जयसिंह के मन में भय और उत्तेजना घर कर गए थे — डर इस बात का कि ये उनका घर था न कि दिल्ली के होटेल का कोई कमरा, अगर कनिका उठ गयी और उसने शोर मचा दिया तो वे गए काम से समझो — लेकिन अभी-अभी अपनी बड़ी बेटी से अश्लील बातें कर के हटे जयसिंह अब अपनी छोटी बेटी को देख कर मचल उठे थे. उन्होंने ज़रा ग़ौर से कनिका के शरीर का जायज़ा लिया. उसका बदन भी भरने लगा था, जाँघों में कसावट आ गयी थी व वक्ष भी उभर आया था — हालाँकि मनिका के सामने अभी वह बच्ची ही थी, लेकिन एक दो साल में उसका जिस्म भी सावन की बहार सा खिल उठने वाला था. वे अपने-आप को रोक न सके.

जयसिंह बेड पर बैठ गए और धीरे-धीरे कनिका की टाँग पर हाथ फेरने लगे. उनका दूसरा हाथ पजामे के अंदर था. कुछ देर बाद उनका उन्माद बढ़ने लगा था. कनिका ने एक ढीला-ढाला नाइट-सूट पहना हुआ था. जयसिंह ने उसके नाइट-सूट का कुर्ता थोड़ा ऊपर उठाया, कनिका का कच्ची कली सरीखा गोरा बदन हल्का-हल्का नज़र आने लगा था. उन्होंने कुछ देर अपनी छोटी बेटी के उघड़े हुए पेट पर हाथ रखे रखा, उस नाज़ुक बदन में एक अजब सी गरमी थी.

‘उन्ह्ह्ह्ह…’ जयसिंह ने एक आह भरी, और फिर अपना हाथ कनिका के पजामे के इलास्टिक में फँसा कर नीचे खींचने लगे. उनकी खींचतान का असर यह हुआ कि कनिका ने करवट बदली और पेट के बल हो कर सोने लगी. जयसिंह सिर्फ़ कुछ ही पल अपने दुस्साहस को रोक सके, इस बार उन्होंने पीछे से कनिका का पजामा नीचे करना शुरू किया. क्यूँकि कनिका ने उलटे होकर एक ओर करवट ले रखी थी, सो उसकी गाँड पर से पजामा उतारना जयसिंह के लिए आसान हो गया था. जयसिंह ने कुछ ही पल में पजामा खींच कर अपनी छोटी बेटी के नितम्बों के नीचे ला दिया था. कनिका ने एक नींबू से रंग की चड्डी पहनी हुई थी — ‘अभी पैंटी पहनना शुरू नहीं किया इसने हम्म…’ जयसिंह ने मन में सोचा, लेकिन एक बात उन्हें भी अचंभित कर गयी थी, कनिका की गाँड जितना उन्होंने सोचा था उस से कहीं ज़्यादा गदराई हुई थी. दरसल कनिका मनिका की तरह छोटे कपड़े नहीं पहना करती थी (इस बात का ध्यान मधु ने भी रखा था कि बड़ी वाली की तरह छोटी वाली भी ना बिगड़ जाए), सो जयसिंह को भी अन्दाज़ा नहीं था कि कनिका इतनी जल्दी बड़ी हो रही है और दूसरा कुछ मधु का जिस्म भी हमेशा से भरा-भरा ही रहा था और वही उनकी दोनों बेटियों को विरासत में मिला था.

जयसिंह ने हाथ बढ़ाया और कनिका की चड्डी भी खींच कर नीचे कर दी.

‘हम्म्प्फ़…’ कनिका की गाँड का दूधिया रंग जयसिंह के होश उड़ा गया था. उनका दूसरा हाथ एक झटके से उनके लंड को फिर से पजामे से बाहर ले आया था. तभी कुछ देर से बेड पर रखे मोबाइल की लाइट स्क्रीन टाइम-आउट होने से बुझ गयी. जयसिंह ने हड़बड़ा कर फिर से फ़ोन की लाइट जलाई, कनिका वैसे ही सो रही थी, वे उठ कर बेड पर घुटनों के बल हो गए और कनिका की गाँड के पास अपना लंड ले जा कर हाथ से उसे पम्प मारने लगे. कुछ दस एक बार लंड हिलाने के बाद उनके शरीर ने जवाब दे दिया और मनिका को अधनंगा देख किया उनका प्रण, कनिका को नंगी देख टूट गया.

जयसिंह के टट्टों ने उनके वीर्य स्ख्ल्न के पीछे अपनी पूरी ताक़त झोंक दी थी. उनका लंड एक बार फड़फड़ाया था और उसके बाद एक के बाद एक उनके मुठ की लम्बी रेशमी धार कनिका की गाँड पर गिरती चली गयी. बड़ी मुश्किल से उन्होंने अपने मुँह को बंद रखा था. कनिका की गाँड उसके बाप के वीर्य से पूरी तरह सन चुकी थी. पर वह बेख़बर सोती रही – अपनी बड़ी बहन की तरह उसे भी एहसास नहीं था कि अब उसके जिस्म पर एक मर्द की नज़र पड़ चुकी थी, और वो कोई और नहीं उसके अपने पिता थे.

जयसिंह पसीने से भीगे हुए, पीछे हट कर बेड से नीचे उतरे और बिना कनिका के कपड़े ठीक किए ही अपना मोबाइल उठा कर कमरे से निकल गए. अपने कमरे में जा कर लेटते ही उन्हें नींद आ गयी थी.

loading...

Leave a Reply