एक खूबसूरत लड़की के साथ सड़क पर भिखारी की हवस part 3

भूरे की नज़रें उसकी गीली टी शर्ट पर चमक रहे हीरे जैसे निप्पल्स पर थी..उसका मन तो कर रहा था की अपने हाथों मे लेकर उसके उरोजों को मसल डाले..उनपर लगे हुए निप्पल्स को अपने दाँतों के बीच लेकर चूस ले..पर अपने उपर कंट्रोल करते हुए उसने काँपते हुए हाथों से नेहा के हाथ मे साबुन दिया..

नेहा की नज़रें उसके खड़े हुए कुतुब मीनार से चिपकी हुई थी..उसके कठोर लंड को देखकर उसके दिल मे अजीब सी बेचैनी हो रही थी..

अपने लंड को ऐसे घूरते देखकर भूरे ने नेहा से कहा : “क्या देख रही हो भाभी जी ..”

नेहा : “देख रही हू, तुम कुछ ज़्यादा ही बेशर्म होकर नहा रहे हो मेरे सामने…उस दिन तो ऐसे नही नहा रहे थे..”

भूरे : “भाभी जी, नहाने का मज़ा तो कपड़े उतारकर ही आता है…और उस दिन काफ़ी भीड़ थी ना इसलिए ऐसे नही नहा सके, पर आज देखिए, हमने ये नहाने की जगह आपके लिए पूरी तरह से खाली करवा दी है ..”

उसने मुँह से अचानक अपनी बड़ाई करते हुए सच निकल गया.

नेहा : “अच्छा …तो यहाँ नहा रहे लोगो को आपने भगा दिया है…तभी मैने सोचा की इतना सन्नाटा तो नही होना चाहिए यहाँ …”

भूरे (हंसते हुए) : “अरे भाभी ….आपके लिए तो हम पूरा शहर खाली करवा दे …ये नदी क्या चीज़ है ..”

उसने दिल फेंक अंदाज मे नेहा से कहा, जिसे सुनकर वो भी हँसने लगी…और हंसते हुए अचानक उसके हाथ साबुन लगाते-2 उसके लंड पर पहुँच गये ..

भूरे ने तो सोचा भी नही था की वो ऐसे खुलकर उसके लंड को पकड़ लेगी..

पर नेहा अपनी ही धुन मे, उसके लंड को किसी खिलोने की तरहा हाथ मे लेकर मसल रही थी ..उसकी लंबाई को नाप रही थी …उसपर साबुन लगाकर उसे सॉफ कर रही थी ..उसके भरे हुए टिन्डे जैसी बॉल्स का वजन तोल रही थी .

भूरे ने अपनी आँखे बंद कर ली …और अपनी लंड रगड़ाई का मज़ा लेना लगा..

नेहा ने पहली बार किसी का लंड पकड़ा था..और भूरे के चेहरे पर आ रहे भाव को देखकर उसे पता चल गया की उसे भी मज़ा आ रहा है .. वो अंजान सी बनकर उसके लंड को मसलती रही ..

अचानक भूरे ने अपने हाथ उठाकर उसके मुम्मों पर रख दिए …एक पल के लिए तो नेहा भी घबरा गयी ..पर वो कुछ ना बोली, उसे तो ऐसे संबंधों के बारे मे कोई जानकारी तक नही थी..अगर थी भी तो वो भूल चुकी थी ..उसने तो कल अस्तबल मे गंगू को रज्जो के बदन को मसल – मसलकर मज़े लेते हुए देखा था, और जिस तरह से गंगू उसके मुम्मे चूस रहा था, और रज्जो मज़े मे दोहरी होकर चिल्ला रही थी, वो बात उसकी आँखों के सामने एकदम से उतर आई …

और उसने उसी बात को याद करते-2 भूरे के सिर को पकड़ा और अपने मुम्मे की तरफ खींचने लगी..

भूरे सिंग को तो विश्वास ही नही हुआ की नेहा उसे अपनी छाती चूसने के लिए कह रही है …वो तो पहले से ही उसके हाथों लंड की मालिश करवाकर सांतवे आसमान पर था, और अब नेहा उसके चेहरे को पकड़कर अपनी छातियों की तरफ खींच रही थी ..उसने भी बिना किसी विरोध के अपना मुँह आगे किया और अपनी लपलपाटी हुई सी जीभ उसके मुम्मे पर रख दी ..और टी शर्ट के उपर से ही उसके निप्पल को मुँह मे लेकर चूसने लगा..

नेहा का एक हाथ उसके लंड पर चल रहा था ..और उसका दूसरा हाथ भूरे के सिर को अपनी छातियों पर दबाकर उसे किसी शिशु की तरह अपना स्तनपान करा रहा था..

भुएर ने धीरे-2 उसकी टी शर्ट को उपर खिसकाना शुरू कर दिया…वो थोड़ा सा कसमसाई , पर उसके अंदर की आग ने उसे किसी भी तरह का विरोध करने से रोक दिया…और भूरे ने अपने हाथ की सफाई दिखाते हुए उसके सफेद कलश अपनी आँखों के सामने नंगे कर दिए..

उपर से पड़ रही सूरज की रोशनी मे नहाकर उसके मोटे और सफेद मुम्मे सोने की तरह चमक रहे थे…और उनपर लगे हुए निप्पल्स किसी हीरे की तरह…और निप्पल्स के चारों तरफ महीन-2 से दाने पूरी तरह से निकलकर बाहर आ चुके थे…

भूरे को अपनी किस्मत पर विश्वास ही नही हो रहा था की नेहा इतनी आसानी से उसके चुंगल मे फँस जाएगी…और अपने शरीर से खेलने देगी..

उसने बिना कोई देरी करते हुए अपने मुँह आगे किया और उसके निप्पल को मुँह मे लेकर ज़ोर से काट लिया ..

”अहह …….. उफफफफफफफ्फ़ …. दर्द होता है …….. ”

नेहा ने शिकायत की ….पर उसे रोका नही…बल्कि उसके सिर को पकड़कर दूसरी तश्तरी मे रखे , बाँये मुम्मे की तरफ कर दिया और उसके उपर लाकर उसके मुँह को फिट किया और ज़ोर से दबा लिया अपनी छातियों पर …

और एक बार फिर से उसकी चीख गूँज उठी ..

”अहह …… उम्म्म्मममममममम …… हाआअन्न्न्न्न्न ……. ऐसे ……. ही. ……….. शाबाश ………………. …..”

अब नेहा भी रंगने लगी थी उसके रंग मे …

भूरे ने उसकी टी शर्ट को घुमा कर उसके सिर से निकाल फेंका और अब वो टॉपलेस होकर अपने गोरे-2 मुममे खुले मे उससे चुसवा रही थी ..

भूरे : “अहह ….. भाभी ……………… …कितने मस्त है आपके मुम्मे …… ऐसा लगता है की गंगू ने आज तक इन्हे हाथ भी नही लगाया ….”

नेहा : “हाँ , सही कहते हो ….उसने आज तक हाथ नही लगाया …”

भूरे एक पल के लिए रुक सा गया, उसे तो विश्वास ही नही हुआ की नेहा जैसी बीबी को गंगू ने आज तक हाथ भी नही लगाया …. पर उसे क्या पता था की असल मे किस्सा क्या है …

भूरे ने समझा की सच मे गंगू के बस का कुछ नही है …लगता है एक टाँग के साथ-2 उसका लंड भी खराब है …इसलिए अपनी गर्म बीबी की आग को वो ठंडा नही कर पाता है ..

उसने सोचा, मुझे क्या करना इनके घरेलू मुद्दों से, उसके तो मज़े हैं,ऐसी औरतें ही, जिनके मर्द किसी काम के नही होते हैं, बाहर निकलकर मुँह मारती हैं और उसके जैसे हरामियों के हाथों अपनी चूत की आग को ठंडा करती है ..

उसने उसके मुम्मे चूसने जारी रखे ..और उसके हाथ फिसलकर उसके कुल्हों पर आ गये …और उन्हे उसने अपनी तरफ ज़ोर से दबा लिया..और ऐसा करते ही नेहा की धधक रही चूत उसके खड़े हुए लंड से आ टकराई ….

उसने एक पल मे ही उसके पायजामे को भी नीचे खिसका दिया और उसकी चूत को देखते ही उसके अंदर का जानवर जाग उठा …

और उसने अपने लंड को उसकी चिकनी चूत पर रगड़ना शुरू कर दिया ….अपनी चूत पर मिल रही गर्म डंडे की रगड़ाई से नेहा की रही सही शरम भी जाती रही…अब उसको किसी भी हालत मे उसका लंड अपनी चूत के अंदर चाहिए था ..

उसकी आँखें के सामने फिर से कल रात का वाक़या आने लगा, जिसमे गंगू ने रज्जो की घोड़ी बनाकर चुदाई की थी..और रज्जो ने चीख चीखकर पूरे अस्तबल को सिर पर उठा लिया था …वो समझ गयी थी की वही असली मज़ा देने वाली क्रिया है …उसके खड़े हुए लंड को अपनी चूत मे डालना होगा…

भूरे ने पलक झपकते ही उसके पायजामे को उतार फेंका और उसे नंगा कर दिया … ठंडे पानी के अंदर दोनो नंगे थे अब …भूरे ने उसका हाथ पकड़ा और उसे चट्टानों की तरफ ले जाने लगा ..उसी जगह जहाँ पर गंगू ने रज्जो की चुदाई की थी, वहाँ एक सपाट सा पत्थर था, जिसपर लेटकर वो उसकी चुदाई करने वाला था..

भूरे ने नेहा को उसी पत्थर पर लेजाकर लिटा दिया….और उसकी टांगे खोलकर उसकी चूत को निहारा …वो किसी कच्ची कली की तरह थी, ऐसा लगता था की उसके अंदर आज तक कुछ गया ही नही है …भूरे समझ गया की गंगू ने उसकी चूत का उदघाटन अभी तक नही किया है….इसलिए तो नेहा इतनी आसानी से उसकी हर बात को मानकर चुदाई के इस मुकाम तक पहुँच चुकी है ..

उसने अपने लंड पर ढेर सारी थूक लगाकर उसे चिकना किया और झुककर जैसे ही उसके अंदर अपना लंड डालने लगा..उसके एक चेले की घबराई हुई सी आवाज़ आई..

”भाई …… भाई …कहाँ हो आप ….जल्दी आओ …”

भूरे की तो झांटे सुलग उठी…उसने मना भी किया था की उस तरफ कोई भी नही आएगा…फिर एन मौके पर ये कल्लन उसको क्यो आवाज़ें दे रहा है ..

वो झल्लाता हुआ सा चट्टान की औट से बाहर निकला , और बोला : “मादरचोद ….तुझे मना किया था ना की यहाँ कोई नही आएगा, तो फिर क्यो आ गया अपनी मा चुदवाने …”

कल्लन : “भाई ….सॉरी …भाई …वो …दरअसल ….नेहाल भाई का फोन आया है …”

नेहाल का नाम सुनते ही उसका दिमाग़ सुन्न सा हो गया …नेहाल भाई उसके बॉस का भी बॉस था …यानी पूरे शहर का दादा ….उसका ही काम था जिसके लिए उसने गंगू को आज पेकेट लाने के लिए भेजा था ..

वो नंगा ही उछलता हुआ सा बाहर निकल आया और कल्लन के हाथ से फोन लेकर घबराई हुई सी आवाज़ मे बोला : “सलाम नेहाल भाई …कहिए, कैसे याद किया मुझे …”

दूसरी तरफ से नेहाल की गुस्से से भरी आवाज़ आई : “साले …किसे भेजा है तूने आज अपना माल उठवाने के लिए …”

भूरे की तो सिट्टी पिटी गुम हो गयी, वो हकलाते हुए बोला : “एक नया बंदा है भाई …क्यों क्या हुआ …”

नेहाल : “अभी के अभी उसको वापिस बुला ले…पुलिस को किसी ने इनफॉर्म कर दिया है ..जहाँ से माल लेना है,उस जगह पर पूरी फील्डिंग है पुलिस की …अगर पकड़ा गया तो पूरे एक करोड़ के पाउडर का नुकसान होगा ”

उसकी बात सुनकर भूरे भी घबरा गया…पर वो आगे क्या बोलता, गंगू के पास तो कोई फोन भी नही था ..

उसे चुप देखकर नेहाल फिर से दहाड़ा : “अब बोल ना साले , तेरी ज़ुबान पर ताला क्यो लग गया है …”

भूरे : “भाई …वो दरअसल ….उसके पास कोई फोन नही है ..”

ये सुनते ही नेहाल ने उसको एक से बढ़कर एक गंदी गालियों से नहला दिया और उसे उसी वक़्त गंगू के पीछे जाने को कहा, ताकि उसे दूर ही रोककर इस मुसीबत से बचा जा सके ..

उसकी बात सुनते ही उसने कल्लन को गाड़ी निकालने के लिए कहा …और अपने कपड़े पहन कर वो अपने साथियों के साथ चल दिया.

और दूसरी तरफ बेचारी नेहा चट्टान की औट मे नंगी लेती हुई उसके वापिस आने की प्रतीक्षा कर रही थी …और उसे एकदम से अपने कपड़े पहन कर जाता हुआ देखकर उसे भी कुछ समझ मे नही आया…उनके जाने के बाद उसने भी बेमन से अपने कपड़े पहने और वापिस अपने घर की तरफ चल दी ..

दूसरी तरफ गंगू को भी पता नही था की आज उसके साथ क्या होने वाला है ..

वो तो अपनी ही धुन मे, अपनी जेब मे पड़े पैसों की गर्मी को महसूस करता हुआ, गुनगुनाता हुआ , अपनी मंज़िल की तरफ तेज़ी से बड़ा जा रहा था.
दूसरी तरफ, जहाँ से गंगू को वो पेकेट लेना था, उस जगह को चारों तरफ से पुलिस ने घैर रखा था…सारे पुलिस वाले सादी वर्दी मे थे … उनके इनफॉर्मर ने बताया था की उसी बिल्डिंग से पेकेट लेने के लिए कोई आएगा…

ये एक 15 मंज़िला बिल्डिंग थी … जिसमे शहर के काफ़ी रईस लोग रहते थे … अंदर जाने की किसी भी पुलिस वाले मे हिम्मत नही थी, इसलिए उन्होने बिल्डिंग के गेट के बाहर ही अपनी चोकसी लगा रखी थी ..

पुलिस वाले अब किसी ऐसे संधीगध व्यक्ति की तलाश कर रहे थे जो ऐसी तस्करी का काम कर सकता हो…यानी गुंडे टाइप का ..

गंगू आज ऑटो मे वहाँ गया था और थोड़ी दूर पर ही उतर गया ताकि कोई उसे देखकर ये ना कहे की भिखारी क्यो ऑटो मे आ रहा है ..और किसी को शक ना हो जाए उसपर ..

गंगू तो भिखारी था… वो अपनी एक टाँग से लंगड़ाता हुआ सा बिल्डिंग के अन्दर दाखिल हो गया…और किसी भी पुलिस वाले को उसपर शक भी नही हुआ..वो तो सपने मे भी सोच नही सकते थे की एक भिखारी इतना कीमती पेकेट लेने के लिए आएगा..

गंगू सीधा लिफ्ट के पास पहुँचा…और जैसे ही अंदर जाने लगा, उसको वहाँ बैठे चोकीदार ने रोका : “ओये …. तू कहाँ घुसा चला जा रहा है …चल निकल यहाँ से …तुझे अंदर किसने आने दिया ..साले भिखारी …”

गंगू ने अपनी जेब से एक विज़िटिंग कार्ड निकाला और उसके सामने लहरा दिया…चोकीदार भी उस कार्ड को देखकर एकदम से सहम गया…उसने बिना कुछ बोले गंगू को लिफ्ट से उपर जाने दिया..

दरअसल वो विज़िटिंग कार्ड भूरे सिंह ने ही दिया था ,वो कार्ड उसी बिल्डिंग मे रहने वाले इकबाल का था, जिसका अफ़ग़ानिस्तान मे काफ़ी बड़ा बिज़्नेस था..और उसी बिज़्नेस की आड़ मे वो नेहाल के लिए ड्रग्स की तस्करी करता था…

भूरे ने वो कार्ड देते हुए कहा था की बिल्डिंग मे कोई भी रोके तो ये कार्ड दिखा देना, और इक़बाल के घर पहुँच कर भी ये कार्ड दिखना, तुम्हे पेकेट मिल जाएगा…

लिफ्ट मे बैठे अटेंडर को गंगू ने वो कार्ड दिखाया और अटेंडर ने उसे टॉप फ्लोर मे बने पेंट हाउस के बाहर उतार दिया..

उस फ्लोर पर सिर्फ़ वही एक फ्लॅट था…पुर 7 कमरो वाला आलीशान फ्लॅट…साथ मे स्वीमिंग पूल भी था.

गंगू ने फ्लॅट की बेल बजाई तो एक नौकरानी जैसी दिखने वाली लड़की निकल कर आई..गंगू ने उसको वही कार्ड दिखा दिया, वो उसको अंदर लेकर आ गयी और उसे वही खड़े रहने के लिए कहा..

थोड़ी ही देर मे वहाँ एक खूबसूरत सी औरत आई…उसकी उम्र करीब 30 के आस पास थी ..उसने एक ग्रीन कलर का ब्लाउस और स्कर्ट पहनी हुई थी ..और उस ब्लाउस मे से उसके शानदार और मोटे-2 मुम्मे बाहर निकलने को तैयार थे ..उसके कपड़े देखकर लगता था की वो किसी पार्टी मे जा रही है ..

गंगू तो उसकी सुंदरता देखता ही रह गया…बेशक देखने मे वो थोड़ी साँवली थी..पर उसके नैन नक्श काफ़ी तेज थे….उसकी कमर के पास और पेट पर बड़े-2 टैटू बने हुए थे ..वो किसी फिल्मी हेरोयिन जैसी लग रही थी ..और उसका चेहरा भी देखा हुआ सा लग रहा था गंगू को..

उस औरत ने गंगू को उपर से नीचे तक देखा और मुस्कुरा दी… फिर वो चलकर उसके पास आई और उसके हाथ से वो विज़िटिंग कार्ड ले लिया.

“मेरा नाम मुम्मैथ ख़ान है …लोग प्यार से मुझे मुन्नू कहते हैं ..तुम्हारा नाम क्या है ..” वो लड़की ने अपनी सुरीली आवाज़ मे कहा..

गंगू : “जी …मेरा नाम गंगू है …”

मुन्नू : “अच्छा मेकअप किया है तुमने …पुलिस वालो को चकमा देने के लिए….”

गंगू समझ गया की वो उसको कोई पेशेवर तस्कर समझ रही है जो भेष बदल कर डिलीवरी लेने के लिए आया है … उसने भी मुस्कुरा कर उसकी हाँ मे हाँ मिला दी..

भला उसको क्या ज़रूरत थी उस जैसी हसीन लड़की को ये बताने की , की वो एक पेशेवर तस्कर नही बल्कि पेशेवर भिखारी है ..

गंगू ने अपनी बड़ाई करने के लिए कहा : “वो तो मुझे बचपन से ही एक्टिंग का और तरह-2 के किरदार निभाने का शोंक है, इसलिए मैने सोचा की आज भिखारी बनकर चला जाए..”

मुन्नू : “अच्छा ….मतलब तुम्हे भी एक्टिंग का शोंक है …वाव …हमारी तो खूब पटेगी फिर …”

गंगू उसकी बात सुनकर थोड़ा असमंजस मे पड़ गया ..

मुन्नू : “लगता है तुमने मुझे पहचाना नही ….इधर आओ मेरे साथ …”

और वो गंगू का हाथ पकड़कर अपने साथ अंदर ले गयी …जहाँ एक बड़े से कमरे की हर दीवार पर उसकी पिक्चर्स लगी थी…कई फिल्मों के पोस्टर भी थे ..ज़्यादातर तमिल और तेलगु भाषा की मूवीस थी …कुछ हिन्दी मूवीस भी थी ..और उन फ़िल्मो के पोस्टर मे उसे देखकर उसे याद आ गया की ये तो फ़िल्मो मे काम करती है…उसने एक – दो पीकचर्स देखी भी थी उसकी …ज़्यादातर पिक्चर्स मे उसने आइटम सॉंग ही किये थे…उसने जब एक मूवी मुन्ना भाई का पोस्टर देखा तो उसे भी याद आ गया की ये वही लड़की है जिसने हॉस्पिटल मे रात के समय गाना गया था..

उसे एकदम से याद आ गया की उसके सेक्सी गाने ”देख ले ..” को देखकर आगे की लाइन मे बैठकर उसने कितनी सीटियाँ मारी थी …वो सोच रहा था की काश उस लड़के जिम्मी शेरगिल की जगह अगर वो होता तो कितना मज़ा आता…

और रात मे उसके भरे हुए शरीर के बारे मे सोचकर उसने कितनी बुरी तरह से चोदा था एक घस्ती को…

गंगू को ऐसे खोए हुए देखकर मुम्मैथ बोली : “कहाँ खो गये गंगू … हेलो ….”

गंगू जैसे नींद से जगा : “वो दरअसल …मैने पहले आपको पहचाना नही था … मैने आपकी काई पिक्चर्स देखी है …आप तो बड़ी सेक्सी …. लगती है उनमे …”

मुन्नू : “उनमे क्या मतलब …सामने देखने मे नही लग रही …”

गंगू उसकी बात सुनकर एकदम से सकपका गया : “जी नही ..मेरा मतलब …आप अभी भी … सेक्सी लग रे हो …”

वो गँवार सा बेचारा, ये भी नही जानता था की वो उससे मज़े ले रही है ..

वो हंसने लगी उसकी घबराहट देखकर , गंगू थोड़ा सहज हुआ

गंगू : “पर आप…यहाँ कैसे …”

मुन्नू : “मैं यहीं रहती हू …इक़बाल के साथ …उन्होने ही ये पेंट हाउस मुझे लेकर दिया है ..वो अक्सर बाहर ही रहते हैं …जब भी इंडिया आते हैं तो मेरे साथ ही रहते हैं ….”

गंगू समझ गया की अपने पैसों के ज़ोर पर उसने उस एक्टर को अपनी रखैल बना कर रखा हुआ है ..

मुन्नू : “तुम्हारा पेकेट तो मैं दे ही दूँगी तुम्हे ….अगर तुम्हे जल्दी नही है तो थोड़ी देर यही रुक जाओ …काफ़ी दिनों के बाद कोई अपनी बिरादरी का बंदा मिला है …”

गंगू (हैरान होते हुए) : “अपनी बिरादरी का …मतलब ?”

मुन्नू : “मतलब, एक्टिंग लाइन का …अभी तो तुमने बताया …”

गंगू : “ओहो …हाँ …पर अब कहाँ एक्टिंग ….अब तो बस अपने काम मे ही लगे रहना पड़ता है …”

मुननू : “मैं समझ सकती हू ….चलो ना ..अंदर आओ …”

वो उसके हाथ को पकड़कर अंदर ले आई…बड़ा ही अपनापन दिखा रही थी वो …जैसे कोई बचपन का साथी मिल गया हो ..

वैसे वो भी अपनी जगह सही थी … उसने अपने फिल्मी करियर मे ना जाने कितने हीरोस के साथ मज़े लिए थे ..और ना जाने कितने डाइरेक्टर्स और प्रोड्यूसर्स को खुश किया था …वो चमक धमक की दुनिया अलग ही थी ..और जब से वो इक़बाल की रखैल बनकर यहा रहने लगी थी..वो सब उसे बहुत याद आता था …इक़बाल के बारे मे हर कोई जानता था…इसलिए उसकी रखैल के उपर हाथ रखने की हिम्मत किसी की भी नही थी…इसलिए वो बेचारी अपनी सुलग रही जवानी के साथ इतने बड़े घर मे अकेली रहकर अपनी बोर सी लाइफ जी रही थी ..

गंगू था तो भिखारी पर एक नंबर का हरामी भी था …औरतों को देखते ही उसकी लार टपकने लगती थी ..पिछले कुछ दिनों से जिस तरह से नेहा ने उसे अपनी जवानी दिखाकर तड़पाया था, उसकी हवस और भी भड़क चुकी थी ..सिर्फ़ रज्जो की चुदाई करके उसका पेट भरता नही था…और अब ऐसी गर्म माल और वो भी फ़िल्मो मे काम करने वाली का इतना अपनापन देखकर उसके अंदर का हरामी इंसान फिर से जाग उठा …

वैसे और कोई अपराधी होता तो ऐसा कुछ सोचता भी नही…एक तो वहाँ रुककर पुलिस से पकड़े जाने का ख़तरा..और उपर से इक़बाल की रखैल के साथ ऐसा कुछ करने की कोई सोच भी नही सकता था…सभी को पता था की उसपर उठने वाली हर नज़र को इक़बाल फोड़ देता है ..

पर गंगू तो नया था और उसे इक़बाल के बारे मे कुछ पता भी नही था, इसलिए वो बिना किसी सोच विचार के, सिर्फ़ अपने लंड की बात सुनकर, मज़े लेने के मूड मे आ चुका था.

मुम्मैथ को भी ये पहला इंसान मिला था जो बिना किसी डर के उसके साथ बाते भी कर रहा था और थोड़ी देर रुकने के लिए भी तैयार हो गया था..वरना इक़बाल के दिए पेकेट लेने के लिए जो भी आता था, डरा हुआ सा, सहमा हुआ सा, और खड़े -2 निकल जाता था ..कोई बात भी नही करता था वो ..

मुम्मैथ भी जानती थी की इक़बाल का असली काम क्या है, पर जब तक उसको ऐशो आराम और बेशुमार पैसे मिल रहे हैं, उसे भला क्या प्राब्लम हो सकती थी..इसलिए वो भी उस धंधे मे उसका साथ देने लगी थी..

गंगू को देखकर उसके अंदर भी खुजली सी होने लगी थी …उसका हुलिया तो बड़ा ही गंदा सा था, पर उसके गठीले शरीर को वो भाँप चुकी थी …और उसकी पेंट मे क़ैद लंड की लंबाई का भी अंदाज़ा हो चुका था उसको.. पिछले 15 दिन से नही चुदी थी वो ..और अब एक भिखारी जैसे दिखने वाले आदमी को देखकर उसके अंदर कुछ-2 होने लगा था..उसने मन ही मन सोच लिया की कुछ भी हो जाए, आज वो उसका लंड लेकर ही रहेगी..

उसको अंदर बिठा कर वो बाहर आई और अपनी नौकरानी को घर जाने के लिए कह दिया..ताकि वो खुलकर गंगू के साथ मज़े ले सके.

मुम्मैथ ने अपने आप को आईने मे देखा…वो बड़ी ही सेक्सी लग रही थी..उसका शोंक था घर पर भी सज संवर कर बैठना, तभी तो उसने पार्टी मे जाने वाले कपड़े पहन रखे थे…और वो भी इतने सेक्सी की उसके अंदर से उसके मुम्मे आधे से ज़्यादा बाहर दिखाई दे रहा थे ..उसने अपने मुम्मों को थोड़ा और बाहर की तरफ निकाला, इतना की उसका हल्का सा ब्राऊन भाग दिखाई देने लगा.

वो अपने आप को देखकर सोच रही थी की उसने आज तक एक से बढ़कर एक सुंदर हीरो का लंड लिया है…और अमीर से अमीर इंसान से अपनी चूत मरवाई है …ये पहला मौका है जो वो इतने निचले तबके के आदमी के साथ मज़े लेने की सोच रही है …जो दिखने मे भिखारी जैसा लग रहा है …फटे हुए से कपड़े..बड़ी हुई दादी ..पैर से लंगड़ा ..शरीर से दुर्गंध भी आ रही थी उसके ..

पर ऐसा करना हमेशा से उसकी फेंटसी रहा था… उसने कई बार सोचा था की इस तरह के आदमी के साथ भी सेक्स का मज़ा लेना चाहिए …क्योंकि उसने सुना हुआ था की ऐसे मर्दों के पास चुदाई के लिए तगड़े लंड होते हैं…और उस जैसी रंडी के लिए ऐसे लंड से चुदाई करवाना तो बहुत बड़ी बात थी ..

वो फ्रिज से कोल्ड ड्रिंक लेकर अंदर आ गयी..उसे देखकर गंगू अपनी जगह से उठ गया और उसके खुले गले की तरफ देखकर चोंक सा गया…उसे अच्छी तरह से याद था की पहले उसका गला इतना नीचे तक नही था…क्योंकि वो जब से आया था उसकी नज़रें उसके क्लिवेज से हट ही नही रही थी ..और अब तो उसके क्लिवेज के साथ-2 उसके निप्पल का एरोहोल भी दिख रहा था उसे …वो समझ गया की वो भी अपनी चुदाई करवाने के लिए तैयार है ..

उसे अपनी तरफ यूँ मुस्कुराता हुआ देखकर मुम्मैथ बोली : “क्या देख रहे हो गंगू ..”

गंगू ने कोल्ड ड्रिंक का सिप भरा और बोला : “कुछ नही …बस आपकी मूवी का एक सीन याद आ गया …”

“कौनसा …” वो बोली

गंगू : “मेरी फ़ेवरेट मूवी थी एक …मुन्ना भाई ..उसमे जो गाना था …वैसी ही सेक्सी लग रही हो तुम इस वक़्त ..”

गंगू कहना तो ये चाहता था की उसके मुम्मे उसी तरह से लटक कर बाहर दिख रहे हैं, जैसा उस गाने मे वो दिखा रही थी, पर वो ऐसा खुलकर बोल नही पाया ..

उसकी बात सुनकर वो खिलखिलाकर हंस पड़ी…और बोली : “ऐसे इधर उधर घुमा कर क्यो बोल रहे हो…सीधा-2 बोलो …क्या कहना चाहते हो ..”

“क्या तुम वही गाने पर मेरे लिए डाँस कर सकती हो …” गंगू ने एक ही साँस मे बोल दिया..

और वो जानता था की वो मना भी नही करेगी..

मुन्नू : “कर तो दूँगी..पर इस बात का किसी को पता नही चलना चाहिए…वरना तुम्हारा तो जो होना है वो होगा , मेरी भी छुट्टी हो जाएगी यहाँ से …समझे ”

उसने हंसते हुए हाँ मे सिर हिला दिया..

इसी बीच, नीचे भूरे अपने साथियों के साथ नीचे पहुँच गया, उसने अपनी कार थोड़ी दूर ही खड़ी कर ली..उसने देख लिया की सादे कपड़ों मे पुलिस वाले खड़े हैं वहाँ …वो वहीं खड़ा होकर गंगू का इंतजार करने लगा..

वो सोच रहा था की गंगू पैदल ही चलकर आ रहा होगा वहाँ…जैसा वो अक्सर करता है..पर उसने ये नही सोचा था की वो तो कब का आ चुका है ऑटो पर ..

और उपर फ्लॅट मे पहुँच कर मुम्मैथ के साथ किस तरह के मज़े ले रहा है ये तो वो सोच भी नही सकता था ..

मुम्मेथ गंगू को अपने साथ लेकर अपने बेडरूम मे आ गयी…बड़ा ही आलीशान बेडरूम था उसका, सफेद रंग के पलंग के चारों तरफ कीमती कार्पेट बिछा था, दीवारों पर हल्का नीला रंग था और हर जगह मुम्मेथ की पिक्चर्स लगी थी..उसने एक बटन दबाया जिससे सारे कमरे की रोशनी धीमी सी हो गयी..

गंगू का हाथ पकड़कर उसने पलंग पर बिठा दिया..

और फिर उसने सी डी प्लेयर पर वही गाना चला दिया..”देख ले…आँखो मे आँखे डाल..”

और उसी गाने की धुन पर धीरे-2 उसकी कमर मटकने लगी..

हर झटके से उसके मोटे मुम्मे बिखर से जाते और फिर से सिमट कर वापिस आ जाते..

गंगू ने मन ही मन सोचा की उसके मुम्मे इतने मोटे है तभी शायद इसका नाम मुम्मेथ है..

उसके पेट पर बने हुए टेटु को देखकर उसे एक अजीब सी उत्तेजना हो रही थी..उसका मन कर रहा था की अपनी खुरदुरी जीभ से उसका वो हिस्सा चाट जाए..इतना चाटे की उसका टेटु मिट जाए..

मुम्मेथ के चेहरे पर एक अजीब तरह का लालच दिख रहा था…आज उसके पास बिन माँगे एक मर्द जो आ गया था..इसलिए वो हर कीमत पर,अपने हर जलवे दिखाकर, उसे पाना चाहती थी.

मुम्मेथ अपने मोटे-2 मुममे हिला कर उसके इर्द गिर्द नाच रही थी..उसने अपनी टांगे उठा-2 कर जब गंगू के चेहरे के पास रखी तो वो उसकी जाँघो की मोटाई और मखमलीपन देखकर हैरान रह गया..उसने तो सोचा भी नही था की औरतें इतनी चिकनी भी हो सकती है…उसने तो आजतक झुग्गी मे रहने वाली या रंडियों की चूत ही मारी थी..जो ढंग से अपने बाल तक साफ़ नही करवाती.

और ना चाहते हुए भी उसके हाथ उसकी जांघों पर आ गये..गंगू का खुरदुरा हाथ अपनी जाँघ पर महसूस करते ही वो सिहर उठी..इतना रफ़ सा था वो..जब चुदाई करेगा तो क्या हाल होगा उसका…ये ख्याल आते ही उसने गंगू के हाथ के उपर अपना हाथ रखा और उसे अपनी जांघों पर घिसने लगी..

गंगू के इतना करीब आने की वजह से उसके शरीर से आ रही दुर्गंध भी उसे महसूस हो रही थी..पर कामोत्तेजना के आवेश मे वो दुर्गंध भी उसे किसी चुंबक की तरह अपनी तरफ खींच रही थी.

गंगू भी अब समझ चुका था की वो चुदने के लिए पूरी तरह तैयार है,क्योंकि वो खुद उसके हाथ को पकड़कर अपनी जांघों पर ऐसे घिस रही थी मानो उसमे से जिन्न निकलवाना हो..

पर जिन्न तो उसकी खुद की टाँगो के बीच खड़ा हो चुका था..उसके आठ इंच के लंड ने अपना विकराल रूप धारण कर लिया था और वो उसकी पेंट को फाड़कर बाहर आने को तैयार था.

मुम्मेथ की जाँघो की रगड़ाई करते-2 गंगू का हाथ उसकी चूत की तरफ खिसकने लगा..और उसे ऐसा महसूस हुआ जैसे वो धीरे-2 किसी आग की भट्टी के पास जा रहा है..उसकी चूत से निकल रही आँच की तपन उसे दूर से ही महसूस हो रही थी.

पर मुम्मेथ पूरे मज़े लेने के मूड मे थी..उसने गंगू का हाथ हटाया और फिर से गाने की धुन पर थिरकने लगी..उसके लटके-झटके देखकर वो उसके डांस का कायल हो गया..उसकी मोटी कमर, चौड़े कूल्हे और भरंवा गांड को देखकर वो बेकरार सा हो उठा…और उपर से उसके मोटे-2 मुम्मे , जो हिलकर अपने वजन का एहसास करवा रहे थे उसको..

गंगू का मन तो कर रहा था की वो उसके चुच्चे पकड़ कर निचोड़ डाले..पर वो भी जानता था की आख़िर मे वो सब तो होना ही है..पहले उसके डांस के मज़े तो ले ले ,बाद मे उसके शरीर के साथ जी भरकर खेलेगा.

नीचे खड़ा हुआ भूरे परेशान हो रहा था…उसके हिसाब से अब तक गंगू को वहाँ पहुँच जाना चाहिए था..पर वो दूर -2 तक नही दिख रहा था..दिखता भी कैसे, वो तो उपर मुम्मेथ के मुम्मे देखकर अपने लंड को रगड़ रहा था..

मुम्मेथ ने जब देखा की गंगू अपने हाथों से अपने लंड को रगड़ रहा है तो वो पलंग पर चड़कर बिल्ली की तरह चलती हुई उसके पास तक आई…उसे धक्का देकर बेड के बीचो-बीच लिटा दिया…और खुद उसकी टाँगो से लेकर उपर तक सूंघने लगी…ऐसी कामुकता का एहसास उसे आज तक नही हुआ था …वो धीरे-2 उसके हर अंग को सूंघति हुई उपर तक आई..और जब उसका चेहरा ठीक उसके सामने आया तो गंगू को वो सीन याद आ गया जब वो गाने मे जिम्मी शेरगिल के उपर अपने शरीर को हवा मे लटका कर उसे अपने जलवे दिखा रही थी..

बस यही वो पल था जब मुम्मेथ ने अपने हाथ पीछे किए और अपने ब्लाउस की डोरी खोल दी…उसका ब्लाउस आगे की तरफ गिरता हुआ नीचे लटक गया…और नीचे उसकी गोल्डन कलर की ब्रा गंगू की आँखों के सामने उजागर हो गयी…इतनी सेक्सी ब्रा तो गंगू ने आज तक नही देखी थी…और उनमे मुम्मेथ के मोटे मुम्मे समां नही पा रहे थे..

अचानक मुम्मेथ ने गंगू का चेहरा पकड़ा और उसे अपने मुम्मों के बीच भींच दिया…गंगू को तो ऐसा लगा की उसका चेहरा किसी नर्म रज़ाई के बीच जा घुसा है…और दूसरी तरफ मुम्मेथ के सीने मे जब उसके चेहरे के बाल चुभे तो वो दर्द से तड़प उठी पर उसने उसके चेहरे को छोड़ा नही..वो उसे अपने मुम्मों पर ज़ोर-2 से रगड़ती रही..

गाना ख़त्म हो चुका था..पर गंगू अब चालू हो चुका था..

उसने मुम्मेथ की ब्रा के हुक खोलकर उसे नीचे फेंक दिया…और अब उसकी आँखो के सामने उसकी नंगी छातियाँ थी…इतने मोटे और बड़े मुम्मे देखकर वो तो निहाल हो उठा और वो भी एक हीरोइन के, उसने तो सोचा भी नही था की एक दिन उसकी किस्मत मे ऐसा दिन भी आएगा जब वो किसी हीरोइन के मुम्मे चूस रहा होगा..

उसने गोर किया की मुम्मेथ ने अपने निप्पल के पास भी एक टेटु बनवा रखा है…उसने मन ही मन सोचा की कितनी बेशरम होती है ये हेरोइने ,कैसे बनवाती होगी ये किसी मर्द से अपने अंदरुनी अंगो पर ऐसे टेटु..पर उसे क्या वो तो मज़े लेने आया था..सो लेने लगा..

उसने उसके मोटे निप्पल को अपने मुँह मे भरा और उसे जोरों से चूसने लगा..

”अहहययययययययययययीीईईईईई……. म्*म्म्ममममाआआअरर्र्र्ररर गयी………..अहहssssssssssssss ….धीई ररएरए ,…….जंगली ………..कुत्ते ………. एsssssssssssssssss …..”

पर गंगू का तो यही तरीका था…वो तो अब बेलगाम हो चुका था..उसने मुम्मेथ को पलंग पर पटका और खुद उसके उपर सवार हो गया…और एक ही झटके मे उसकी स्कर्ट को भी उतार फेंका..उसकी कच्छी को तो उसने फाड़ ही डाला..और फिर जो नज़ारा उसके सामने था वो उसकी जिंदगी का सबसे हसीन पल था.

उसके सामने थी मुम्मेथ ख़ान, पूरी नंगी..अपने भरपूर जवानी मे लिपटी हुई…किसी नागिन की तरह उसका शरीर बिस्तर पर मचल रहा था..

उसके पेट पर बना हुआ टेटु उसकी चूत के दरवाजे तक जा रहा था..और उसकी चूत को छिदवा कर उसने एक सोने की बाली पहनी हुई थी..ये नज़ारा गंगू के लिए नया था, वो तो ये सोचकर ही सिहर उठा की उसने कैसे अपनी चूत छिदवाई होगी और ये सोने की बाली उसमे डलवाई होगी…खेर ,उँचे लोगो की ऊँची पसंद .

गंगू ने अपनी टी शर्ट उतार फेंकी..उसकी छाती के बाल देखकर मुम्मेथ सम्मोहित सी होकर उठी और अपनी नाक वहाँ पर रगड़ने लगी…गंगू ने उसके बालों को पकड़ा और उसके चेहरे को उपर किया और अपने होंठों को उसके होंठों पर रखकर जोरों से रगड़ने लगा…चूसने लगा …उन्हे खाने लगा.

मुम्मेथ को भी उसका जंगली तरीका पसंद आ रहा था, उसकी नशीली जवानी को आजतक सुलझे हुए लोगो ने ही चखा था, आज पहली बार वो अपने शरीर को ऐसे इंसान से नुचवा रही थी जो उसके स्टेटस का भी नही था..

गंगू ने उसके चेहरे को चूसा, उसकी गर्दन को चाटा और उसके मुम्मे चूसता हुआ वो उसकी चूत तक पहुँच गया..और एक ही झटके मे उसने अपना सिर आगे किया और मुम्मेथ ने अपनी चूत ….

दोनो एक दूसरे से ऐसे टकराए जैसे कोई तूफ़ान , मुम्मेथ को तो ऐसा लगा जैसे उसने बरसों से भूखे कुत्ते को खाना दिया गया है ..वो सड़प -2 करते हुए उसकी शहद जैसी मीठी चूत का रस पीने लगा…और साथ ही साथ उसकी चूत मे फंसी सोने की बाली को भी चुभलाने लगा..उसने नोट किया की जब वो उसे चुभलाता तो वो दर्द और मज़े से एक साथ सिहर उठती..शायद इसी लिए उसने वहाँ पाईरेसिंग करवाई थी .

गंगू की लंबी जीभ ने मुम्मेथ की चूत की गहराई बड़ी आसानी से नाप ली…उसके अंदर से निकल रहा रस उसे इतना स्वादिष्ट लग रहा था की वो रुकने का नाम ही नही ले रहा था…और अचानक मुम्मेथ झड़ने के कगार पर आ गयी…उसने गजब की शक्ति और फुर्ती दिखाते हुए गंगू को नीचे पटका और खुद उसके चेहरे पर सवार होकर जोरों से अपनी चूत को उसके चेहरे पर घिसने लगी…वो ऐसे घिस रही थी मानो अपनी चूत का रस निकलवा रही हो उसके मुँह की मशीन से…गंगू के बाल पकड़कर वो बावली कुतिया की तरह अपनी आँखे बंद किए उसके मुँह के अंदर अपनी चूत को ठूसकर जोरों से हीले जा रही थी..

”’अहह ….चााट कुत्तेsssssssssssssssss …… अहहsssssssssssssssss ….भेन चोद ….. अहह …सालेsssssssssssssssssssssssssss …..खा जा आ …मेरी चूत को ……अहहsssssssssssssssssssss ……”

और अगले ही पल उसकी चूत के अंदर से गरमा गरम रसमलाई निकल कर गंगू के चेहरे पर बिखर गयी…गंगू को ऐसा लगा की उसके चेहरे पर किसी ने गिलास भरकर मीठा पानी फेंक दिया है..वो अपनी जीभ से , ज़्यादा से ज़्यादा मलाई को चाटकर अपनी प्यास बुझाने लगा.

झड़ने के बाद मुम्मेथ किसी कटे पेड़ की तरह एक तरफ गिर गयी….उसके शरीर मे जान नही बची थी…पूरा शरीर पसीने से नहा चुका था.

अब गंगू की बारी थी…वो उठा और उसने अपने लंड को उसके चेहरे के सामने लहरा दिया…मुम्मेथ आधी बेहोशी मे थी, जैसे ही उसकी नाक के पास गंगू का लंड आया, एक तेज दुर्गंध से उसकी आँखे खुल गयी..जैसे मिर्गी के मरीज को बदबूदार चप्पल सुंघा दी गयी हो

और आँखे खुलते ही उसकी आँखो के सामने गंगू का नाग लहराता देखकर वो डर सी गयी…चेहरे के इतने पास होने की वजह से वो कुछ ज़्यादा ही बड़ा और भयानक लग रहा था…बालों से भरा हुआ…और उपर से उसमे से आ रही दुर्गंध उससे बर्दाश्त नही हो रही थी..उसे ऐसा लगा की उसको उल्टी आ जाएगी अगर उसने गंगू के लंड को मुँह मे लिया…पर लेना तो था ही..वरना ऐसे मर्द खुश नही होते..और अगर वो खुश नही हुआ तो उसकी चुदाई कैसे करेगा.

वो झट से उठी और भागकर फ्रिज मे से फ्रूट जैम की शीशी निकाल कर ले आई…उसने उसका ढक्कन खोला और उसके अंदर गंगू के लंड को डाल दिया और सारा जैम गंगू के लंड के उपर लग गया…फिर उसने उसे बाहर निकाला और अपनी जीभ निकाल कर धीरे-2 उसके उपर लगा हुआ जैम चाटने लगी…और फिर सब कुछ चाटने के बाद उसने गंगू के लिसडे हुए लंड को अपने मुँह मे भरकर चूसना शुरू कर दिया..अब वो मीठा एहसास दे रहा था.

दूसरी तरह गंगू समझ रहा था की ये भी शायद बड़े लोगो का कोई तरीका होगा…पता नही कैसे-2 कामो मे इन लोगो को मज़े आते हैं..उसे कोई फ़र्क नही पड़ रहा था, उसे तो मज़े आ रहे थे…एक नये अनुभव का एहसास हो रहा था..

मुम्मेथ का मुँह उसके लंड को पूरा अंदर नही ले पा रहा था…पर फिर भी वो उसको चूसती रही..

मुम्मेथ को ऐसा करता देख गंगू ने कमान संभाली और उसके बालों को पकड़ कर अपना पूरा लंड एक ही झटके मे उसकी हलक तक उतार दिया…मुम्मेथ की तो आँखे निकल कर बाहर आ गयी…उसे ऐसा लगा की उसकी साँसे रुक जाएगी, उसके गले की नसें फट जाएगी..

गंगू ने उसके चेहरे को किसी सस्ती रंडी की तरह चोदना शुरू किया…हर झटके मे उसके लंड का टोपा मुम्मेथ के टॉन्सिल्स को छूकर वापिस आता..थोड़ी देर बाद वो अभ्यस्त हो गयी और उसे भी मज़ा आने लगा.

गंगू भी जानता था की उसके पास ज़्यादा समय नही है…उसने जल्दी से अपना लंड बाहर निकाला और उसकी दोनो टांगे फेला कर उसे मोरनी बना दिया…और उसकी आँखों में देखते-2 अपना मीठा लंड उसकी चाशनी से भीगी चूत की गहराइयों मे उतार दिया…
उसकी चीख इतनी तेज थी की पूरी बिल्डिंग मे गूँज गयी…इतना मोटा लंड शायद उसने पहली बार लिया था..

”अहहस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स्स ……… मररर्र्र्र्र्र्र्र्र्र्ररर गयी रे…………. ओह … फ़ाआड डाली तूने तो मेरी ………………. उम्म्म्मममममम …..पर ………. मजाआा …… आआआआ …… राआआआssssssssssssssssss …… हैssssssssssssssss ईईईईई….. अहह ……ऐसे ही करो…………… ज़ोर से ……………..उम्म्म्मममममममम ……. एसस्स्स्स्स्स्सस्स ……फककककक मीईई ……हाआआरडर ”

इतनी अँग्रेज़ी तो गंगू को भी आती थी….उसने मुम्मेथ की ईच्छा पूरी करते हुए उसकी रेल बना डाली….और अगले पाँच मिनट के अंदर ही उसने उसकी सारी मांसपेशियाँ ढीली कर दी….हर झटके मे आ रही फॅच-2 की आवाज़ों से पूरा कमरा गूँज रहा था….मुम्मेथ का सेल फोन बज रहा था, पर उसे सुनाई ही नही दे रहा था…वो तो अपनी जिंदगी की सबसे ज़्यादा रफ़ चुदाई करवाने मे लगी थी..

गंगू उसके उपर लेट गया और दोनो के शरीर एक दूसरे से पूरी तरह से चिपक गये..उसका लंड अभी भी अंदर था और वो अपने चूतड़ उठा-2 कर उसे अंदर बाहर कर रहा था…गंगू उसके होंठों को चूसता हुआ झड़ना चाहता था…उसने मुम्मेथ के मोटे होंठों को चूसना शुरू किया और जल्द ही उसका ऑर्गॅज़म निकट आ गया…और उसके लंड के पाइप से गाड़े रस की सारी सप्लाई उसकी चूत के अंदर पहुँच गयी.

मुम्मेथ को ऐसा लगा की उसे अंदर तक किसी गर्म लावे से भर दिया गया है..

वो तो फिर से बेहोशी के कगार पर पहुँच गयी…क्योंकि वो लगातार तीसरी बार झड़ चुकी थी..

नीचे खड़े हुए पुलिस के लोगो को अब विश्वास होने लगा था की शायद उनकी इन्फ़ॉर्मेशन ग़लत थी…क्योंकि अब तक 1 घंटे से ज़्यादा हो चुका था, और ऐसी डील्स अपने समय के अनुसार ही होती है, वरना नही होती..उन्होने अपने सीनियर्स से परामर्श किया और वहाँ से निकल गये..

भूरे ने जब उन्हे जाते हुए देखा तो वो भी समझ गया की पुलिस वाले क्यो चले गये हैं, पर उसे अभी भी डर था की कही कोई पुलिस वाला छुप कर बिल्डिंग की निगरानी ना कर रहा हो, इसलिए वो खुद जाकर या अपने किसी साथी को उपर बिल्डिंग मे भेजकर कोई रिस्क नही लेना चाहता था…गंगू का कोई पता नही था, वो उसका वहीं रुककर इंतजार करने लगा…वो उसे भी उपर भेजकर कोई रिस्क नही लेना चाहता था..देर से ही सही, उसे विश्वास था की वो वहाँ ज़रूर पहुचेगा..शायद रास्ता ना मिल रहा हो या ट्रेफिक मे फँसा हो.

और उपर गंगू अपने जीवन की सबसे मस्त चुदाई करने के बाद पस्त सा होकर एक तरफ लुडक गया..मुम्मेथ उसके सीने पर सिर रखकर होल से मुस्कुराइ..उसने भी आज से पहले ऐसी चुदाई नही करवाई थी.वो आज बहुत खुश थी..उसने साइड की ड्रॉयर से दस हज़ार की गड्डी निकाल कर गंगू को दे दी…गंगू की तो लॉटरी निकल गयी…पहले भूरे ने दस दिए और अब मुम्मेथ ने भी…इतने पैसे तो आज तक उसने नही देखे थे.

उसके बाद दोनों ने अपने-2 कपड़े पहने..और गंगू वहाँ से पेकेट लेकर बाहर निकल आया..

वो बड़ी सी सतर्कता से इधर उधर देखकर बाहर निकल रहा था…उसे बिल्डिंग से बाहर निकलता देखकर कल्लन की नज़र उसपर पड़ी और वो एकदम से चिल्लाया : “अर्रे भाई…वो देखो …वो रहा साला गंगू …”

भूरे ने चोंक कर उसी तरफ देखा, तब तक गंगू ने भी उन्हे देख लिया था और वो भागकर उनके पास पहुँच गया.

भूरे को तो विश्वास ही नही हो रहा था की गंगू बिल्डिंग से निकला है …..पर वहाँ कोई तमाशा करना बेकार था, वो जल्दी से गाड़ी मे बैठे और वापिस झुग्गी की तरफ चल दिए..

रास्ते मे गंगू को पता चल गया की पुलिस तैनाक थी और वो पकड़ा जा सकता था..इसलिए वो लोग भी वहाँ पहुँच गये थे..

गंगू के चालक दिमाग़ ने झट से कहानी बना ली और उसने भूरे को विश्वास दिला दिया की वो भी पुलिस से बचने के लिए काफ़ी देर तक बिल्डिंग मे ही छुपा रहा और उनके जाने के बाद ही बाहर निकला…और फिर उसने वो पेकेट भूरे को दे दिया…वो भी काफ़ी खुश हुआ…क्योंकि आज उसकी जान जो बच गयी थी…वरना नेहाल भाई तो उसकी लाश भी ना मिलने देते..

भूरे सिंह के अचानक चले जाने के बाद कुछ देर तक तो नेहा वही पानी मे खड़ी रही……इतना मज़ा आ रहा था …और अचानक भूरे कहीं चला गया…आज तो अगर गंगू घर पर होता तो उसके उपर चड़कर वो उसके लंड को अपने अंदर ले लेती…इतनी आग लगी हुई थी उसके अंदर..

वो ऐसे ही बिना कपड़े बदले अपना भीगा बदन लिए अपने झोपडे की तरफ चल दी…वो किसी रोबोट की तरह चले जा रही थी…उसके मन मे उथल पुथल मची हुई थी..जो ऐसे मिटने वाली नही थी…उसे अपनी चूत पर चींटियां सी रेंगती महसूस हो रही थी..ऐसा तो उसके साथ आजतक नही हुआ था…अगर हुआ भी होगा तो उसे याद नही, वैसे भी उसकी यादाश्त खोए सिर्फ़ एक हफ़्ता ही तो हुआ था.

तभी उसे याद आया की वो खाने के लिए पैसे भी लाई है…भूख भी लगने लगी थी उसको..वो जैसे किसी सपने से एकदम से बाहर आई..और जब उसे ये एहसास हुआ की वो पूरी गीली है और उसके कपड़े उसके बदन से चिपक कर पारदर्शी लुक दे रहे हैं और आने जाने वाले सभी लोग उसके बदन को आँखे फाड़े देख रहे हैं..उसने जल्दी से अपने साथ लाया हुआ टावल अपने उपर लपेट लिया..

सामने ही उसको एक हलवाई की दुकान दिख गयी..वो वहाँ पहुँची और देखने लगी की क्या मिल सकता है उसके पास ..पर वहाँ कुछ सुखी मिठाइयों के अलावा कुछ नही था..एक मोटा सा आदमी गल्ले पर बैठा था.

नेहा : “भाई साहब, कुछ खाने के लिए नही है क्या आपके पास…”

उसने उसे उपर से नीचे तक देखा और बोला : “बस जी, अभी तैयारी कर रहा हू, आलू पूरी का नाश्ता बनाते हैं हम…थोड़ी ही देर मे पूरी निकालने वाला हू..”

वो पूरी भीगी हुई थी और उसके अंदर से पानी टपक रहा था..उसकी हालत देखकर वो हलवाई बोला : “तू गंगू की लुगाई है ना …?”

नेहा ने हाँ मे सिर हिला दिया..

हलवाई : “तू जा…मैं अपने लड़के के हाथ भिजवाता हू तेरे लिए आलू पूरी..”

नेहा वहां से चली गयी..अब उसको सच मे काफ़ी तेज भूख लगी थी..भूख के मारे उसके जबड़े खींच रहे थे..

पर पहले उसने अपने कपड़े बदलने की सोची, उसने दरवाजा बंद कर दिया और अपने सारे कपड़े उतार कर सूखने के लिए टाँग दिए..उसका नंगा संगमरमरी बदन चमक रहा था…वो दीवार पर लगे छोटे से शीशे मे अपनी बड़ी-2 छातियाँ देखकर मुस्कुरा दी…आख़िर उसको देखकर ही तो ज़्यादातर मर्द खुश होते हैं..और गंगू भी तो उस दिन कैसे रज्जो की चुदाई करते हुए उसके मुम्मे चूस रहा था…दबा रहा था…और वो भी कितनी आनंदविभोर हो रही थी उनको दबवाते हुए..

गंगू और रज्जो की चुदाई के बारे मे सोचते ही उसके अंदर एक अजीब सी लहर दौड़ गयी…उसके हाथ अपने आप अपने स्तनों के उपर चले गये और उसने उन्हे पूरी ताक़त से दबा दिया..

”अहह सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स …”

वो खुद ही सीत्कार उठी अपने आप को दबाकर..गोरे-2 मुम्मों पर उसकी उंगलियों के निशान छप गये,पर मज़ा भी काफ़ी मिला उसको..ऐसा लगा की अंदर की नसों मे जो हल्का दर्द हो रहा था उनको राहत मिल गयी है ..

फिर उसके हाथ अपने आप अपनी चूत की तरफ खिसकने लगे..क्योंकि वहां तो ज्यादा तकलीफ हो रही थी उसको इस वक़्त ……….

पर तभी बाहर का दरवाजा खड़का…वो फिर से अपने सपने से बाहर निकली..कौन हो सकता है इस वक़्त ….वो पूरी नंगी खड़ी थी.

उसने दरवाजे के पास जाकर पूछा : “कौन है …”

बाहर से किसी बच्चे की आवाज़ आई .. ”जी मैं केशव….रामलाल हलवाई के यहा से आया हू…उन्होने नाश्ता भिजवाया है..”

उसने अपने बदन पर जल्दी से टावल लपेट लिया…और दरवाजा खोल दिया, ये सोचकर की हलवाई की दुकान पर काम करने वाला कोई बच्चा होगा..

पर उसके कद को देखकर वो हैरान रह गयी…वो तो गंगू से भी लंबा था..उमर होगी करीब 18 के आस पास …एक बनियान और पुराना सा पायजामा पहना हुआ था..जो जगह -2 से फटा हुआ था.

वो एकदम से अंदर आ गया,और सीधा किचन वाली जगह पर पहुँचकर उसने अपने हाथ मे पकड़ी थाली रख दी..

केशव : “गंगू भाई ने पहले भी कई बार नाश्ता मँगवाया है हमारी दुकान से…और पिछली बार की थाली अभी तक वापिस भी नही की…पिताजी वो भी मंगवा रहे हैं..”

वो रामलाल हलवाई का लड़का था. चेहरे और आवाज से बिल्कुल बच्चा ही था पर कद-काठी से पता चलता था की वो जवानी की दहलीज पर खड़ा है..

loading...

Leave a Reply