हनीमून सास के साथ शिमला में

क्या आपने कभी सोचा की हनीमून सास के साथ भी हो सकता है हां ये सही है मैंने सास के साथ हनीमून मनाया है आज मैं आपको ये कहानी बताने जा रहा हु कैसे मैंने अपनी सेक्सी सास की चुदाई की शिमला में? आप सोच रहे होंगे की ये मौक़ा मिला कैसे तो ये बात सच है की भगवान जिसको देता है छप्पर फाड़ के देता है, बकवास काम करते हुए कहानी पे आता हु.

मेरी पत्नी एकलौती संतान है, पापा बचपन ही गुजर गए, मेरी सासु में ने काफी पढाई लिखाई करवाई, मेरी पत्नी प्रशानिक सेवा में है वो मेरे शादी के दूसरे दिन ही उसे विभागीय परीक्षा देना था इसलिए वो शादी के दूसरे दिन ही मुंबई के लिए एयर इंडिया से चली गयी और तीसरे दिन वो वापस आती मुझे बहुत ही बुरा लग रहा था मैं क्या करता मुझे समझ ही नहीं आ रहा था, मुझे लगा की दोस्त लोग मेरे से पूछेंगे इस वजह से मैंने अपने पत्नी से बात की की तुम मुंबई से डायरेक्ट ही शिमला आ जाना मैं वह पर होटल लेके रहता हु, और मैं ये बात सास को भी बताया मेरी वाइफ मान गयी, सास को अच्छा नहीं लग रहा था क्यों की उनकी भी पहली बेटी शादी के दूसरे दिन घर से चली जाए, उन्होंने कहा बेटा अगर तुम बुरा ना मानो तो एक बात कहे मैंने कहा सासु माँ प्लीज कहो मैं कभी भी बुरा नहीं मानुगा, तो सासु माँ ने कहा, क्या जब तक बेटी शिमला नहीं पहुचती है मैं भी चलु क्यों की मुझे शिमला में कुछ काम है, बड़े दिन से सोच रही थी जाने के लिए पर समय नहीं मिला, क्यों की बेटी को आने में ३ दिन बाद आएगी, तब तक मेरा काम हो जाएगा, मैंने हामी भर दी.

मेरी सास तैयार हो गयी, पहले मैं थोड़ा अपने सास के बारे में बता दू, मेरी सास करीब 37 साल की खूबसूरत महिला है, उनकी शादी 17 साल की उम्र में ही हो गया था इस वजह से सास काफी यंग है. वो काफी गोरी और सेक्सी औरत है, होठ उसके लाल लाल और चूच की साइज ऐसी है की एक हाथ में एक चूची नहीं आ रहा था, चूच के ऊपर निप्पल पिंक कलर का है, कांख में काले काले बाल है, वो डिज़ाइनर ब्रा और पेंटी पहनती है, उसका चूतड़ काफी गोल गोल और उभरा हुआ है, काफी सेक्सी लुक है, वो अक्सर साडी पहनती है, कमर पे साडी निचे बांधती है, जिससे की उसका नाभि बहार दिखता है, पेट भी सुराही के तरह है गजब की माल है यार.

मैं और मेरी सास दोनों शिमला पहुंच गए गए, हमने वह पे एक होटल में दो कमरे लिए एक सास के लिए और एक अपने लिए, मैं तो मन ही मन बहुत खुश था क्यों की मेरी वाइफ दो दिन बाद ही आने बाली थी और उसी दिन सास भी वापस जाने वाली थी. शाम को करीब ६ बजे शिमला पहुंच गए, और नह धोकर दोनों घूमने निकल गए और करीब रात को १० बजे वापस आये, खाना होटल में ही था खाना खाया और मेरा जो पैकेज था उसमे खाना और उन्लिमटेड ड्रिंक भी था मैंने वोदका पि, सासु माँ ने व्हिस्की लिया, मैंने जिद की इसलिए, फिर मैंने भी विह्स्की ली. कहते पीते करीब रात के ११.३० हो गए था, एक गडवड हो गयी थी वह पे सासु माँ ज्यादा पि ली, और वो बड़की मुस्किल से खड़ा हो पा रही थी, मैंने सहारा दिया और उनको उनके कमरे में लाया, वो कुछ बड़बड़ा रही थी, उनके कपडे अस्त व्यस्त हो गए था, आँचल ब्लाउज से हटा था, साफ़ साफ़ बड़ी बड़ी चूचियाँ ब्लाउज के ऊपर से झांक रही थी, साडी भी घुटने तक उठा हुआ था पर उनकी आँखे बंद थी. मैंने कहा ओके गुड नाईट सासु माँ सुबह मिलते है, मुझे भी नशा लगा हुआ था,

जैसे ही दरवाजे तक पहुंचा सासु माँ बोली रवि इधर आओ, गले तो लगते जाओ, मैं उनके पास पहुंचा वो बेड पर से ही हाथ फैलाई, और मैंने उनको गले लगाया, वो मुझे अपनी बाँहों में भर ली. मुझे कुछ कुछ होने लगा क्यों की उनकी दोनों चुचिया मेरे छाती से टकरा रही थी, फिर वो मुझे किश करने लगी कभी गाल कभी होठ कभी बाल चूम रही थी, मेरा लंड खड़ा होने लगा, मैंने भी उनके होठ पे एक किश किया तो वो बोली आअह्ह्ह्ह जन्नत का एहसास हो गया, उन्होंने बोला एक बार और रवि, मैंने फिर किश किया, वो सिहर गयी बोली आज १८ साल बाद मेरे होठ को किसी ने किश किया, और वो मुझे फिर से किश की पर वो किश अलग थी क्यों की वो अपना जीभ मेरे मुह में दाल रही थी और इस इस इस इस की आवाज़ निकाल रही थी मैं भी अपना होश खो बैठा और मैंने भी उनको उसी अंदाज़ में किश करने लगा, फिर मेरा हाथ उनके चूच पे गया, वो बोली जो मर्ज़ी है कर लो, ये मौक़ा फिर नहीं मिलेगा, ऐसे भी आज का दिन तुम्हारे सुहागरात का दिन था, वो मैं पूरी कर देती हु,

मैं उठा और दरवाजा अंदर से लॉक कर दिया और अपना टी शर्ट निकाल दिया और जीन्स भी खोल दी और सासु माँ के ऊपर चढ़ गया, किश करने लगा उनके कांख की स्मेल ने मुझे सेक्सी और मदहोश कर दिया, उनके साडी को उतार दिया और ब्लाउज और ब्रा ही खोल दी, मैंने उनके पेटीकोट को भी उतार दिया, वो मेरे सामने नगी लेटी थी उनके आँख कभी कभी बंद हो रहे थे पर वो मंद मंद मुस्कुरा रही थी, मैंने उनके दोनों पैर को अलग किया और उनका चूत चाटने लगा, वो मेरा बाल पकड़ को ऐसा लग रहा था वो वो अपने चूत में घुसा लेगी, मैं उनके चूत की नमकीन पानी का मज़ा ले रहा था पर वो अपने चूत में अब वो मेरा मोटा काला बड़ा लंड लेने की सोचने लगी, मैंने भी आज तक अपने लंड का इस्तेमाल नहीं किया था, सामने चूत इंतज़ार कर रहा था मैंने बीच में रखके कस के धक्का मरा और मेरा लंड उनके बूर पे पैक हो गया वो कराह उठी फाड़ दिया रे. मैंने कहा हां रंडी मैंने तेरे बूर को फाड़ दिया, और कस कस के धक्के मार मार के चोदने लगा,

वो चुदने में काफी एक्सपर्ट थी, वो अलग अलग पोज़ में मुझसे चुदवा रही थी मैं भी चोदे जा रहा था, करीब ३० मिनट चोदने के बाद दोनों का साथ में झड़ गया, और हम दोनों एक दूसरे को पकड़ के सो गए फिर मैं करीब २ जानते बाद तैयार हो गया फिर चोदा इस तरह से करीब रात भर में ४ बार चुदाई की, अब एक हम दोनों दो दिन तक एक ही कमरे में रहे जैसे की एक नया जोड़ा हनीमून मनाने आया हो, मैं साल को चोद के हनीमून का मज़ा लिया अब तो माँ बेटी दोनों को चोदता हु, जब मेरी बीवी ऑफिस जाती है मैं सासु माँ को चोदता हु, यानी की दिन में सास को और रात को बीवी को, आपको ये कहानी कैसी लगी जरूर रेट करे और कमेंट करे मैं इंतज़ार करूंगा

loading...

Leave a Reply